Thursday, November 14, 2013

ये बस्ती हैं मुर्दा परस्तों की बस्ती

   यहाँ पर तो जीवन से है मौत सस्ती         सोनू यादव का अंतिम संस्कार 
--सोनू यादव का अंतिम संस्कार
बाल दिवस अर्थात  चाचा नेहरू का जन्म दिन। स्व्तंत्रता के बाद देश के पहले प्रधानमंत्री का जन्म दिन। ख़ुशी का दिन। उत्साह का दिन। बच्चों से नए वायदे करने का दिन और पुराने वायदे पूरे करने का दिन। लेकिन इस दिन से एक दिन पूर्व रोज़ी रोटी के दुःख में अपना घर परिवार छोड़ कर लुधियाना में आया सोनू यादव इसी शहर के एक श्मशान घाट में हमेशां के लिए आग में राख हो गया।  न उसके जीवन काल में ही उसे कोई सुख मिला था और न ही उसके मरने के बाद उसके परिवार को कोई दिलासा देने आया। राजनीतिक दलों, समाजिक संगठनों और ट्रेड यूनियनों से भरे हुए इस शहर में कोई उसका हाल पूछने नहीं आया। गौरतलब है कि रविवार दस नवंबर 2013 को उसके फेक्ट्री मालिक ने उसे पीट पीट कर मार डाला था। पुलिस ने दफा 302/34 आईपीसी के अंतर्गत मामला भी दर्ज किया, एक दिन की देरी से अख़बारों में खबरें भी छपीं लेकिन सोनू का अंतिम संस्कार करते समय या तो उसका परिवार था या फिर उसके मज़दूर साथी। अंतिम संस्कार देर शाम को अँधेरा होने पर हुआ शायद उस वक़त सूर्य भी अस्त हो चुका था।   याद आ रही है जनाब साहिर लुधियानवी साहिब की पंक्तियाँ:
जहाँ इक खिलौना हैं, इन्सां की हस्ती

ये बस्ती हैं मुर्दा परस्तों की बस्ती

यहाँ पर तो जीवन से है मौत सस्ती 
ये दुनियाँ अगर मिल भी जाये तो क्या हैं.....---!

Wednesday, November 13, 2013

बच्चों के साथ साथ बड़ों ने भी याद किया चाचा नेहरू को

बाल दिवस के अवसर पर फेंसी ड्रेस मुकाबला         Wed, Nov 13, 2013 at 4:16 PM
लुधियाना: 13 नवंबर 2013: (रेकटर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन): समाजिक और राजनीतिक तब्दीलियों के बावजूद देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित नेहरू के चाचा नेहरू नाम का रूप अभी भी लोगों में लोकप्रिय है। चाचा नेहरू को समर्पित बाल दिवस का अवसर आते ही  जोश और उत्साह हर और नज़र आने लगता है।  हर तरफ पूरे उत्साह और जोशो खरोश से कार्यक्रम होते हैं। इन कार्यक्रमों में पंडित नेहरू के राजनीतिक विरोधी भी शामिल होने में कभी गुरेज़ नहीं करते। इस लोकप्रिय बाल दिवस के शुभ अवसर पर होम एंड हेवन नरसरी स्कूल मॉडल टाऊन लुधियाना की तरफ से भी एक विशेष कार्यक्रम स्कूल के परिसर में ही आयोजित किया गया। स्कूल की प्रिंसिपल इंद्रजीत पाल कौर ने बताया कि इस मौके बाल दिवस को लेकर शानदार कर्यक्रम हुए। इन छोटे छोटे बच्चों में फेंसी ड्रेस मुकाबिले भी करवाये गए।बच्चों ने भावपूर्ण कवितायेँ भी सुनायीं और गीत संगीत भी हुआ। चाचा नेहरू का जन्म दिन मनाने के लिए बच्चों को मिठाई और चाकलेट भी बांटे गए। फेंसी ड्रेस मुकाबिले में साहिबप्रीत सिंह ने प्रथम स्थान, परमजीत सिंह ने दूसरा स्थान और शुभनीत कौर ने तीसरा स्थान प्राप्त किया। एक अन्य बच्ची नवकिरण कौर को उत्साह वर्धक पुरस्कार से सम्मानित किया गया। बहुत से बच्चों ने भाग लिया। इस मौके पर मौजूद बड़ों ने भी बच्चों की प्रशंसा की। 


ਬੱਚਿਆਂ ਦੇ ਨਾਲ ਨਾਲ ਵੱਡਿਆਂ ਨੇ ਵੀ ਯਾਦ ਕੀਤਾ ਚਾਚਾ ਨਹਿਰੂ ਨੂੰ 

ईचक दाना बीचक दाना दाने ऊपर दाना ईचक दाना

नन्हे मुन्ने बच्चे तेरी मुठ्ठी में क्या है क्या है

बच्चों के साथ साथ बड़ों ने भी याद किया चाचा नेहरू को 


नन्हे मुन्ने बच्चे तेरी मुठ्ठी में क्या है क्या है



Tuesday, November 12, 2013

पंजाब के क्रिकेटरों से पीसीए कर रहा है भेदभाव - नवजोत सिद्धू

कहा - पीसीए स्वार्थी हो सिमटा मोहाली तक,                    Tue, Nov 12, 2013 at 9:43 PM
पंजाब सरकार को क्रिकेट से कोई लेना-देना नहीं, 
इसी लिए लाहौर की तरह पंजाब में नहीं मिल रहे पेसर
सचिन तेंदूलकर जैसा क्रिकेटर अगले पांच सौ वर्षों तक पैदा नहीं होगा

सीट स्वैपिंग पर बोले सिद्धू - 

पार्टियां जो भी फैसला ले सिद्धू की अमृतसर से स्वैपिंग किसी भी सूरत में नहीं होगी - सिद्धू
अमृतसर: 12 नवंबर 2013: (गजिंदर सिंह किंग) - पंजाब के क्रिकेटरों के साथ पंजाब क्रिकेट एसोसिएशन स्वार्थी हो भेदभाव कर रही है और पंजाब सरकार को क्रिकेट से कोई लेना-देना नहीं है। यही कारण है, कि पंजाब में कभी क्रिकेट की नर्सरी रहे पंजाब में आज कोई नामवर क्रिकेटर नहीं मिल रहा। यह आरोप लगाया है, अमृतसर से भाजपा के सांसद नवजोत सिंह सिद्धू ने। वह आज अमृतसर में एयरपोर्टस अथारिटी आफ इंडिया की ओर से आयोजित क्रिकेट टूरनामेंट के फाइनल मुकाबले में हिस्सा लेने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे। इस टूरनामेंट में ईस्ट जोन ने सेंटर जोन को सात विकेटों से हरा कर चैंपियनशिप हासिल की।
अमृतसर से भाजपा के सांसद नवजोत सिंह सिद्धू पिछले कुछ समय से सक्रिय राजनीति से दूर हैं। लेकिन जब भी उन्हें मौका मिलता है, वह राजनीति के मैदान में अपने चौके-छक्के जड़ते रहते हैं। आज अमृतसर में आयोजित एयरपोर्टस अथारिटी आफ इंडिया की ओर से आयोजित क्रिकेट टूरनामेंट के फाइल मैच में हिस्सा लेने पहुंचे, तो उन्होंने अपने चिर-परिचित अंदाज में राजनैतिक रनों की बौछार कर दी। पाकिस्तानी पंजाब के लौहार जिले से फास्ट बालरों की धड़ाधड़ क्रिकेट में आमद और अमृतसर से पेसरों की किल्लत के बारे में पूछे गए सवाल पर उन्होंने पहले तो सवाल को टालने के लिए हरविंदर सिंह का नाम लिया, लेकिन इसके तुरंत बाद इसके लिए उन्होंने पंजाब क्रिकेट एसोसिएशन को जिम्मेदार ठहराना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा, कि पीसीए इस समय सिर्फ मोहाली तक ही सीमित हो गई है। सिर्फ मोहाली में ही क्रिकेट मैच कराए जा रहे हैं। वह मोहाली से बाहर नहीं निकलना चाहती। यही कारण है, कि पंजाब में अब युवा क्रिकेटरों की कमी महसूस की जा रही है। उन्होंने कहा, कि इसके लिए सिर्फ पीसीए का स्वार्थ जिम्मेदार है। इसके अलावा उन्होंने पंजाब सरकार पर भी फायर करते हुए क्रिकेट की बदहाली का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, कि पंजाब सरकार को क्रिकेट से कोई लेना-देना नहीं है। जब राज्य सरकार की ओर से क्रिकेट को कोई सहयोग नहीं मिल रहा है, तो ऐसे में युवा क्रिकेटरों का मोह भंग होना स्वाभाविक है।
     सचिन तेंदूलकर के बारे में नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा, कि वह क्रिकेट का युग पुरुष है और ऐसे युग पुरुष अगले पांच सौ वर्षों तक देखने को नहीं मिलेंगे। उन्होंने कहा, कि तेंदूलकर के राज्य सभा मैंबर बनने से राज्य सभा की शोभा बढ़ी है। सिद्धू ने कहा, कि महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू, वल्लभ भाई पटेल जैसे नेता आजादी से पहले युवाओं के रोल माडल थे, लेकिन आज के युग में युवाओं के रोल माडल महेंदर सिंह धोनी और सचिन तेंदूलकर हैं।
     आगामी लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा और शिअद के बीच अमृतसर और लुधियाना की सीट की अदला-बदली की चर्चाओं के बारे में नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा, कि सीट स्वैपिंग का फैसला पार्टियों ने करना है। लेकिन वह दावे के साथ इतना जरूर कहेंगे, कि सीट स्वैपिंग के बावजूद नवजोत सिंह सिद्धू की अमृतसर से स्वैपिंग किसी भी कीमत पर नहीं होगी।

Monday, November 11, 2013

आया था रोज़ी रोटी कमाने लेकिन जान से भी हाथ धो बैठा

वेतन मांगने पर हुई पिटाई से गई जान:मामला दर्ज           Update:11 Nov 2013 at 11:00
तस्वीर में ऊपर वारदात  के बाद फैक्ट्री का बंद दरवाज़ा और दूसरी तरफ सदमे की हालत में मृतक नवयुवक  सोनू की मामी दीपा और  नीचे मीडिया को जानकारी देते हुए सोनू का मामा सिकंदर यादव और साथ ही आप देख रहे हैं मृतक सोनू का चेहरा (Photo:Rector Kathuria)
लुधियाना : 11 नवंबर 2013: (रेकटर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन): रविवार को लोग काम से छुट्टी करके आराम करते हैं या फिर मौज मस्ती लेकिन सोनू नाम का एक नवयुवक काम की जगह पर हुई वहिशियाना पिटाई के कारण जान से हाथ धो बैठा। उसका कसूर केवल यह था कि उसने छुट्टी का दिन होने के कारण काम भी किया था और काम के बाद अपनी तीन महीने की तनखाह भी मांग ली थी। ये पैसे उसने अपने घर जाकर अपने माँ बाप को देने थे और बताना था कि अब मैं कमाने लायक हो गया हूँ इसलिए अब रोटी की  चिंता मत करें।   रोज़ी रोटी की तलाश  उसे बिहार से उठा कर पंजाब ले आई थी।  लुधियाना की एक फेक्ट्री में वह दिन भर काम करता और रात को अपने मामा के यहाँ चला जाता। जब पिटाई होने की खबर उसकें साथियों ने उसके मामा मामी को जा कर दी तो वे दोनों भी उसे छुड़ाने के लिए वहाँ फेक्ट्री में चले गए। वहाँ जा कर देखा कि फेक्ट्री का मालिक और कुछ और लोग उसे बेतहाशा पीटे जा रहे हैं। छुड़वाने की कोशिश करने पर उन लोगों ने मामा मामी कि भी पिटाई कर दी। मामी चोट और सदमे से बुरी हालत में है।  वह मुआवज़ा नहीं मौत के बदले मौत मांग रही है।
इसी बीच पुलिस ने इस सारे मामले  की पुष्टि करते हुए बताया कि दस नवंबर को ही दफा 302/34 के अंतर्गत फैक्ट्री मालिक  सिंह और मारपीट में  साथ वाले लोगों के खिलाफ मुकदमा  नंबर 169  दर्ज कर लिया गया था।

सचिन के बिना क्रिकेट, क्रिकेट नहीं - अमृता राव

Mon, Nov 11, 2013 at 2:18 PM
अभी भी कायम है सचिन का जलवा-लगातार कर रहा है दिलों पर राज
अमृतसर: 11 नवंबर 2013: (गजिंदर सिंह किंग//पंजाब स्क्रीन): सचिन के बिना क्रिकेट, क्रिकेट नहीं रहेगा। यह कहना है, बालीवुड की अभिनेत्री अमृता राव का। वह आज अमृतसर में एक पेंटस कंपनी के शोरूम का उद्घाटन करने के लिए पहुंची थी। उन्होंने बताया, कि अब जल्द ही दर्शक उन्हें सन्नी देओल अभिनीत फिल्म सिंह साहब द ग्रेट में देखेंगे।
   सचिन तेंदूलकर के बिना क्रिकेट की कल्पना करने का मतलब ही नहीं है। सचिन के बिना क्रिकेट, क्रिकेट नहीं रहेगा। यह कहना है, बालीवुड की अभिनेत्री अमृता राव का। वह आज अमृतसर में एक पेंटस कंपनी के शोरूम का उद्घाटन करने के लिए पहुंची थी। इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, कि वह आज बहुत थोड़े समय के लिए अमृतसर आई हैं। इसलिए वह सचखंड श्री हरमंदिर साहिब के दर्शन करने के लिए नहीं जा सकती। लेकिन वह जल्द ही अमृतसर आएंगी और आस्था के केंद्र में नतमस्तक होंगी। अमृता राव ने बताया, कि वह अब तक कई फिल्मों कई अहम भूमिकाएं निभा चुकी हैं। उन्होंने बताया, कि अब जल्द ही दर्शक उन्हें सन्नी देओल अभिनीत फिल्म सिंह साहब द ग्रेट में देखेंगे।

Sunday, November 10, 2013

आकाशवाणी लुधियाना के एमएफ गोल्ड स्टुडियो में काम शुरू

10-नवंबर-2013 20:54 IST
केंद्रीय सूचना/प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने किया उद्घाटन

लुधियाना: 10 नवंबर 2013: केन्द्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री श्री मनीष तिवारी ने आज लुधियाना में बीएसएनएल भवन में आकाशवाणी के एफएम गोल्डस स्टुडियो और विभिन्नल स्थानीय कार्यक्रमों का उद्घाटन किया। इस अवसर पर फतेहगढ़ साहिब से संसद सदस्य‍ श्री सुखदेव सिंह लिबरा भी मौजूद थे। 



लुधियाना का एमएफ गोल्ड स्टुडियो जिले की जरूरतों के मुताबिक कार्यक्रम प्रस्तुत करने में मददगार होगा। स्थामनीय मुद्दों पर ध्या न केन्द्रित करते हुए इस चैनल से हर रोज दो घंटे प्रात: 9.00 बजे से 10.00 बजे तक और शाम को 6.00 बजे से 07.00 बजे तक कार्यक्रम प्रसारित किए जाएंगे।

इस अवसर पर आकाशवाणी के महानिदेशक श्री आर वेंकटेश्व्र, मुख्य इंजीनियर श्री आर के बुद्धिराजा और अपर महानिदेशक श्रीमती विजय लक्ष्मी् छाबड़ा भी मौजूद थीं। (PIB)
वीके/डीके/राजीव-6920


FM Gold studio in Ludhiana

बीजेपी के 11 दागी उम्मीदवारों की सूची


 
 
Causes
 
 
 
A message from the campaign

AAM AADMI PARTY


दिल्ली विधान सभा चुनावो के लिए बीजेपी ने कुल 58 उम्मीदवारों की घोषणा की है. इन 58 उम्मीदवारों में 11 ऐसे लोग है जिन पर आपराधिक मुकद्दमे चल रहे है. इन 11 उम्मीदवार को बीजेपी ने 2008 के चुनाव में भी टिकेट दिया था. 
दागी उम्मीदवारों की सूचि इस प्रकार है:
1. मोहन सिंह बिष्ट (करावल नगर)
2. नरेश गौर (बाबरपुर)
3. करन सिंह तंवर (दिल्ली कैंट)
4. जय भगवन अगरवाल (रोहिणी)
5. नकुल भरद्वाज (पटपटगंज)
6.कुलवंत राणा (रिठाला)
7. साहब सिंह चौहान (गोंडा)
8. सुरेंदर पाल रटावल (करोल बाघ)
9. मनोज कुमार (मुंडका)
10 श्याम लाल गर्ग (शकूर बस्ती)
11. रमेश बिधुदी (तुगलकाबाद)
इस रिपोर्ट में सिर्फ उन्ही उम्मीदवारों की जांच की गयी है जिन्हें बीजेपी ने 2008 के चुनावो में टिकेट दिया था. नए उम्मीदवारों की जानकारी नामांकन दाखिल होने के बाद ही मिल पायेगी. इन 11 दागी उम्मीदवारों की यह जानकारी 2008 के चुनावो के दौरान एफिडेविट में दिए गए विवरण से ली गयी है. इन उम्मीदवारों पर 2008 के बाद के आपराधिक मुकद्दमे या किसी मुकद्दमे में बरी होने की सूचना नए नामांकन पत्र से मिल पायेगी. दिल्ली में 9 नवम्बर से नामांकन शुरू हो गए है और नामांकन की अंतिम तिथि 16 नवम्बर है.
बीजेपी के अध्यक्ष बनते ही राजनाथ सिंह ने कहा था की ऐसे किसी आदमी को टिकेट नहीं मिलेगा जिस पर आपराधिक मुकद्दमे चल रहे है, लेकिन दिल्ली में ही पार्टी ने अपने अध्यक्ष की बात को अनसुना करते हुए 11 दागी उम्मीदवारों को खड़ा किया है. बीजेपी ने दिल्ली में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार तो बदल दिया लेकिन आपराधिक छवि वाले उम्मीदवारों को वो नहीं बदल पायी. डॉ हर्षवर्धन को मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बना कर बीजेपी अपने आप को साफ़ सुथरी साबित करना चाह रही है, लेकिन इन 11 उम्मीदवारों को देख कर बीजेपी कि साफ़ दिखने की कोशिश नाकाम नज़र आती है.
न केवल दिल्ली बीजेपी की सूचि में अपराधियों का बोलबाला है, परिवारवाद का भी बीजेपी की सूचि में अच्छा खासा प्रभाव देखने को मिल रहा है. बीजेपी ने 4 ऐसे उम्मीदवार खड़े किये है जिनके पिता बीजेपी के उम्मीदवार रह चुके है. ये चार उम्मीदवार साहिब सिंह वर्मा, विजय कुमार मल्होत्रा, ओ पी बब्बर और श्रीलाल प्रधान के पुत्र है. कांग्रेस पर वंशवादी राजनीति करने का आरोप लगाने वाली बीजेपी दिल्ली के चुनावो में अपने ही आरोपों में फंसती नज़र आ रही है.
दिल्ली चुनावो के लिए कांग्रेस ने अभी तक उम्मीदवारों की घोषणा नहीं की है. नए राजनातिक विकल्प के रूप में उभरी आम आदमी पार्टी ने 70 सीटो में से 68 सीटो पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है और आम आदमी पार्टी के किसी उम्मीदवार पर कोई आपराधिक मुकद्दमा नहीं है.
Rc
DISCUSS THE UPDATE