Friday, November 11, 2011

श्री गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व पर रहा अलौकिक नजारा

सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब में चलाई गई खूबसूरत आतिशबाजी 
अमृतसर//10  नवम्बर//गजिंदर सिंह किंग 
सिखों के पहले  गुरु श्री गुरु नानक देव  जी  के प्रकाश पर्व के  दिन आज सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब में दूर-दूर से आये श्रद्धालुओ ने  इस पवित्र दिवस पर  गुरु घर में नमस्तक होकर माथा टेका और गुरु घर से आशीर्वाद ले कर खुशियाँ प्राप्त की, वही आज  सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब में दीपमाला की गई और शाम के वक़्त रहि-रास पाठ की समाप्ति  के बाद यहाँ पर आतिश-बाजी की गई, जो कि खूबसूरत नजारा  देखने लायक था और  श्रद्धालुओ ने दीपमाला व्  आशितबाजी का नजारा देख  आपने-आप को बहुत भाग्यशाली समझा  
       श्री गुरु नानक देव  जी  के प्रकाश पर्व पर  आज सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब में दूर-दूर से आये श्रद्धालुओ ने  इस पवित्र दिवस पर लम्बी लाइनों में खड़े होकर गुरु घर में नमस्तक होकर माथा टेका और गुरु घर से आशीर्वाद ले कर खुशियाँ प्राप्त की, वही आज सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब में दीपमाला की गई और शाम के वक़्त रहि-रास पाठ की समाप्ति के बाद शरोमणी  गुरुद्वारा प्रबन्धक कमेटी की तरफ से खूबसूरत आशितबाजी चलाई गई, जो कि खूबसूरत नजारा  देखने लायक था और सच्च्खंड श्री हरि मंदिर की लाइटों से सजवाट देखने लायक थी, सच्च्खंड श्री हरि मंदिर के सरोवर की चारो परिक्रमा पर श्रद्धालुओ द्वारा दीप और मोमबतिया जलाई गयी,  इस मौके पर इस नज़ारे को देख कर श्रद्धालुओ ने आज के दिन के बारे जानकारी देते हुए बताया, कि आज हम  सच्च्खंड श्री हरि मंदिर साहिब के दर्शन कर आपने-आप को बहुत भाग्यशाली मानते है और श्री हरि मंदिर साहिब की दीपमाला व्  आशितबाजी का नजारा देख  आपने-आप को बहुत भाग्यशाली समझते है, वहीं ऐसा लग रहा था, कि  पटाखे तारों की तरह टिम टिम रहे हो, इस अलोकिक नज़रे को देख्ने के लिए देश विदेश से लोग यहाँ पर आते है, वहीं यहाँ आए लोगों का कहना है, कि ऐसे अलोकिक नजारे खी पर देखने को नही मिलता, वहीं इस अलोकिक नाजारो को देख कर ऐसा लग रहा था कि आकाश में कई पटाखों की वर्ष हो रही हो, वहीँ दूर दूर से लोग यहाँ आ कर इस अलोकिक नज़ारे को देख रहे थे और गुरु घर की खुशियाँ प्राप्त कर रहे थे, हर कोई इस आतिश बाज़ी को ले कर आपने आप को भाग्य-शाली बता रहे थे.

Thursday, November 10, 2011

हर तरफ श्री गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व की धूम

सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब में कई दिनों से उत्सव सा माहौल 
 अमृतसर//10 नवम्बर//गजिंदर सिंह किंग
सिखों के पहले गुरु श्री गुरु नानक देव जी का 543 वा  प्रकाश दिवस मनाया गया, इस दौरान श्रध्दालुओ ने  सच्च्खंड  श्री हरि मंदिर साहिब  आकर नमस्तक होकर माथा टेका और  सरोवर में स्नान किया और आपने मन की शांति के लिए गुरु घर में अरदास की और गुरु घर की खुशीया प्राप्त की, इस उपलक्ष्य में सच्च्खंड  श्री हरि मंदिर साहिब  में श्रध्दालुओ के दर्शन के लिए जलोह सजाया गया, जिसे श्रध्दालुओ ने जलोह देख कर आपने आप को भाग्यशाली समझा 
         सच्च्खंड  श्री हरि मंदिर साहिब  में  शरोमाणी गुरुद्वारा  प्रबंधक कमेटी की तरफ से श्री गुरु नानक देव जी   के 543  वा  प्रकाश दिवस के उपलक्ष्य पर जलोह सजाया गया, जलोह को देखने के लिए भारी गिनती में श्रध्दालु दर्शन के लिए आते है, इस जलोह में बहु-कीमती वस्तुए है, जिनमे हीरे, जवाहरात, सोने-चांदी का समान आदि श्रध्दालुओ के दर्शन के लिए सजाया जाता है, जिनमे सोने के दरवाजे, सोने के पांच कस्सी, चांदी के पांच तसल्ला शामिल है, इस के इलावा महाराजा रणजीत सिंह द्वारा दिए गए नौ लाखा हार, नील कण्ड का मोर, सोने के छतर, असली मोतीयो की माला आदि का प्रदर्शन आज के दिन जलोह द्वारा श्रध्दालुओ के लिए सजाया जाता है, वहीँ इस मौके पर सचखंड श्री हरिमंदिर साहिब में एक अलोकिक नज़ारा देखने को मिला जब गुरु घर को इस विरासती गहनों और आभूषणो के साथ सजाया गया था , साथ ही इस विशेष पर्व पर हर कोई इस अलोकिक नज़ारे को देख कर आपने आप को खुश-नसीब महसूस कर रहा था, इस दौरान जलोह साहिब के दर्शन करने वाले श्रध्दालुओ ने जानकारी देते हुए आपने आप को भाग्य-शाली  बताया और कहा, कि जलो साहिब के दर्शन कर उन को बहुत ख़ुशी महसूस हो रही है, क्यों कि बहुत कम बार यहाँ सचखंड में जलो सजाये जाते है और आज वह भाग्य-शाली है, कि उन्होंने यहाँ पर जलो साहिब के दर्शन किए है, जिस के लिए वह खुश है, वहीँ यहाँ जलो साहिब किसी भी प्रकाश पर्व पर आपनी एक अलग ही पहचान बनाते है, जहाँ गुरु घर में इन बहु कीमती हीरे, जवाहरात  और आभूषणो को सजाया जाता है और यह एक अलग ही नज़ारा पेश करते है, वहीँ इस मौके पर आए श्रद्धालुओ का कहना है, कि आज वह इस पवित्र दिन पर यहाँ आए है और वह गुरु घर में आ कर खुशियाँ प्राप्त कर रहे है, उन्होंने कहा कि आज इस पवित्र सरोवर में लोगों ने स्नान किया है, और आज का स्नान सब से पवित्र मन जाता है
       वहीँ इस मौके पर श्री अकाल तख्त साहिब जी के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने श्री गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व पर सिख संगतों को बधाई देते हुए बताया, कि श्री गुरु नानक देव जी का आगमन कलयुग के समय में हुआ, उस समय अंध-विश्वास का अन्धेरा छाया हुआ था और सामाजिक कुरीतियाँ हमारे समाज में बढ़ गई थी और उस समय श्री गुरु नानक देव जी ने इस अंध-विश्वास के अँधेरे को दूर किया और समाज को एक सही दिशा दिखाई, वहीँ गुरु जी को हर धर्म के लोगों ने माना है और उन्होंने उस अँधेरे को दूर कर  प्रकाश किया और लोगों को सच्चाई के रास्ते पर चलने का सन्देश दिया, वहीँ  श्री अकाल तख्त साहिब जी के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने लोगो को अपील की, कि आज के समय में हम लोग उन के उपदेशों पर चले और उन के उपदेशों को आपने जीवन में बसाये, और आज इस उपलक्ष्य में कल एक विशाल नगर कीर्तन निकाला गया था और आज सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब में जलो सजाये गए है और लोगों को सिखी से जुड़ने के लिए प्रेरित किया जा रहा है उन्होंने बताया, कि रात को आज यहाँ पर दीपमाला होगी और आतिशबाजी की जायेगी
      फिलहाल बढ़े ही उत्साह के साथ सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब में श्री गुरु नानक देव जी का प्रकाश पर्व मनाया गया  और लोगों ने इस दिन में गुरु घर में आ कर माथा टेक कर गुरु घर की खुशियाँ प्राप्त की, वहीँ जलो के अलोकिक नज़ारे को देख कर हर कोई उत्साहित था और हर कोई आज रात को आतिशबाजी का नज़ारा देखने के लिए इच्छुक है

Tuesday, November 08, 2011

श्री गुरु नानक देव जी के 543 वे प्रकाशपर्व की धूम

उत्सव मनाने सिख श्रद्धालुओ का जत्था  पाकिस्तान रवाना 
  अमृतसर//8 नवम्बर//गजिंदर सिंह किंग 
सिखों के पहले गुरु श्री गुरु नानक देव जी के 543 वे  प्रकाश उत्सव मनाने और गुरु-धामों के दर्शन के लिए 634 सिख श्रद्धालुओ का जत्था शरोमाणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के दफ्तर से बोले सो निहाल के जै-कारो की गूज में पाकिस्तान गया  
           शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के दफ्तर से बोले सो निहाल के जै-कारो की गूज में 10 नवम्बर को सिखों के पहले गुरु श्री गुरु नानक देव जी के 543 वे  प्रकाश उत्सव मनाने और गुरु-धामों के दर्शन के लिए 634 सिख श्रद्धालुओ का जत्था पकिस्तान रवाना हुआ, इस जत्थे में हर कोई आस्था के इस सरोबर में नज़र आये, कोई पहली बार जा रहा है और कोई बार बार, लेकिन इस जत्थे में मन में एक ही आस्था थी कि वह आपने गुरु धामों के दर्शन करे, वहीं इस मौके पर इस जत्थे की प्रधानगी कर रहे रामपाल सिंह बेनीपाल ने सिख जत्थे बारे जानकारी देते हुए बताया, कि आज वह शाम को ननकाना साहिब  (पाकिस्तान)
जायेंगे और दस तारीख को श्री गुरु नानक देव जी का प्रकाश उत्सव पर्व मनाने के  बाद वह पंजा साहिब जायेंगे और लाहौर जाकर गुरु धामों के दर्शन करेंगे और 17 नवम्बर को वापिस आपने वतन भारत आयेंगे,  वहीँ इस मौके पर शरोमाणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सेक्रेट्री दलमेघ सिंह ने पाकिस्तान सरकार द्वारा वीजा न देने के बारे जानकारी डरते हुए बताया, कि इस बार 1426 लोगों के वीजे लगाने के लिए दिए गए थे,  उन में से 731 लोगों को  पकिस्तान की सरकार ने वीजा नहीं दिया और 634 लोगों को वीजे दिए गए है, उन्होंने बताया, कि भारत की सरकार पकिस्तान की सरकार से बात करे और सिख श्रद्धलुओ को ज्यादा से ज्यादा वीजे दिए जाए, क्यों कि हर सिख की मन की तमन्ना होती है, कि वह पकिस्तान में आपने गुरु धामों के दर्शन कर सके, और जिन को आज वीजे नहीं दिए गए उस को ले कर वह चिंतित है और यह उन की धार्मिक आस्था से खिलवाड़ है
       पकिस्तान जा रहे सिख श्रद्धलुओ में राम सिंह ऐसे इंसान है, जो कि आपने आप को इस जत्था का हिस्सा बन कर आपने आप को खुश नसीब समझ रहे है, उनका कहना है, कि उन के लिए यह एक ख़ुशी की बात है, कि वह आपने गुरु धामों के दर्शनों के लिए जा रहे है 
      इस मौके पर कुछ ऐसे श्रद्धालू लोग भी थे, जिनके वीजे रद्द किए गए थे, उनमे से जसविंदर सिंह का कहना है, कि उनके आपने साथियों के साथ न जाने का गम है, और उन के कई साथियों को पकिस्तान जाने का वीसा नहीं मिला, दरअसल पकिस्तान की सरकार ने लोगों का वीसा रद्द कर दिया और वहीँ  उन के आपनो को यह मलाल है, कि उन के साथी आस्था के इस भंवर का हिस्सा नहीं बन पाए है उन्होंने कहा, कि उन के पासपोर्ट पर पकिस्तान की सरकार ने मोहर तक लगा दी है, लेकिन फिर भी उन को वीसा नहीं मिला और आज जा नहीं सके इस बात का उन को गम है

Monday, November 07, 2011

उत्तराखंड सरकार को धमकियाँ न देने की अपील


गुरुद्वारा ज्ञान गोदड़ी के पुन:निर्माण और कब्जे के लिए मार्च 
अमृतसर// 7 नवम्बर / / गजिंदर सिंह किंग
आल इंडिया सिख कांफ्रेंस के प्रधान गुरचरन सिंह बब्बर ने नवंबर 1984 में ध्वस्त हुए हरिद्वार के गुरुद्वारा ज्ञान गोदड़ी के पुन:निर्माण और कब्जे के लिए आल इंडिया सिख कांफ्रेंस के प्रधान गुरचरन सिंह बब्बर ने आज सिख कौम के महान संत बलजीत सिंह दादुवाला की आगुवाई में श्री अकाल तख्त साहिब पर अरदास कर सच्च्खंड श्री दरबार साहिब से हरिद्वार तक भारी सख्या में सिख मार्च यात्रा निकाली, यह मार्च यात्रा 10 नवंबर को हरि की पौड़ी हरिद्वार पहुंच कर बाबा श्री गुरु नानक देव जी का 450 साल पुराना ऐतिहासिक गुरुद्वारा ज्ञान गोदड़ी की जगह बने हजारों सिख हरिद्वार में पहुच कर विरोध प्रदर्शन कर भारत स्काउटके सरकारी दफ्तर का टाला तोड़ कर कब्जा कर बाबा जी के उस स्थान पर बाबा जी का प्रकाश कर और अरदास कर बाबा जी के प्रकाश उत्सव पर गुरुपुर्ब मनाए गी.
 नवंबर 1984 में ध्वस्त हुए हरिद्वार के गुरुद्वारा ज्ञान गोदड़ी के पुन:निर्माण और कब्जे के लिए आल इंडिया सिख कांफ्रेंस के प्रधान गुरचरन सिंह बब्बर ने आज सिख कौम के महान संत बलजीत सिंह दादुवाला की आगुवाई में श्री अकाल तख्त साहिब अरदास कर सच्च्खंड श्री दरबार साहिब से हरिद्वार तक भारी सख्या में सिख मार्च यात्रा में शामिल हुए, यह मार्च यात्रा 10 नवंबर को हरि की पौड़ी हरिद्वार पहुंच कर बाबा श्री गुरु नानक देव जी का 450 साल पुराना ऐतिहासिक गुरुद्वारा ज्ञान गोदड़ी की जगह बने हजारों सिख हरिद्वार में पहुच कर विरोध प्रदर्शन कर भारत स्काउट के सरकारी दफ्तर का ताला  तोड़ कर कब्जा कर बाबा जी के उस स्थान पर बाबा जी का प्रकाश कर और अरदास कर बाबा जी के प्रकाश उत्सव पर गुरुपुर्ब मनाए गे, आल इंडिया सिख कांफ्रेंस के प्रधान गुरचरन सिंह बब्बर ने इस दौरान रोष मार्च यात्रा बारे जानकारी देते हुए बताया, कि ऐतिहासिक गुरुद्वारा 450 वर्ष पुराना है, उत्तराखंड सरकार की तरफ से आ रही धमकी बारे उन्होंने कहा, कि हमे उत्तराखंड सरकार की तरफ से धमकीया आ रही है, कि हमे उत्तराखंड प्रवेश नही दिया जाए गा, लेकिन हम सरकार से आपील करते है कि हमे ऐसी धमकीया न दे.
 इस मार्च यात्रा की आगुवाई कर रहे सिख कौम के महान संत बलजीत सिंह दादुवाला ने सिख सांगतो से अपील की, कि इस मार्च यात्रा की सिख संगत हर जगह- जगह स्वागत करे और सिख पंथ जत्थेबंदियो को अपील करते है कि इसमें आपना सहयोग देकर ऐतिहासिक गुरुद्वारा ज्ञान गोदड़ी कोई आजाद करवाया जाए, उन्होंने देश के प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह को सिख होने के नाते सहयोग देना चाहिए. -रिपोर्ट व सभी तस्वीरें: गजिंद्र सिंह किंग  

मन और प्रकृति के रंगों को कैमरे में संजोती सम्वेदना गौतमी

टेकनिक से ज्यादा उन पलों को देखने का नज़रिया 

Samvedna:I am still unknown to myself, searching my identity 
कैमरा सही हाथों में हो और उसे  सही वक्त पर इशारा मिल जाये तो वह इतिहास रच देता है. बेजान से पलों में जान देता है. एक छोटी सी क्लिक ऐसे दस्तावेज़ बना देती है जिन्हें देख कर पत्थर दिल गुनाहगारों के कलेजे भी काँप जाते हैं. एक तस्वीर और उसमें कैद हुए कुछ गुज़र चुके पल दिल को झंक्झौर देते हैं, दिमाग को सोचने पर मजबूर कर देते हैं. कहते हैं की गुज़रा हुआ जमाना, आता नहीं दोबारा...पर कैमरा उस गुज़रे हुए जमाने को भी एक बार फिरसजीव कर देता है. गुजर चुके वक्त की इन तस्वीरों को देख कर दिल की धडकन कभी तेज़ हो जाती है और कभी बढ़ जाती है. आज हम उस कैमरे की बात कराहे हैं जो उसके हाथों में रहा जिस का नाम है सम्वेदना और स्वभाव है अत्यंत सम्वेदनशील. वह प्रकृति से बातें करती है.  जब उसे आशा नजर आती है तो वह उस उम्मीद को अपने कैमरे में बंद कर लेती है, जब निराशा महसूस होती है तो वह उसे भी अपने कैमरे में संजो लेती है औए जब ख़ुशी महसूस होती है तो उन पलों को भी हमेशां के लिए अमर बना देती है. और जिस कैमरे  की बात आज हम कर रहे हैं वह रहा है सम्वेदना के हाथों में. अपने नाम की ही तरह सम्वेदनशील और मर्मस्पर्शी  इस फोटोग्राफर  संवेदना गौतमी, एक सृजनशील फोटोग्राफर हैं.उदीयमान हैं, पर उनके कैमरा की नज़र में पैनापन तथा सोच में बुद्धिमत्ता की झलक उन्हें भीड़ से अलग पहचान देती है. उम्र मात्र  26 साल , शिक्षा में एम बी. ए. यह युवा फोटोग्राफर फ़िलहाल चेन्नई में रहती हैं. उनका ब्लॉग 'माई पेज' में प्रकाशित उनकी फोटोग्राफी से ही उनके कला निपुणता का पता चलता है. हर फोटो के साथ चुने हुए शब्दों का इस्तेमाल का प्रयोग दर्शक को अभिभूत करने के लिए काफी है. 

Nobody can go back and start a new beginning, but anyone can start today and make a new ending
उनका एक ब्लोगिंग है, जिसमे कसाईओं के हाट में पशुओं का खरीद-ओ-फ़रोख्त का दृश्य को इस अंदाज से पेश किया गया है:

अर्थात कोई भी लौट कर नयी शुरूयात तो नहीं कर सकता लेकिन  कोई भी आज से अभी से एक नयी शुरूयात करके एक नए अंत की रचना अवश्य कर सकता है. 
दूसरा ब्लोगिंग Lost Bud में एक बाल-श्रमिक को लकड़ी का काम करते हुए दिखाया गया है जिसके साथ उद्धृत है मार्क ट्वैन का कथन: Lord save us all from... a hope tree that has lost the faculty of putting out blossoms. जोड़ दिया गया है. हर ब्लोगिंग के साथ इस तरह शब्दों का इस्तेमाल हर फोटोग्राफ को एक अलग स्तर पर ले जाता है, जहाँ फोटोग्राफी की टेकनिक से ज्यादा उसको देखने का नज़रिया ज्यादा महत्त्वपूर्ण हो जाता है.
 Lord save us all from... a hope tree that has lost the faculty of putting out blossoms. ~Mark Twain
किन्तु केवल शब्दों का प्रयोग ही नहीं , कभी अन-कहे ही, उनके फोटोग्राफ,बिना वाक्यों का इस्तेमाल से भी बहुत कुछ कह जाते हैं. सम्प्रति उनके पोस्ट किया हुआ ब्लोगिंग Three Moods of Nature में प्रकृति के एक ही रूप में तीन अलग अलग मानविक मूडज़ को ढूंड पाना, वह भी बिना कोई वाक्य बोले, एक अजब कला पारदर्शिता है, जो दर्शकों को मंत्र मुग्ध किये बिना नहीं छोड़ता है.
यह उदीयमान ब्लोगर तथा फोटोग्राफर भारत के जानीमानी नारीवादी लेखिका सरोजिनी साहू तथा ओडिया के सुप्रसिद्ध लेखक जगदीश महंती की सुपुत्री हैं. संवेदना अपने सॉफ्टवेर इंजीनियर पति नरेन्द्र पटनायक तथा एक पुत्र के साथ चेन्नई में रहती हैं.  
संवेदना अपने ब्लॉग में अपना परिचय एक nonsense thinker के रूप में देती है और दावा करती है की उसे बहुत कुछ अभी सीखना है. उसकी भाषा में: I am still unknown to myself, searching my identity  अर्थात 
अभी तक मैं खुद भी अपने आप को नहीं जानती, तलाश कर रही हूँ अपनी पहचान हालत तो हम सभी की यही है की हमसे अधिकतर अपने आप को भी नहीं जानते.....पर बहुत ही कम लोग हैं जो इस हकीकत को जान पाते हैं महसूस कर पाते हैं और उन लोगों की संख्या तो और भी कम है जो अपने जीवन काल में ही अपनी खुद की तलाश शुरू कर पाते हैं....हमें ख़ुशी है की सम्वेदना गौतमी उन कुछ बहुत ही थोड़े से कीमती लोगों में से एक है. आपको सम्वेदना का ब्लॉग कैसा लगा, तस्वीरें कैसी लगी अवश्य बताएं. आपके विचारों की इंतज़ार बनी रहेगी. --रेक्टर कथूरिया 

एक दुसरे को गले मिल कर दी ईद की बधाई

अमृतसर में भी ईद का त्यौहार मनाया गया धूमधाम से   
      अमृतसर// 7 नवम्बर //रिपोर्ट व् तस्वीरें//गजिंदर सिंह किंग
  आज पूरे देश में ईद का त्यौहार बड़ी धूम-धाम से मनाया जा रहा है, वहीँ गुरु नगरी अमृतसर में भी ईद की धूम रही. यहाँ के सुल्तानविंड इलाके में मुस्लिम भाई चारे ने ईद का त्यौहार बहुत ही श्रद्धा से मनाया. इस मौके पर नमाज़ अदा की गयी और उस के बाद खुतबा जारी किया गया.
     पूरे देश और दुनिया में आज मुस्लिम धर्म का सब से बड़ा त्यौहार ईद मनाई जाती है, वहीँ आज अमृतसर में सुलतान विंड इलाके में ईद गाह में मुस्लिम भाई चारे ने ईद का त्यौहार बडवे धूम-धाम से मनाई गई, इस मौके पर आज नमाज़ में हजारों की संख्या में लोगों ने इस नमाज़ में हिस्सा लेकर नमाज अदा कर सब लोगों ने एक दुसरे को गले मिल कर ईद की बधाई दी और लोगों ने एक दुसरे से मिल कर ख़ुशी ज़ाहिर की, इस मौके पर इमाम साहिब मुजामिल  हुसैन  कादरी ने  पूरे देश में लोगों से मिल-जुल कर रहने और शांति रखने का सन्देश दिया, उन्होंने आज के दिन की जानकारी देते हुए बताया, कि आज एक पवित्र दिन है, जिस दिन आज नमाज़ अदा करने से सारी  खुशियाँ प्राप्त होती है और यह हंसी और खुशी  के पैगाम वाला दिन होता है, उन्होंने इंसानियत के लिए देश में अमन और शांति का सन्देश दिया है और आज यहाँ पर ईद के पवित्र त्यौहार को मना रहे है और देश वासियों को उन्होंने इस ईद के अवसर पर ईद की मुबारकबाद दी.

Sunday, November 06, 2011

शिव सेना हिंदुस्तान ने की अमृतसर में भूख-हडताल


11 सूत्री मांगो को लेकर आन्दोलन शुरू 
अमृतसर //  6 नवम्बर // गजिंदर सिंह किंग 
आज  अमृतसर में शिव सेना हिंदुस्तान के सभी पद-अधिकारी और कार्य-कर्ताओं ने आपने राष्ट्रीय प्रमुख पवन कुमार गुप्ता के निर्देशों अनुसार अपनी 11 सूत्री मांगो को लेकर आज एक दिवसीय भूख-हड़ताल की
पंजाब में हिन्दू समाज की राजनीतिक, धार्मिक,सामाजिक 11 सूत्री मांगो को लेकर पिछले दस साल से एक लम्बा संघर्ष करती आ रही है, लेकिन इनकी मांगे पुरी नहीं होने के कारण आज पूरे पंजाब में शिव सेना हिंदुस्तान के राष्ट्रीय प्रमुख पवन कुमार गुप्ता के निर्देशों अनुसार 11 सूत्री मांगो को लेकर आज अमृतसर के हाल गेट के बाहर शिव सेना हिंदुस्तान के सभी पद-अधिकारी और कार्य-कर्ताओं द्वारा एक दिवसीय भूख-हड़ताल की गई, जिस की अध्यक्षता शिव सेना हिंदुस्तान के राष्ट्रीय उप-प्रमुख श्री रमन पहलवान ने की, इस दौरान उन्होंने इस भूख-हड़ताल बारे जानकारी देते हुए बताया, कि शिव सेना हिंदुस्तान के राष्ट्रीय प्रमुख पवन कुमार गुप्ता के निर्देशों अनुसार 11 सूत्री मांगो को लेकर आज पूरे पंजाब में एक दिवसीय भूख-हड़ताल की जा रही है और जब तक हमारी 11 सूत्री मांगे पुरी नहीं होती, तब तक हम  शिव सेना हिंदुस्तान के राष्ट्रीय प्रमुख पवन कुमार गुप्ता के निर्देशों अनुसार संघर्ष करते रहेंगे.

कैप्टन अमरिंदर सिंह की पंजाब बचाओ यात्रा पहुंची अमृतसर

पंजाब में गहराने लगा चुनावी रंग:जीत की दावेदारियां शुरू 
  अमृतसर//6 नवम्बर//गजिंदर सिंह किंग  
पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान कैप्टन अमरिंदर सिंह आज आपनी पंजाब बचाओ यात्रा के तहत अमृतसर पहुंचे, वहीँ यहाँ उन्होंने एक विशाल रैली को संबोधित किया और साथ ही प्रदेश की सरकार पर धावा बोल कर आने वाले चुनाव में कांग्रेस पार्टी की जीत की दावेदारी पेश की
       पंजाब आज-कल चुनावी रंग से रंगा हुआ है और वहीँ आज पंजाब बचाओ यात्रा के तहत आज कांग्रेस की यात्रा अमृतसर पहुँची, वहीँ जहाँ कैप्टन अमरिंदर सिंह का भव्य स्वागत किया गया,वहीँ एक विशाल रैली को संबोधित भी किया, जनता को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, कि आज पंजाब में व्यापार खत्म हो रहा है जिस कारण पंजाब के आर्थिक  हालात खराब हो रहे है और यहाँ पर इंडस्ट्री खत्म हो चुकी है और मौजूदा सरकार ने पांच साल पंजाब को लूटा है,  साथ ही उन्होंने कहा, कि बादल परिवार गुंडों का परिवार है और यह बाप बेटा चोर है और चोर को चोर ही कहा जाता है  अगर मै कोई अपशब्द कहता हूँ तो बादल परिवार को इस लिए बुरा लगता है, कि वह चोर है, जिन्होंने पंजाब को लूटा है और जब हमारी कांग्रेस सरकार आयेगी, तो वह चुन-चुन कर पूरा हिसाब लेंगे, उन्होंने आपनी पंजाब बचाओ यात्रा बारे जानकारी देते हुए बताया, कि यह यात्रा पंजाब के बारे पंजाब के लोगों को जागृति  करने के लिए है और वह जिस कारण वह यह यात्रा कर रहे है 

इस मौके पर पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आपनी पंजाब बचाओ यात्रा बारे पत्रकारों से बात-चीत करते हुए बताया, कि पंजाब बचाओ यात्रा पंजाब से अकाली दल को निकालने की यात्रा है और महंगाई और पेट्रोल तेल की बढ़ी कीमतों पर बोलते हुए उन्होंने कहा, कि आज जो महंगाई बढ़ी है इस के लिए राज्य सरकार जिम्मेदार है और पेट्रोल की बढ़ी कीमते यह एक इंटर-नेशनल समस्या है, जिस कारण पेट्रोल की कीमते बढ़ी है और लीबिया में जो पेट्रोल की सप्लाई कम होने के कारण कीमतें बढ़ी है और जब पेट्रोल की सप्लाई ठीक हो गई तब हालात ठीक हो जायेंगे, उन्होंने जालंधर में जो कांग्रेस की रैली फ्लॉप हुई है उस के बारे उन्होंने कहा, कि उन्होंने जो वहां पर नोटिस दिया है इस से पार्टी पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा और कहीं भी जरुरत होगी तो वह ऐसा करेंगे