Wednesday, October 03, 2018

खतरे में अमन है.....//--कार्तिका सिंह

अमन की बातें लेकर देश भर में घूम रहे अमन के कारवां को समर्पित 
साभार चित्र
खतरे में अमन है 
हम सब को 

अब आगे आना ही होगा।
गफलत की नींद जो सोए हैं--
उनको भी जगाना ही होगा। 
खतरे में अमन है... 
हम सब को 

अब आगे आना ही होगा।
खतरे में अमन है........ 

हर गली गली में खतरा है।
हर कदम कदम पर खतरा है 
हर मोड़ पे कोई खतरा है!
हर कोने में कोई खतरा है-
आवाज़ लगाना ही होगा। 
खतरे में अमन है 
हम सब को 

अब आगे आना ही होगा।
खतरे में अमन है........ 

इंसान की कीमत कुछ भी नहीं। 
कीमत है व्यर्थ रिवाजों की। 
भगवान को सोना चढ़ता है 
कीमत बढ़ती है अनाजों की। 
इंसान की जान बचाने को 
अब इन्कलाब लाना होगा।  
खतरे में अमन है 
हम सब को 

अब आगे आना ही होगा।
खतरे में अमन है........ 
साभार चित्र 
यहाँ देवी पूजी जाती है 
पर कन्या मारी जाती है। 
न बच्ची यहाँ सुरक्षित है 
न बूढी यहाँ सुरक्षित है। 
हर मोड़ पे लुटती महिला को 
हम सब को बचाना ही होगा। 

खतरे में अमन है 
हम सब को 

अब आगे आना ही होगा।
खतरे में अमन है........ 

जब छिड़ी थी जंग आज़ादी की;
तब हमीं मैदान में आए थे। 
हम झूल रहे थे फांसी पर,
यह माफ़ी मांग के आए थे। 
इन रंग बदलते चेहरों का,
हर रंग दिखाना ही होगा। 
खतरे में अमन है 
हम सब को 

अब आगे आना ही होगा।
                --कार्तिका सिंह
 अमन का संदेश देता अमन का कारवां जम्मू में एक गीत गाता हुआ 

No comments: