Friday, March 17, 2017

कैप्टन सरकार लाएगी पंजाब में राम राज्य--वरुण मेहता


Fri, Mar 17, 2017 at 1:02 PM
पंजाब के युवायों के उज्ज्वल भविष्य की शुरुआत : हरकीरत
लुधियाना: 17 मार्च 2017:(पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::


पंजाब में पिछले 10 वर्षों से राज्य का हर वर्ग त्राहि त्राहि कर रहा था व चुनाव परिणामो में कांग्रेस पार्टी को मिली इतिहासिक जीत से प्रदेश की जनता को उम्मीद की नई किरण दिखाई दी है। यह विचार श्री हिन्दू तख्त के वरुण मेहता ने व्यक्त किये हैं। 
वीरवार को राजभवन में कैप्टन अमरेंद्र सिंह की ताजपोशी के बाद स्थानीय मॉडल टाउन में यूथ फेडरेशन के प्रधान हरकीरत खुराना की अध्यक्षता में आयोजित विशेष बैठक को संबोधित करते हुए श्री हिन्दू तख़्त के प्रमुख प्रदेश प्रचारक वरुण मेहता ने कहा कि राज्य की जनता ने 2002 से 2007 तक कैप्टन अमरेंद्र द्वारा कांग्रेस शाशनकाल के दौरान प्रदेश की जनता के हित में लिए गए फैसलों के दौर को देखा है व अब भी जब पिछले 10 वर्षों से राज्य का व्यापारी , मजदुर,अध्यापक,छोटे उधमी,सरकारी व् गैर सरकारी कर्मचारी वर्ग सरकार की लोकमारु नीतियों से तंग आ चुका था अब कैप्टन के नेतृत्व में 16 मार्च से राज्य के विकास हेतु रखे नीव पत्थर से उम्मीद की किरण जागी है व् शपथ लेते ही उनके द्वारा राज्य की जनता को सुशाशन देने हेतु किये प्रशाशनिक फेरबदल से इसकी शुरुआत हो चुकी है जोकि हर वर्ग के लिए लाभकारी होगा मेहता ने कहा कि प्रदेश की जनता ने आम आदमी पार्टी के नेतायों के सत्ता हासिल कर राज्य को पुनः आंतकवाद की आग में धकेलने के तिलस्मी महल को ध्वस्त कर पंजाब को तबाह होने से बचा लिया लेकिन अभी भी सत्ता न मिलने से हताशा में आप पार्टी कट्टरपंथी ताकतों से मिलकर राज्य के माहौल को खराब करने की साज़िशें रच सकती है जिसके लिए प्रदेश सरकार को इन पर नुकेल डालने की जरूरत है।

फेडरेशन के प्रधान स हरकीरत खुराना ने कहा कि नव नियुक्त मुख्यमंत्री द्वारा राज्य से 4 हफ़्तों में नशाखोरी को खत्म करने की घोषणा का समर्थन करते हुए कहा कि नशे की दलदल में हज़ारो युवायों की जान गवाने वाले उनके परिवारों को भी इस घोषणा से साहसिक सवेदना मिली है बेशक नशाखोरी समाप्त करने में 6 महीने लग जाए लेकिन यह बहुत बाड़ी बात है कि कैप्टन ने नशा माफिया के खिलाफ सख्त कदम उठाने शुरू कर दिए।

आज इस बैठक में राजिंदर भाटिया, दिनेश दिवाकर, गुरप्रीत भाटिया , सुनील कुमार , राम बालिका राजेश सिंगला , कैलाश माथुर ,अमित पासी , मान सिंह ,प्रितपाल सिंह , ग़ज़्ज़न सिंह , सतवीर सत्ती , बाल ऋषि , विनीत धींगरा व अन्य भी उपस्थित थे।

गुरदासपुर: हाई अलर्ट के बावजूद भी नाके दिखे खाली

Fri, Mar 17, 2017 at 12:30 PM
पुलिस ने कहा कि  नाके बदलना हमारी रणनीति
गुरदासपुर: 17 मार्च 2017: (विजय शर्मा//पंजाब स्क्रीन):
मंगलवार को पठानकोट में संदिग्ध होने की सुचना और बुधवार को अमृतसर के एयरपोर्ट पर संदिग्ध बेग भले ही पूरे पंजाब में हाई अलर्ट पर चल रही है,लेकिन गुरदासपुर जिले में अधिकांश पुलिस नाके खाली नजर आए, हालांकि जिला पुलिस अधिकारियो का कहना है कि पुलिस द्वारा एक जगह पर पक्के नाके लगाने की बजाए बदल-बदल कर नाके लगाने की योजना बनाई है,ताकि असमाजिक तत्वों को पुलिस की नीति समझ ना आ सके।

    उल्लेखनीय है कि मंगलवार को पठानकोट एयरबेस क्षेत्र में संदिग्ध होने संबंधी मिली सुचना के बाद पुलिस व सेना द्वारा संयुक्त्त रूप से सर्च ऑपरेशन चलाया गया,जबकि अगले ही दिन बुधवार को अमृतसर के एयरपोर्ट पर भी एक संदिग्ध बेग मिला, जिसके बाद पूरे पंजाब में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया।जब जिला गुरदासपुर में पड़ते पुलिस नाको का निरीक्षण किया गया तो पुलिस नाको से जवान नदारद पाए गए, जबकि कई जगहों पर ट्रैफिक पुलिस के कर्मचारी ही तैनात थे।
शहर में स्ट्रीट लाईटे भी पड़ी बंद:नगर कौंसिल गुरदासपुर द्वारा पावरकॉम को पिछले करीब आठ साल से भुगतान न किए जाने से चलते 10 करोड़ से अधिक बकाया चल रहा है, जिसके चलते पावरकाम द्वारा शहर की स्ट्रीट लाइटों का कनेक्शन भी काटा हुआ है और शाम होते ही पूरा शहर अंधेरे में डूब जाता है। 
यहा-यहा खाली मिले नाके:गुरदासपुर के मंडी चौक, काहनूवान चौक, हनुमान चौक, तिब्बड़ी चौक, मिल्क प्लांट चौक पर पुलिस द्वारा दीनानगर व पठानकोट आंतकवादी हमले के बाद बंकर बनाए गए हैं, लेकिन वर्तमान में उनमे कोई भी पुलिस कर्मचारी तैनात  नहीं था।
अति संवेदनशील माना जाता है जिला गुरदासपुर:पुलिस थाना दीनानगर पर हुए आंतकी हमले और जिले में पड़ती भारत-पाक सीमा से कई बार हो चुकी घुसपैठ की कोशिश के चलते जिला गुरदासपुर को अति संवेदनशील जिला माना जाता है। काबिले जिक्र है कि जिले में आए दिन अलग-अलग जगहों पर संदिग्ध देखे जाने के चलते कई बार बड़े सर्च ऑपरेशन भी चलाए जा चुके हैं।लेकिन इसके बावजूद पुलिस द्वारा कुछ दिन की सख्ती के बाद फिर से ढीली कारवाई को अपना लिया जाता है।
दीनानगर बाईपास से बड़ा नाका हटाया:दीनानगर थाने पर हुए बड़े आंतकी हमले के बाद से ही दीनानगर गुरदासपुर बाईपास चौक पर दो बंकर व एक पुलिस चोंकी बनाकर करीब आधा दर्जन कर्मचारी दिन रात डयूटी पर तैनात रहते थे।इस नाके पर पुलिस   द्वारा भारी बेरिकेंडिग भी की गई थी।लेकिन क्षेत्र वासियों को उस समय हैरानी हुई,जब हाई अलर्ट के बीच ही उक्त नाके से सारे बेरिकेड्स हटाने के साथ ही पुलिस कर्मचारियों को भी हटा दिया गया।
दूसरी जगह लगाया नाका:
दीनानगर-गुरदासपुर बाईपास चौक से नाका हटाए जाने से संबंधि एएसपी वरुण शर्मा का कहना है कि उक्त नाके को हटा कर दूसरी जगह पर लगाया गया है।उन्होंने ने बताया कि यह फैंसला उच्च अधिकारियो द्वारा लिया गया है।
चलाया गया है विशेष चैकिंग अभियान:डी एस पी 
डीएसपी सिटी कुलवंत राय ने बताया कि जिले में हाई अलर्ट के चलते एसएसपी जसदीप सिंह के नेतृत्व में पूरी रात विशेष चैकिंग अभियान चलाया हुआ था।उन्होंने बताया कि जिले में बने पुलिस नाको से पुलिस को हटाया नहीं गया बल्कि उन्हें अलग-अलग जगहों पर मूव करने के लिए कहा गया है, ताकि एक ही जगह पर पक्का नाका लगा रहने से असमाजिक तत्वों अन्य रास्ते को अपना अप्रिय घटना को अंजाम न दिया जा सके।

जिंदुआ’ रोमांस, इमोशन्स और रिश्तों का त्रिकोण

17 को सिनेमा हाल में देखिये हंसी,आँसू और मुस्कुराहटों की कहानी
लुधियाना: 16 मार्च 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::   For More Pics Please Click Here
कभी-कभी एक सच हज़ारों झूठ से बुरा होता है और एक ऐसी फिल्म जो एक सरल रोमैन्टिक कहानी की तरह लगती है वो अचानक से एक ऐसा टर्न लेती है जो लोगों को उनकी सीटों से जोड़े रखेगी और उन्हें जिंदगी के अलग रंगों और इमोशन का अनुभव करवाएगी। ओहरी प्रोडक्शन और इन्फेन्ट्री पिक्चर्ज़ जिनके सहयोगी हैं यदु प्रोडक्शन लेकर आए हैं अपनी प्रस्तुति ‘जिंदुआ’ जिसमें अहम किरदार में नज़र आएंगे एक्टर जिम्मी शेरगिल, ऐक्ट्रस नीरू बाजवा, सरगुन मेहता और हास्य कलाकार राजीव ठाकुर।
फिल्म की कहानी एक्टर जिम्मी शेरगिल, ऐक्ट्रिस नीरू बाजवा, सरगुन मेहता इन तीन किरदारों के इर्द-गिर्द घूमती है। यह फिल्म डायरेक्शन है मशहूर नवनियत सिंह की, फिल्म की कहानी और स्क्रीनप्ले किया है धीरज रत्न ने। फिल्म का म्यूज़िक दिया है मशहूर जयदेव कुमार, प्रोफे-सी और अर्जुना हरजाई ने। फिल्म का म्यूज़िक स्पीड रेकार्ड द्वारा लेबल किया गया है।
फिल्म के बारे में बात करते हुए एक्टर जिम्मी शेरगिल ने कहा कि, “फिल्म ड्रामा, रोमैन्स, इमोशन और रोमांच से भरी है। स्क्रिप्ट ने मुझे बेहद आकर्षित किया और फिल्म की पूरी कास्ट ने बेहतरीन तरीके से काम किया। मैं इस फिल्म का हिस्सा बन कर बेहद खुश हूँ। फिल्म पूरी तरह से आपको रिश्तों का एहसास करवाएगी”।
ऐक्ट्रिस सरगुन मेहता ने कहा कि, “मैं रिलीज़ के लिए बेहद इक्साइटिड हूँ। फिल्म की कहानी दिल को छू जाने वाली है जिसमें हर एक किरदार बेहद उभर कर आ रहा है। फिल्म आपको फैमिली और रिश्तों की अहमियत के बारे में बताती है। मैं उम्मीद करती हूँ कि लोग भी इस फिल्म को उतना ही पसंद करेंगे जितना कि मैनें किया”।
मशहूर हास्य कलाकार राजीव ठाकुर ने कहा कि, “फिल्म आपको प्यार की एक अलग ही साइड दिखाएगी जिसमें आपको लव ट्राइऐंगल का ट्विस्ट दिखेगा। ये फिल्म लोगों को तीन अलग किरदारों की लव जर्नी पर लेकर जाएगी। वहीं फिल्म की पूरी कास्ट और क्रू काफी सपोर्टिव थी और हम सब ने अपना बैस्ट दिया है”।
फिल्म के डिरेक्टर नवनियत सिंह ने कहा की, “फिल्म की सबसे अहम बात यह है की ये फिल्म न केवल कपल्स को बल्कि सभी को पसंद आएगी। ये फिल्म रिश्तों और उनकी अहमियत पर आधारित है और हमें उम्मीद है कि हमारी मेहनत लोगों को खूब पसंद आएगी”। तो हो जाइए तैयार और खो जाइए जिंदुआ के रंगों और इमोशन्स में। For More Pics Please Click Here

Tuesday, March 14, 2017

स्किन प्रोब्लेम्स पर लेटेस्ट रिसर्च और टिप्स की चर्चा

Date: 2017-03-14 16:54 GMT+05:30
डा.ज़ारा शेख़ एवं डा.ईमरान खान ने बतायीं काम की बातें
लुधियाना: 14 मार्च 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::
विकास के साथ साथ बढ़ रही हैं तन और मन की समस्याएं। प्रदूषित पर्यावरण, बदलता मौसम और मिलावटी खानपान से आए दिन नयी समस्या सामने आती है। इन्हीं में से एक है स्किन की समस्या। काले दाग, स्याही जैसे धब्बे, खुजली, और कई तरह की बातें आजकल आम हो रही हैं। इन्हीं बातों को लेकर एक विशेष सेमिनार कराया गया। फास्डर्मा इंडिया इज़ारा कम्पनी की तरफ से एक ब्यूटी स्कीन ट्रीटमेंट सेमिनार का आयोजन मंगलवार को होटल फ्रेंड्स रीजेंसी में किया गया। विशेष रूप से डॉ ज़ारा शेख़ एवं डॉ ईमरान खान ने आए हुए सभी स्कीन विशेषज्ञों को लेटेस्ट रिसर्च और टिप्स दिए कि स्किन की प्रोब्लेम्स को कैसे ठीक किया जा सकता है। आज के दौर में हो रही स्कीन प्रोब्लेम्स के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि उनको कैसे ठीक किया जाए और उनसे कैसे बचा जाए। आने वाले गर्मी के मौसम में स्कीन को धूप से कैसे बचाया जाए और कैसे धूल मिटी से बचा कर अपनी त्वचा को सूंदर रख सकते है। बदलते मौसम के मुताबिक आपको रोज़ाना इस्तेमाल किए जाने वाले प्रोडक्ट्स को अपने स्कीन को ध्यान में रखते हुए ही खरीदना चाहिए या फिर एक्सपर्ट्स की सलाह से ही इस्तेमाल करना चाहिए।

Monday, March 13, 2017

योगेश मास्टर के चेहरे पर कालिख पोती:2 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया

मामले की जांच के लिए कई पुलिस टीमों का गठन भी किया गया
दवाणगेरे (कर्नाटक): 13 मार्च 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):: 
चुनावी परिणामों में जीत की घोषणा होते ही प्रगतशील कलमकारों पर हमे फिर शुरू हो गए हैं। अब नई घटना हुई है योगेश मास्टर के साथ। यहां के एक ‘‘प्रगतिशील’’ लेखक योगेश मास्टर के मुंह पर कुछ दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर काली स्याही पोत दी और हिंदू देवी-देवताओं के खिलाफ कुछ लिखने पर गंभीर दुष्परिणामों की धमकी भी दी। सोशल मीडिया पर इस घटना की तीखी निंदा हो रही है। Ivan Yas ने अपनी एक पोस्ट में बताया है कि यह निंदनीय और शर्मनाक हमला एबीवीपी के कार्टकर्तायों ने किया है।इन लोगों ने होली के पाबन्द त्यौहार के अदब और मर्यादा की धज्जियां उड़ाते हुए आयल पेंट फेंक क्र लेखक और फिल्म निर्देशक योगेश मास्टर के मुँह पर कलिख पोती। 

इसी बीच दवाणगेरे के पुलिस अधीक्षक भीमशंकर गुलेड़ ने मीडिया को बताया कि कल जब योगेश मास्टर यहां चाय की एक दूकान पर चाय पी रहे थे तभी आठ-नौ लोगों ने उनके मुंह पर काली स्याही लगा दी और वहां से भाग गए। उन्होंने बताया कि विवादित कन्नड़ उपन्यास ‘‘दुन्धी’’ के लेखक योगेश कन्नड़ साप्ताहिक पत्रिका ‘गौरी लंकेश पत्रिका’ द्वारा आयोजित एक पुस्तक विमोचन समारोह में शामिल होने यहां आए हुए थे। गौरतलब है कि पत्रकार गौरी लंकेश इस साप्ताहिक पत्रिका को चलाते है। प्रगतिशील विचारों को समर्पित लेखकों में उनका काफी सम्मान है। गुलेड़ ने बताया कि योगेश को हिंदू देवताओं के खिलाफ लिखने के लिए गंभीर दुष्परिणामों की चेतावनी दी गई थी। उन्होंने बताया कि संदिग्ध लोगों ने भागने से पहले ‘‘जय श्री राम’’ का नारा लगाया।

उन्होंने बताया कि इस मामले में दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है। गौरी लंकेश समेत सभी प्रतिभागियों और आयोजकों ने पुलिस स्टेशन पर विरोध प्रदर्शन किया और शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने कहा कि भाकपा के राज्य महासचिव सिद्दानागौड़ा पाटिल भी इस मार्च में शामिल थे। गुलेड़ ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि हमलावर दक्षिणपंथी कार्यकर्ता थे और इस घटना की पूरी जांच और उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की है। गुलेड़ ने बताया कि इस मामले की जांच करने के लिए कई पुलिस टीमों का गठन किया गया है।

Sunday, March 12, 2017

ध्यान योग का विज्ञान ही पूर्ण स्वास्थ्य का मूल है : डॉ. सतीश गुप्ता

डा. गुप्ता अनेक राष्ट्रीय व  अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से हो चुके हैं सम्मानित 
लुधियाना: 12 मार्च, 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::
ब्रह्माकुमारीज ईश्वरीय विश्वविद्यालय, लुधियाना शाखा की संचालिका बी.के. राज दीदी की अध्यक्षता में रविवार सांय गुरु नानक पब्लिक स्कूल, साराभा नगर, लुधियाना के ऑडीटोरियम में आयोजित कार्यक्रम में भारी सभा को संबोधित करते हुए ग्लोबल हॉसपिटल व रिसर्च सैंटर माऊंट आबू से आए हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. सतीश गुप्ता ने खुशहाल व स्वस्थ जीवन के सरल सहज उपाए बताए। उन्होंने राजयोग ध्यान का विज्ञान व स्वास्थ्य के लिए इसकी उपयोगिता पर प्रकाश डाला। डॉ. सतीश गुप्ता को चिकित्सा, खास तौर पर हृदय रोगों से बचाव के संबंध में व राजयोग के क्षेत्र में अनेक अंतरराष्ट्रीय व राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। वे बिना आपरेशन, केवल खान-पान, रहन-सहन के परहेज व राजयोग ध्यान योग के माध्यम से अनेक हृदय धमनियों के अवरोध को सफलता पूर्वक दूर कर चुके हैं। इस मौके पर लुधियाना के अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।
डॉ. गुप्ता ने बताया कि आज समाज में भले चिकित्सक, विशेषज्ञ व चिकित्सा संस्थान बढ़ रहे हैं परन्तु बीमारियां भी कम होने के बजाए बढ़ गई हैं। इसके कारण पर चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि आज हमारी जीवनशैली से संबंधित अनेकों बीमारियों जैसे मधुमेह, उच्चरक्तचाप, थायरायड, कैंसर, हृदय रोग, त्वचा रोग, फेफड़ों के रोग, पेट की बीमारियों आदि ने हमें घेर लिया है। इनसे पूर्णत निजात इस लिए नहीं मिल पा रही क्योंकि शारीरिक स्वास्थ्य हमारी पूर्ण सेहत का केवल एक पहलू है। इसके अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं- मानसिक व अध्यात्मिक पहलू पर हम गौर ही नहीं कर रहे। जबकि मानसिक व आध्यात्मिक पहलूओं के अस्वस्थ होने पर ही शरीर में रोग होते हैं। आज हर कोई चिंता, तनाव, क्रोध, आक्रोश, असंतुष्टता, डर, लोभ, मोह, अहंकार आदि अनेक अस्वस्थ मनोभावों को अपना चुका है इसे अपना स्वभाव मान कर स्वीकार कर चुका है। जबकि ऐसा ही अस्वस्थ मन-अस्वस्थ खान-पान, व रहन-सहन को स्वीकृति देता है जिससे शरीर में तो रोग होते ही हैं। इन्हीं मनोभावों के कारण आपसी संबंधों में मनमुटाव व सामाजिक स्वास्थ्य को भी हानि पहुंचती है। मन को स्वस्थ, सशक्त रखने का एक मात्र रास्ता अध्यात्म ज्ञान का जीवन में पालन करना है। अध्यात्म ज्ञान हमें सिखाता है कि हम मूल रूप से शरीर नहीं बल्कि शांत स्वरूप आत्मा है और हम सब एक परमात्म पिता की सन्तान व आपस में भाई-भाई हैं। यह आत्मिक ज्ञान हमें देह, मन की अस्वस्थ मानसिकता से उभरने में मदद करता है। इसे राजयोग मैडीटेशन के नियमित अयास द्वारा दृढ़ किया जा सकता है। राजयोग के द्वारा हमें आत्मा के सात गुणों- सुख, शांति, प्रेम, आनन्द, ज्ञान, पवित्रता व शक्तियों को जीवन में धारण करने की प्रेरणा व मार्ग मिलता है। मैडीटेशन द्वारा बिचारों पर नियन्त्रण व उन्हें सही दिशा देकर हम अभ्यन्तर तौर पर स्वस्थ होते हैं व शरीर रोगों से भी मुक्त होते हैं। मन के विचार कम होने से वे सशक्त व सकारात्मक भी होते हैं। तभी आत्मा अपने पिता परमात्मा से संबंध स्थापित कर सब शक्तियों का अनुभव कर पाती है। इस प्रकार स्वस्थ मन, आत्मा व शरीर के बीच कड़ी का काम करते हुए आत्मिक गुणों को स्वस्थ जीवन के रूप से प्रकाशित करता है। ऐसे स्वस्थ मानसिकता, सकारात्मकता से हमारा खान-पान, रहन-सहन भी सदा स्वस्थ होता जाता है। समाज के प्रति उदार प्रवृति हो जाती है। इस प्रकार ध्यान योग का विज्ञान पूर्ण स्वास्थ्य का मूल कहा जा सकता है। 
सत्र के दौरान डॉ. सतीश जी ने उपस्थित लोगों को राजयोग मैडीटेशन का अयास भी कराया जिसे सभी ने सराहा।