Sunday, June 17, 2018

नीति आयोग की चौथी बैठक में प्रधानमंत्री की उद्घाटन टिपण्णियां

शासी परिषद एक ऐसा मंच है जो ‘ऐतिहासिक बदलाव‘ ला सकता है
प्रविष्टि तिथि: 17 JUN 2018 3:03PM by PIB Delhi
नई दिल्ली:
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन सांस्कृतिक केंद्र में नीति आयोग की शासी परिषद की चौथी बैठक में उद्घाटन टिपण्णियां कीं।

प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों एवं अन्य शिष्टमंडलों का स्वागत करते हुए दुहराया कि शासी परिषद एक ऐसा मंच है जो ‘ऐतिहासिक बदलाव‘ ला सकता है। उन्होंने बाढ़ प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भरोसा दिलाया कि केंद्र सरकार बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए उन्हें हर संभव सहायता प्रदान करेगी जो वर्तमान में देश के विभिन्न भागों को प्रभावित कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि शासी परिषद ने सहकारिता, प्रतिस्पर्धी संघवाद की भावना के साथ ‘टीम इंडिया‘ के रूप में अभिशासन के जटिल मुद्वों का समाधान किया है। उन्होंने जीएसटी के सुगम आरंभ एवं क्रियान्वयन को इसका एक प्रमुख उदाहरण बताया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने स्वच्छ भारत मिशन, डिजिटल लेनदेन एवं कौशल विकास जैसे मुद्वों पर उप-समूहों एवं समितियों के जरिये नीति निर्माण में प्रमुख भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि इन उप-समूहों की सिफारिशों को केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालयों द्वारा सम्मिलित किया गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था 2017-18 की चौथी तिमाही में 7.7 प्रतिशत की स्वस्थ दर से बढ़ी है। उन्होंने कहा कि अब चुनौती इस विकास दर को दो अंकों में ले जाने की है जिसके लिए कई और महत्वपूर्ण कदम उठाए जाने होंगे। उन्होंने कहा कि 2022 तक नए भारत का विजन अब हमारे देश के लोगों का एक संकल्प है। इस परिप्रेक्ष्य में, उन्होंने किसानों की आय दोगुनी करने, आकांक्षापूर्ण जिलों का विकास, आयुष्मान भारत, मिशन इंद्रधनुष, पोषण मिशन एवं महात्मा गांधी की 150 जयंती के समारोहों सहित आज की कार्यसूची के मुद्वों का उल्लेख किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आयुष्मान भारत के अंतर्गत 1.5 लाख स्वास्थ्य एवं कल्याण कंेद्रों का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लगभग 10 करोड़ परिवारों को प्रत्येक वर्ष लगभग 5 लाख रुपये के बराबर का हेल्थ ऐश्योरंस उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि समग्र शिक्षा अभियान के तहत शिक्षा के लिए एक व्यापक दृष्टिकोण अपनाया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मुद्रा योजना, जन धन योजना एवं स्टैंड अप इंडिया जैसी योजनाएं बेहतर वित्तीय समावेश में सहायता कर रही हैं। उन्होंने प्राथमिकता के आधार पर आर्थिक असंतुलनों से निपटने की आवश्यकता पर जोर दिया।

उन्होंने कहा कि मानव विकास के सभी पहलुओं एवं मानकों पर ध्यान दिए जाने एवं 115 आकांक्षापूर्ण जिलों में बेहतरी लाई जाने की आवश्यकता है।

श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि ग्राम स्वराज अभियान योजनाओं के कार्यान्वयन के लिए एक नए मॉडल के रूप में उभर कर सामने आया है। उन्होंने कहा कि अभी तक आकांक्षापूर्ण जिलों के 45,000 गांवों में इसे विस्तारित किया गया है। उन्होंने कहा कि सात महत्वपूर्ण कल्याणकारी योजनाओं: उज्जवला, सौभाग्या, उजाला, जन धन, जीवन ज्योति योजना, सुरक्षा बीमा योजना एवं मिशन इंद्रधनुष में सार्वभौमिक कवरेज का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि यह लक्ष्य लगभग 17,000 गांवों में अभी हाल में हासिल किया गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत में क्षमताओं, सामर्थ्यों एवं संसाधनों की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि चालू वित वर्ष के दौरान, राज्यों को केंद्र से 11 लाख करोड़ रुपये से अधिक प्राप्त हो रहे हैं, जो पिछली सरकार के अंतिम वर्ष की तुलना में लगभग 6 लाख करोड़ रुपये की बढ़ोतरी प्रदर्शित करता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज यहां एकत्रित समूह भारत के लोगों की उम्मीदों एवं आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करता है। उन्होंने कहा कि यहां एकत्रित लोगों की भी यह जिम्मेदारी है कि वे उनकी उम्मीदों को पूरी करने का हरसंभव प्रयास करें।

इससे पूर्व, नीति आयोग के उपाध्यक्ष श्री राजीव कुमार द्वारा मुख्यमंत्रियों एवं अन्य शिष्टमंडलों का स्वागत किया गया। विचार विमर्शों का सभापतित्व गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह द्वारा किया गया।

****
वीके/एएम/एसजकेजे/एनके–9055

Saturday, June 16, 2018

खालिस्तान के नारे पर लगाये प्रतिबंध का किया स्वागत

Jun 16, 2018, 4:15 PM
स्वागत किया हिन्दू मोर्चा पंजाब ने
लुधियाना: 16 जून 2018: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):: हिन्दू संगठन एक बार फिर से सक्रिय हैं। खालिस्तान का विरोध इस बार भी उनके मुख्य मुद्दों में है। ईमेल से प्राप्त एक समाचार में हिन्दू मोर्चा पंजाब ने खालिस्तान के नारे पर प्रतिबंध का स्वागत किया है।
हिन्दू मोर्चा के मुताबिक माननीय पंजाब व हरियाणा उच्च न्यालय द्वारा कट्टरपंथी ताकतों द्वारा किये जा रहे खालिस्तान के प्रचार व नारेबाजी के खिलाफ सख्त एक्शन लेते हुए ऐसे मामलों में देश द्रोह के अंतर्गत केस दर्ज करने के निर्देश देने का स्वागत करते हुए श्री हिन्दू मोर्चा के प्रमुख प्रदेश प्रचारक वरुण मेहता के नेतृत्व में एक बैठक का आयोजन किया गया व प्रदेश भर में खालिस्तान का प्रचार करने वालो का विरोध करने का निर्णय लिया गया ।
इस अवसर पर संबोधित करते हुए वरुण मेहता ने कहा कि भारत सभी धर्मी व समुदायों की आपसी सांझ वाला देश है लेकिन कुछ लोग विदेशी ताकतों के इशारे पर इसे बाटने की साज़िशें रच रहे है उंन्होने कहा कि पहले भी पंजाब में डेढ़ दशक तक खालिस्तान समर्थक आंतकियो ने बेगुनाहों का खून बहाया है व पंजाब को भारत से तोड़ने के लिए साज़िशें रची लेकिन पंजाब में बहादुर पुलिस फोर्स के अधिकारियों व कर्मचारियों ने वीरता से इन आंतकियो को सबक सिखाया व प्रदेश में हजारों कुर्बानियों के बाद शांति स्थापित हुई लेकिन कुछ कट्टरपंथी ताकते पुनः विदेशी  ताकतों की शह पर प्रदेश के अमन चैन को भंग करने के लिए कोशिशें कर रहे है लेकिन पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह के कठोर रुख से कट्टरपंथी ताकते पूरी तौर पर सक्रिय नही हो पा रही ।
मेहता के कहा कि खालिस्तान समर्थकों द्वारा सरेआम कभी फतेहगढ साहिब कभी अमृतसर कभी फगवाड़ा में खालिस्तान के बोर्ड व अन्य प्रचार सामग्री लगाकर नारेबाजी करने से प्रदेश में दहशत का माहौल पैदा करने की साज़िशें की जा रही है ।
उंन्होने कहा कि शहीदों की शहादत का सम्मान करते हुए हम शहीदों के दिखाए मार्ग पर चलने का संकल्प लेते है व प्रदेश में कट्टरपंथियो द्वारा खालिस्तान के पक्ष में किये जाने वाले हर आयोजन का विरोध कर हम पंजाब सरकार व पुलिस विभाग को इनके खिलाफ सख्त एक्शन लेने के लिए शिकायत पत्र देंगे । 
इस अवसर पर जिला प्रमुख प्रचारक शिवम वर्मा , इंद्रजीत , मनमोहन , अमन सैनी , साकार धीर  , राहुल , हन्नी , रमन राजपूत , सन्नी , सूरज,नितिन ठाकुर , विशाल , खुशप्रीत, साजन  व अन्य भी उपस्थित थे। 

Friday, June 15, 2018

परशुराम वाघमारे ने की थी गौरी लंकेश की हत्या

चर्चित रंगकर्मी गिरीश कनार्ड भी थे निशाने पर 
बेंगलुरु: 15 जून 2018: (पंजाब स्क्रीन न्यूज़ नेटवर्क)::
जानीमानी वाम पत्रकार और सक्रिय समाजसेवी गौरी लंकेश की हत्या का रहस्य छंटने लगा है। बात सामने आने लगी है। धीरे धीरे इस मामले की कड़ियां खुलने लगी हैं। लेकिन गंभीर संकेत भी मिल रहे हैं। कन्नड़ पत्रकार गौरी लंकेश के संदिग्ध हत्यारों के हिट लिस्ट में चर्चित रंगकर्मी गिरीश कनार्ड भी थे। कर्नाटक सराकर के द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) यह संनसनी खुलासा किया है। एसआईटी ने संदिग्धों के पास से एक डायरी बरामद की है जिसमें फिल्मकार गिरीश कर्नाड के अलावा ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता साहित्यकार बीटी ललिता नाइक, निदुमामिडी मठ के प्रमुख वीरभद्र चन्नामल्ला स्वामी और तर्कवादी सीएस द्वारकानाथ के नाम शामिल हैं। हालांकि एसआईटी ने यह भी कहा कि अभी तक की पूछताछ और विवेचना में वाधमारे के खिलाफ कोई खास सबूत नहीं मिला है जिसके आधार पर उसे लंकेश हत्या का अभियुक्त घोषित किया जा सके। 
गौरी लंकेश हत्याकांड की जांच कर रही एसआईटी के सूत्रों ने बुधवार को कहा कि सूची में कर्नाड के अलावा ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता नेता और साहित्यकार बीटी ललिता नाइक, निदुमामिडी मठ के प्रमुख वीरभद्र चन्नामल्ला स्वामी और तर्कवादी सीएस द्वारकानाथ शामिल थे। इस हत्याकांड की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) ने आज कहा कि परशुराम वाघमारे ने की थी गौरी लंकेश की हत्या। गौरतलब है कि अचानक घर का दरवाज़ा खुलते ही हमलावरों ने गौरी लंकेश की हत्या कर दी थी। 

जांच दल के मुताबिक परशुराम वाघमारे गौरी लंकेश की हत्या के संबंध में गिरफ्तार किए गए छह संदिग्धों में से एक है। हालांकि, पुलिस ने मंगलवार को उसके हत्यारा होने की बात से इनकार किया था। गौरी लंकेश हत्या की जांच कर रहे कर्नाटक पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) ने कहा था कि 26 वर्षीय परशुराम वाघमरे को राज्य के विजयपुरा जिले के सिंधागी से गिरफ्तार किया गया है।
एसआईटी को हेड करनेवाले इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस बीके सिंह ने बताया कि पूछताछ के दौरान ऐसी कोई भी बात निकलकर सामने नहीं आई है जिससे ऐसा लगे कि लंकेश की हत्या में वाघमरे शामिल था। गौरी लंकेश का वाघमरे को हत्यारा बताए जाने की मीडिया में चल रही अटकलों के बीच उन्होंने कहा कि नहीं, जांच में ऐसी कोई चीज सामने नहीं आयी है। 

गौरी लंकेश मर्डर केस में वाघमरे की छठी गिरफ्तारी की गई है। लंकेश को पिछले साल 5 सितंबर को उनके घर के सामने गोली मारकर हत्या की गई थी।उल्लेखनीय है कि एसआईटी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह भी कहा कि गौरी और तर्कवादी एवं अंधविश्वास विरोधी गोविंद पंसारे तथा एम एम कलबुर्गी को गोली मारने के लिए एक ही हथियार का इस्तेमाल किया गया। 
इसी बीच नाम उजागर न करने की शर्त पर एसआईटी के वरिष्ठ अधिकारी ने मीडिया के एक हिस्से को बताया कि वाघमारे ने गौरी को गोली मारी और फॉरेंसिक जांच से पुष्टि होती है कि (तर्कवादी) गोविंद पंसारे, एम एम कलबुर्गी और गौरी की हत्या एक ही हथियार से की गई। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हथियार का अभी पता नहीं लगाया जा सका है। फॉरेंसिक जांच से इस नतीजे पर तब पहुंचा जाता है जब बंदूक के ट्रिगर से गोली के पिछले हिस्से पर एक ही तरह का निशान बना हुआ मिलता है फिर चाहे बंदूक की बरामदगी हो या न हो। 
इसके साथ ही हिन्दू संगठनों पर भी जानकारी मिली। अधिकारी ने कहा कि हिंदू दक्षिणपंथी समूहों के लोगों को शामिल कर बनाए गए इस संगठन में 60 सदस्य हैं जो कम से कम पांच राज्यों में फैले हुए हैं लेकिन इस संगठन का कोई नाम नहीं है। अधिकारी ने यह भी कहा कि हमें मालूम हुआ है कि इस गिरोह का मध्य प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा और कर्नाटक में नेटवर्क है। हम अभी तक उत्तर प्रदेश से उनके ताल्लुक का पता नहीं चला सके हैं। इसके जमीनी आधार का आकलन भी किया आना आवश्यक लगता  है। 
हत्या के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि भले ही इस गिरोह ने महाराष्ट्र के हिंदू जागृति समिति और सनातन संस्था जैसे कट्टरपंथी हिंदुत्ववादी संगठनों के लोगों की भर्ती किया लेकिन ऐसा जरूरी नहीं कि ये संस्थाएं सीधे तौर पर हत्या में शामिल हों। दोनों ही संगठनों ने इन तीनों की हत्या में किसी तरह की भूमिका से इंकार किया है। 
अधिकारी ने कहा कि सुजीत कुमार उर्फ प्रवीण गिरोह के लिए लोगों की भर्ती करता था और उसी से पूछताछ के दौरान इस नेटवर्क का भंडाफोड़ हुआ। उन्होंने बताया कि एसआईटी को संदेह था कि गौरी की हत्या के दौरान तीन और लोग वहां मौजूद थे। 
इसी मुद्दे पर अधिकारी ने यह भी कहा कि यह गिरोह बड़ी सतर्कता से अपने कार्यों को अंजाम देने से पहले उसकी योजना बनाता था। यह गिरोह जासूसी करना, निशाने पर लिए लोगों की कमजोरियां पहचानना और उनकी हत्या करने में छह महीने से साल भर तक का समय लेता था। 
साथ ही एक अहम खुलासा भी हुआ। उन्होंने कहा कि यह गिरोह (कन्नड़ लेखक) प्रोफेसर एस भगवान की हत्या के लगभग अंतिम चरण में था जब हमने इन्हें धर दबोचा। ” 
कर्नाटक पुलिस ने हाल ही में भगवान की हत्या की साजिश का खुलासा किया था और गिर‍फ्तार किए गए चार आरोपियों से पूछताछ के दौरान ही गौरी लंकेश की हत्या में इनकी संलिप्तता का संदेह हुआ। 

Thursday, June 14, 2018

ईद-उल - फितर का चांद नजर नहीं आया: शाही इमाम पंजाब

Jun 14, 2018, 8:52 PM
अब 16 जून को मनाया जायेगा ईद-उल-फितर का त्यौहार
लुधियाना: 14 जून 2018: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::
आज यहां पंजाब के मुसलमानों के दीनी मरकज जामा मस्जिद लुधियाना से पंजाब के शाही इमाम व रूअते हिलाल कमेटी पंजाब (चांद देखने वाली कमेटी) के अध्यक्ष मौलाना हबीब-उर-रहमान सानी लुधियानवी ने पूरे पंजाब भर से प्राप्त हुई जानकारी के अनुसार यह ऐलान किया कि आज ईद-उल-फितर का चांद नजर नहीं आया। इसलिए अब 16 जून को ईद-उल-फितर का त्यौहार मनाया जायेगा। इस पवित्र त्यौहार की शाही इमाम ने समूह पंजाब वासियों को हार्दिक मुबारकबाद दी।
दिल्ली रूयते हिलाल कमेटी का एलान भी आ गया है। इस ब्यान में भी कहा गया है कि आज कही चांद नही दिखा। इस तरह स्पष्ट है की अब भारत मे शनिवार को ईद होगी। यह ऐलान दिल्ली में शाही इमाम मौलाना सय्यद अहमद बुखारी ने किया। 

Monday, June 11, 2018

अयाली की ललकार: देखते हैं कौन करता है धक्केशाही

गांव बडुंदी में अकालीदल का जोशीला धरना
लुधियाना11 जून 2018 (पंजाब स्क्रीन टीम):: फेसबुक पर तस्वीरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें 
किसकी हिम्मत है जो हमारे साथ धक्केशाही कर जाये। हम इस तरह की गुंडागर्दी से नहीं डरते। ललकार कर यह बात कही पूर्व अकाली विधायक मनप्रीत सिंह अयाली ने। वह पक्खोवाल के नज़दीक लुधियाना के ही गाँव बडुंदी में आए हुए थे। यहाँ अकाली दल के रोष धरने को सम्बोधित करते हुए उन्होंने अकाली कार्यकर्ताओं में  एक नया जोश भर दिया। उन्होंने स्पष्ट एलान किया कि काम से कम कम दस लोग भी डांग पकड़ कर तैयार बैठे हों तो किसकी मजाल है जो अकाली शक्ति के सामने ठहर जाए। उन्होंने याद दिलाई की अकाली दल का इतिहास मोर्चों और संघर्षों का इतिहास है। जेल में रहें या बाहर--हमें कोई ज़्यादा फर्क नहीं पड़ता। इस मौके पर वृद्ध और टकसाली अकाली कार्यकर्ता भी शामिल थे। 
गांव बडुंदी में यह धरना दिया गया था उस कथित धक्केशाही के खिलाफ जो सरपंची के चुनाव में गुरशरण सिंह बडुंदी के साथ की गयी। श्री अयाली ने याद दिलाया की अकाली दल की तो जीवन शैली ही संघर्षों से भरी है। हमने अनगिनत मोर्चे लगाए और जीत हासिल की। हम आज भी उसी तरह मज़बूत हैं। किसी ने हमें कमज़ोर समझ कर धक्केशाही की तो नतीजे अच्छे नहीं होंगें। गौरतलब है की इस धरने में बच्चों से ले कर बज़ुर्ग लोग भी जोशो खरोश के साथ शामिल हुए। दोपहर की कड़कती धुप में भी न तो किसी के चेहरे पर कोई घबराहट थी और न ही चिंता। सभी के चेहरों पर जोश की चमक थी। इस मौके पर सरपंची चुनाव में हुई धक्केशाही के साथ साथ 2019 और 2022  के चुनावों की जीत का भी संकल्प दोहराया गया।  
इस अवसर पानी और चाय का पूरा प्रबंध था। सब कुछ बहुत ही अनुशासित ढंग से चल रहा था। कोई भी अकाली नेता अपने निश्चित समय से ज़्यादा नहीं बोला। सभी ने अपने अपने ढंग से इस मुद्दे पर चर्चा की। तकरीबन सभी वक्ताओं इ भाषण इन चेतावनी की सुर स्पष्ट थी। कांग्रेस पार्टी के साथ साथ उन उच्च अधिकारीयों को भी याद दिलाया जा रहा था की अगर उन्होंने नियमों से हट कर कुछ किया तो अकाली सर्कार आने पर उन्हें इसका ख़मयाज़ा भुगतना पड़ेगा। 
लोकसभा के पूर्व स्पीकर चरणजीत सिंह अटवाल के कहने पर सभी कार्यकर्ता श्रद्धा और शांति से मूलमंत्र का जाप करते रहे। श्री अटवाल ने कहा की हम इसी तरह एक सप्ताह तक शांतिपूर्ण संघर्ष करेंगे। अगर प्रशासन को समझ नहीं आई तो फिर बड़ा एक्शन भी किया जायेगा। वक्ताओं ने कहा की सरपंच गुरुशरण सिंह के साथ की गयी धक्केशाही कोई मामूली बात नहीं है। आज अगर इसे सहन कर लिया गया तो फिर कांग्रेस सरकार के हाथ और खुल जायेंगे। अन्य लोगों के साथ भी यही होगा। इस लिए हम इसे यहीं रोकेंगे। हम सरकार की इस धक्केशाही को बढ़ने नहीं देंगें। 
इस अवसर महिलाओं ने भी बढ़ चढ़  कर भाग लिया। इन महिलाओं में जहाँ अकाली कार्यकर्ताओं और सरपंचों के परिवारों की संभ्रांत महिलाएं थीं वहीँ गाँव की वृद्ध औरतें भी बढ़चढ़ कर शामिल हुईं। इन महिलाओं ने इस धक्केशाही के खिलाफ ज़ोरदार स्यापा भी किया। पुतलों को जूते मारे और आग लगाई। 
इस धरने में लोकसभा के पूर्व स्पीकर चरणजीत सिंह अटवाल, पूर्व विधायक मनप्रीत सिंह अयाली, वरिष्ठ अकाली नेता दर्शन सिंह शिवालिक, रंजीत सिंह तलवंडी और पीड़ित सरपंच गुरुशरण सिंह सहित बहुत से अकाली नेता शामिल थे।   फेसबुक पर तस्वीरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

Thursday, June 07, 2018

Facebook: सरकार ने 20 जून तक मांगा स्पष्टीकरण

इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय: प्रविष्टि तिथि: 07 JUN 2018 6:27PM by PIB Delhi

मामला स्पष्ट सहमति के बिना डाटा साझा करने की रिपोर्टों का  
नई दिल्ली: 7 जून 2018: (पीआईबी)::  
हाल की मीडिया रिपोर्टों में यह दावा किया गया था कि फेसबुक ने ऐसे समझौते किए हैं जो फोन तथा अन्य उपकरण निर्माताओं को फेसबुक यूजरों की निजी सूचना तक पहुंच बनाने की अनुमति देते हैं। इन निजी सूचनाओं में स्पष्ट सहमति लिए बिना यूजर के मित्रों से जुड़ी सूचनाएं शामिल हैं। भारत सरकार ने गलतियों/ उल्लंघनों की रिपोर्ट पर गंभीर चिंता व्यक्त की है।


इससे पहले कैम्ब्रिज एनालिटिका प्रकरण से संबंधित निजी डाटा उल्लंघन के बारे में जारी नोटिस पर फेसबुक ने क्षमायाचना की थी और भारत सरकार को दृढ़ आश्वासन दिया था कि फेसबुक अपने प्लेटफार्म पर यूजर के डाटा की निजता की रक्षा के लिए गंभीरता से प्रयास करेगा। लेकिन ऐसी रिपोर्टें फेसबुक द्वारा दिए गए आश्वासनों के बारे में असहज सवाल उठाती हैं। इसलिए इलेक्ट्रानिक्स तथा सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने इस विषय में विस्तृत वास्तविक रिपोर्ट मांगते हुए फेसबुक से स्पष्टीकरण मांगा है। फेसबुक से 20 जून तक जवाब देने के लिए कहा गया है।  
***
वीके/एएम/एजी/सीएस- 8858

Wednesday, June 06, 2018

अगस्त में शहीदों की यादगार शुरू करेंगे : वरुण मेहता

Wed, Jun 6, 2018 at 4:29 PM
श्री हिन्दू तख्त व शिवराज सेना ने शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की
लुधियाना: 6 जून 2018:(पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::

श्री हिन्दू तख्त व शिवराज सेना द्वारा सँयुक्त तौर पर आप्रेशन ब्लू स्टार के दौरान आंतकियो से मुकाबला करते हुए शहीद हुए आर्मी व पुलिस फोर्स के शहीदों को तख्त के प्रमुख प्रदेश प्रचारक वरुण मेहता व रमेश भगत के नेतृत्व में श्रद्धांजलि अर्पित की गई। इसके साथ ही उन्होंने कहा की अगस्त महीने में शहीदों की याद शुरू करेंगे। 
भारी संख्या में उपस्थित युवाओं को संबोधित करते हुए वरुण मेहता ने कहा कि विदेशी ताकतों के इशारे पर आंतकी संगठनों ने जरनैल भिंडरावाला के नेतृत्व में पंजाब को अमृतसर की पावन नगरी सहित भारत से तोड़ने की साज़िश रची थी लेकिन भारतीय सेना व पंजाब पुलिस ने तत्कालीन सेना प्रमुख अमर शहीद जनरल अरुण श्रीधर वैद्य जी के नेतृत्व में मोर्चेबन्दी कर आंतकियो को मार गिराया व पावन धार्मिक स्थानों को उनके कब्जे से मुक्त करवाया व हज़ारो श्रदालुयो को भी उनकी गिरफ्त से बचाया व इस दौरान आंतकियो से मुठभेड़ के दौरान हमारे बहादुर जवानों की शहादत हुई आज हम इस आप्रेशन के दौरान शहीद होने वाले शहीदों को शत शत नमन कर रहे है ।
मेहता ने कहा कि अगर आर्मी इस आप्रेशन को न सफल करती तो जिस प्रकार हमे ननकाना साहिब व कटासराज जाने के लिए वीजा लेना पड़ता है उसी तरह अमृतसर जाने के लिए भी वीज़ा लेना पड़ता। उंन्होने कहा कि पंजाब सहित समस्त देशवासी तत्कालीन प्रधानमंत्री शहीद इंदिरा गांधी जी व जनरल वैद्य सहितं अन्य प्रमुख अधिकारियों को नमन करते है जिन्होंने देश हित मे अपनी जान की परवाह न करते हुए पंजाब को बचाने के लिए कठोर निर्णय लिया। इस आप्रेशन के परिणाम में अंतकियो ने इंदिरा गांधी व जनरल वैद्य को शहीद कर दिया। हम प्रण करते है कि उनकी शहादत को व्यर्थ नही जाने देंगे व युवा वर्ग को उनके इतिहास से अवगत करवायेगे । 
शिवराज सेना प्रमुख रमेश भगत ने कहा कि आंतकवाद के काले दौर में पंजाब के हज़ारों बेगुनाहों को शहादत देनी पड़ी व प्रदेश विकास की पटरी से भी पिछड़ गया था । इस अवसर पर तख्त के प्रमुख प्रचारको राजू डेनियल , जिला प्रचारक शिवम वर्मा , सेना नेता रवि भगत , पवन कंग , सौरव वर्मा , अश्वनी काका , राकेश , लोकेश सैनी , धरिन्दर शर्मा , संग्राम राणा , जगदीश तांगड़ी , कर्ण , किरण, राजू थापर, विक्रम, शिवम, मन्नू, कृष्णलाल भाटिया, अनील कुमार, नीरज, निन्दर, संतोक वर्मा, राकेश  कपूर, वरुण गांधी,   राजन शर्मा, मोहित, मणि व अन्य भी उपस्थित थे।