Saturday, October 22, 2011

स्पोर्टस कार पहुँची अमृतसर

देश में 30 अक्टूबर को फ़ॉर्मूला वन रेस नॉएडा में
        अमृतसर//22 अक्टूबर//गजिंदर सिंह किंग
फ़ॉर्मूला वन रेस देश में शुरू होने वाली है, वहीँ इस की दीवानगी अब पूरे देश में देखी जा रही है, वहीँ इस के चलते आज भारत की सहारा फ़ोर्स वन इंडिया टीम इस ग्रैंड प्रिक्स होने वाली  है, जिस  के चलते आज यह स्पोर्टस कार अमृतसर पहुँची, जहाँ यह लोगों के सामने लाई गयी, वहीँ इस मौके पर नवजोत सिंह सिधु मुक्य तौर पर मौजूद हुए.
आज से कुछ साल पहले हमारे देश में फ़ॉर्मूला वन रेस एक सपना होती थी, लेकिन आज यह सपना हकीक़त में बदल गया है, देश में 30 अक्टूबर को फ़ॉर्मूला वन रेस नॉएडा में होने जा रही है, जिस में भारत की सहारा फ्रोस वन इंडिया टीम भी हिस्सा ले रही है, वहीँ लोगों को इस खेल से जोड़ने के लिए अमृतसर में एक विशेष आयोजन किया गया, जिस में इस कार की प्रदर्शनी लगाई गयी, जिस में भारत के पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिधु मुख्य तौर पर मौजूद हुए.
जोश और उत्साह के इस अवसर पर वह इस कार में खुद सवार हुए और वहीँ आपने एक हस्ताक्षर कर वह इस फ़ोर्स इंडिया रेस का हिस्सा बने, वहीँ यह खुबसूरत कार अब जब देश में दोडेगी, तो इस का एक अलग ही नजारा होगा, वही इस मौके पर नवजोत सिंह सिधु इस के बारे जानकारीदेते हुए बताया, कि ग्रैंड प्रिक्स पहली बार भारत में हो रही है, वह एक इतिहास है और देश के लिए यह अच्छी बात है, उन्होंने इसके लिए विजय  माल्या को बधाई दी और जो सहारा इंडिया ने यह टीम बनाई है, साथ ही उन्होंने कहा, कि आज यह जो पहल हुई है इस से पूरा देश इस के साथ जुड़ा है और आने वाले समय में देश के और शहरों में भी यह रेस होने को मिलेगी, वहीँ देश के युवा इस खेल को सब से ज्यादा पसंद करते है, जिस का कारण यह है, कि आज जितने भी देश में स्पोर्ट्स चैनल है, वहां सब से ज्यादा लोग इस रेस को देखते है
      फिलहाल देश में होने वाली पहली फ़ॉर्मूला वन रेस जहाँ युवाओं को आपनी और आकर्षित कर रही है, वहीँ यह देश में खेल के अध्याय के साथ एक नया पन्ना जोड़ेगी  

सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब में पहुंचे बॉलीवुड सुपर स्टार रणबीर कपूर

अपनी फिल्म की प्रोमोशन के लिए आर्शीवाद लेने आए 
अमृतसर 22  अक्टूबर: गजिंदर सिंह किंग: 
बॉलीवुड सुपर स्टार रणबीर कपूर अपनी फिल्म रोक स्टार की प्रोमोशन के लिए आज अमृतसर पहुंचे, वहीँ यहाँ पर उन्होंने सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब के दर्शन कर नमस्तक हो कर माथा टेका, इस मौके पर इस फिल्म के डारेक्टार इम्तिआज़ अली उन के साथ थे, वहीँ उन का कहना कि यहा पर आना बहुत अच्छा लगा है.
रणबीर कपूर आपनी आने वाली फिल्म रोक स्टार की प्रोमोशन के लिए सिख मुद्रा में सिर  पर पगड़ी डाल कर पंजाबी वेश भूषा में सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब पहुंच कर नतमस्तक होकर माथा टेक गुरु घर में आर्शीर्वाद ले कर खुशियाँ प्राप्त की, इस मौके पर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा, कि यहाँ आ कर उन को बहुत अच्छा लग रहा है और वह अपनी आने वाली फिल्म रोक स्टार की प्रोमोशन आज यहाँ से शुरू कर रहे है. उन्होंने यहाँ आने पर हुए सुखद अनुभव मीडिया से भी सांझे किये.  
उन्होंने कहा कि यहाँ पर आज आ कर उन्होंने फिल्म की कामयाबी के लिए अरदास की है, और यहाँ पर आ कर उन को जो गुरु घर में आनंद का एहसास हुआ है, आज से पहले ऐसा आनंद कहीं नहीं हुआ और उन्होंने यहाँ पर आ कर शुक्रिया किया है, उन्होंने कहा, कि आने वाले समय में उन की फिल्म बर्फी आने वाली है.
वहीँ इस मौके पर फिल्म के  डारेक्टार इम्तिआज़ अली का कहना है, कि पंजाब में आना हमेशा अच्छा लगता है, जिस के चलते वह यहाँ पर आए  है और उन को हमेशा यहा आने पर सुकून मिलता है, जिस के चलते वह आज यहाँ पर नमस्तक के लिए आए है. 
इस मौके पर उनके चाहने वालों की भी अच्छी खासी भीड़ जमा हो गयी. ये लोग अपने महबूब अदाकार को यहाँ दख कर बहुत ही ख़ुश थे.

Thursday, October 20, 2011

लुधियाना में भी रही रावण की धूम

खान बादशाह के स्वागत में उमड़ी लोगों की भीड़ 
जी हाँ रावण का नाम अब भी जोर शोर से लिया जाता है. ऐसा अहसास हुआ उस समय जब युवा दिलों की धड़कन शाहरुख़ खान अपनी फिल्म रावण की प्रमोशन के लिए लुधियाना भी पहुंचे. लुधियाना के नाम के रौशन करने वाले हीरो साईकल की और से मुंजाल परिवार ने उनके स्वागत का प्रबंध बहुत ही बड़े पैमाने पर किया था. इस मौके पर पूर्व निश्चित कार्यक्रम के अनुसार रा-वन नाम की एक साईकल भी लांच की गयी. आप देख सकते हैं इस वीडियो में कि हर तरह के लोग किस तरह खान बादशाह के स्वागत के लिए आये हुए हैं.  उनके स्वागत में...आये हुए लोग जोश से भरे थे...प्यार से भरे थे.
शाहरुख़ खान को बस एक नज़र देखने के लिए बेताब. आवाजें ही अव्जें थी.हर कोई शाहरुख़ का ध्यान बस पल भर के लिए अपनी तरफ खींचना चाहता था. अगर आपको अवसर मिले खान बादशाह से मिलने का तो आप क्या सवाल करेंगे. बताईये हम आपका सवाल, आपकी बात, आपका नाम  खान बादशाह तक अवश्य पहुँचायेंगे. रेक्टर कथूरिया और विशाल गर्ग 

अमृतसर में किया गया एक विशेष किसान मेले का आयोजन

किसानों के लिए वरदान साबित होते हैं इस तरह के मेले 
अमृतसर // 19 अक्टूबर // गजिंदर सिंह किंग 
अमृतसर में आज किसान मेले का आयोजन किया गया, जिस का उदघाटन अमृतसर के डिप्टी कमिश्नर रजत अग्रवाल ने किया, वहीँ किसानो ने बहु-गिनती में भाग लिया और किसानो को आधुनिक तकनीकों से जागरूक  करवाया गया साथ ही किसानों को खेती में इस्तेमाल होने वाली मशीनों के बारे में जानकारी दी गयी.
प्रदेश में किसानी को बढावा देने और उन को आधुनिक तकनीक के बारे में जागरूक करने के लिए अमृतसर के गुरु नानक भवन में एक विशेष किसान मेले का आयोजन किया गया, जिस में किसानो को खेती के धंधे में इस्तेमाल होने वाली खाद और इस में इस्तेमाल होने वाले मशीनों के बारे में जागरूक किया गया, वहीँ इस मौके किस खेती के लिए किस बीज का इस्तेमाल करना चाहिय और फसल को बीमारी लगने से किस प्रकार बचाया जाना चाहिय इस बारे में जानकारी दी गयी.साथ ही कई विशेष स्टाल लगाये गए जहाँ की किसानी के समय इस्तेमाल की जाने वाली दवाइयां के छिडकाव के बारे में बताया गया, साथ  ही  यहाँ  पर  एक  विशेष  स्टाल  के  द्वारा नई खाद और कीट-नाशाक दवाओ  के बारे में बताया गया और वहीँ इस मौके पर बागबानी विभाग की तरफ से एक विशेष आयोजन किया गया. 
इस मौके पर बागबानी विभाग के इंचार्ज लछमन सिंह का कहना है, कि इस में एक विशेष काउंटर किसानो को बागबानी के क्षेत्र में किस तरह आगे आना चाहिय, इस बारे में जागरूक किया जा रहा है और बागबानी की क्या स्कीम सरकार दे रही है, उस के बारे में उन्होंने बताया, कि जो नई तकनीक बागबानी विभाग में आयी है वह बताई जा रही है और साथ ही विशेष नेट हाउस की खेती के बारे में बताया जा रहा है और सरकार के द्वारा दी जा रही सब्सडी के बारे में किसानों को भी बताया जा रहा है.
इस किसान मेले में यहाँ आए किसानो ने मेले बारे जानकारी देते हे बताया, कि यह एक अच्छा प्रयास है और इन को यहाँ आ कर नयी-नयी तकनीक के बारे में पता चल रहा है और जो यहाँ पर नयी चीजें देखने को मिली है,  वह इस का प्रयोग करेंगे साथ ही यह प्रोत्साहन से किसानो को लाभ मिल रहा है और हमे खेती के नए तरीकों के बारे में भी पता चल रहा है.
किसान मेले में अलग-अलग कंपनीओ द्वारा विशेष लगाए गए स्टाल के अधिकारीओ ने इस मेले बारे जानकारी देते हुए बताया, कि इस किसान मेले से हमे बहुत फायदा होता है और किसानो के लिए किसानी को बढावा देने और उन को आधुनिक तकनीक मशीने बनाई जाती है, जिससे किसानो को खेती के धंधे में लाभ दायक सिद्ध होती है और हम हर किसान मेले में आपने स्टाल लगा कर किसानो  को नई आधुनिक तकनीक बारे जानकारी देते है और इस से किसान  को फायदा होता है. 
      इस किसान मेले में  किसानो को जागरुक करने के लिए एक सम्मेलन किया गया, जिस में अमृतसर के डिप्टी कमिश्नर  रजत अग्रवाल ने विशेष रूप से भाग लिया और कई बड़े खेती  के विशेषको ने यहाँ पर किसानो को किसानी को बढावा देने और उन को आधुनिक तकनीक के बारे में जागरूक करने के लिए आपने विचार दिए.
इस मौके पर अमृतसर के डिप्टी कमिश्नर  रजत अग्रवाल में इस मेले की जानकारी देते हुए बताया, कि इस किसान मेले से किसानो को काफी फायदा मिलेगा, क्यों कि इस मेले में नवीनतम तकनीकों के बारे में किसानो को बताया जा रहा है और साथ ही पराली को आग न लगाने के लिए एक विशेष मशीन यहाँ पर किसानो के लिए लाई गयी है, जिस से कि वह आपनी पराली को आग न लगाये और खेत को बचा सके, साथ ही एक किसान खेती के साथ क्या सहायक धंधे कर सकता है उस बारे में भी बताया  गया 

अमृतसर में पी. डब्ल्यू. डी.अधिकारीयों को फटकार

वर्ल्ड कप कबड्डी की तैयारीया पूरी न होने पर अधिकारीयों को किया जाएगा रिटायर:डीसी ने किया खेल मैदान का दौरा  
अमृतसर 19 अक्टूबर  (गजिंदर सिंह किंग)  
पंजाब में वर्ल्ड कप कबड्डी की तैयारीया ज़ोरों पर है, वहीँ इन के लिए इस्तेमाल होने वाले मैदान की तैयारी का जायजा लेने के लिए अमृतसर के डिप्टी कमिश्नर ने आज मैदान  का दौरा किया, वहीँ उन्होंने मैदान में काम में ढील होने के कारण पी. डब्ल्यू. डी. अधिकारीयों को फटकार भी लगाई
       पंजाब में विश्व कबड्डी कप 11 नवम्बर 2011 को होने वाला है, जिस के चलते देश-विदेश से टीम यहाँ पंजाब में आ कर इस का हिस्सा बनेंगी, लेकिन अमृतसर में इन मैदान की तैयारीया नही के बराबर है, लेकिन मैदान अभी तक तैयार नहीं हो पाया है, वहीँ इन तैयारीयों का जायजा लेने के लिए डिप्टी कमिश्नर ने अमृतसर में पांच करोड़ की लागत से बन रहे गुरु नानक स्टेडियम का दौरा किया, वहीँ यहाँ के हालात देख कर उन्होंने चिंता ज़ाहिर कर बताया, कि इन मैदान की तैयारीयों का काम काफी ढीला है और उन्होंने पी, डब्ल्यू, डी अधिकारीयों को कहा, कि यह काम में तेजी ले कर आए और इन काम को जल्द पूरा किया जाए, इस मौके पर उन्होंने पी, डब्ल्यू, डी अधिकारीयों को फटकार लगाते हुए कहा, कि समय मुताबिक़ मैदान का काम पूरा न होने पर अधिकारीयों को रिटायर कर देगे
      वहीँ अब देखना होगा, कि डिप्टी कमिश्नर की फटकार के बाद यह लोग कितनी जल्दी इस काम को पूरा करेंगे, जिस से कि समय अनुसार यहाँ पर कबड्डी विश्व कप के मैच आसानी से हो सके

लुधियाना में बिना लाईसेंस के चलती फेक्ट्री काबू

कई सालों से जारी था इंसानी जानों के साथ खिलवाड़ 
स्वस्थ्य विभाग ने पकड़ा 25 हजार किलो गलासड़ा आचार
लुधियाना // 19 अक्टूबर //विशाल गर्ग 
लुधियाना//:१९ अक्टूबर// विशाल गर्ग बम फट्टा है या गोली चलती है तो उसका पता ओ सब को आसानी से लग जाता है पर यहाँ कुछ और लोग भी हैं जो इन आतंकियों से भी ज्यादा खतरनाक हैं. जनता की जान के साथ खेलना इनका पेशा बन चूका है. इस तरह के नए मामले को बेनकाब किया है लुधियाना के स्वास्थय विभाग ने. जिन लोगों को काबू किया गया है वे चंद पैसों के बदले न जाने कितने लोगों को भयानक बिमारीयों के हवाले करने वाले थे. अगर सेहत विभाग ने इन हैवानों को काबू ना किया होता तो इस बार की दीपावली कई घरों के लिए अँधेरा लेकर आती. लुधियाना स्वस्थ्य विभाग की टीम ने शहर के अंदर अलग जगह पर चल रही आचार बनाने वाली फैक्ट्री मैं छापा मार कर 25000 किलोग्राम के करीब अलग -अलग तरह का गला सडा अचार बरामद किया है जिस मैं कीड़े मकोड़े भी चल रहे थे.यहाँ तक की इस फैक्ट्री के पास अचार बनाने का कोई लाईसेन्स भी नहीं था विभाग ने फैक्ट्री को सील कर जांच शुरू कर दी है इस फेक्ट्री को विक्की और सोनू नाम के दो व्यक्ति कई वर्षों से चला रहा थे. यहाँ तक की इस फैक्ट्री के पास आचार बनाने का कोई लाईसेंस भी नहीं था. विभाग ने फैक्ट्री को सील करके जाँच शुरू कर दी है.
सिविल सर्जन कुलविंदर सिंह और फ़ूड इंस्पेक्टर हरप्रीत कौर ने इस सम्बन्ध में मीडिया को भी विस्तार से बताया.
जयादा पैसे कमाने के लालच मैं ये हैवान इस कद्र अंधे हो चुके हैं के दुसरे इंसान की सेहत के साथ खिलवाड़ करने से भी नहीं चूकते. त्योहारों के मौसम में ऐसा करते वक्त न इन्हें भगवान् से डर लगा न ही सरकार से. क़ानून, प्रशासन और पुलिस...सभी विभागों को ठेंगा दिखाते हुए ये लोग बरसों से लोगों के साथ यही खिलवाड़ करते आ रहे थे. इस एक्शन में तो चाहे केवल दो लोग ही शिकंजे में आये हैं पर लगता है की इनके पीछे कोई बड़ा नेटवर्क काम कर रहा है. अब देखना यह है कि कानून के शिकंजे में आये हुए ये लोग कहीं बिना सजा के छूट न जायें. 

क्यूं है न जीवन से खिलवाड़ !

Update:: Oct.20, 2011 at 14:00
इनका दीन ईमान है पैसा कोई मरे या जिए ...
बाजारों  में  कैसा सामान बिकता है ...उसकी  क्या हालत होती  है...उस  पर  एक बार फिर से नए सवाल खड़े किये हैं लुधियाना में स्वस्थ्य विभाग के छापे के दौरान  पकडे गए इस गले सड़े अचार ने ...क्यूं है न जीवन से खिलवाड़ ! बीमारियाँ फ़ैलाने वाले इस घटिया किस्म के खराब आचार ने इस बात को भी एक बार फिर उजागर किया है की जिन लोगों का दीं ईमान केवल पैसा ही बन जाता है उनके लिए इस बात के कोई अर्थ नहीं रह जाते की अब दीपावली का त्यौहार है या भैयादूज. वे इस तरह के पावन मौकों पर भी लोगों की ज़िन्दगी के साथ खिलवाड़ करना नहीं छोड़ते. इन लोगों को तो कानून इनके किये की सजा देगा ही पर और ऐसे कितने हैवान हैं  

इस तरह के कितने प्दार्ट बाज़ारों में हैं, कितनी फेक्टरियों में भरा पड़ा है ऐसा माल. इस सब के लिए जहाँ प्रशासन को और कदम उठाने होंगें वहीँ आम जनता को भी प्रशासन की मदद के लिए आगे आना होगा. अगर आपके पास इस तरह के लोगों की या इस तरह की किसी फेक्ट्री की कोई जानकारी है तो उसका पता प्रशासन को भी तुरंत दीजिये और मिडिया को भी. आप चाहेंगे तो आपका नाम गुप्त रखा जायेगा.--विशाल गर्ग

Wednesday, October 19, 2011

अखिल भारतीय राजभाषा संगोष्ठी

मदुरै में हुआ विशेष आयोजन  
लिंगराज क्षेत्र के राजभाषा अधिकारी दिनेश कुमार माली सम्मानित
मदुरै के होटल जरमानस में आयोजित दिनांक 12  से 14 अक्टूबर 2011 तक अखिल भारतीय राजभाषा संगोष्ठी के अवसर पर महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड के वरिष्ठ अधिकारी दिनेश कुमार माली को  राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में उल्लेखनीय योगदान तथा साहित्य सृजन में विशिष्ट उपलब्धियों के लिए भारतीय राजभाषा विकास ,संस्थान देहरादून की ओर से सम्मानित किया गया । इस संगोष्ठी में देश के ख्याति प्राप्त औद्योगिक संस्थानों जैसे केंद्रीय वैज्ञानिक उपकरण संस्थान ,पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड,भारतीय समवेत औषध संस्थान,नेशनल थर्मल पावर कॉर्पोरेशन ,पावर ग्रिड कार्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड  ,ड्रेजिंग कार्पोरेशन ऑफ इंडिया ,कॉल इंडिया की अनुषंगी कंपनियाँ –भारत कोकिंग कॉल लिमिटेड, नार्दन कोलफील्ड्स लिमिटेड के सौ से ज्यादा अधिकारी उपस्थित थे । समापन समारोह के अवसर पर महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय,वर्धा के भूतपूर्व कुलपति प्रो॰जी॰ गोपीनाथन,केरल विश्वविद्यालय,तिरुवनतपुरम के पूर्व प्रोफेसर एवं डीन डॉ॰वी॰पी॰मुहम्मद कुंज मेत्तर, सुखाडिया विश्वविद्यालय उदयपुर राजस्थान के पूर्व प्रोफेसर विजय कुलश्रेष्ठ , मैसूर विश्वविद्यालय कर्नाटक के पूर्व प्राध्यापक डॉ॰तिप्पेस्वामी,दामोदर घाटी निगम के सचिव श्री उमेश कुमार ,स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड ,भिलाई के कार्यकारी निदेशक श्री आर॰के॰नुरुला तथा महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड के भूतपूर्व अध्यक्ष-सह-प्रबन्ध निदेशक श्री रामजी उपाध्याय मंचासीन थे । तालचेर कोलफील्ड्स के लिंगराज क्षेत्र में कार्यरत दिनेश कुमार माली ,वरीय प्रबन्धक (खनन) ,जो कि लिंगराज क्षेत्र के नामित राजभाषा अधिकारी भी है, को तकनीकी विषयों में हिन्दी के अधिकाधिक प्रयोग और प्रसार के लिए “विशेष राजभाषा विशिष्टता सम्मान” से सम्मानित किया गया । साथ ही साथ , उनकी ओडिया से हिन्दी में अनूदित कृतियों ‘पक्षीवास’,’सरोजिनी साहू की श्रेष्ठ कहानियाँ’,’ओडिया-भाषा की प्रतिनिधि कवितायें’एवं ‘बंद-कमरा’ से हिन्दी साहित्य में सराहनीय योगदान तथा संगोष्ठी में उनके आलेख “हिंदीतर क्षेत्र में राजभाषा के उन्नयन के तरीकों की समीक्षा” के प्रस्तुतीकरण पर “राजभाषा विशिष्टता सम्मान”से सम्मानित किया गया । उन्हें इस अवसर पर शील्ड एवं प्रशस्ति –पत्र प्रदान किया गया । 

अखिल भारतीय राजभाषा संगोष्ठी

मदुरै में हुआ विशेष आयोजन  
लिंगराज क्षेत्र के राजभाषा अधिकारी दिनेश कुमार माली सम्मानित
मदुरै के होटल जरमानस में आयोजित दिनांक 12  से 14 अक्टूबर 2011 तक अखिल भारतीय राजभाषा संगोष्ठी के अवसर पर महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड के वरिष्ठ अधिकारी दिनेश कुमार माली को  राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में उल्लेखनीय योगदान तथा साहित्य सृजन में विशिष्ट उपलब्धियों के लिए भारतीय राजभाषा विकास ,संस्थान देहरादून की ओर से सम्मानित किया गया । इस संगोष्ठी में देश के ख्याति प्राप्त औद्योगिक संस्थानों जैसे केंद्रीय वैज्ञानिक उपकरण संस्थान ,पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड,भारतीय समवेत औषध संस्थान,नेशनल थर्मल पावर कॉर्पोरेशन ,पावर ग्रिड कार्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड  ,ड्रेजिंग कार्पोरेशन ऑफ इंडिया ,कॉल इंडिया की अनुषंगी कंपनियाँ –भारत कोकिंग कॉल लिमिटेड, नार्दन कोलफील्ड्स लिमिटेड के सौ से ज्यादा अधिकारी उपस्थित थे । समापन समारोह के अवसर पर महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय,वर्धा के भूतपूर्व कुलपति प्रो॰जी॰ गोपीनाथन,केरल विश्वविद्यालय,तिरुवनतपुरम के पूर्व प्रोफेसर एवं डीन डॉ॰वी॰पी॰मुहम्मद कुंज मेत्तर, सुखाडिया विश्वविद्यालय उदयपुर राजस्थान के पूर्व प्रोफेसर विजय कुलश्रेष्ठ , मैसूर विश्वविद्यालय कर्नाटक के पूर्व प्राध्यापक डॉ॰तिप्पेस्वामी,दामोदर घाटी निगम के सचिव श्री उमेश कुमार ,स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड ,भिलाई के कार्यकारी निदेशक श्री आर॰के॰नुरुला तथा महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड के भूतपूर्व अध्यक्ष-सह-प्रबन्ध निदेशक श्री रामजी उपाध्याय मंचासीन थे । तालचेर कोलफील्ड्स के लिंगराज क्षेत्र में कार्यरत दिनेश कुमार माली ,वरीय प्रबन्धक (खनन) ,जो कि लिंगराज क्षेत्र के नामित राजभाषा अधिकारी भी है, को तकनीकी विषयों में हिन्दी के अधिकाधिक प्रयोग और प्रसार के लिए “विशेष राजभाषा विशिष्टता सम्मान” से सम्मानित किया गया । साथ ही साथ , उनकी ओडिया से हिन्दी में अनूदित कृतियों ‘पक्षीवास’,’सरोजिनी साहू की श्रेष्ठ कहानियाँ’,’ओडिया-भाषा की प्रतिनिधि कवितायें’एवं ‘बंद-कमरा’ से हिन्दी साहित्य में सराहनीय योगदान तथा संगोष्ठी में उनके आलेख “हिंदीतर क्षेत्र में राजभाषा के उन्नयन के तरीकों की समीक्षा” के प्रस्तुतीकरण पर “राजभाषा विशिष्टता सम्मान”से सम्मानित किया गया । उन्हें इस अवसर पर शील्ड एवं प्रशस्ति –पत्र प्रदान किया गया । 

मनप्रीत बादल इज्ज़त संभाल यात्रा करने के लिए तैयार

पंजाब की पगड़ी आज नीचे गिर चुकी है
पंजाब के लोग ढाई महीने के बाद एक नई कहानी लिखने को तैयार  
अमृतसर 18 अक्टूबर//गजिंदर सिंह किंग 
आज अमृतसर पहुंच कर सांझा मोर्चा  बनाने के बाद उन्होंने आपनी पहली चुनावी रैली को संबोधित किया, इस मौके पर सी,पी,आई के आला नेता भी मौजूद थे, उन्होंने रैली को संबोधित करते हुए पंजाब सरकार पर भी निशाना साधा.
पंजाब में तीसरे फ्रंट के तौर पर पी.पी.पी.और सी.पी.आई.के गठबंधन  के बाद एक नया मोर्चा सामने आया है, जिस में की अकाली दल लोंगोवाल भी शामिल है, वहीँ इस मोर्चा के सरपरस्त मनप्रीत बादल ने आज अमृतसर में एक चुनावी रैली को संबोधित कर्त्र हुए लोगों से आने वाले चुनाव के लिए वोट मांगे, इस मौके पर उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए, उन्होंने कहा, कि पंजाब के लोग ढाई महीने के बाद एक नई कहानी लिखने को तैयार है.
उन्होंने बहुत ही भावुक अंदाज़ में कहा कि पंजाब की पगड़ी आज नीचे गिर चुकी है और जिस को ठीक करने के लिए आज वह इज्ज़त संभाल यात्रा करने के लिए तैयार है और वह इस यात्रा में आम जनता से मिल कर आम जनता को जो मुश्किलें पेश आ रही है, उसे हल करवाने के लिया क्या किया जा सकता है वह किया जाएग.उन्होंने यात्रा बारे कहा कि यह यात्रा लाला लाजपत राय के गाँव ढुढीके से शुरू होगी.
इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा कि पिछले चालीस सालो से पंजाब नीचे चला गया है, जो कि पहले नंबर का राज्य था, वह आज नीचे जा चूका है और पंजाब के आर्थिक हालात ठीक नहीं है,.आने वाले दो  महीनों में राज्य सरकार के पास आपने मुलाज़िमों की तनख्वाह देने तक के पैसे नहीं होंगे और आज अकाली दल को हारने के लिए पंजाब में सुखबीर बादल ही काफी है. 
पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल द्वारा दिए गए ब्यान कि मनप्रीत ने आत्महत्या कर ली है, उस पर बोलते हुए कहा, कि प्रकाश सिंह बादल मेरे को आपने हाल पर छोड़ दे, वह उस की चिंता न करे,  वहीँ पंजाब सरकार द्वारा रखे गए नीव पत्थर के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा, कि पंजाब सरकार लोगों को गुमराह कर रही है, क्यों कि पंजाब सरकार आर्थिक भोज के नीचे दब चुकी है,  पंजाब में बढ रहे लैंड माफिया पर बोलते हुए उन्होंने कहा, कि दो महीने के बाद पंजाब में यह लैंड माफिया खत्म हो जायेगा, शिक्षा का स्तर पंजाब में इतना बुरा हो गया है, कि इस में सुधार लाने के लिए अभी भी पन्द्रह साल लग जायेंगे, साथ ही उन का कहना है, कि अगर पंजाब में किसी की सरकार न बने तो वह दुबारा चुनाव करवाने की बात करेंगे
         फिलहाल पंजाब में सांझा मोर्चा तीसरे फ्रंट के रूप में सामने आया है वहीँ अब देखना है, कि आने वाले समय में पंजाब की राजनीति में क्या दबाव बनाएगा, जिस से कि पंजाब के राजनैतिक समीकरण में कितना बदलाव लाएगा

ओ सी एम का नाम वही पुराना पर अंदाज़ बिलकुल नया

बदलते जमाने की एक और कहानी 
अमृतसर 18 अक्टूबर (गजिंदर सिंह किंग)  
ओ सी एम का होगा अब एक नया अंदाज़ देश की सब से बड़ी कपडा निर्माता कंपनी ओ सी एम ने अब आपने नाम का लोगो के सामने नए रूप में पेश किया है, कंपनी मालिकों का कहना है, कि इस नए  नाम का रूप के आने से उन के सेल में बढोतरी होगी.
अमृतसर में  बड़ी कपडा निर्माता कंपनी ओ सी एम कंपनी की पुरानी नाम की पहचान को ख़त्म कर कंपनी ने आपने नाम को एक नए रूप में पेश किया है, जहाँ पिछले पुराने नाम के पहचान लोगो में लाल रंग के बीच  ओ सी एम लिखा था, वहीँ अब इस को आपने नए रूप और नए ढंग से एक नए रंग से नए पहचान के लिए उतारा है, कंपनी के मुताबिक़ आज यह समय की मांग थी और इस से कंपनी की सेल में फायदा होगा  कंपनी के सी,इ,ओ एस, के सिंघाल का कहना है, कि हम ने मार्केट स्टडी की थी,  जिस से की यह बात सामने आई थी, कि लोग हमारे पुरानी नाम की पहचान को अच्छा नहीं समझते थे, जिस के चलते आज उन्होंने इस आपने नाम का लोगो के सामने नए रूप में पेश किया है.
इस को आपने नए रूप और नए ढंग से एक नए रंग से नए पहचान के लिए कपडे की फाल की तरह बनाया गया है जिस में की दिखने में यह आकर्षक लग रहा है, जहाँ पिछले लोगो में लाल रंग के बीच वहीँ अब इस को अब नए अवतार में खुला कर के एक नए रंग में उतारा गया है कंपनी के मुताबिक़ आज यह समय की मांग थी और इस से कंपनी की सेल में फायदा होगा, साथ ही उन्होंने बताया, कि कंपनी को पिछले साल  नुक्सान हुआ था और इस नुक्सान को ख़त्म करने के लिए कपडे में कई सुधार लाए है, जो कि युवा पीडी को ध्यान में रख कर बनाये गए है,  साथ ही ओ सी एम के शो रूम में नवीनीकरण किया जायेगा और अमेरिका  के ब्रांड को भी  भारतीय बाज़ार में उतारा जाएगा साथ ही कंपनी की टर्न ओवर जो पिछले साल 152 करोड़ की थी और वह इस साल कंपनी का दो करोड़ तक जाने की उम्मीद है,  साथ ही विज्ञापनों के द्वारा कंपनी आपने आप को आगे बढ़ाए गी और आने वाले समय में यह जो नया ओ सी एम कंपनी ने आपने नाम को एक नए रूप में पेश किया है, यह कंपनी के व्यापार को आगे बढाने में काफी सहायक होगा
       फिलहाल अब देखना होगा, कि  कंपनी का यह बदलाव आर्थिक तौर पर कंपनी को कितनी मजबूती देता है, जिस से कि आपने नाम का लोगो के सामने नए रूप में पेश कर आपने खोये हुए मुकाम को दुबारा हासिल कर सकेगी.

इंजीनियरों ने किया अमृतसर में रोध प्रदर्शन

कौंसल ऑफ़ डिप्लोमा इंजीनीयर्स पंजाब ने दी थी काल 
अमृतसर 18  अक्टूबर  (गजिंदर सिंह किंग)  
कौंसल ऑफ़ डिप्लोमा इंजीनीयर्स पंजाब के मुलाज़िमों ने आज अमृतसर के डिप्टी कमिश्नर के दफ्तर के आगे आपनी मांगो को  लेकर रोष प्रदर्शन किया,  इन की मांग है, कि पंजाब सरकार उन को ठीक किया हुआ पे स्केल नहीं दे रही है 
             अमृतसर के डिप्टी कमिश्नर के दफ्तर के आगे कौंसल ऑफ़ डिप्लोमा इंजीनीयर्स पंजाब के मुलाज़िमों ने आपनी मांगों को ले कर रोष प्रदर्शन किया, इन की मांग है, कि पंजाब सरकार ने 1996 में उन के साथ 7880  का स्केल देने की बात की थी और साथ ही हर रोज 30 लीटर पेट्रोल देने की बात कही थी, लेकिन 1996 से ले कर आज तक उन की कोई भी बात नहीं मानी गई, साथ ही उन का कहना है, कि उन की पंजाब के चीफ सेक्रेट्री से 6 -1 -2011 को लिखित दिया था, कि उन की यह मांग लागू की जायेगी , लेकिन आज तक यह मांग पूरी नहीं हो सकी, वहीँ सरकार दुसरे सरकारी मुलाज़िमो की मांग को मान रही है लेकिन उन की मांग को पूरा नहीं किया जा रहा जिस के चलते वह आज यहाँ पर रोष प्रदर्शन कर रहे है, इस मौके पर कौंसल ऑफ़ डिप्लोमा इंजीनीयर्स पंजाब के जनरल सेक्रेट्री  रमेश जेटली ने आपनी मांगो बारे जानकारी देते हुए कहा. कि अगर उन की बात न मानी गयी,  वह 21 तारिख को चंडीगढ़ में एक विशाल रैली करेंगे और उस के बाद अगर उन की बात न मानी तो वह पंजाब में सभी विकास कार्यों को रुकवा देंगे, उन्होंने कहा, कि सरकार ने आपने चुनाव मेनीफेस्टो में भी उस को पूरा करने की बात कही थी और मांग पूरी न होने पर वह यह प्रदर्शन कर रहे है और आने वाले समय में वह अपना प्रदर्शन और तेज करेंगे

Tuesday, October 18, 2011

समीक्षा//बंद कमरा//अलका सैनी

"बंद कमरा" उपन्यास  का हिंदी अनुवाद दिनेश माली जी का सर्वश्रेष्ठ अनुवाद है . सरोजिनी साहू जी के उड़िया उपन्यास "गंभीरी घर" के  हमारी मातृ भाषा हिंदी के इतने खूबसूरत अनुवाद को हम तक  पहुंचाने का सारा श्रेय जाने माने प्रकाशक "राज  पाल एंड संज" को जाता  है जिन्होंने दिनेश जी की काबलियत को पहचाना . इससे पहले भी राज पाल एंड संज से उनका अनूदित कहानी संग्रह " रेप तथा अन्य कहानियाँ 'छप चुका है .  दिनेश जी के अनुवाद की   एक- एक पंक्ति और ख़ास कर कविताएँ तो भावनाओं से इस तरह से ओत प्रोत हैं जैसे एक- एक शब्द उन्होंने उपन्यास को महसूस करके लिखा है .
सरोजिनी साहू जी एक नारीवादी  लेखिका हैं . इस उपन्यास में उन्होंने बहुत ही खूबी से औरत के मन की छुपी हुई भावनाओं को व्यक्त किया है कि कैसे शादी के बाद कदम- कदम पर औरत कभी बीवी ,कभी बहू और कभी माँ बनकर अपने आप की बलि देती चुप चाप सब सहती रहती है . यह उपन्यास विवाह उपरान्त एक औरत के मन में प्रेम की इच्छा के तहत उठती हुई तरंगो को दर्शाता है परन्तु  आज के समाज में भी इसे आलोचना की दृष्टि से देखा जा सकता है . भारतीय समाज में जहाँ शादी एक ऐसा बंधन माना जाता है जिसमे औरत पर परोक्ष रूप से तो अंकुश  माना जाता ही है एवं उसके मन, उसकी भावनाओं पर भी अंकुश लगा दिया जाता है . अगर कोई औरत अपने पति से वह प्यार नहीं पा सकती जिसको पाना हर औरत चाहती है तो उसका मन किस प्रकार विचलित रहता है जिसके बारे में कई बार वह खुद भी नहीं जान पाती .  जैसे कुछ साल पहले करण जोहर फिल्म निर्देशक की फिल्म "कभी अलविदा ना कहना" काफी आलोचनाओं का शिकार हुई . आज के युग में भी शादी के बाद के प्यार को काफी संकीर्ण नजरों से देखा जाता है इसलिए काफी कम लोगों ने इस विषय पर फिल्म बनाने  या लिखने की हिम्मत जुटाई . और यह आज के समाज में एक प्रश्न चिन्ह भी छोड़ता  है कि एक औरत  के लिए कहाँ तक जायज है अपनी इच्छाओं का दमन करना ? पर समय काफी तेजी से बदल रहा है . अगर शादी के बाद पति- पत्नी एक दूसरे से संतुष्ट नहीं तो क्या उन्हें दूसरा मौका नहीं मिलना चाहिए . प्यार के बिना किसी रिश्ते को घसीटना तो एक समझौता  ही कहलाता है. लेखिका ने इस विषय को काफी बेबाकी से लिखा है कि प्यार किसी भी बंधन फिर चाहे वो विवाह का हो, देश का हो, धर्म का हो या जाति का हो किसी को नहीं मानता. हमारे धार्मिक इतिहास में भी श्री कृष्ण जी का रुक्मणी के साथ  विवाह होने के  उपरान्त भी राधा से प्रेम दिखाया है. लेखिका ने एक जगह पर  नायिका के मन की स्थिति दर्शाई है जहाँ वह मन ही मन अपने पति से कहती है कि "बेबी" जैसे छोटे से शब्द के संबोधन में कितना अपार प्रेम और दो जहान  का सुख समाया है जिसे उसका पति नहीं जान पाता और ना ही वह उसे अपने मन की बात खुल कर कभी कह पाती है. लेखिका ने इस उपन्यास में यही दिखाने की कोशिश की है कि औरत कितनी भावुक और संवेदन शील होती है. प्रेम एक बहुत ही पवित्र बंधन है जो कि दो आत्माओं का मिलन होता है और जिस्म की परिभाषा  से काफी ऊपर उठ जाता है. मीरा ने विवाह उपरान्त कृष्ण जी से प्रेम किया था और जब प्यार असीम हो जाता है तो भक्ति का रूप ले लेता है. उपन्यास में भी यही दिखाया गया है कि नायक जो कि बहुत सी औरतों को भोग चुका होता है नायिका के अपने जीवन में आने से अपने अन्दर एक अजीब सा बदलाव महसूस करता है जबकि वो दोनों कभी मिले नहीं होते और वह नायिका को अपनी देवी मानने लगता है. यही तो प्रेम की परकाष्ठा  मानी जाती है जबकि आजकल लोगों ने प्रेम को जिस्म तक सीमित करके प्रेम का स्तर नीचे गिरा दिया है. ऐसे उपन्यास से आभास होता है कि प्रेम कितना अद्भुत होता है उसका अहसास इंसान को किस कदर हजारों मील दूर से भी महसूस  होता है . इस उपन्यास को पढ़ते- पढ़ते  मुझे मनु भंडारी जी की कहानियाँ याद  आ गई जिन्होंने प्यार के बारे में काफी गहराई से लिखा है. इनकी कहानियाँ "यह सच है" , "स्त्री  सुबोधिनी" , "एक बार और"  में उन्होंने औरत को काफी भावुक प्रवृति की दिखाया है और प्यार को पाने के लिए वह किसी भी हद तक चली जाती हैं. उन्होंने आदमी का रूप काफी नकारात्मक दिखाया  है कि औरत काफी बार आदमी के हाथों इस्तेमाल होती है और बेवकूफ बन जाती  है. यहाँ उन्होंने शादी शुदा आदमी के स्वार्थ को  दिखाया है कि आदमी प्यार तो करना जानता है पर उसमे इतनी हिम्मत नहीं होती कि वह अपनी शादी को दाव  पर लगा कर किसी औरत को जिसे वो प्यार करने का दम भरता है अपनाने की हिम्मत नहीं रखता. औरत जबकि प्यार के लिए काफी खतरा उठा लेती है वहीँ आदमी काफी प्रैक्टीकल होते हैं जो कि प्यार भी काफी नाप तोल कर करते है.  
इसके विपरीत इस उपन्यास में लेखिका ने एक शादी शुदा आदमी के आध्यात्मिक, अद्भुत प्रेम को दिखाया है और एक शादी शुदा  औरत भी उस प्रेम को पाकर अपने आप को एक अलग ही दुनिया में महसूस करती है क्योंकि  अगर उसे विवाह उपरान्त पूरा प्यार नहीं मिलता तो प्यार पाने के लिए वह किस कदर  नदी की तरह बहती चली जाती है. --अलका सैनी 


Written By : Sarojini Sahoo
translated by Dinesh kumar Mali
Price : INR 150/-
Format : Paperback
ISBN : 978 81 7028 954 8

अमृतसर में थाना लोपोके के बाहर रोष प्रदर्शन

  देहाती कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने दिया धरना  
      अमृतसर 17  अक्टूबर (गजिंदर सिंह किंग)   
अमृतसर में आज देहाती कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने थाना लोपोके के बाहर पुलिस के द्वारा कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर हुए हमले के बाद मामला दर्ज न करने के विरुद्ध में प्रदर्शन कर धरना दिया गया और मांग की, कि  हमलावारो के ऊपर बनती कार्यवाही की जाए, अगर कार्यवाही नही की गई तो वह एस,एस,पी दफ्तर का घेराव करेंगे.
अमृतसर के  थाना लोपोके के बाहर  सड़कों पर कांग्रेस के कार्यकर्त्ताओ ने प्रदर्शन कर धरना दिया , इस धरने का मुख्य कारण इन के इलाके की पुलिस के ऊपर है, बीती दिनो गाँव लोधी गुजर में हुए काग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं पर कुछ हमलावरों ने  गोलियों से हमला कर दिया था,  पुलिस ने आरोपियों के ऊपर मामला दर्ज नहीं किया और  उल्टा जिन पर हमला हुआ था, उन को फ़साने में जुटी थी, वहीँ जिस के चलते वह आज यहाँ पुलिस के खिलाफ धरना दे रहे है, इस मौके पर देहाती कांग्रेस कमेटी के प्रधान हरप्रताप सिंह अजनाला ने इस धरने बारे जानकारी देते हुए बताया कि जिस तरह हमलावारो ने उन के कार्यकर्ताओं पर हमला किया था, उस के मुताबिक़ पुलिस ने धारा नहीं लगाई, जिस के तहत वह यहाँ पर आज एकत्रित होकर धरना दिया है और अगर हमलावारो के ऊपर बनती कार्यवाही नही की गई तो वह एस,एस,पी दफ्तर का घेराव करेंगे
        वहीँ मजीठा देहाती पुलिस के एस,पी  (डी) हरजीत सिंह बराड़ ने   हमलावारो के ऊपर की गई कार्यवाही बारे जानकारी देते हुए बताया, कि आज से कुछ दिन पहले लोधी गुजर गाँव में  लोगों के घर में आकार हमलावारो ने गोलियां चलायी थी, वहां पर एक धारा 452 नहीं लगी थी, वह जांच के बाद लगा दी गई है, उधर इरादा कतल की धारा 307  भी लगाई गयी है और इस की जांच चल रही है, जो भी दोषी पाया गया उन पर कानूनी कार्यवाही की जायेगी

सुखबीर बादल ने किया पंजाब में सांझ सेण्टर का उदघाटन


अब थानों में जाकर काम करना होगा बहुत ही आसान 
 अमृतसर - (गजिंदर सिंह किंग)
 वहीँ पंजाब के डी,जी,पी अनिल कोशिक का कहना है, कि यहाँ पर  सांझ सेण्टर में एक छत के नीचे आम आदमी आसानी से आपने कागज़ पुलिस से मुतलक आसानी से ले सकता है और इन सांझ सेण्टर में पुलिस स्टेशन के छोटे-छोटे काम समय के अनुसार कर सकेंगे और यह सारे  सांझ सेण्टर ऑनलाइन होंगे, जिस से की आप किसी भी शहर के बारे में आपने जरुरी कागजों के बारे में सूचना प्राप्त कर सकते है और पंजाब पहला ऐसा राज्य है, जहाँ यह सुविधा शुरू की गयी है,उन्होंने बताया, कि जो पिछले समय में अम्बाला में 5  किलो आर,डी,एक्स पकड़ी गयी थी, उस में बब्बर खालसा का नाम आया है, उस के बाद पंजाब में सुरक्षा बढ़ाई गयी है और खुफिया तन्त्र को तेज कर दिया गया है, वहीँ पंजाब के वी,आई,पीस को जान से मारने की धमकी के ऊपर बोलते हुए उन्होंने बताया, कि हर वी,आई,पी सुरक्षा बढ़ा दी गयी है और पंजाब में चुनाव होने वाले है, उसने चलते गडबड इलाको की निशान-देही की जा रही है और जब चुनाव के समय उन इलाको में शांति-पूर्वक चुनाव करवाने की तैयारी पूरी हो चुकी होगी
पुलिस और आम जनता के बीच संपर्क रखने और आम जनता को आ रही मुश्किलों को हल करने के लिए आज पंजाब सरकार द्वारा सांझ सेण्टर का उदघाटन पंजाब के उप-मुख्य मंत्री सरदार सुखबीर सिंह बादल ने किया. उनहोंने एक ऐसी शुरुआत  की, जिस के तहत अब आम जनता को पुलिस स्टेशन के लचीले पन  से आजादी मिलेगी.
अमृतसर में पुलिस स्टेशन में जा कर अब आपना काम करवाना अब आसान हो जाएगा, जी हाँ पंजाब सरकार द्वारा आम जनता को सुविधा देने के लिए पंजाब भर में 500  के करीब सांझ सेण्टर की शुरुआत की गयी है,  जिस का उदघाटन पंजाब के उप-मुख्य मंत्री सरदार सुखबीर सिंह बादल ने किया,. 
इस नए सिस्टम में बहुत सी खूबियाँ होंगी. इस सांझ सेण्टर में वह हर ज़रूरी कागज़ जैसे ऍफ़,आई,आर की कॉपी, चालान का भुगतान, दी गयी शिकायत पर कार्यवाही, पासपोर्ट की जांच-पड़ताल, हथियारों के लाइसेंस, मंजूरी और  इस के इलावा पुलिस स्टेशन से जुडी हर जांच को आसानी से प्राप्त कर सकता है, यह ही नहीं इन सांझ सेण्टर में एन,आर,आई के लिए विशेष सुविधा का इंतज़ाम किया गया है, 
आज इस के उदघाटन के मौके पर आज सुखबीर सिंह बादल ने आम जनता को इस के बारे में जानकारी देते हुए बताया, कि आम जनता के लिए यह आज के समाज में सांझ सेण्टर की जरुरत थी और उन्होंने एक विशेष सेमीनार में पुलिस कर्मियों और जनता के साथ इस के प्रयोग के बारे में बताया, वहीँ इस मौके पर पत्रकारों से बात करते हुए पंजाब के उप-मुख्य मंत्री सरदार सुखबीर सिंह बादल का कहना है, कि हमारा सिस्टम आम आदमी और पुलिस के बीच में दूरियां कम करने और सांझ बनाने की है और आम जनता को थाने जाने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है, वह अब एक छत के नीचे सांझ सेण्टर में सब सुविधाए मिल जाये गी, 
इस मौके पर हरियाणा में हिसार में कांग्रेस की हार पर बोलते हुए कहा, कि पूरे देश में कांग्रेस के खिलाफ एक तूफ़ान चल रहा है और यह कांग्रेस की हार इस बात को दर्शाती है, साथ ही उन्होंने आने वाले दिनो में इन सांझ सेण्टर में और सुधार लाने की बात कही, वहीँ इस मौके पर बी,जे,पी के मंत्री तीक्षण सूद, संसंद नवजोत सिंह सिधु भी मौजूद थे और उन्होंने जनता के आगे आपनी सरकार की उपलब्धि को भी गिनाया.
      वहीँ अब देखना यह होगा, कि यह सुविधा सेण्टर आम जनता के लिए कितने कारगर होते है, जिस से की आम जनता को आसानी के साथ इन्साफ मिल सकेगा और वह पुलिस के साथ बनी दूरियों को कम कर सकेंगे  

अमृतसर में 21000 रूपए की जाली करंसी बरामद की

       पकड़ी गयी करंसी एक बड़ी खेप का हिस्सा    
अमृतसर17 अक्टूबर  (गजिंदर सिंह किंग)  
पंजाब के स्टेट स्पेशल ओपरेशन सेल को उस समय बड़ी सफलता मिली जब उन्होंने 21000 रूपए की जाली करंसी पकड़ने में सफलता हासिल की, पुलिस का कहना है, कि यह करंसी पकिस्तान से आई है और यह एक बड़ी खेप का हिस्सा है.
देश को आर्थिक तौर पर कमज़ोर करने के तहत पकिस्तान भारत में जाली करंसी भेजता रहता है, वहीँ आज स्टेट स्पेशल ओपरेशन सेल को एक गुप्त सूचना मिली, कि पाकिस्तान से एक बड़ी जाली नोटों की खेप भारत में आई है, वहीँ  स्टेट स्पेशल ओपरेशन सेल ने  मिलिट्री इंटेलिजेंस के साथ मिल कर एक अभियान चला कर कुलदीप सिंह  को टेलेफोन एक्चेनज , चमरंग रोड से  गिरफ्तार किया है, जिस के पास से 42 नोट 500 रूपए के बरामद हुए है, वहीँ स्टेट स्पेशल ओपरेशन सेल के ऐ,आई,जी डाक्टर कौस्तुब शर्मा ने प्रेस वार्ता दौरान बरामद किए हुए  जाली नोटों की खेप बारे जानकारी देते हुए बताया, कि बरामद के हुई करंसी काफी अच्छी क्वालिटी की है और यह पकिस्तान से आई है, गिरफ्तार किया हुआ आरोपी पंजाब  पुलिस का कांस्टेबल रह चूका है और इस से पहले भी इस ने हेरोइन तस्करी और अफीम की तस्करी में गिरफ्तार हो चूका है, उन्होंने बताया, कि यह एक बड़ी खेप का हिस्सा है और जिस उस की गभ्भीरता से जांच की जा रही है, कि इस के पास यह खेप कहा से आई है और इस गैंग में कौन-कौन से लोग इस के साथ शामिल है.
फिलहाल इस घटना से देश को एक बार फिर आर्थिक  तौर पर कमज़ोर करने का मामला सामने आया है, वहीँ दूसरी और भी बी,एस,ऍफ़ की सुरक्षा पर सवालिया निशान लगाया जाता है, कि इतनी सुरक्षा के बाद पकिस्तान से यह करंसी भारत में किस तरह आ गई है 

Monday, October 17, 2011

लुधियाना के गोलबाग में लगा स्वास्थय मेला सफलता से सम्पन्न

साधकों ने बताये बिमारियों से मिली मुक्ति के अनुभव लुधियाना: 16 अक्टूबर: 
लगातार बढ़ रही चिंताएं और भागदौड़ आज के जीवन का एक अभिन्न अंग बन चुकी हैं. इस तनाव पूर्ण जीवन शैली के कारण ही लोग तरह तरह की बिमारियों के शिकार हो रहे हैं. किसी को ज़ुकाम ने जकड रखा है तो कोई सर दर्द से परेशान है. किसी की पीठ दर्द तंग कर रही है तो किसी के घुटने जवाब दे रहे हैं. किसी को पेट दर्द है तो किसी को कबज़ ने बेचैन कर रखा है. दवा लेने से अगर कुछ आराम मिलता भी है तो उस दवा के साईड इफैक्ट से कई और नयी परेशानियां खड़ी हो जाती हैं. इस तरह शुरू हो जाता है नयी बीमारियों की परेशानियों का एक सिलसिला. इंसान बन जाता है दवा का गुलाम. बीमारी का बंदी. न मर्जी से खा पाता है,न मर्जी से उठ पाता है और न ही पढना लिखना या कोई और काम कर पाता है.आँखें जवाब दे जाती हैं, कान सुनना बंद कर देते हैं. जवानी की उम्र में ही बुढापा आ घेरता है और इंसान बन जाता है बेबस.
आरोग्य क्लब की तरफ से लगाये गए इस कैम्प ने एक बार फिर यह साबित कर दिखाया कि पूरी तरह से स्वस्थ और नया जीवन एक बार फिर से संभव है अगर इन्सान योग की शरण में आ जाये.
लुधियाना के  गोल बाग़ में लगा एक विशेष योग शिविर ऐसे सभी लोगों के लिए एक नया संदेश ले करा आया था कि इन बिमारियों से मुक्ति संभव है और वह भी बिना किसी दवा के, बिना किसी पैसे के. यह सब किसी करिश्मे से कम नहीं. यह जादू होता है योग साधना के बल से. शर्त केवल इतनी की जो इसे करे उसे ही फायदा देगा. आपकी जगह इस साधना को कोई और करेगा तो फायदा भी उसी का होगा.इस लिए आईये और खुद भी योग कीजिये. दूसरों को भी इस सदमार्ग पर लाईये.
इस योग शिविर में ऐसे कई लोग मौजूद थे जिनके जीवन में एक नयी सुबह आई, एक नयी ऊर्जा आई. अन इन्हें भी लगा की एक नयी और स्मार्ट ज़िन्दगी संभव है और वह भी सभी के लिए. आरोग्य क्लब की ओर से आयोजित इस विशेष शिविर के प्रमुख संचालक जुगल किशोर अरोड़ा ने बताया कि उनके पिता की मौत गंभीर बीमारी और दवा के अभाव में हुई थी. गरीबी के कारण पूरे परिवार के सभी सदस्यों के दिल व दिमाग पर पड़े इस सदमे के अति दुखद व भयावह समय
पर उन्होंने अपने पिता की चिता पर यह सौगंध खायी थी कि वह अपने पिता को तो नहीं बचा सके पर अब प्रयास करेंगे कि अधिक से अधिक परिवारों को इस दुःख और सदमे से बचा सके.
इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने यह भी कहा कि भगवान की पूजा से भी पहले अपने शरीर की पूजा करो क्योंकि भगवान भी इसी शरीर में निवास करते हैं.
उन्होंने कहा कि यदि किसी को बीमारी भी गंभीर है लेकिन उसके पास पैसा भी नहीं है तो भी वह उनसे आकर मिले वह उसकी सहायता बिना किसी पैसे के करेंगे.उसे बिना किसी दवा के ठीक कर देंगें.
शिविर के समापन समारोह में आम लोगों के साथ साथ कई गण मान्य व्यक्ति भी मौजूद थे. शिविर के बाद सभी साधकों को सात्विक नाश्ता भी कराया गया तां कि लोगों को सुबह उठते सार पड़ी चाये, कोफी, सिगरेट, बीडी पीने जैसे व्यसनों से छुटकारा दिला कर नयी स्वस्थ आदतों से जोड़ा जा सके. इन सभी साधकों के शरीर को प्रभु का मन्दिर बनाया जा सके. 
योग की शरण में आये इन लोगों ने इस शिविर के दौरान बहुत कुछ सीखा जिसने इनकी ज़िन्दगी बदल दी. 
इस मौके पर शिविर में भाग लेने वाले साधकों और साधिकायों ने मिडिया को भी बताया कैसे योग की शरण में आकर उनकी ज़िन्दगी बदल गयी. अब वे किसी चिंता या बीमारी से नहीं डरते बल्कि चिंता या बीमारी उनके पास आने से डरती है. 
शीघ्र ही इस सिलसिले में नए शिविर की तारीख भी घोषित होगी अगर आप ने अभी तक इस क्लब की सदस्यता नहीं ली तो जल्द ले लीजिये और उठाइए नयी स्वस्थ ज़िन्दगी का मज़ा.--रेक्टर कथूरिया 

Sunday, October 16, 2011

पंजाब स्टेट वेटरनरी इंस्पेक्टर एसोसेशन ने दिया धरना

आने वाले दिनों में संघर्ष और तेज करने की चेतावनी 
अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग
 पंजाब स्टेट वेटरनरी इंस्पेक्टर एसोसेशन के इंस्पेक्टरो  ने आज पंजाब सरकार के पशु पालन मंत्री गुलज़ार सिंह राणिके के घर के सामने आपनी मांगो को लेकर रोष प्रदर्शन कर धरना दिया और पंजाब सरकार के विरुद्ध नारे-बाजी की और कहा कि सरकार ने जो उन की दो मांगे रखी थी वह पूरी नहीं की और अगर मांगे पुरी नहीं हुए तो आने वाले दिनों में आपना संघर्ष और तेज करेगे. 
 पंजाब स्टेट वेटरनरी इंस्पेक्टर  एसोसेशन के इंस्पेक्टर वर्ग के द्वारा अमृतसर में पशु पालन मंत्री गुलज़ार सिंह राणिके के घर के बाहर आपनी मांगो को लेकर रोष प्रदर्शन कर धरना दिया और पंजाब सरकार के विरुद्ध नारे-बाजी की. इन सभी में पूरा जोश था.
 इन की मांग है, कि इन को काफी समय से तरक्की नहीं दी जा रही है, इस मौके पर जगतार सिंह तुड प्रधान  पंजाब स्टेट वेटरनरी इंस्पेक्टर एसोसेशन, भूपिंदर सिंह सच्चर प्रधान, अमृतसर ने आपने धरने बारे जानकारी देते हुए बताया, कि उन के पे-स्केल फार्म सिस्ट के बराबर किये जाए और पंजाब के मुख्य मंत्री ने 25 अप्रैल को इन की यह दोनों मांगो को लिखती तौर पर मान लिया था, लेकिन पंजाब सरकार इन मांगो का नोटिफिकेशन जारी नहीं कर रही है, वहीँ जिस के चलते उन्होंने आज पंजाब के पशु पालन मंत्री के घर का घेराव किया है, उन का कहना है, कि  अगर इन की मांगे नही मानी गई, तो वह 23 तारीख को चंडीगढ़ में पंजाब के सभी वेटरनरी इंस्पेक्टर एक विशाल रैली करेंगे, वहीँ इस मौके उन्होंने जहा पंजाब सरकार के खिलाफ जम कर नारे बाज़ी की, वहीँ आपनी मांगे मनवाने पर आपने संघर्ष को और तेज करने की चेतावनी दी

होशियारपुर के जांबाज लडके राजिंदर सिंह का शव पहुंचा अमृतसर

चार ब्रिटिश लड़कियों को बचाते समय गयी जान 
 शव फ्रांस से एयर इंडिया की फ्लाइट से अमृतसर पहुंचा 
  अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग पहुंचा 
फ्रांस में चार ब्रिटिश लड़कियों को छेड़छाड़ और लूट से बचाते समय अपनी जान गंवाने वाले होशियारपुर के जांबाज लडके राजिंदर सिंह का शव देर रात एयर इंडिया की फ्लाइट से अमृतसर के गुरु रामदास अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर पहुंची, शव को लेने के लिए उसके चाचा और अन्य नजदीकी रिश्तेदारों के अलावा घटना का चश्मदीद गवाह भी पहुचे.
28 सितंबर को फ्रांस की राजधानी पेरिस में चार ब्रिटिश लड़कियों को छेड़छाड़ से बचाते समय अपनी जान गंवाने वाले होशियारपुर के दुमाना गांव के रहने वाले राजिंदर सिंह का शव शनिवार की देर रात को एयर इंडिया की फ्लाइट से अमृतसर के एयरपोर्ट पर पहुंची, राजिंदर सिंह का शव लेने के लिए उसके चाचा सुरिंदर सिंह पहुंचे, उन्होंने जहां अपने भतीजे की जाबांजी की तारीफ की, वहीं उन्होंने फ्रांस सरकार की ओर से राजिंदर सिंह को हीरो आफ मेटरो का खिताब देने पर धन्यवाद भी किया. उन्होंने कहा, कि राजिंदर सिंह रोजी रोटी कमाने के लिए गया था, घटना वाले दिन उनका भतीजा अपने काम से लौट रहा था, तो मेट्रो ट्रेन में कुछ लोग लड़कियों को लूटने की कोशिश कर रहे थे, तो उसने उनका बचाव किया, इसके बाद लुटेरों ने उनके भतीजे की हत्या कर दी.
इस मौके पर राजिंदर सिंह की हत्या के चश्मदीद गवाह सुखचैन सिंह सोनू भी पहुंचे, जिन्होंने घटना के बारे में सारी जानकारी देते हुए बताया, कि घटना के समय राजिंदर सिंह की लुटेरों के साथ तू-तू मैं-मैं भी हुई और स्टेशन पर उन्होंने राजिंदर को ललकार कर स्टेशन पर उतार लिया और इसी दौरान उन्होंने राजिंदर को ट्रैक पर धक्का दे दिया
    वहीं अब देखना होगा, कि भारत की सरकार इस पूरे मामले इस परिवार के लिए क्या आर्थिक मदद करती है, जिस से यह परिवार आसनी से आपनी  जिन्दगी बीता सके

अमृतसर में फैज अहमद फैज की 100 वी जन्म शताब्दी मनाई गई

 फैज की छोटी बेटी मुनीजा हाशमी ने भी भाग लिया
 अमृतसर 16 अक्टूबर:गजिंदर सिंह किंग:
एक शायर, एक सोच, वह भी क्रांतिकारी, जिसमें शामिल है आम इंसान की जद्दोजहद, मुल्कों की सरहदें भी उसे नहीं रोक पाईं और दिलों की बीच खड़ी बंदिशों की दीवारें भर भराकर गिर गईं, यह सब हुआ अजीम शायर जनाब फैज अहमद फैज की 100 वी जन्म शताब्दी के मौके पर.   अमृतसर के पंजाब नाटशाला में फैज अहमद फैज जन्म शताब्दी कमेटी की तरफ से आयोजित दो दिवसीय समागम के पहले दिन उनकी छोटी बेटी मुनीजा हाशमी ने भाग लिया, आयोजन की पहली कड़ी में नाटशाला के प्रांगण में फैज साहिब के जिंदगी तथा अदबी सफर के चित्रों की दुर्लभ प्रदर्शनी लगाई गई.  
फैज अहमद फैज की बेटी मुनीजा हाशमी ने जश्न-ए-फैज कार्यक्रम का शुभारंभ पंजाब नाट्यशाला के आडिटोरियम में किया, हाशमी ने अपने संबोधन की शुरूआत फासले यूं तो चलते में इतने नहीं, कुछ हुकूमतों व सियासतों के फासले ज्यादा हो गए, लाहौर से पहुंची  भारत-पाक दोस्ती की वकालत करने वाली हाशमी ने कहा, कि उन्हें दोनों देशों के कई शहरों से फैज अहमद फैज के जन्म शताब्दी कार्यक्रम मनाने के लिए न्यौता आया है. 
उन्होंने कहा कि भारत-पाक के लोग एक-दूसरे को अमन व प्यार का पैगाम दें, वह मोहब्बत का पैगाम लेकर आई हैं, उन्होंने कहा कि दोनों देशो को मिल बैठ कर अमन व प्यार बारे सोचना चाहिए, जिससे  दोनों देशो में मोहब्बत बढ़ सके, उन्होंने कहा, कि भारत व पाक में उनके अब्बू की सोच पर पहरेदारी बैठाना वक्त की जरूरत है.
फैज के दोस्त प्राण नेवल ने कहा, कि दोनों देशो को आपनी-अपनी विरासत को बचा कर रखना चाहिए और उन्होंने दोनों देशो में अमन व प्यार के बारे कहा, कि सिहासत दान कभी भी एक-दूसरे को अमन व प्यार का पैगाम नही दे सकते अगर दे सकते है तो  भारत-पाक के कलाकार एक-दूसरे को अमन व प्यार का पैगाम दे सकते है.
अगर  भारत-पाक दोनों देशो  सियासतदान अमन व प्यार का पैगाम  भारत-पाक के कलाकारों जैसा दे तो वह दिन दूर नही जब आम इंसान की जद्दोजहद, मुल्कों की सरहदें भी उसे नहीं रोक पाए गी.