Saturday, February 06, 2010

यूं होता है तूफानों का सामना...!



हाल ही में मुझे विदेश से जो खबरें प्राप्त हुईं उनमें एक ख़ास रिपोर्ट भी थी. अमेरिका के Air Force Lt. Col. Ellen Krenke की इस खास रिपोर्ट में बताया गया था कि कोलंबिया और कुछ अन्य इलाकों में दूसरे खतरनाक बर्फीले तूफ़ान की चेतावनी जारी हो चुकी है. स्कूल बंद हो रहे हैं और दूसर सरगर्मियां भी एक तरह से ठप्प हो चुकी हैं. आम ज़िन्दगी में विराम जैसी हालत महसूस हो रही है. पर इस सब कुछ के बावजूद इस तूफ़ान का सामना करने वाले जवानों का जोश भी बढ़ रहा है और सरकारी अधिकारीयों की चुस्ती में भी तेज़ी आ रही है. चेतावनी के मुताबक इस तूफ़ान में 28 इंच  बरफ पड़ेगी. प्रशासन ने लोगों से कहा है कि वे अपने अपने घरों में ही रहे. आवश्यकता पड़ने पर स्थानय अधिकारीयों से सम्पर्क किया जा सकता है.  गौरतलब है कि दिसम्बर-2009 में भी यह बर्फीला तूफ़ान बहुत ही जोर शोर से आया था पर अब इस दूसरे तूफ़ान का सामना करने के लिए अब प्रशासन भी तैयार है और वहां के लोग भी. इस मकसद के लिए 660 गार्डों को विशेष तौर पर नियुक्त किया गया है. इसके साथ ही नैशनल गार्ड ब्यूरो और अन्य फोर्सों के जवानों को भी तैयार रहने को कहा गया है. क्यूं है न कमाल...! आओ दुआ करें कि हमारे देश में भी इस तरह के करिश्में होने लगें....!                                    --रैक्टर कथूरिया 

Thursday, February 04, 2010

कोई बढ़ते हुए दरिया के कानों में कहे जाकर, बहुत मुश्किल से मिटटी का मकां तैयार होता है.

टीवी चैंनेल के लिए काम के दौरान इतना वक्त भी नहीं मिलता था कि कोई पूरी अखबार या पूरी किताब एक ही बैठक में पढ़ ली जाये. सुबह जाना और फिर आने का कुछ पता नहीं. कभी आधी रात और कभी उसके भी बाद. ....चलो रात को आकर पढ़ेंगे.... उस अख़बार या किताब को सम्भाल कर रख देना और साथ ही परिवार को भी कह देना...इसे कोई छेड़े न..बस इस तरह करते करते पूरे का पूरा कमरा भर गया. यार दोस्त मजाक करने लगे क्यूं भाई कबाड़ की दुकान किस के लिए खोल रहे हो...? कई बार फैसला किया बस आज छांटी करते हैं कल करते हैं...पर बात बनी नहीं....कुछ को चूहों ने कुतर दिया और कुछ का बरसात का पानी ख़राब कर गया...हालत देख कर परिवार के लोगों ने बहुत कुछ किसी रद्दीवाले को चुकवा भी दिया जिसका पता मुझे बहुत ही देर से लगा. आज सुबह जब किसी काम से उस कमरे में गया तो वहां एक ढेरी में गुरुवारी जनसत्ता पड़ी थी. उस पर पेन से निशान भी लगा हुआ था जिस से ज़ाहिर था कि वह किसी काम का अखबार था. उठा कर देखा तारीख थी 2 मई 1989. उन दिनों मैं जनसत्ता के लिए काम करता था. उस समय जनसत्ता के सम्पादक थे जितेन्द्र बजाज.  गुरुवारी जनसत्ता में मैंने एक स्तम्भ भी शुरू किया था जिसका नाम था--दस्तावेज़- यह स्तम्भ हर गुरुवार को छपता था. इस गुरुवारी जनसता में भी यह मौजूद था. पर तभी मेरी नज़र एक और छोटे से निशान पर पड़ी. यह निशान पाठकों के पत्रों वाले स्तम्भ -पाती-  पर था और कैथल से अनुपम गुलाटी के एक पत्र की ओर भी संकेत कर रहा था. ध्यान से देखा तो पत्र का आरंभ कुछ यूं था....16 फरवरी की गुरुवारी जनसत्ता अपने आप में एक वशिष्ठता लिए हुए था और वह वशिष्ठता थी दस्तावेज़ का प्रकाशन.  इस पत्र में बहुत  ही अहम मुद्दे उठाये गए जिसकी चर्चा अलग से की जाएगी क्योंकि यही करना उचित होगा. आज की पोस्ट में बात करते हैं केवल गुरुवारी जनसत्ता की. जिसमें कुछ गजलें भी थीं जिनका अंदाज़ ओर तेवर कमाल का है. ज़रा देखिये माधव कौशिक की ग़ज़ल....


यहां शबनम के सीने में छिपा अंगार होता है.
दिलों की बदसलूकी से ज़ेहन बीमार होता है.


कोई बढ़ते हुए दरिया के कानों में कहे जाकर, 
बहुत मुश्किल से मिटटी का मकां तैयार होता है. 


उसी को वक्त देता है सजाएं काले पानी की,
जो गुलशन में बहारों का असल हक़दार होता है.


सी तरह उसी अंक में एक ग़ज़ल नवीन कमल  की भी थी देखिये वह भी कमाल की बात कह गए:-


 रह गयी प्यासी जमीं' पानी समंदर ले गया;
बागबां ही खुद हमें सहरा के अंदर ले गया.


सिर्फ नेकी और बदी से आदमी का ज़िक्र है,
वर्ना इतनी सल्तनत से क्या सिकंदर ले गया.


जब किसी की एकता में कुछ कमी आयी "कमल",
बिल्लीयां लड़ती रहीं, रोटी को बंदर ले गया. 


र अंत में पुष्प कुमार सिंह "कुमार" की कलम का जादू भी देखिये...


आप इतने हो गए मगरूर ये अच्छा नहीं.
कर दिया है दिल का शीशा चूर ये अच्छा नहीं.


साथ चल कर अब सनम पीछे कदम क्यूं रख लिया, 
हो गए किस बात से मजबूर ये अच्छा नहीं.


हालांकि बहुत कुछ और भी है जिसकी चर्च फिर कभी  अवश्य की जाएगी पर फ़िलहाल आप केवल इतना बताने की कृपा करें कि रद्दी और कबाड़ के कमरे में से कुछ काम का निकला या नहीं?  जवाब दें तो आपकी मेहरबानी होगी.....!