Friday, October 30, 2020

CM का आवास घेरने को बीजेपी महिलाएं भी सक्रिय रहीं

 100 गाड़ियों के काफिले को पुष्पिंदर सिंगल ने दिखाई हरी झंडी 


लुधियाना
: 28 अक्टूबर 2020: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का आवास घेरने के लिए बीजेपी का महिला मोर्चा भी पूरी तरह सक्रिय रहा।   बहुत जोश देखने को मिला।  लिए 100 गाड़ियों का काफिला लुधियाना गया जिसे भाजपा के जिला अध्यक्ष पुष्पिंदर सिंगल ने हरी झंडी देकर रवाना किया। किसानों द्वारा भाजपा और केंद्र सरकार के तीखे विरोध बावजूद हुए इस तरह का एक्शन बहुत बड़ा कदम ही कहा जा सकता है।  

पंजाब की बिगड़ती कानून-व्यवस्था के विरोध में भाजपा महिला मोर्चा की कार्यकर्ताओं ने चंडीगढ़ में विरोध-प्रदर्शन करने के लिए व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का आवास घेरने के लिए लुधियाना भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष मनिंदर कौर घुम्मन के नेतृत्व में लगभग 100 गाड़ियों का काफिला जोषीओ खरोश से गया जिसे लुधियाना भाजपा के जिला अध्यक्ष पुष्पिंदर सिंगल ने हरी झंडी देकर रवाना किया।  पर  सबंधित कई अन्य सदस्य और हमदर्द भी मौजूद रहे। 

इस मौके पर जिला महामंत्री कांतेंदु शर्मा,राम गुप्ता,जिला उपाध्यक्ष सुनील मौदगिल,महेश दत्त शर्मा,योगेंदर मकोल,अश्वनी बहल,जिला सचिव तरनजीत सिंह, नवल जैन,महिला मोर्चा की हरमन कौर,मीणा गुप्ता,कविता,अनित गरचा,जसवीर कौर,परमजीत कौर,अंजू शर्मा,सुनीता शर्मा,,तीर्थ तनेजा,अंकुर वर्मा,शिवराम गुप्ता,रोमी मल्होत्रा,केवल गर्ग,विजय सूरी,पवन भारद्धाज आदि मौजूद थे। 

भाजपा महिला मोर्चा नेताओं की प्रथम पंक्ति में रहने वाली सक्रिय नेत्री सुधा खन्ना ने कहा कि हमारे सदस्य जब पार्टी आदेशों का पालन करने निकलते हैं तो फिर लाठी गोली की बिलकुल भी कोई परवाह तक नहीं करते। उन्होंने इस मौके पर क़तील शिफ़ाई साहिब का एक शेयर भी पढ़ा:

डरते नहीं ज़ख्मों से हम दौर-ए-रसन वाले; 

पत्थर न उठा हम पर, शीशे के बदन वाले!



Sunday, October 25, 2020

चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री ओपी सोनी ने की शुभ शुरुआत

25th October 2020 at 5:23 PM

 अकाई अस्पताल के उन्नत हड्डी रोग संस्थान का किया उद्घाटन 


लुधियाना
: 25 अक्टूबर 2020: (कार्तिका सिंह//पंजाब स्क्रीन)::

संयुक्त प्रतिस्थापन, खेल चोटों और फ्रैक्चर उपचार के लिए एक समर्पित केंद्र, एओआई "उन्नत आर्थोपेडिक संस्थान" का उद्घाटन रविवार को मुख्य अतिथि श्री ओपी सोनी, माननीय कैबिनेट मंत्री, चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान पंजाब द्वारा किया गया था। 

डॉ. बलदेव औलख, प्रसिद्ध यूरोलॉजिस्ट, ट्रांसप्लांट सर्जन और चेयरमैन अयकाई हॉस्पिटल ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया, जो चार बार विधायक रहे हैं और उन्होंने कहा कि किडनी, स्टोन, प्रोस्टेट, ट्रांसप्लांट सर्जरी के लिए जाने जाने वाले सबसे आधुनिक और अत्याधुनिक अत्याधुनिक अस्पताल अब पूर्ण हड्डी रोग विशेषज्ञ उपलब्ध कराएंगे।

डॉ। हरप्रीत सिंह गिल, निदेशक एओआई ने कहा कि यह संस्थान इस मायने में अद्वितीय होगा कि कंप्यूटर, नेविगेशन / रोबोटिक्स की दुनिया की सबसे अच्छी और नवीनतम तकनीक का इस्तेमाल घुटने, कूल्हे और कंधे के प्रतिस्थापन, खेल की चोटों और एक अनुभवी द्वारा फ्रैक्चर उपचार के लिए किया जाएगा। डॉक्टरों की टीम। आमतौर पर हम पश्चिमी देशों में इस अवधारणा को देखते हैं, लेकिन हम पंजाब में ऐसी विशेषज्ञता और तकनीक ला रहे हैं।

माननीय मंत्री श्री ओपी सोनी ने कहा कि मैं अपने मरीजों से अकाई अस्पताल और डॉ। औलख के बारे में अच्छी बातें सुन रहा हूं। मैं किडनी, लीवर, कैंसर और जोड़ों की समस्याओं के मरीजों की सेवा करने वाले अकाई अस्पताल में काम करने की सबसे आधुनिक बुनियादी सुविधाओं और अत्याधुनिक सुविधाओं से बहुत प्रभावित हूं। यह अस्पताल न केवल पंजाब बल्कि पड़ोसी राज्यों के एचपी को बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर रहा है। , जम्मू और कश्मीर, राजस्थान और हरियाणा।

मैं इसे चिकित्सा शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए उत्कृष्टता केंद्र बनाने के लिए पूर्ण समर्थन प्रदान करूंगा। उन्होंने रोबोट / कंप्यूटर नेविगेशन घुटने के प्रतिस्थापन और हिप सिस्टम के प्रदर्शन को देखा। उन्होंने कहा कि उन्हें खुशी है कि पंजाब, हिमाचल और हरियाणा के लोग ऑर्थोपेडिक टीम की विशेषज्ञता से लाभान्वित होंगे और चिकित्सा शिक्षा मंत्री को ऐसे डॉक्टरों और अकाई अस्पताल पर गर्व महसूस होगा। उन्होंने यह भी कहा कि पंजाब में उत्कृष्टता के ऐसे केंद्रों की वजह से हम अपने घुटने या कूल्हे की जगह पाने के लिए अमरीका, ब्रिटेन और कनाडा से आने वाले रोगियों के साथ एक रिवर्स ट्रेंड देख रहे हैं।

आगे सोनी सोनी ने कहा, मुझे पता है कि डॉ। औलख के नेतृत्व में यूरोलॉजी और ट्रांसप्लांट सर्जरी के लिए अकाई अस्पताल सबसे अच्छा है, मैं उन्हें डॉ। एचएस गिल के नेतृत्व में सर्वश्रेष्ठ ऑर्थोपेडिक संस्थान बनाने के लिए बधाई देता हूं जो एक प्रसिद्ध ऑर्थोपेडिक और संयुक्त प्रतिस्थापन सर्जन हैं।

उन्होंने डॉ। एचएस गिल, डॉ। मनमोहन सिंह, डॉ। एसडी अबरोल और डॉ। रोहित सिंगला की टीम AOI को बधाई दी और कहा कि तकनीक और मशीनों के साथ-साथ डॉक्टरों के अनुभव, ज्ञान और कौशल भी मायने रखते हैं।

अधिवक्ता हरप्रीत संधू ने समारोह का संचालन किया और डॉ सुनील कात्याल ने धन्यवाद ज्ञापन किया ।


Saturday, October 24, 2020

मनदीप मदान कभी BJP के थे ही नहीं-कांतेन्दु शर्मा

 सुधा खन्ना ने कहा ये लोग कभी भी BJP के सक्रिय कार्यकर्त्ता नहीं थे 

लुधियाना: 24 अक्टूबर 2020: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):: 

कांतेन्दु शर्मा
चुनाव नज़दीक आ  रहे हैं तो सियासी चालबाज़ियाँ भी तेज़ी से शुरू हैं। दल बदलियां और खेमा बदलियां भी तेज़  हैं। किसान आंदोलन के चलते अचानक ही भाजपा सबंधित गठबंधन का साथ छोड़ने वाले अकालीदल के सुर बीजेपी के  खिलाफ तेज़ हो गए हैं।  हाल ही में ऐसी खबरें भी आती रही हैं कि फलां फलां लोग फलां फलां पार्टी छोड़ कर फलां फलां पार्टी में शामिल हो गए हैं। 

एक खबर ऐसी भी आई कि कुछ रोज पहले मनदीप मदान अपने सैकड़ो साथियों सहित अकाली दल बादल में शामिल गए हैं। इस खबर का भी भाजपा नेताओं गंभीर नोटिस लिया है। भाजपा महासचिव कांतेंदु शर्मा ने स्पष्ट किया कि ये लोग तो कभी हमारे थे ही नहीं। भाजपा   सिद्धांतप्रिय पार्टी  है और इसके सभी सदस्य भी पूरी तरह से पार्टी और इसके आदर्शों को समर्पित होते हैं। हमारे लोग कभी भी अवसरवादिता को सामने रख कर पार्टी नहीं छोड़ा करते। अकाली नेताओं को इस तरह की ओछी राजनीति से बचना चाहिए। इन हल्की किस्म की बातों से अकाली दल के वरिष्ठ नेताओं की गरिमा भी कम होती है। भाजपा का कद अब इतना बढ़ चुका है कि भाजपा पर इन बातों से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। हमने देश को बदलने  का संकल्प किया हैऔर बदल कर रहेंगे। कोई भी कठिनाई हमारा रास्ता नहीं रोक सकती। तूफानी विरोधों के बावजूद  हम आगे  बढ़ते रहेंगे। 

सुधा खन्ना 
उन्होंने कहा था कि ये जो भी कार्यकर्ता अकालीदल में शामिल हुए है ये कभी भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता थे ही नहीं।  भाजपा जिला महामंत्री कांतेन्दु शर्मा ने कहा की अकाली नेता अपनी ही पार्टी के अंदर जारी आपसी घमासान के कारण पार्टी नेतृत्व के सामने अपने आपको चमकाने के लिए ऐसी ओछी राजनीती कर रहे है। उन्होंने कहा कि कुछ नेता अपना वर्चस्व कायम करने के लिए ये सब कर रहे है। 

इसी बीच भाजपा की सक्रिय महिला नेता सुधा खन्ना ने भी इस तरह की तथाकथित दलबदलियों को हल्की सियासत कहते हुए स्पष्ट कहा है कि भाजपा से सबंधित लोग  सिद्धांतों पर आधारित  हैं और अकालीदल  की तरह अवसरवादी और क्षेत्रवादी नहीं हैं।  हम लोग विश्व बन्धुत्त्व को समर्पित हैं और राष्ट्रवाद हमारे लिए सर्वोप्रिय है।  हम और हमारे लोग कभी अपनी पार्टी नहीं छोड़ा करते। लाठी चले या गोली हम लोग आखिरी सांस तक पार्टी को समर्पित रहते हैं। देश की जनता के दबे कुचले वर्ग की सार लेना हमारा प्रथम कर्तव्य है। देश के सभी वर्गों को इस नेक मकसद की पूर्ती के लिए भाजपा  का साथ देना चाहिए। 

Sunday, October 18, 2020

पुरुष मानसिकता को बदल कर ही होगा बदलाव

 सहमभरी ख़ामोशी को तोड़ने आगे आया सोशल थिंकरज़ फोरम 


लुधियाना
: 17 अक्टूबर 2020: (कार्तिका सिंह//पंजाब स्क्रीन):: 

 मता-ए-लौह-ओ-क़लम छिन गई तो क्या ग़म है 

कि ख़ून-ए-दिल में डुबो ली हैं उँगलियाँ मैं ने 

ज़बाँ पे मोहर लगी है तो क्या कि रख दी है 

हर एक हल्क़ा-ए-ज़ंजीर में ज़बाँ मैं ने        --(जनाब फैज़ अहमद फैज़ साहिब) 

कोरोना का कहर, कानून की पाबंदियां, लॉकडाउन से टूटी आर्थिकता की कमर--कुल मिला कर बोलना नामुमकिन जैसा हो गया। दर्द असहनीय हद तक बढ़ा लेकिन चीखना भी सम्भव न रहा। माहौल में अजीब सी सहम भरी चुप्पी, दर्द के मारे कोई कराहता तो उस आवाज़ को सुनना भी मुश्किल लगता। ऐसे माहौल में डाक्टर अरुण मित्रा और एम एस भाटिया की टीम आगे आई। महिलाओं के खिलाफ लगातार बढ़ रहे अत्याचार और जुर्म को बेनकाब करना ज़रूरी हो गया। सोशल थिंकर्ज फोरम ने जब इस मकसद की आवाज़ बुलंद करनी चाही तो उसे दुविधा का अहसास भी था लेकिन उसे उत्साहित किया इसी टीम ने। उत्साह से जोश भी मिला हिम्मत भी बढ़ी। सोशल थिंकर्ज फोरम के सक्रिय सहयोग से महिलाओं का यह काफिला निकल पड़ा अत्याचार की साज़िशों को बेनकाब करने। इस काफिले को देख कर याद आया डा. कविता किरण का वह शेयर जिसमें कमाल की बात कही गयी है, इस काले स्याह दौर में भी रौशनी देती बात, लगातार चलने का संदेश देती बात--:   

नामुमकिन को मुमकिन करने निकले हैं,

हम छलनी में पानी भरने निकले हैं।

                                आँसू पोंछ न पाए अपनी आँखों के

                               और जगत की पीड़ा हरने निकले हैं।

बुद्धिजीवियों के इस काफिले ने डा. अरुण मित्र से प्रेरणा पा कर वेबिनार का आयोजन किया। पितृ सत्ता को चुनौती देने का नारा एक बार फिर बुलंद किया गया। महिला वर्ग के कदम कदम पर बेड़ियां ले कर तैयार खड़ा पितृ सत्ता का वर्ग बहुत से रूप बदल कर भी हर तरफ मौजूद मिला। इस दबाव से मुक्ति की आवाज़ उठाई इस वेबिनार ने। इस दबाव से मुक्ति के लिया आवश्यक है इस पितृ सत्ता से आज़ाद होना। इस जागीरदारी सोच से मुक्ति परमावश्यक हो गयी है। महिला वर्ग की प्रतिभा, कौशल और शक्ति पर एक पहाड़ बन कर जमा हुआ है पितृसत्ता से भरी सोच का ढांचा। इसका नाश हुए बिना शायद बदलाव सम्भव ही नहीं। इस वेबिनार में मौजूद रहे पूर्व जिला अटार्नी जनरल और जानेमाने लेखक मित्र सेन मीत। उन्होइने कानून की बारीकियां समझाते हुए बताया कि महिलाओं की रक्षा-सुरक्षा के लिए कानून तो बहुत से बने हुए हैं लेकिन उन्हें सही तरह से लागु ही नहीं किया जाता। पुरुष प्रधान सत्ता और समाज में यौन हिंसा से सबंधित मामलों में भी जब तफ्तीश शुरू होती है तो उसका केंद्रीय बिंदु महिला ही रहती है। आरोपियों का न तो मेडिकल होता है और न ही उनसे इस तरह के तीखे सवाल हैं। परिणाम यही होता है दोषी ही बड़ी हो जाते हैं। पुलिस पर सियासी दबाव भी उनके हक में ही जाता है। हाथरस मामले की बात करते हुए उन्होंने कहा कि योगी सरकार से मिले आदेशों के अंतर्गत पुलिस ने जिस तरीके से वहां काम किया वह बेहद निंदनीय है। संविधानिक धाराओं की बुरी तरह से धज्जियां उड़ाई गयीं हैं। वहां की पुलिस ने पूरी तरह से गैरपेशेवराना ढंग से काम किया है। यहाँ तक कि गैर पारम्परिक ढंग से जिस तरह रात में लाश को जला कर सबूतों को पुरी तरह से नष्ट कर दिया गया वह कानून और संविधान के उलंघन की सभी सीमाओं को पार करने जैसी बात है। 

जानीमानी लेखिका डा. परम सैनी ने कहा कि इस  तरह से महिला की मानसिकता पर बहुत ही बुरा प्र भाव पढ़ता है। बुरी तरह से निराश और हताश हो कर वह हौंसला छोड़ बैठती है। इससे इस तरह की बहुत सी अन्य घटनाओं को शह मिलती है। इस तरह के मुजरिमों का हौंसला बढ़ जाता है। यदि उसे परिवार और समाज की तरफ से आश्रय, सहायता और सहयोग न मिले तो हालत बुरी तरह बिगड़ जाती है जिसका परिणाम  लिए घातक होता है। इस स्थिति में से निकलने के लिए पुरुषों की मानसिकता में बदलाव बहुत ही आवश्यक है जिसकी शुरुआत बचपन से ही की जनि चाहिए। 

एटक  महासचिव समरजीत कौर ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ हिंसा प्राचीन समय से चलती चली आ रही है और इसका ज़िक्र हमारे धार्मिक ग्रंथों में भी आता है।  समाज में व्याप्त जागीरदारी वाली इस सोच को बदलना बेहद आवश्यक है। समाज को केवल पितृ सत्ता पर आधारित न रखते हुए इसे बराबरी का समाज बनाना होगा। शक्ति के प्रदर्शन को सामने रख कर की जाती यह हिंसा केवल  महिलाओं के प्रति ही नहीं है बल्कि बच्चों और समाज के दबे कुचले लोगों के प्रति भी भी उसी तरह से बर्बर है। मैडम अमरजीत कौर ने यूपी  द्वारा दिए गए ब्यान की तीखी निंदा की जिसमें मंत्री  कि महिलाओं को संस्कारी बनाओ। मंत्री के ब्यान को बुरी  अशोभनीय और एतराज़योग्य बताते हुए  बास्तव में आवश्यकता तो लड़कों में अच्छे संस्कार भरने की है। यूं तो बच्चे बुरे नहीं होते लेकिन जब उन्हें सरकार से शह मिलने लगती है तो वे गलत रास्तों पर चलते हुए किसी भी किस्म की हिंसा करने से गुरेज़ नहीं करते क्यूंकि उन्हें सरकार  डर नहीं रहता। वे यह समझने लगते हैं  भी करें आखिर सरकार में बैठे उनके लोग उन्हें बचा ही लेंगें।

पंजाब स्त्री सभा लुधियाना की प्रधान डा.गुरचरण कौर कोचर में महिलाओं के प्रति हो  रही हिंसक वारदातों का विस्तार बताते हुए कहा कि आज के युग में हमारे देश की यह शर्मनाक स्थिति बन गई है कि जो बेहद चिंतनीय भी है। 

आल इण्डिया स्टूडेंट्स फेडरेशन के  जिला सचिव दीपक कुमार ने कहा कि वह छात्रों में इसे लेकर जाग्रति पैदा करने का ज़ोरदार अभियान चलाएंगे। शिक्षा नीति में अर्थपुर्ण तब्दीलियों के लिए छात्रवर्ग को लामबंद भी करेंगे क्यूंकि केंद्रीय सरकार की मौजूदा शिक्षा नीति में तो आर्थिक तौर पर कमज़ोर वर्गों के  शिक्षा से ही पूरी तरह से वंचित हो जायेंगे। 

सोशल थिंकर्ज फोरम के संयोजक डा. अरुण मित्रा ने कहा कि विचार विमर्श को समाज  तक लेजाने की आवश्यकता है। 

फोरम के सह संयोजक एम एस भाटिया ने कहा कि यह अकेला महिलाओं का मुद्दा है बल्कि समुचित समाज की ज्वलंत समस्या है जिस पर गहन चिंतन पर आधारित कार्यों की आवश्यकता है। 

इस वेबिनार में अलग अलग वर्गों से बड़ी संख्या में हुए जिनमें प्रमुख हैं कुसुम लता, कुलवंत कौर, इंद्रजीत सिंह सोढ़ी एडवोकेट, डा. राजिंदरपाल, डा. गुरप्रीत रत्न,  अजीत जवद्दी, रंजीत सिंह, अवतार छिब्बड़, अनु कुमारी, प्रदीप शर्मा  कुमार इत्यादि। 

इस तरह के आयोजन भविष्य  में भी होते रहेंगे। यदि आप  ऐसे  किसी भी आयोजन में शामिल होने के इच्छुक हैं तो अपना नाम पता  फॉर्म संयोजक डा. अरुण मित्रा से उनके मोबाईल फोन नंबर   +91IDAG@@@CF@  पर या फिर सह संयोजक एम एस भाटिया के मोबाईल फोन नंबर-919988491002 पर सम्पर्क करके अपनी इच्छा व्यक्त करें। भविष्य के लिए आपका नाम पता दर्ज कर लिया जायेगा।  

Monday, October 12, 2020

हम हर जवाब देने में सक्षम हैं-भाजपा की कांग्रेस को दो टूक

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष पर हमले के विरोध में धरना


*भाजपा को नजरअंदाज़ करने की भूल न करें कांग्रेसी

 *कांग्रेसियों द्वारा राजनीतिक सजिश के तहत किया गया हमला 

 *प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अश्वनी शर्मा पर हुए हमले की भाजपा ने की ज़ोरदार निंदा 

*सुनील मोदगिल ने सख्त भाषा में किया हमले का विरोध 

 *डीसी कार्यालय के समक्ष दो घंटे तक चला जोशीला धरना 

लुधियाना: 13 अक्तूबर 2020: (प्रदीप शर्मा//पंजाब स्क्रीन//अन्य टीम सदस्य)::

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अश्विनी शर्मा पर जालंधर में आयोजित कार्यक्रम से लौटने दौरान हुए हमले का मामला गरमा गया है। यह हमला जालंधर-पठानकोट राजमार्ग पर पड़ने वाले चौलांग टोल प्लाजा पर हुआ था। भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का आरोप है कि यह हमला वास्तव में "कांग्रेसी गुंडों" द्वारा राजनीतिक साजिश के तहत योजनाबद्ध तरीके से किया गया। इस जानलेवा हमले की भाजपा पुरजोर निंदा करती है। इस कातिलाना हमले के विरोध में पूरे प्रदेश में भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा जिला-स्तरीय धरने प्रदर्शन किये गए। इसी कड़ी में जिला लुधियाना के भाजपा धरने में भी जोशो खरोश देखा गया। लुधियाना जिला डीसी कार्यालय के समक्ष सैकड़ों की संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और इसे कैप्टन का गुंडाराज बताया। इस राज में गुंडागर्दी आम होने का आरोप लगाते हुए भाजपा वालों ने कांग्रेस सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस धरने कीअध्यक्षता भाजपा की जिला इकाई के कार्यवाहक अध्यक्ष सुनील मौदगिल ने की और धरने को सग्फल बना कर दिखाया। 

सुनील मोदगिल ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह तथा उनके नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार अपनी नाकामियों को छुपाने तथा जनता का ध्यान भटकाने के लिए ऐसे नीच हथकंडों पर उतरी आई है जिनकी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी। पहले युवा कांग्रेसी गुंडों ने अमृतसर व लुधियाना के भाजपा कार्यालयों में जबरन घुस कर "गुंडागर्दी का नंगा नाच" किया लेकिन पुलिस ने इन "कांग्रेसी गुंडों" के विरुद्ध किसी भी तरह का कोई कारवाई नहीं की और मूकदर्शक बन यह सब कुछ तमाशा देखती रही। रोज़ाना प्रदेश में कहीं न कहीं भाजपा कार्यकर्ताओं को धमकाया जा रहा है और उन पर झूठे मामले दर्ज किये जा रहे हैं।  

उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस का तो शुरू से ही इतिहास रहा है कि “फूट डालो और राज करो”।  उन्होंने अपना आरोप दोहराया कि कांग्रेस अपना शासन गुंडागर्दी के दम पर चलाती रही है। आज जब कैप्टन अमरिंदर सिंह तथा पंजाब कांग्रेस का प्रदेश की जनता में विश्वास खत्म हो चुका है तो यह लोग अपना वर्चस्व बचाने के लिए नीच राजनीति पर उतर आए हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब के शांतमय और भाईचारे वाले माहौल को दोज़ख की आग में झौंकना चाहते हैं लेकिन भाजपा कैप्टन अमरिंदर सिंह व कांग्रेस के ऐसे हथकंडों को कभी भी कामयाब नहीं होने देगी। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष पर हुए कातिलाना हमले को भाजपा कभी बर्दाश्त नहीं करेगी और इसी के चलते भाजपा कार्यकर्त्ता आज सडकों पर उतरे हैं। काग्रेस अगर अपनी ऐसी ओच्छी हरकतों से बाज़ नहीं आई तो भाजपा कार्यकर्ता इसका मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पूरी तरह सक्षम हैं। कांग्रेस को समझलेना चाहिए कि कांग्रेस की ऐसी ओछी हरकतों का जवाब देने के लिए हम हर पल हर तरह से तैयार है। 

इस धरने प्रदर्शन में पंजाब भाजपा के पूर्व अध्यक्ष प्रो.राजेंद्र भंडारी, पंजाब के महामंत्री जीवन गुप्ता, उपाध्यक्ष परवीन, बीएनएस खजांची गुरदेव शर्मा देबी, सह खजांची रवीन्द्र अरोड़ा, प्रवक्ता अनिल सरीन, एस सी मोर्चा के अध्यक्ष राज कुमार अटवाल, रमेश शर्मा, महिला मोर्चा की अध्यक्ष मनिंदर कौर घुम्मन,रवि बाली,इंड्रस्ट्रीज सेल के प्रधान दिनेश सरपाल,राकेश कपूर, पार्षद सुरेन्द्र अटवाल, यशपाल चौधरी, ओ पी रतडा, इन्द्र अग्रवाल,डॉ डी पी खोसला,राजिंदर खतरी,भाजपा जिला महामंत्री राम गुप्ता, कातेंदू शर्मा, उपाध्यक्ष योगेन्द्र मकोल,यशपाल जानोत्रा, राजेश्वरी गोसाई,अश्वनी बहल,महेश शर्मा,आर डी शर्मा,हर्ष शर्मा, नवल जैन,संजय गोसाई, विकी सहोता,भूषण बंसल, सुधा खन्ना, हरमन कौर, संतोष अरोड़ा, कविता, रवि बाहरी, लक्की शर्मा, धर्मेन्द्र शर्मा, सुभाष डावर, सुमित टंडन, नीरज वर्मा,बलबीर कमोडर, जतिंदर गोरिया, मण्डल प्रधानों में शिवराम गुप्ता, रोमी मलहोत्रा, जसदेव तिवारी, पंकज शर्मा, सोड़ी, दमन कपूर, गुरप्रीत राजू, डॉ परमजीत, वरुण गोयल, सूखजीव बेदी आदि मौजूद रहे।बाद दोपहर दो बजे सख्त गर्मी में शुरू हुआ यह धरना शाम तक जारी रहा। इसमें महिला वर्ग की शमूलियत भी देखने वाली थी। भाजपा के सिख्ख सदस्य भी बहुत बड़ी संख्या में नारे लगाते नज़र आये। 

लगता है कि आने वाले कुछ दिनों में ही यह भाजपा और कांग्रेस का "यह टकराव" गंभीर होते होते शायद किसानों के मुद्दे से ज़्यादा गरमा जाए। 

Friday, October 09, 2020

GCG लुधियाना में लगाया गया विशेष कोविड-19 स्वास्थ्य कैंप

Friday: 9th October 2020 at 3:23 PM

 डाक्टर सीमा कौशल ने बताये बचाव के बहुत भी महत्वपूर्ण गुर 


लुधियाना
: 9 अक्टूबर 2020: (कार्तिका सिंह//पंजाब स्क्रीन)::

कोरोना की मार को रोकने में पंजाब सरकार लगातार सक्रिय है। मिशन फ़तिह के अंतर्गत इस मकसद के लिया हर सम्भव प्रयास किया जा रहा है। इसी अभियान के अंतर्गत पंजाब स्वास्थ्य विभाग के डाक्टरों की एक विशेष टीम ने लुधियाना स्थित लड़कियों के राजकीय कालेज में एक कैंप का  आयोजन आयोजन किया। इस कैंप के दौरान कोविड-19 के निशुल्क टैस्ट करवाए गए तांकि इसे रोकने में सभी आवश्यक कदम उठाये जा सकें। गौरतलब है की ऐसे कदम उठा कर ही रिकवरी दर को बढ़ाया जा सकता है और मृत्यु डर को कम किया जा सकता है। इसी मकसद के लिए जागरूकता अभियान भी चलाये जा रहे हैं। समाजिक और शिक्षण संस्थान भी काम में सहयोग दे रहे हैं। यू सी एच सी जवद्दी की मेडिकल अफसर डाक्टर सीमा कौशल ने कालेज के स्टाफ  छात्राओं को कोरोना से बचाव के लिए सभी सावधानियां और अन्य बातें बतायीं। रोग प्रतिरोधक शक्ति को मज़बूत रखने के लिए क्या क्या खाना पीना है इस बात के भी गुर बतलाये। डाक्टर मैडम ने बताया कि इन नियमों और सावधानियों का पालन करके ही हम कोरोना पर मुकम्मल विजय प्राप्त कर सकेंगे। स्वास्थ्य की रक्षा, स्वास्थ्यवर्द्धक खानपान और आवश्यक व्यायाम इस मामले में बहुत ही आवश्यक है। कार्यवाहक प्रिंसिपल डाक्टर गुरप्रीत कौर और स्टूडेंट्स काउन्सिल की इंचार्ज डाक्टर सुखविंदर कौर की देखरेख में लगाए गए इस स्वास्थ्य कैंप का फायदा कालेज की बहुत सी छात्राओं ने उठाया। इस तरह के स्वास्थ्य कैंपों का आयोजन तेज़ी से किया जा रहा है तांकि सभी क्षेत्रों के लोगों को इसका फायदा पहुंच सके। 

Friday, October 02, 2020

भाजपाइयों का कांग्रेस दफ्तर के बाहर विशाल जवाबी धरना

 कैप्टेन की फ़ोटो पर बूट पोलिश से किया मुँह काला 


लुधियाना
: 2 अक्टूबर 2020:(पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):: 
अगर गांधी जयंती से एक दिन पूर्व कांग्रेसी वर्करों ने लुधियाना के घंटा घर चौंक में स्थित भाजपा कार्यालय में घुसकर हंगामा किया था तो आज भाजपा वर्करों ने भी बहुत बड़ी संख्या में नज़दीक ही स्थित कांग्रेस पार्टी के दफ्तर के सामने विशाल धरना दिया। कांग्रेसी वर्करों ने अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला भाजपा दफ्तर के बाहर  लटका कर उसे जलाने की नाकाम कोशिश की थी तो भाजपा वालों ने भी कैप्टेन की फोटो पर पोलिश लगा कर उस फोटो का मुंह काला किया। अगर कांग्रेस ने यह दिखाया कि पंजाब में हमारी सरकार है तो भाजपा ने इसका जवाब देते हुए याद दिलाया की हिन्दोस्तान में हमारी सरकार है। कांग्रेस ने अपना यह "एक्शन" अगर गाँधी जयंती से ें एक दिन पूर्व किया तह भाजपा ने गाँधी गांधी जयंती के दिन पर ही इसका कड़ा दिया।  अमन कानून को ठेंगा दिखाने का सिलसिला फिर से शुरू हो गया है। यानि कोई किसी से कम नहीं। 
भाजपा नेताओं ने अपने प्रेस वक्तव्य में कांग्रेसी वर्करों को गुंडा बताया और ज़ाहिर किया कि हमने तो इनका जवाब ही दिया है। भाजपा ने इस बात का शिकवा भी किया कि गांधी जयंती से एक दिन पूर्व कांग्रेसी गुंडों द्वारा भाजपा लुधियाना की इमारत में घुसकर जो हंगामा किया गया  निंदनीय है।  व्यक्त किया कि पुलिस को शिकायत किये जाने के बावजूद कोई कारवाई नहीं की गई।  पुलिस के इसी रवैये के विरोधस्वरूप भाजपा ने  दफ्तर  के सामने धरना दिया। 
ज़िला भाजपा द्वारा जिलाध्यक्ष पुष्पेंद्र सिंगल की अध्यक्षता में  भारी संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस के जिला मुख्यालय के सामने पहुंच क्र ज़ोरदार नारेबाजी की और धरना प्रदर्शन किया। पुलिस ने कांग्रेस मुख्यालय को जाने वाली हर गली को बैरिकेड लगाकर बन्द कर दिया। इस पर भाजपाइयों ने बाहर सड़क पर ही धरना लगा मुख्यमंत्री कैप्टन और कांग्रेसियों पर कारवाई न करने वाली पुलिस के खिलाफ भी जमकर नारेबाजी शुरू कर दी। भाजपा नेताओं ने कैप्टन  की फ़ोटो को धरनास्थल पर टांगकर बूट पोलिश से मुंह काला कर दिया। इस दौरान भाजपाइयों की पुलिस से जमकर झड़प भी हुई।
भाजपा के जिला अध्यक्ष पुष्पेंद्र सिंगल ने कहा कि प्रदेश में शराब माफिया,लूट,डकैती, हत्या और दुष्कर्म शरेआम डुंडा गर्दी की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है। कानून व्यवस्था को संभालने में विफल रहने वाला प्रशासन कांग्रेस नेताओं के इर्द-गिर्द घूमने पर व्यस्त है। भाजपा द्वारा पोस्टर लगाने पर कांग्रेसियो के इशारे पर पुलिस रात के अंधेरे में पोस्टर उतारती है। ऐसा प्रतीत होता है के प्रशासन सरकार से तन्खाह लेकर कांग्रेसियो के काम मे व्यस्त है। उन्होंने कहा कि प्रदेश भर में लूट, डकैती, हत्या और दुष्कर्म जैसी वारदातों से आमजन में डर का माहौल है और अब कांग्रेसी अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए विरोधी पार्टी के कार्यकर्ताओं को डराने की रणनीति पर काम कर रही है। एक ही समय पर लुधियाना और अमृतसर भाजपा कार्यालयों पर कांग्रेसी गुंडो द्वारा हमला होना ये दर्शाता है कि सब कुछ पहले से ही निश्चित था।
भाजपा जिला अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा का नेता न दबने वाला है और न ही डरने वाला है। कोई भी सरकार या पार्टी भाजपा को कमज़ोर समझने की गलतफहमी में न रहे। 
इस माैके पर भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रो.राजेंद्र भंडारी, प्रदेश महामंत्री जीवन गुप्ता, प्रदेश के उपाध्यक्ष प्रवीण बंसल, प्रदेश प्रवक्ता अनिल सरीन,कोषाध्यक्ष गुरुदेव शर्मा देवी,एस सी मोर्चा पंजाब के अध्यक्ष राज कुमार अटवाल,कमल चेतली,जतिंदर मित्तल,हरबंसलाल फैंटा,सुभाष डावर,राजिंदर खैत्री, महासचिव कांतेंदु शर्मा,राम गुप्ता, जिला उपाध्यक्ष सुनील मौदगिल, राजेश्वरी गोसाई ,योगेंद्र मकोल, महेश शर्मा, हर्ष शर्मा, अश्वनी बहल, यशपाल जनोत्रा, आर डी शर्मा, जिला सचिव संजय गोसाई, पंकज जैन, कैलाश चौधरी, सुमन वर्मा, विक्की सहोता, अमित डोगरा, लकी चोपड़ा, सीमा शर्मा, पार्षद दल की नेता सुनीता शर्मा,पार्षद सुरिंदर अटवाल, यशपाल चौधरी, इंद्र अग्रवाल,रोहित सिक्का,पंकज शर्मा, लुधियाना किसान मोर्चा के प्रभारी नरिंदर सिंह मल्ही, किसान मोर्चा के जिला अध्यक्ष प्रताप सिंह सिंधु,एस सी मोर्चा के अध्यक्ष कुलविंदर सिंह,सुमित टंडन, दीपक गोयल, भूषण गोयल, प्रेस सचिव मनमीत चावला,डॉक्टर सतीश कुमार, मंडल अध्यक्ष आकाश गुप्ता,दीपक गुप्ता,रोमी मल्होत्रा,जसदेव तिवारी,सुरेश अग्रवाल,केवल गर्ग,तीर्थ तनेजा,भूपिंदर राय,केवल गर्ग,सुधा खन्ना,मनीषा सैनी,हरमन कौर,मनोज कुमार चौहान,डॉक्टर परमजीत सिंह,रोहित बत्रा, दमन कपूर, अभिषेक सिंगल, सिमर चंडोक,ललित चौहान,राकेश नागपाल, दमनजीत अनमोल, सिमर चंडोक, नमन बंसल, माणिक वर्मा समेत भारी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे। 
आज के इस धरने के चलते भारी जाम भी लगा रहा। लोग üपरेशान होते रहे लेकिन पुलिस वालों का सारा ध्यान घंटाघर स्थित कांग्रेस के धरने को भाजपा वर्करों के कोप और आक्रोश से बचाने पर केंद्रित रहा। भाजपा की और कांग्रेस कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया जा रहा है। जाम के कारण वाहन चालकाें काे परेशानियाें का सामना करना पड़ा। ऐसे में विश्वकर्मा चौक से घंटाघर को जाने वाली रोड जाम है। एम्बुलेंस भी जाम में फंसी रही। ऐसे में वाहन चालक जमकर राजनीतिक पार्टियों को कोसते नज़र आये। 
कांग्रेस और भाजपा की इस धरना सियासत के बीच किसान संगठनों और उनके हमदर्दों ने इस बात पर अपनी तीखी नज़र रखी हुई है कि कहीं इस तरह के  "टकराव" लगातार मज़बूत हो रहे किसान आंदोलन को पैंचर करने की कोई साज़िश तो नहीं?