Wednesday, August 24, 2016

शाही इमाम को सदमा, पाकिस्तान में मामा का देहांत

Wed, Aug 24, 2016 at 3:21 PM
जनाज़े में भारत से नहीं जा सका कोई पारिवारिक सदस्य
लुधियाना: 24 अगस्त 2016: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो): 
सत्तर के दशक बात है कामरेड तेजा सिंह स्वतन्त्र अपने एक भाषण में कह रहे थे-आज़ादी आने के बाद भी हम आम नागरिकों के मुकाबले अभी तक तो इन पंक्षियों की हालत अच्छी है जो जहाँ चाहे अपना बसेरा तो बना लेते हैं। वह दिल्ली की निरंकारी कलोनी के पास बनी इंदिरा विकास कलोनी में मई दिवस के अवसर पर बोल रहे थे। यह आयोजन एक ऐसी कलोनी के लोगों की तरफ सिकराय जा रहा था जिन्हें वहां से अवैध कह कर उजाड़ने के लिए आये दिन सबंधित अधिकारी भरी फ़ोर्स लेकर पहुँचते लेकिन मारने मारने पर तैयार लोगों को देख कर लौट जाते। इस कार्यक्रम के आयोजकों में कामरेड परताप सिंह मुसाफिर, डॉक्टर तरलोचन सिंह, उस समय के निडर पंजाबी पत्रकार ज्ञानी अजब सिंह दलेर (विश्व एकता) और ट्रांसपोर्टर निशान सिंह भी उस समय मौजूद थे। आज इस कार्यक्रम की याद आयी है पाकिस्तान से आयी एक दुखद खबर के कारण। मामा की मौत लेकिन जनाज़े में शामिल होना नामुंमकिन क्योंकि वीज़ा में ही काम से काम  लगेगा। आपसी सम्बन्धों में यह कैसा विकास हुआ है कि सुख तो दूर दुःख बांटना भी अब सम्भव नहीं रहा। यह सब कुछ हुआ है शाही इमाम पंजाब मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी के साथ। 
उनके मामा मौलाना अहमद सईद लुधियानवी (75) का लाहौर में निधन हो गया। उनका जन्म 27 दिसंबर 1941 को लुधियाना में हुआ था। पाकिस्तान की सियासत में मौलाना अहमद सईद लुधियानवी का नाम हमेशा ही बुलंद रहा है। उनको बब्बर शेर के नाम से जाना जाता था। उन्होनें हमेशा ही सरकार और पार्टी में गरीबों की मदद करते हुए विपक्ष की भूमिका निभाई। मौलाना के देहांत पर शाही इमाम पंजाब ने गहरा दु:ख प्रकट करते हुए आज जामा मस्जिद लुधियाना में उनकी मगफिरत के लिए विशेष तौर पर दुआ करवाई। हिन्द-पाक सरकारों के खराब संबधों की वजह से भारत से परिवार का कोई भी सदस्य लाहौर जनाजे में शामिल होने के लिए नहीं जा सका, क्योंकि वीजा प्रक्रिया के लिए एक महीने का समय रखा गया है। शाही इमाम ने कहा कि भारत और पाकिस्तान में लाखों ऐसे परिवार है जो कि खुशी तो दूर  की बात गम के मौके पर भी एक दूसरे के पास नहीं पहुंच सकते। क्या बीतती होगी इन लाखों परिवारों पर जो अंतिम यात्रा में भी  से वंचित रह जाते हैं। क्या आतंक की सज़ा इन बेक़सूर परिवारों को भुगतनी होगी। 

जानिए क्यों मना रहे हैं नामधारी बड़े पैमाने पर जन्माष्टमी का मेला

क्या यह जंग का ऐलान है माता चंद कौर के हत्यारों के खिलाफ?
लुधियाना: 23 अगस्त 2016: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):
जब भगवान कृष्ण का जन्म हुआ उस समय मां देवकी और पिता वासुदेव कारागार में था। भगवान कृष्ण का जन्म उस भविष्वाणी के सच होने का ज़बरदस्त संकेत था जिसके अंतर्गत कहा जाता है--जब-जब इस पृथ्वी पर असुर एवं राक्षसों के पापों का आतंक व्याप्त होता है तब-तब भगवान विष्णु किसी न किसी रूप में अवतरित होकर पृथ्वी के भार को कम करते हैं। हालात का दुखद संयोग देखिये। मां देवकी को अगर कारागार में डाला गया था तो इधर नामधारी सम्प्रदाय की माता चंद कौर को दिन दिहाड़े भैणी साहिब जैसी किलेबन्द सुरक्षा में गोलियों से भून दिया गया। अभी तक हत्यारों का पता नहीं चला। रोष प्रदर्शन हुए, धरने दिए गए, ज्ञापन दिए गए लेकिन जांच आगे नहीं सरकी। इस हालात में नामधारी सम्प्रदाय के एक प्रभावशाली गुट की तरफ से जन्माष्टमीका मेला बहुत गहरे संकेत दे रहा है। क्या किसी कंस के वध का ऐलान तो नहीं होने वाला?
नामधारी संगत भगवान श्री कृष्ण चंद्र जी के प्रकाश पर्व के संबंध में हिंदू सिक्ख एकता को समर्पित विशाल कार्यक्रम 28 अगस्त को न्यू दाना मंडी नजदीक बाईपास में करवा रही है। यह सारा आयोजन सतगुरु ठाकुर दिलीप सिंह जी की हजूरी में होगा। ठाकुर दलीप सिंह की तरफ से कुम्भ के मेले में बिना किसी सुरक्षा के आम श्रद्धालु की तरह जाना, गोविन्द गौधाम में जा कर नतमस्तक होना, समाज के सभी वर्गों को एकजुट होने का सन्देश देना और उन लोगों के गले लगाना जिनको समाज अछूत, गरीब और पिछड़ा हुआ मानता है--वास्तव में एक क्रांति के आरम्भ की घोषणा महसूस होती है। 
गद्दी और जायदाद छोड़ कर हर पल संगत के साथ हरिचर्चा में बिताना उनके त्याग को भी दर्शा रहा है और भविष्य की रणनीति को भी। गौरतलब है कि ठाकुर दलीप सिंह जी के समर्थकों के पास इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि सतिगुरु जगजीत सिंह जी ने गद्दी वास्तव में किसको सौंपी थी। जिस व्यक्ति को सतिगुरु जगजीत सिंह जी ने अपना शरीर छोड़ने  नारियल और अन्य आवश्यक सन्देश दिया था वह व्यक्ति अभी मौजूद है। अगर संगत ने ज़ोर दिया तो उसे भी सभी के सामने लाया जा सकता है। नामधारी सम्प्रदाय को गुरु नानक के झंडे तले लाना भी उनकी दूरअन्देशी को बताता है। उनका नारा बहुत अर्थपूर्ण है--
गुरु नानक दे सिख हां;
असीं सारे इक हाँ। 
इसके साथ एक और नारा है--
पन्थ पाड़ना पाप है;
एकता विच प्रताप है। 
इसी बीच प्रमुख सिख नेतायों के साथ उनकी मुलाकातें भी बहुत गहरा इशारा दे रही हैं। इन नारों के बाद अब जन्माष्टमी मनाने का ऐलान इस एकता को सिर्फ सिखों तक नहीं बल्कि समाज के सभी वर्गों तक लेकर जाने का संकेत भी है। इस कार्यक्रम में नामधारियों के साथ साथ बहुत से गैर नामधारी समर्थक भी बढ़ चढ़ कर शामिल हो सकते हैं क्योंकि समाज को जोड़ने के इस अभियान को बहुत से संगठनों ने सहयोग और समर्थन दिया है। 
समागम की जानकारी देते हुए नामधारी दरबार के सेक्रेटरी संत नवतेज सिंह नामधारी ने बताया कि श्री ठाकुर दिलीप सिंह जी की अध्यक्षता में करवाये जा रहे समागम नामधारी संप्रदाय के लिए पहल है। उन्होंनें बताया कि इस तरह के समागम करवाने से आपसी प्यार बढ़ता है। वही नामधारी संगत लुधियाना के प्रधान हरभजन सिंह ने बताया कि इस समागम को लेकर संगतों में काफी उत्साह है। समागम में नामधारी पंथ के उच्च कोटि के विद्यवान जत्थेदार शामिल होंगे। इस मौके पर दर्शन सिंह, हरविंदर सिंह नामधारी, बलविंदर सिंह दुगरी, डॉ सुखदेव सिंह, गुरमेल बराड़, जसविंदर सिंह बग्गा, गुरदीप सिंह, जसवंत सिंह, जसवंत सोनू, निर्मल सिंह, राजवंत सिंह, मिल्खा, सिंह, जसपाल सिंह, सुरजीत सिंह, अरविदंर लाडी मौजूद रहे। अब देखना है कि इस कार्यक्रम के बाद नामधारी सम्प्रदाय की अगली रणनीति क्या होगी क्योंकि अभी तो त्योहारी सीज़न की शुरुआत ही हुई है।  

Tuesday, August 23, 2016

LIC ने किया मेघावी छात्रों को सम्मानित

लुधियाना के टैगोर पब्लिक स्कूल में हुआ विशेष आयोजन 
लुधियाना: 23 अगस्त 2016: (पुष्पिंदर कौर//पंजाब स्क्रीन):
जनाब कृष्ण बिहारी नूर कहते हैं--
ज़िन्दगी से बड़ी सज़ा ही नहीं;
और क्या जुर्म है पता ही नहीं। 
पढ़ लिख कर बेरोज़गारी की तरफ बढ़ते युवा,  नौकरी नहीं मिलने पर खुदकुशियां करते युवा, पैसे के लिए जुर्म की दुनिया में जाते युवा---सिथति बहुत भयानक है। कोई न देखना चाहे तो बात अलग। इस हालत को बदलने के लिए आगे आया है एल आई सी अर्थात भारतीय जीवन बीमा निगम। सुरक्षित भविष्य और साफ सुथरे रोज़गार के अवसर ले कर। त्योहारों के मौसम की शुरुआत एल आई सी ने लुधियाना के अगर नगर में स्थित टैगोर पब्लिक स्कूल से की। हर क्लास में टॉपर रहने वाले दस दस बच्चों को टॉफी दे कर सम्मानित किया। वास्तव में यह ट्राफी एक आश्वासन थी, एक वायदा था, एक संकल्प कि हम आपका भविष्य सुंदर और सुरक्षित बनाएंगे। समाज के साथ दोस्ती निभाने का यह अंदाज़ शायद एल आई सी को ही आता है। यह कार्यक्रम याद दिला रहा था कि जब तक स्कूल, कालेज और यूनिवर्सिटी की शिक्षा पूरी होती है तब तक ज़िन्दगी के सवाल बदल जाते हैं, चुनौतियाँ बदल जाती हैं, इम्तिहान बदल जाते हैं-यहाँ तक कि पूरे हालात ही बदल जाते हैं। उस वक़्त अगर संकट की घड़ी आ जाये तो  उस कहावत की हकीकत समझ आने लगती है कि बाप बड़ा न भैया सबसे बड़ा रुपैया। ज़िन्दगी में कभी भी ऐसी घड़ी न आये जब रुपये को ही सब कुछ समझना पड़े इसके लिए आज भारतीय जीवन बीमा निगम ने भविष्य की सुरक्षा का सन्देश इस स्कूल में आकर भी दिया। इस अवसर पर एल आई सी ने हर कक्षा में टॉपर रहने वाले छात्र-छात्रायों को ट्राफियां भी दीं तांकि उनमें सुरक्षित भविष्य के निर्माण का  विश्वास  हमेशा बना रहे। इस मौके पर एल आई सी के एस के बांसल, सुनील कुमार, एम के कौशिक सहित  अधिकारी और सक्रिय सदस्य भी मौजूद रहे। 
कार्यक्रम के अंत में स्कूल की प्रबन्धन समिति के अध्यक्ष सुनील गोयल और प्रिंसिपल सुश्री डी. नारंग ने इस आयोजन की तारीफ़ करते हुए एल आई सी का आभार  व्यक्त किया  और एल आई सी की टीम को धन्यवाद भी दिया। 
अब देखना है कि और कितने  सामाजिक और वित्तीय संगठन छात्र-छात्रायों की आर्थिक रीढ़ को मजबूत करने और सुरक्षित वित्तीय भविष्य के लिए आगे आते हैं ! नौकरियों की चाह में तेज़ होती भागदौड़ और असफल होने पर मिलती निराश के अँधेरे को चीरते हुए अपने पैरों पर खड़ा होने की  रौशनी दिखता एल आई सी तेज़ी से समाज के नव निर्माण में आगे बढ़ रहा है। 

Chandigarh: नरेश अरोड़ा ने शुरू किया महासंपर्क अभियान

2016-08-22 17:23 GMT+05:30
मकसद केंद्रीय योजनायों की जानकारी को जन जन तक पहुंचाना 
चंडीगढ़: 22 अगस्त 2016: (पुष्पिंदर कौर//पंजाब स्क्रीन):
जिस बात को  कांग्रेस पार्टी, अकाली दल और "आप" की लीडरशिप अक्सर नज़रअंदाज़ करती रही है और अब भी कर रही है उसे भारतीय जनता पार्टी ने गम्भीरता से महत्व देना शुरू किया है। भाजपा की विचारधारा और नीतियों से जुड़े पुराने सहयोगीयों को एक बार फिर और निकट लाने का सिलसिला शुरू किया गया है।  भाजपा समर्थक पुराने सहयोगियों के साथ सम्बन्ध और अंतरंग बनाने का यह ज़ोरदार प्रयास निकट भविष्य में रंग भी लाएगा।

आज चंडीगढ़ भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष नरेश अरोड़ा ने 4 नंबर कॉलोनी फेज-1 से महासंपर्क अभियान शुरू किया। जिसके अंतर्गत वह कॉलोनी में अपने पुराने सहयोगियों के साथ अनेक परिवारों से मिले।
नरेश अरोड़ा ने बताया की इस महासंपर्क अभियान का उदेश्य केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा चलायी जा रही सारी योजनाओ की जानकारी जन जन तक पहुंचाना है ताकि हर जरूरतमंद इन योजनाओं का लाभ उठा सके। यह कार्यक्रम अब निरंतर जारी रहेगा और युवा मोर्चा के कार्यकर्ता घर घर जा कर और नुक्कड़ बैठकों के माध्यम से लोगो को सरकारी योजनाओं की जानकारी देंगे। 
गौरतलब है कि पंजाब प्रदेश कांग्रेस पंजाब यह कदम उठेने में नाकाम रही और आम जनता को  चल पाया था कि उन तक फायदा केंद्र की मनमोहन सरकार  या पंजाब की बादल सरकार। भाजपा इस मामले में सतर्क है और आम लोगों तक मोदी सरकार की नीतियों और फायदों को पहुँचाने में सरगर्म है। इनमें पहल  दी जा रही है उन लोगों को जो माध्यम वर्गीय हैं, मेहनत मज़दूरी करके दो वक़्त की रोटी हैं और बढ़ती हुई महंगाई से बुरी तरह आहत हैं। निश्चय ही यह कदम भाजपा को अकाली दल एक नया मज़बूत आधार देगा  क्योंकि अकाली दल के नेतायों का सम्पर्क अब अक्सर अमीर अकालियों से ही  होता है।


Saturday, August 20, 2016

लिवर के लिए शराब जितना ही खतरनाक है मोटापा और शूगर

Sat, Aug 20, 2016 at 1:34 PM
पंजाब में तेज़ी से बढ़ रहा है हेपाटाइटिस सी का विकराल रूप 
लुधियाना: 20 अगस्त 2016; (पंजाब स्क्रीन टीम):
एसपीएस हॉस्पिटल की टीम ने लिवर ट्रांसप्लांट की पहली सफल सर्जरी करने का इतिहास रच दिया है। विश्व भर में लिवर ट्रांसप्लांट के लिए विख्यात दिल्ली के सीएलबीएस हॉस्पिटल लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी विभाग के मुखी डॉ. सुभाष गुप्ता के सानिध्य में हुई इस सर्जरी को करने वाली टीम की अगवाई लिवर ट्रांसपप्लांट व जीआई सर्जरी विभाग के मुखी डॉ. अरिंदम घोष और गैस्ट्रोइंट्रोलॉजी विभाग के मुखी डॉ. निर्मलजीत सिंह मल्ही ने की। इस सर्जरी के सफल होते ही अंतिम स्टेज पर मौत से लड़ रहे हेपाटाइटिस सी के मरीज को नई जिंदगी मिल गई है।
लिवर ट्रांसप्लांट के लिए विश्व भर में विख्यात और डॉ. बीसी राय अवार्ड से सम्मानित डॉ. सुभाष गुप्ता ने कहा कि हमारी कोशिश है कि बचपन से लेकर बुढ़ापे तक लिवर का बीमरियों से ख्याल रखा जाए। हम लुधियाना में बेहतर क्वालिटी का लिवर ट्रांसप्लांट प्रोग्राम स्थापित कर रहे हैं, ताकि इस क्षेत्र और आसपास के इलाकों के लोगों की सेवा कर सकें।
इस संबंध में हुई प्रेस कांफ्रेंस के दौरान डॉ. अरिंदम घोष ने कहा कि लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी की सफलता इस बात का सबूत है कि हमारे पास हेल्थकेयर की क्वालिटी, सेफ्टी व विश्वनीयता है और मरीज अपने बजट में इन सुविधाओं को हासिल कर सकता है। लुधियाना में शुरू हुई इस विश्वस्तरीय सुविधा का लाभ केवल पंजाबियों को ही नहीं मिलेगा, बल्कि हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कशमीर व राजस्थान इत्यादि पड़ोसी राज्यों के लोग भी इस सुविधा को ले सकेंगे।
लगातार बढ़ रही लिवर डैमेज की बीमारी पर चिंता जताते हुए डॉ. निर्मलजीत सिंह मल्ही ने कहा कि पंजाब में हैपाटाइटिस सी, शराब और मोटापा इसका मुख्य कारण है। उन्होंने कहा कि बीमारी की जल्दी पहचान और समय पर इलाज करने के लिए जागरूकता जरूरी है। क्योंकि देरी से बीमारी और बढ़ जाती है। ऐसी स्थिति में लिवर ट्रांसप्लांट में आशा की किरण नजर आती है। डॉ. घोष के मुताबिक इसकी अंतिम स्टेज पर लिवर को काफी नुकसान हो सकता है। ऐसी स्थिति में उसकी काम करने की क्षमता दिन प्रतिदिन घटती जाती है।  डॉ. घोष ने बताया कि सर्जरी की नई तकनीकों के कारण मरीज और लिवर दान करने वाले की सुरक्षा यकीनी बन गई है। इसके रिजल्ट हमेशा पॉजीटिव रहे हैं। उन्होंने कहा कि लिवर  दान करना पूरी तरह सुरक्षित है। दान किया गया लिवर कुछ हफ्तों बाद खुद ही पूरा हो जाता है। इससे दान देने वाले और लिवर ट्रांसप्लांट कराने वाला मरीज, दोनों ही सुरक्षित रह कर नॉर्मल लाइफ जी सकते हैं।
हॉस्पिटल के मेडिकल सुपरिटेडेंट डॉ. उबेद हामिद ने कहा कि हमने मरीज की हाई सेफ्टी और विश्वस्तरीय इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ लिवर की सफल सर्जरी करके राज्य में इतिहास रचा है। जिस महिला मरीज का यह लिवर ट्रांसप्लांट किया गया है, वह हैपाटाइटिस सी वायरस से ग्रस्त थी। उसे विभिन्न इंफेक्शनों के साथ कई बार दाखिल होना पड़ा था। लिवर पर बढ़ी इंफेक्शन और दूसरी काम्पिलीकेशंस के कारण उसकी जिंदगी तीन महीने ही बताई जा रही थी। काउंसलिंग के बाद उसकी बेटी ने उसे अपना आधा लिवर दान करके अपनी मां की जान बचा ली। सर्जरी के बाद मां और बेटी दोनों सुरक्षित हैं। एसपीएस हॉस्पिटल ने अपना लिवर क्लीनिक शुरू कर लिया है, जहां गैस्ट्रोइंट्रोलॉजिस्ट और लिवर ट्रांसप्लांट की टीम मरीजों का चेकअप करेगी।

Friday, August 19, 2016

रिटायर्ड ब्रिगेडियर गगनेजा पर हमला करने वालों को जल्द पकड़ो

चंडीगढ़ में आरएसएस के शिष्टमंडल ने की राज्यपाल से भेंट 
मोहाली:18 अगस्त 2016: (पुष्पिंदर कौर//पंजाब स्क्रीन): 
आरएसएस के वरिष्ठ नेता रिटायर्ड ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा पर जालंधर में हुए हमले का मामला अभी तखल न होने के कारण संघ और भाजपा केडर में लगातार रोष बना हुआ है। इस हमले की तकरीबन सभी दलों ने सख्त शब्दों में निंदा की थी। इसी बीच चंडीगढ़ के संघ संचालक त्रिलोकी नाथ गोयल ने पंजाब के राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी को सौंपे ज्ञापन में अारएसएस पंजाब के सह प्रांत संघचालक ब्रिगेडियर (रिटा.) जगदीश गगनेजा पर 6 अगस्त को कातिलाना हमला करने वालों को गिरफ्तार कर कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है। गोयल ने कहा है कि गगनेजा पर किया गया हमला पंजाब व देश के सामाजिक सौहार्द तथा भाई-चारे को तोड़ने की साजिश है। उल्लेखनीय है जगदीश गगनेजा पर जालंधर के ज्योति चौंक के भीड़भाड़ भरे सघन इलाके में 6 अगस्त की शाम को हमलावरों ने उस समय गोली चलाई थी जब वे अपने परिवार के साथ ज्योति चौक के नजदीक खरीददारी कर रहे थे। वे लुधियाना के डीएमसी अस्पताल में उपचाराधीन हैं। पंजाब के हालात पर नज़र रखने वाले समाजिक और सियासी लोगों ने इसे आतंकवाद की दस्तक के तौर पर लिया और सरकार को सतर्क होने की सलाह भी दी। हमलावरों को पकड़ने में हो रही देरी के कारण आम लोगों में निराश का आलम है और उन्हें एक बार फिर असुरक्षा का अहसास होने लगा है।
गौरतलब है कि जिस दिन श्री गगनेजा पर गोली चलाई गई उस दिन उन्होंने एक अहम मीटिंग बुला रखी थी। आरएसएस के प्रदेश सह संघ चालक रिटायर्ड ब्रिगेडियर जगदीश गगनेजा ने रविवार को जालंधर में संघ की एक बड़ी बैठक बुलाई हुई थी। डेवियट में होने वाले इस विभाग मिलन कार्यक्रम में संघ के पंजाब में कार्यक्रत सभी विंग बुलाए हुए थे। बैठक का मुख्य एजेंडा पंजाब में संघ के प्रचार-प्रसार व आम लोगों को संघ से अवगत करवाने का था। इसके अलावा ग्रामीण इलाकों में आरएसएस का विस्तार करना व वहां नई शाखाएं खोलने की भी चर्चा इसी कार्यक्रम में होनी थी। पंजाब विधानसभा चुनाव को लेकर भी कई मुद्दों पर चर्चा की जानी थी। 
भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की पंजाब इकाई के सचिव कामरेड हरदेव अर्शी ने भी इस हमले की कड़ी निंदा करते हुए चेताया था कि सरकार को अब तो नींद से जाग जाना चाहिए। 
Com Hardev Arshi on law and Order situation in Punjab

Wednesday, August 17, 2016

कांग्रेस ने संत लौगोंवाल की पीठ में छुरा घोंपा

2016-08-17 17:56 GMT+05:30
मुख्यमंत्री की तरफ से खन्ना विधान सभा क्षेत्र में संगत दर्शन
चुनावों में अकाली-भाजपा गठजोड़ की एक तरफा जीत होगी-बादल
पंजाब विरोधी कांग्रेस व आम आदमी पार्टी को लोग सबक सिखाएंगे
हरिओ (खन्ना): 17 अगस्त 2016:(पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):
आगामी विधान सभा चुनावों में अकाली-भाजपा गठजोड़ की बिना मुकाबला जीत होने का दावा करते पंजाब के मु यमंत्री स.प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि इन चुनावों में राज्य के लोग कांग्रेस और नई पैदा हुई आम आदमी पार्टी को धूल चटा देंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी की पंजाब  विरोधी पहुंच का लोगों को पहले ही अनुभव हो चुका है और अब दरियाई पानियों के मुद्दे पर आम आदमी पार्टी द्वारा पंजाब विरूद्ध भुगतने से इस पार्टी का वास्तविक चेहरा भी बेनकाब हो गया है।
आज खन्ना विधान सभा क्षेत्र में संगत दर्शनों के दूसरे दिन पत्रकारों द्वारा आगामी चुनावों में शिरोमणि अकाली दल व भारतीय जनता पार्टी के गठजोड़ का मुख्य मुकाबला किस पार्टी से होने संबंधी पूछे एक प्रश्र के उत्तर में स.बादल ने कहा कि  उनकी गठजोड़ का किसी भी पार्टी से कोई मुकाबला नहीं है और इसे एक तरफा ही जीत हासिल होगी क्योंकि कांग्रेस और आम आदमी पार्टी द्वारा पंजाब के हितों के साथ धोखा करके पहले ही सबके सामने आ चुके हैं और लोगों ने इनसे पूरी तरह मुंह मोड़ लिया है।
आगामी चुनावों में नवयुवकों को टिकटें देने संबंधी पूछे गए प्रश्र के उत्तर में स.बादल ने कहा कि उनकी पार्टी ने अनेकों ही नवयुवकों को आगे  लाया है और आने वाले चुनावों में भी उ मीदवारों की जीत की संभावना के मद्देनज़र ही उ मीदवारों का चयन किया जाएगा।
कांग्रेस पार्टी द्वारा सत्ता में आने के बाद किसानों के कजऱ्े माफ करने संबंधी किए गए एलान बारे पूछे गए प्रश्र के संबंध में स.बादल ने कहा कि कांग्रेस ने अपने 50 वर्ष से अधिक के कार्यकाल दौरान तो किसानों के लिए कुछ भी नहीं किया जिस कारण अब उनके मुंह से ऐसी बातें शोभा नहीं देती। कांग्रेस के वादों को झूठ का पुलंदा बताते हुए स. बादल ने कहा कि उनकी अगुवाई वाली पिछली सरकार द्वारा किसानों को ट्यूबवैलों के लिए दी गई नि:शुल्क बिजली तो कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने सत्ता में आते ही छीन ली थी और ट्यूबवैलों के बिल पुन: लगा दिए थे। किसानों के हितों के लिए उठाए गए कदमों का जिक्र करते उन्होंने कहा कि उनकी सरकार द्वारा इस समय किसानों के ट्यूबवैलों के लिए वार्षिक 5000 करोड़ की सब्सिडी दी जा रही है। अब सरकार ने किसानेां के लिए बिना ब्याज से 50,000/- रूपए के कर्ज़ मुहैया करवाने के अलावा 50,000/रूपए तक के मुफत उपचार की व्यवस्था की गई है। परिवार के मुखिया की हादसे में मौत हो जाने या पूरी तरह नकारा हो जाने के लिए भी पांच लाख के बीमे की व्यवस्था की है।
इससे पूर्व विभिन्न गांवों में लोगों को स बोधन करते हुए स.बादल ने लोगों को सियासी फैसला सोच-समझ कर लेने की अपील की। मुश्किल समय में अज़माई हुई पार्टी का ही चुनावों दौरान साथ देने की अपील करते हुए स.बादल ने कहा कि सियासी तौर पर लिया गया गलत फैसला सब कुछ ही तहस-नहस कर देता है।
मु यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने धार्मिक, सियासी व आर्थिक तौर पर राज्य की भारी नुकसान किया है। पहले इसने श्री हरिमंदिर साहिब पर फौजी हमला करके इसने सिखों की मानसिकता को झंझोड़ा व फिर दिल्ली में हज़ारों ही बेगुनाह सिखों के कत्ल करवाए। इसने तो अकाली दल के श्रेष्ठ नेता संत हरचंद सिंह की पीठ में छुरा मारा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने पहले राजीव-लोैगोंवाल समझौता करवाया और फिर इसकी एक भी मद को लागू नहीं किया। अब तक कांग्रेस चंडीगढ़ और पंजाबी बोलते क्षेत्र पंजाब को देने से टाल-मटोल करती आ रही है। आम आदमी पार्टी पर तीखे हमले करते हुए स.बादल ने कहा कि इस द्वारा समाज में दरार डालने का लगातार प्रयत्न किया जा रहा है पर राज्य के लोग इनके झांसे में नहीं आएंगे। उन्होंने अकाली-भाजपा सरकार द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में की गई प्राप्तियों को भी गिनवाया।
संगत दर्शन की महत्ता का जिक्र करते हुए स.बादल ने कहा कि उनका उद्धेश्य समय व ऊर्जा की बचत करने के अलावा विकास कार्यों में लोगों की भागीदारी को यकीनी बनाना भी है। उन्होंने कहा कि देश में संगत दर्शन करने की प्रक्रिया केवल पंजाब में ही है और यह भी केवल तभी होते हैं जब राज्य के लोगों द्वारा उन्हें सेवा का मौका दिया जाता है। उन्होंने कहा कि एक लोकतंत्र देश में लोगों के विकास कार्यों में भागीदारी को यकीनी बनाने के लिए इससे बढिय़ा ओर कोई ढंग नहीं हो सकता क्योंकि संगत दर्शन दौरान लोगों की आवश्यकताओं अनुसार ही समस्याओं के निपटारे उनकी प्राथमिकताओं के आधार पर किया जाता है और इसके अलावा अधिकारियों को जवाबदेह बनाया जाता है।
मुख्यमंत्री ने आज अलीपुर, रोह, हरिओ कालां, खटड़ा व माजरी में संगत दर्शन करके दो दर्जन से अधिक पंचायतों की समस्याएं सुनीं तथा उन्हें विकास कार्यों के लिए चैक दिए गए। इस अवसर पर अन्य के अलावा मु यमंत्री के विशेष प्रमुख सचिच डा.एस करूणा राजू, क्षेत्र के सीनियर अकाली नेता स.रणजीत सिंह तलवंडी, डी आई जी श्री एस के कालीया, लुधियाना के उपायुक्त्त श्री रवि भगत, खन्ना के एस एस पी स. सतिन्द्र सिंह, सीनियर अकाली नेता स. इकबाल सिंह चन्नी, स.इन्द्रपाल सिंह उपस्थित थे।
---------