Friday, May 05, 2017

पाक को ईंट का जवाब पत्थर से देंगे: शाही इमाम पंजाब की दहाड़

Fri, May 5, 2017 at 2:20 PM
लुधियाना में हज़ारों मुसलमानों ने जलाया नवाज शरीफ का पुतला 
लुधियाना में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का पुतला जलाते हुए मुस्लिम समुदाय के लोग
लुधियाना: 5 मई 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो): 
जिन लोगों के दिमाग में नफरत की सियासत भरी है उन लोगों को हर बुरी घटना के पीछे कोई अल्पसंख्यक ही दिखता है। हिन्दोस्तान की एकता, अखंडता और सीमा को अभेद बनाये रखने के लिए जीते अच्छे कारनामे मुस्लिम समुदाय ने किये हैं उनकी लिस्ट बहूज लम्बी है। इन गौरव गाथाओं की याद दिलाते हुए आज लुधियाना स्थित जामा मस्जिद से कहा गया कि पाकिस्तान को ईंट का जवाब पत्थर से देने का वक़्त आ गया है। 
आज यहां शहर की ऐतिहासिक जामा मस्जिद लुधियाना के बाहर हजारों मुसलमानों ने नायब शाही इमाम पंजाब मौलाना उस्मान रहमानी के नेतृत्व में पाकिस्तानी गुंडागर्दी के खिलाफ जबरदस्त विरोध प्रदर्शन करते हुए पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का पुतला जलाया और पाकिस्तान व पाकिस्तानी फौज के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की। इस मौके पर संबोधन करते हुए नायब शाही इमाम पंजाब मौलाना उस्मान रहमानी लुधियानवी ने कहा कि बीते दिनों कश्मीर में धोखे से भारतीय फौजियों के साथ पाकिस्तानियों की ओर से की गई दरिंदगी ने एक बार फिर पाकिस्तानी सरकार को बेनकाब कर दिया है। उस्मान रहमानी ने कहा कि पूरा देश अपने शहीद जवानों को सलाम करता है लेकिन इसके साथ ही पाकिस्तान को भी हम बता देना चाहते हैं कि वह किसी खामख्याली में ना रहे, ईंट का जवाब पत्थर से दिया जाएगा। नायब शाही इमाम ने भारत सरकार से मांग की है कि पाकिस्तान से बातचीत बंद करके ताकत का इस्तेमाल किया जाना चाहिए, क्योंकि लातों के भूत बातों से नहीं मानते। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की सरकार किसी खामख्याली में ना रहे अगर जरूरत पड़ी तो उसकी अकल ठिकाने लगाने के लिए भारत के 26 करोड़ मुसलमान ही काफी हैं। नायब शाही इमाम ने कहा कि भारत में रहने वालों के सियासी मतभेद हो सकते है लेकिन देश की एकता और अखण्डता के लिए हिंदु, मुसलमान, सिख, ईसाई, दलित और सभी जातियों के लोग एक जुट हैं और हमारी इस एकता की ताकत को दुनिया वाले तोड़ नहीं सकते, एक प्रशन का उत्तर देते हुए पंजाब के नायब शाही इमाम मौलाना उस्मान रहमानी ने कहा कि मोदी जी को चाहिए कि अब देश मे तीन तलाक के मुद्दे को छोड़ कर पहले पाकिस्तान का जनाजा निकाले। इस मौके पर गुलाम हसन कैसर,कारि अल्ताफ उर रहमान ,शाहनवाज अहमद व  शाही इमाम पंजाब के सचिव मुहम्मद मुस्तकीम आदि मौजूद थे।

Tuesday, May 02, 2017

May Day:'इंटक" के मंच से हुआ वृद्ध स्वतंत्रता सेनानी का अपमान

अनीता शर्मा के ज़ोर देने पर किया गया उसी स्वतंत्र सेनानी का सम्मान
कौन हैं यह बाबा-क्या है इतिहास में इनका रोल-देखिये मैडम अनीता शर्मा के साथ एक पुरानी वीडियो 
लुधियाना: 1 मई 2017: (पंजाब स्क्रीन टीम)::  For More Pics Please Click here
इंटक के एक विवादित गुट ने अपने बहादर के रोड पर हुए आयोजन के मंच से एक बेहद वृद्ध व्यक्ति का लगातार अपमान किया जो खुद को स्वतंत्रता सेनानी होने का दावा भी कर रहा था। इस अपमान को अनीता शर्मा ने बहुत जद्दोजहद करके और बाद में शर्म के मारे इन नेताओं ने उसी वृद्ध का मंच से नीचे आ कर सम्मान भी किया और अपनी भूल भी स्वीकार की। यह सब मई दिवस के पावन अवसर पर हुआ। मंच पर नेताओं के सम्मान का घमसान मचा रहा और सम्मान चिन्ह के दोशाले मंच से भीड़ की तरफ अपने ख़ास लोगों की तरफ जूतों की तरह फेंके जाते रहे। हरियाणा की खटटर सरकार के बयान का मई दिवस के हर आयोजन में तीखा विरोध हुआ लेकिन इंटक के इस गुट ने अपने इस आयोजन में इस पर एक शब्द बोलना भी उचित नहीं समझा।  गौरतलब है कि खुद को सेकुलर कहने वाले इंटक के इस विवादित गुट ने बहादर के रोड का आयोजन वाम दलों के केंद्र में सेंध लगा कर किया था जो बुरी तरह से फ्लॉप रहा।
INTUC: ਪਰਮਿੰਦਰ ਪੱਪੂ ਨੂੰ ਹਟਾਇਆ ਮਾਲਵਾ ਜ਼ੋਨ ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਵਾਲੇ ਅਹੁਦੇ ਤੋਂ 
गौरतलब है कि इस जगह अक्सर एटक की तरफ से मई दिवस मनाया जाता था। उस समय यहां पांव रखने की जगह भी नहीं होती थी। यह सब देख कर इंटक के इस गुट को लगा कि यहां के नेताओं को  साथ मिला लिया जाये तो मज़दूरों की बहुत बड़ी संख्या अपने कब्ज़े में आ जाएगी और ऐतिहासिक कार्यक्रम होगा लेकिन एटक का समर्पित केडर यहां आने की बजाये नगर निगम ज़ोन ए में हुए सफल आयोजन में शामिल हुआ। यहां इंटक के कार्यक्रम में कुर्सियां आखिर तक खाली रहीं। शो बुरी तरह फ्लॉप हुआ।  
इसी बीच कार्यक्रम में कांग्रेस का नाम सुन कर यहां एक बहुत ही वृद्ध व्यक्ति आ पहुंचा जिसे आप तस्वीरों में भी देख सकते हैं। उसका दावा है कि उसने तेजा सिंह स्वतंत्र जैसे जाने माने वाम स्वंतन्त्रता सेनानी के साथ जेल काटी है। अंग्रेज़ों के साथ युद्ध के समय कुछ देश विरोधियों की हत्याएं भी की हैं। वह दो शब्द कहना चाहता था माईक पर लेकिन सम्मान के घमसान में व्यस्त इन नेताओं ने उसकी एक न सुनी।  इसकी सूचना मंच संचालकों के साथ साथ मंच पर काबिज़ वरिष्ठ नेताओं तक भी पहुंचाई गयी लेकिन किसी की न सुनी गयी क्यूंकि सम्मान की होड़ से किसी को वहां फुर्सत ही न थी।  
नाम लेने और सम्मान करने कराने का यह सिलसिला इतना अस्त व्यस्त था कि ऊषा मल्होत्रा और कई अन्य लोग बीच में ही उठ कर चले गए। एम एल ए संजीव तलवाड़ नाम लेते लेते रुआंसे हो आये और झट से अपना भाषण समाप्त कर वहां से निकलते बने।  उनके चेहरे पर आई निराशा और आक्रोश को साफ़ देखा जा सकता था। इंटक के महिला विंग के प्रांतीय प्रधान अनीता शर्मा के ज़ोर देने पर जब कार्यक्रम समाप्त हो चुका तो माईक उसी वृद्ध के हाथों थमा दिया गया जो काफी देर से नीचे खड़ा केवल दो मिंट की मांग कर रहा था। माईक  थमाने के साथ ही मंच से रौशनी बंद कर दी गयी। इस अपमानजनक स्थिति पर उस वृद्ध को भी बुरा लगा और उसने छूटते ही कहा चोर उचक्का चौधरी ते गुंडी रन प्रधान। इस बात से सभी का माथा ठनका और स्वयं दिनेश शर्मा सुन्द्रियाल सहित वृद्ध के पास पहुंचे। यहाँ भी सभी ने सेल्फी लेनी शुरू कर दी। उस वृद्ध का सम्मान भी किया। कुछ पल बाद दिनेश शर्मा ने इस पर मंच की गलति का अहसास भी किया लेकिन स्थानीय आयोजकों को इस का ज़रा भी अहसास नहीं हुआ। वे सब गौरवमयी ढंग से चल रहे थे। अंधेरा होते ही सभी नेता लोग घर चले गए मास्टर फ़िरोज़ टेंट और कुर्सियां उठवाने में अपनी ज़िम्मेदारी निभाने लगे। आखिर उन्होंने इस फ्लॉप शो के खर्चे तो उठाने ही थे। मास्टर फ़िरोज़ भी इस सारे घटनाक्रम से बुरी तरह निराश और हताश नज़र आये।  आखिर अनीता शर्मा, श्री पाल शर्मा और कुछ अन्य लोगों ने उन्हें जा कर दिलासा दिया। अब मई दिवस पर एक नया आयोजन होने की चर्चा है इसी महीने के मध्य में।  उसकी जगह और कार्यक्रम फाईनल  होते ही इसकी सूचना सभी को दी जाएगी। मई दिवस के नाम पर सम्मान के घमसान के यह फ्लाप  शो सभी याद रहेगा पर कुछ स्थानीय नेताओं को छोड़ कर क्यूंकि उनमें संवेदना या अहसास नाम की कोई चीज़ नहीं है। 
For More Pics Please Click here
(पंजाब स्क्रीन टीम: प्रदीप शर्मा, ओंकार सिंह पूरी, रेक्टर कथूरिया)

INTUC: ਪਰਮਿੰਦਰ ਪੱਪੂ ਨੂੰ ਹਟਾਇਆ ਮਾਲਵਾ ਜ਼ੋਨ ਦੇ ਪ੍ਰਧਾਨ ਵਾਲੇ ਅਹੁਦੇ ਤੋਂ