Saturday, February 18, 2017

फोर्टिस हॉस्पिटल ने सामने लाई असली वेलेन्टाइन

45 वर्षीय अजय पारीक को उसकी पत्नी ने दी अपनी किडनी
सफलतापूर्वक हुआ पहला किडनी ट्रांसप्लांट
लुधियाना: 17 फरवरी 2017:(पंजाब स्क्रीन टीम)::
वेलेन्टाईन डे  को लेकर किसी के विचार कुछ भी क्यों न हों पर एक भारतीय महिला ने साबित कर दिखाया कि उसके लिए हर दिन वेलेन्टाईन डे  है और वह आई लव यू कहे या न कहे लेकिन इसे निभाना जानती है और ज़रूरत पड़े तो अपनी जान भी दांव  पर लगा सकती है। उसकी इस क़ुरबानी और प्रेमपूर्ण भावना को देख कर उसके पति को भी अहिसस हुआ कि उसने दिल का सौदा गलत जगह नहीं किया। दिल उसे दो जो जान दे दे---जान उसे दो जो दिल दे दे---। गीत फ़िल्मी था लेकिन फोर्टिस ने ढून्ढ निकाला कि भारत में ऐसा वास्तविक ज़िन्दगी में भी होता है।


बात ज़िन्दगी की थी क्योंकि किडनी ने जवाब दे दिया था। स्वार्थ के इस युग में कोई और होती तो शायद छोड़ कर भाग जाती और दूसरी यदि कर लेती पर रीतू ने साबित किया कि  प्यार भी एक बार ही होता है और हम शादी भी एक बार ही करते हैं। उसकी इस भावना ने डॉक्टरों को भी नई  प्रेरणा दी और फोर्टिस हॉस्पिटल लुधियाना में 45 साल के मरीज का किडनी ट्रांसप्लांट सफलता पूर्वक किया गया। इस तरह रीतू ने अपने पति अजय पारीक को किडनी देकर उसकी जान बचाई।
इस संबंध में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस के दौरान हॉस्पिटल के डायरेक्टर विवान सिंह गिल ने कहा कि हमें यह बताते हुए खुशी हो रही है कि फोर्टिस क्लब पंजाब में किडनी ट्रांसप्लांट के लिए एलाइट क्लब से जुड़ गया है। हमारे यहां पहला मरीज (December, 2016) को किडनी ट्रांसप्लांट के लिए आया। उसकी पत्नी ने अपने पति को किडनी दी, जिसे लैप्रोस्कोपी तकनीक से निकाला गया। नेफ्रोलॉजी विभाग के डायरेक्टर डॉ. नवदीप सिंह खैरा ने कहा कि जिन मरीजों की किडनी फेल हो जाती है, उन्हें ट्रांसप्लांट की जरूरत होती है। ऐसे लोगों को डायलसिस या किडनी ट्रांसप्लांट करानी होती है। भारत में हर साल डेढ़ लाख लोग किडनी फेलियर का शिकार होते हैं मगर केवल किडनी ट्रांसप्लांट के लिए दान करने वालों की संख्या साढ़े तीन हजार तक ही पहुंच पाती है।
यूरोलॉजी, लेप्रोस्कोपी व किडनी विभाग के सीनियर कंसल्टेंट डॉ. आशीष जिंदल ने कहा कि किडनी ट्रांसप्लांट सफलतापूर्वक हो गया है और अब मरीज रिकवरी कर रहा है। उसे नेफ्रोलॉजिस्ट, ट्रांसप्लांट सर्जन, एनास्थिसिट और क्रिटिकल केयर एक्सपर्ट नर्सिंग स्टाफ की निगरानी में रखा गया था। उन्होंने कहा कि किडनी फेलियर का शिकार हो चुके मरीजों के लिए किडनी ट्रांसप्लांट ही बढिय़ा विकल्प है। जिससे वे लंबे समय तक सामान्य जीवन जीने के साथ ही डायलसिस से मुक्ति पा सकते हैं।
विवान सिंह गिल ने सफलतापूर्वक किडनी ट्रांसप्लांट करने वाली टीम में शामिल डॉ. नवदीप सिंह खैरा, डॉ. आशीष जिंदल, यूरोलॉजिस्ट डॉ. योगेश कालड़ा व ट्रांसप्लांट को-आर्डिनेटर डॉ. गौरव बिंदल का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि हमारे पास बढिय़ा ऑपरेशन थिएटर व किडनी ट्रांसपप्लांट आईसीयू उपलब्ध है।
किडनी ट्रांसप्लांट कराने वाले अजय पारीक ने कहा कि मैं खुशनसीब हूं कि मुझे रितू जैसी प्यार करने वाली पत्नी मिली, जिसने मुझे नई जिंदगी दी है। उसने अपने परिवार, फोर्टिस हॉस्पिटल की टीम, अपने भाई संजय पारीक और अपनी भाभी ज्योति पारीक का भी धन्यवाद किया है।

Friday, February 17, 2017

प्रशासनिक कमियों के बावजूद गमसा एक्सपो इंडिया 2017 की धमाकेदार शुरुआत

विदेशी और स्वदेशी तकनालोजी के मिलन का ख़ास मंच बनी प्रदर्शनी 
लुधियाना: 17 फरवरी, 2017: (पंजाब स्क्रीन टीम): For more pics please click here
गारमेंटस मशीनरी मैन्युफैक्चरर्स एंड सप्लाइर्स एसोसिएशन (गमसा) के तत्वावधान में दाना मंडी, बहादुर के रोड, लुधियाना मेंं आज शुक्रवार 17 फरवरी को द्वित्तीय गमसा एक्सपो इंडिया 2017 प्रदर्शनी पूरे जोशो खरोश के साथ शुरू हो गयी। दुःख की बात है कि इतना बड़ा आयोजन होने के बावजूद इसके मुख्य गेट के सामने से कीचड़ नहीं हटाया जा सका। इस वजह से इसका उद्धघाटन करते समय डीसी रवि भगत की भी दुसरे मुख्य गेट से अंदर लेजाया गया। इस मौके पर बहुत से उत्पादनों और मशीनरी का प्रदर्शन भी किया गया जो कि इसकी सफलता की निशानी भी है। For more pics please click here
उद्धघाटन की रस्म निश्चित समय से करीब आधा घन्टा देरी से शुरू हुई। लुधियाना के डिप्टी कमिश्नर डॉ. रवि भगत, आईएएस ने दीप जला कर इस प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। गमसा के चेयरमैन श्री राम कृष्ण, प्रेसीडेंट श्री नरिंदर कुमार, श्री गुरप्रीत सिंह, श्री अमित जैन, श्री परमेश वसिस्ट, श्री गुरदेव सिंह, श्री जतिंदर सुदेरा, श्री सुखविंदर सिंह, श्री पंकज कालरा, श्री तेजा सिंह एवं श्री राजेश शर्मा सहित भारत व विदेशों से आये कई प्रतिनिधि उद्घाटन समारोह में शरीक हुए। इस अवसर पर उम्दा हुआ उत्साह और जोश देखने वाला था। 
गौरतलब है कि यह प्रदर्शनी गारमेंट मशीनरी निर्माताओं और आपूर्तिकर्ताओं को अपने उत्पादों के प्रदर्शन और निर्माताओं व खरीदारों से मिलने-जुलने का मंच मुहैया कराती है। पहले ही दिन 7000 से अधिक लोग गारमेंट मशीनरी एवं नयी प्रौद्योगिकी को देखने समझने के लिए प्रदर्शनी में पहुंचे। दोपहर तक बहुत से स्टाल लग चुके थे और बाकी अभी लगने वाले थे इसके बावजूद भीड़ लगातार बढ़ती चली गयी। 
इस मौके पर गमसा एक्सपो इंडिया 2017 के चेयरमैन एवं पैराडाइज इंजीनियरिंग कॉर्पोरेशन के संचालक श्री राम कृष्ण ने कहा, ‘प्रदर्शनी के लिए लोगों से जो प्रतिक्रिया हमें मिली है वो उत्साहजनक है। इससे हमें अपने प्रयासों को और बड़ा और बेहतर करने में मदद मिलती है। हम बाजार को स्वदेशी तकनीक से तैयार फिनिशिंग मशीनें, मिनी बॉयलर्स और पैकेजिंग मशीनें प्रदान कर रहे हैं और पूरे देश में इनकी आपूर्ति कर रहे हैं। इसके अलावा हम नेपाल, बांगलादेश और श्रीलंका को भी ये मशीनें प्रदान कर रहे हैं। हमने यहां जिंग-फू द्वारा निर्मित पूर्णत: कम्प्यूटरीकृत फ्लेटबैड निटिंग मशीनें भी पेश की हैं जो उम्दा क्वालिटी के परिणाम दे रही हैं और उत्पादकता बढ़ाने के साथ-साथ किफायती हैं।
इस सम्बन्ध में उन्होंने आगे कहा, ‘ ‘इस प्रदर्शनी का उद्देश्य है मैनचेस्टर ऑफ इंडिया कहलाने वाले लुधियाना शहर के उद्योगों को घर बैठे ही नवीनतम प्रौद्योगिकी तथा तकनीकों से वाकिफ कराना और गारमेंट उत्पादकों को देशी एवं वैश्विक बाजार में प्रतिद्वंदिता के लिए तैयार करना।’ 
गमसा एक्सपो इंडिया 2017 के अध्यक्ष श्री नरिंदर कुमार ने कहा, ‘हमारा मकसद रहा है कि इंडस्ट्री को सर्वश्रेष्ठ और नवीनतम प्रौद्योगिकी मुहैया कराना। हम यहां विशेष मशीनें लेकर आये हैं, जैसे कि जैक्वार्ड मशीन जिसमें ज्यादा जटिल पैटर्न तैयार किये जा सकते हैं। डबल सिस्टम मशीन यहां प्रदर्शित है जिसमें गेज ऑफ बैड आवश्यकतानुसार बदला जा सकता है। पूरे बैड को 7 गेज से 14 गेज तक परिवर्तित किया जा सकता है और हमारे पास इस प्रौद्योगिकी का विशेषाधिकार है। हमने यहां कुछ बेहद तेज रफ्तार वाली इंटरलॉक मशीनें भी प्रदर्शित की हैं।’ लोग इनका प्रदर्शन देख कर बहुत ही दंग रह गए।
इसी तरह नव पंकज क्रिएशंस के श्री अमित जैन ने कहा, ‘हमारी कंपनी का फोकस इस पर है कि कैसे वस्त्र निर्माण को अधिक किफायती बनाया जाये। बहुउद्देशीय एवं उच्च गति वाली मशीनों से लागत कम हो जाती है। हमारे पास मोटे धागे वाली और कई हेड वाली मशीनें भी हैं। इनकी मदद से बाजार में क्वालिटी उत्पाद किफायती तरीके से तैयार किये जा सकेंगे। For more pics please click here
इस यादगारी अवसर पर के पी एगजिम इंक. के श्री गुरप्रीत सिंह ने कहा, ‘समय बचाने वाली मशीनों से लागत घटती है और उत्पादकता बढ़ती है। सिक्सिंग ब्रांड वाली हमारी कम्प्यूटरीकृत निटिंग मशीनें 140 तक की स्पीड पर संचालित होती हैं जिससे उत्पादन समय घटता है जबकि उत्पादकता बढ़ती है। हमारे पास स्टीगर की मशीनें भी हैं जिन्हें यूरोप में पिछले वर्ष लांच किया गया था और अब ये भारत में उपलब्ध हैं। ये मशीनें मोटर चालित पॉप अप फीडर्स से युक्त हैं जो उत्पादन समय में 30 प्रतिशत तक कटौती संभव कर देती हैं।
दर्शकों को प्रदर्शनी में सुसज्जित स्टॉल अच्छे लगे। दर्शक अधिकतर उत्पादकता बढ़ाने और लागत कम करने की तरकीबें जानने को उत्सुक दिखे। वे इसी तरह के सवाल अधिक कर रहे थे कि कैसे माल तैयार करने में समय और पैसा घटाया जा सके। निटिंग, फिनिशिंग, डाइंग और प्रोसेसिंग हाउसेज के शीर्ष अधिकारी और प्रतिनिधि अपनी प्रोडक्शन और क्वालिटी कंट्रोल टीमों के साथ प्रदर्शनी में मौजूद थे। कुल मिलाकर यह एक शानदार शुरुआत रही। For more pics please click here

Thursday, February 09, 2017

भागवत साहिब मुसलमान हिन्दू नहीं गर्व से हिंदुस्तानी हैं-शाही इमाम पंजाब

Thu, Feb 9, 2017 at 5:05 PM
भागवत अल्पसंख्यकों को डराने की कोशिश न करें
लुधियाना:: 9 फरवरी 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::
वाम दलों और मुस्लिम समाज ने राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ के सरसंघ चालक मोहन भागवत के बयान का गंभीर नोटिस लिया है और सावधान किया है कि वह अल्पसंख्यकों को डराने की कोशिश न करें। संघ संचालक मोहन भागवत की ओर से भारतीय मुसलमानों को आत्मा से हिन्दू बताने पर मजलिस अहरार इस्लाम हिन्द की ओर से पंजाब के शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी ने कड़ी आपत्ति जताई,उन्होंने काहा की भागवत सत्ता के बल पर अल्पसंख्यकों को डराने की कोशिश कर रहे हैं।शाही इमाम ने कहा कि कोई भी मुसलमान आत्मा से हिन्दू नहीं है इस्लाम ही हमारा धर्म है और दुनिया की कोई भी ताक़त हमें इससे अलग नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि भारतीय मुसलमानों को हिंदुस्तानी होने पर गर्व है लेकिन मुसलमान किसी को भी अपने आत्म सम्मान के साथ खिलवाड़ नहीं करने देंगें।शाही इमाम ने कहा कि बड़ी हैरत की बात है कि देश को प्रगति की ओर ले जाने का वादा करने वाले लोग बीते तीन वर्षों से अपनी नाकामी छुपाने के लिए अल्पसंख्यकों पर टिप्पणियां कर के अपना गुजारा कर रहे हैं,शाही इमाम ने कहा कि अल्पसंख्यको को धमकाने से अच्छा है कि वह अपने दयत्त्व की और ध्यान दें, मौलाना हबीब उर रहमान ने कहा कि सत्ता में रहने वाले अपने दिमाग से ये गलतफहमी निकल दे की वह अल्पसंख्यको का दीन धर्म छीन लेंगे।उन्होंने कहा कि इस्लाम ही हमारा धर्म है और हम अपने देश में आज़ादी के साथ हमेशा अल्लाहु अकबर कह कर नमाज़ पढ़ते रहेंगें। शाही इमाम ने कहा कि यह विडम्बना ही है कि सत्ता में आने के बाद भी धर्म के नाम पर ही रोटियां सेंकी जा रही है राजा के सहयोगी प्रजा को धमका रहे हैं और देश आगे बढ़ने की बजाये थम सा गया है।

Wednesday, February 08, 2017

लुधियाना की सड़कों पर दौड़ती मौत पर श्रीपाल शर्मा

लुधियाना की सड़कों पर सख्ती से स्पीड लिमिट लागू करने की मांग 
लुधियाना:: 8 फरवरी 2017: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):: For more Pics Click Here
श्रीपाल शर्मा पेशे से एडवोकेट, दिल में तमन्ना है किसी अच्छे डॉक्टर की तरह समाज की बिमारियों को बाहर निकाल फेंकने की लेकिन आजकल आरटीआई एक्टिविस्ट। इसके साथ ही पूरी दुनिया को यह कला सिखाने की धुन तांकि आरटीआई को कारगर हथियार बना कर समाज के कुरूप चेहरे को बेनकाब किया जा सके। आज देर शाम बात हुई तो श्रीपाल के चेहरे पर मायूसी थी जो आम तौर पर नहीं होती। कुरेदने पर पता चला कि चिंता उन लोगों की जो सड़कों पर बेमौत मारे जाते हैं किसी और की गलती के कारण।  
For more Pics Click Here
पूछा तो कहने लगे,"अब तो ऐसा लगने लगा है कि हमारा देश आज भी 18 वी सदी की सोच और दिमाग से ही चल रहा है कानून बंनाने वाले और लागू करने वाले अभी तक भी अपने दिमाग से यह नहीं सोच पाते कि क्या गलत है और क्या सही है।" For more Pics Click Here
आर टी आई ह्यूमन राईट एक्टिविस्ट एन जी ओ संस्था के प्रेजिडेंट  श्रीपाल शर्मा एडवोकेट ने सिविल लाइन स्थिति कार्यलय में एक अनौपचारिक मुलाकात के दौरान बताया कि हर रोज़ सड़कों पर तेज रफ्तार गाड़िया बाइक सवार लोगो को कुचल कर मार रही है और यही तेज रफ्तार कार और गाड़िया हैवी व्हीकल से दुर्घटना में चकनाचुर हो जाती है और बेल्ट बांधे मृतको के शव कार आदि में से डोर काट कर निकालने पड़ते है।  For more Pics Click Here

सरकार ने आज तक व्हीकल की स्पीड लिमिट पर कोई ध्यान नहीं दिया और न ही स्पीड लिमिट को कन्ट्रोल करने के लिए सरकार ने अभी तक कोई ठोस कदम उठाया है जिस इलाके में गाडी 30 और 40 किलोमीटर की स्पीड से चलनी चाहिये वहां लोग 100 से ज्यादा स्पीड पर अन्धाधुन्ध गाडी चलाते है और दुर्घटना का कारण बनते है। For more Pics Click Here
लुधियाना शहर में ट्रैफिक पुलिस स्पीड कन्ट्रोल करने की जगह बाज़ारो में यहाँ गाड़ी 20 और 30 स्पीड पर गाड़ी चलती है वहा पर सीट और हेल्मेट के चालान काट कर जनता को खाम खा परेशान कर रही है। 
जब पुलिस किसी की गाड़ी टो करके लाती है तो गाड़ी टो करने वाली क्रेन की स्पीड 60 से 70 किलोमीटर होती है और फटाफट गाड़ी पुलिस लाइन में छोड़ कर सड़क पर फिर पार्किंग की हुई किसी और गाड़ी को उठाने के लिए सड़क पर अन्धाधुन्ध टो करने वाली गाडी को भगाते है। 
लुधियाना स्मार्ट सिटी के अफसरो का दिमाग देखिये जिन्होंने सरकारी कालेज टैगोर नगर सिविल लाइन जो पाश इलाके में है ड्राइविंग टेस्ट सेंटर खोल दिया है और जो लोग टेस्ट देने के लिए आते है उनके बाइक और गाड़ियों की पार्किंग के लिए कोई सुविधा नहीं है और लोग सड़क पर ही गाड़िया पार्क करके ड्राइविंग टेस्ट देने के लिए जाते है। For more Pics Click Here
फ़िरोज़पुर रोड पर भाईवाला, आरती, भारत नगर चौक पर बसे ट्रक और कारे लोग 90 से 100 की स्पीड पर दौड़ाते है लोग शराब पीकर गाड़ी चलाते है जो कि दुर्घटना का मुख्य कारण है उन्हें कोई ट्रैफिक पुलिस अफसर नहीं रोकता। For more Pics Click Here
अगर ट्रैफिक पुलिस लुधियाना की सड़को पर सख्ती से स्पीड लिमिट लागू करे तो शहर में 30 से 40 किलोमीटर स्पीड से चलने वाले व्हीकल से कोई भी बड़ी दुर्घटना नहीं होगी। 
लुधियाना प्रशासन सीट बेल्ट व हेल्मेट के शहरो में चालान काटने की जगह अपना ध्यान व्हीकलों की स्पीड लिमिट कंट्रोल करने में लगाये जो जानलेवा दुर्घटनाओ का मुख्य कारण है।
आर टी आई एंड ह्यूमन राईट एक्टिविस्ट  श्रीपाल शर्मा एडवोकेट लुधियाना में रहते हैं और उनका सम्पर्क नम्बर है:09417455666

Tuesday, February 07, 2017

सबसे पहले शराब की दुकानें कैशलेस करनी चाहिए

पता तो चले कौन कितने पैसे खर्च कर रहा है और कौन कितने कमा रहा है?
चंडीगढ़//लुधियाना: 7 फरवरी 2017 (पुष्पिंदर कौर//पंजाब स्क्रीन):  
सुश्री कुसुमलता की एक फाईल फोटो 
नशे के कारण बर्बाद हुए घरों से उठती हुईं बददुआएँ लगातार उनका पीछा कर रही हैं जिन्होंने अपने स्वार्थ और कारोबार के लिए नशे के मकड़जाल को लगातार फैलाया है। नशे की वजह से मौत का शिकार हुए लोगों की आत्माएं जनता के दिल-ओ-दिमाग को झंकचौर रही हैं । बेलन ब्रिगेड का आंदोलन इन्हीं अदृश्य शक्तियों के चलते निरन्तर तेज़ हो रहा है। अब नशे के खिलाफ शिक्षा जगत की जानीमानी शख्सियत कुसुमलता ने भी अपनी आवाज़ बुलन्द की है। नोटबन्दी और नशे को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने एक वटसअप सन्देश में कहा है कि नशे की दुकानें भी कैशलेस होनी चाहियें। गौरतलब है कि मैडम कुसुमलता शिक्षा, पर्यावरण और वैज्ञानिक चेतना के अभियानों में अक्सर सक्रिय नज़र आती हैं। इस क्षेत्र में काम कर रहे कई संगठनों से वह जुडी हुई हैं।
 जिसने घर बर्बाद किये--वो दुकान बदलनी है
उन्होंने कहा कि सरकार को सबसे पहले शराब दुकानें कैशलेस करनी चाहिए क्योंकि यहां भी प्रतिदिन हजारों लाखों ₹ की नक़दी का लेनदेन होता है। बस इस हेतु प्रत्येक बैंक खाता, आधार कार्ड एवं बी पी एल कार्ड (जिनके पास है) से भी सम्बद्ध होना चाहिए। 
बेलन और चलाना है--नशे को दूर भगाना है-अनीता शर्मा
इसका सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि सरकार को ये भी पता चल जाएगा की जिन लोगों को सरकार आरक्षण, आर्थिक सहायता, सब्सिडी, फीस में छूट , नौकरियों में छूट, 2 रू. किलो गेहूं, मुफ्त आवास, B P L के लाभ आदि देने जा रही हैं वे किस तरह ऐश कर रहे हैं तथा इनमें कितने लोग प्रतिदिन शराब पर पैसा खर्च कर रहे हैं एवं कितने फर्जी लोग जो अपना नाम B P L सूची में सम्मिलित करवाये बैठे हैं वो स्वतः ही पता चल जाएंगे क्योंकि प्रतिमाह कम से कम हजार डेढ़ हजार ₹ शराब पर खर्च करने वाला गरीब तो हो नहीं सकता है।
आखिर में उन्हने यह भी कहा कि यदि आप लोग मेरे विचार से सहमत हों तो आगे भी शेयर करें और केंद्र तथा प्रदेश सरकार तक यह  आवाज पहुंचाये। मैडम कुसुम के सुझाव से नशे का चलन कम हो पायेगा या नहीं यह तो वक़्त ही बताएगा लेकिन नशे के कारोबार में दो नम्बर की कमाई पर दबाव अवश्य बढ़ेगा?
 जिसने घर बर्बाद किये--वो दुकान बदलनी है

Monday, February 06, 2017

महान 'देशभक्त शायर प्रदीप को 102वें जन्मदिन पर शत शत नमन

जानेमाने पत्रकार इक़बाल सिंह चन्ना ने फिर ताज़ा की पुरानी यादें
ऐ मेरे वतन के लोगो

ज़रा आँख में भर लो पानी... 
भारत के महान 'देशभक्त शायर' कवि प्रदीप को 102वें जन्मदिन पर शत शत नमन !
आज देशभक्ति के गीत लिखने वाले भारत के महान शायर कवी प्रदीप का जन्मदिन है !
भारत चीन के 1962 के युद्ध के पश्चात दिल्ली के लाल किले पर जब लाता मंगेशकर ने प्रदीप का लिखा गीत 'ऐ मेरे वतन के लोगो ज़रा आँख में भर लो पानी, जो शहीद हुए हैं उनकी ज़रा याद करो क़ुरबानी...' गाया तो वहां बैठे तत्कालीन प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू ली आँखें भर आई थीं।
कवी प्रदीप का जन्म 6 फरवरी 1915 को उज्जैन के पास बड़नगर में हुआ था। उनका असल नाम रामचंद्र नारायणजी दिवेदी था। 1939 में उन्होंने लखनऊ यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की थी। कॉलेज के दिनों के दौरान ही उन्होंने कविता लिखनी शुरू कर दी थी। अपनी रचना वह गाकर सुनाते थे, इसीलिए वह मुशायरों में बहुत पॉपुलर हो गए थे। इसी दौरान उन्होंने अपना 'पेन नेम' प्रदीप रख लिया था।
1939 में मुम्बई में हुए रक कवी सम्मेलन दौरान बॉम्बे टॉकी के हिमांशु रॉय ने उन्हें अपनी फिल्म 'कंगन' के लिए गीत लिखने को कहा। वह मुम्बई आ गए, उनके लिखे फिल्म के चार गीत बहुत मशहूर हुए और वह फ़िल्म इंडस्ट्री में पैर जमाने में सफल हो गए। 1940 में फिल्म बंधन के लिए लिखा उनका गीत 'चल चल रे नौजवान ..' हर ज़ुबान पर आ गया क्योंकि उस समय भारत की आज़ादी का आंदोलन शिखर पर था। 1943 में फिल्म 'किस्मत' के इंकलाबी गीत 'दूर हटो ऐ दुनिया वालो...' इतना प्रसिद्ध  हुआ कि वह ब्रिटिश सरकार के लिए वांटेड हो गए और कई वर्ष भूमिगत रहना पड़ा।
क्वी प्रदीप का ज्यादा रुझान देशभक्ति और धार्मिक शायरी की तरफ ही रहा। उनके लिखे कुछ अमर गीत हैं :
- ऐ मेरे वेतन के लोगो ज़रा आंक में भर लो पानी...
- चल चल रे नौजवान... (बंधन)
-आज हिमालय की चोटी से फिर हमने ललकारा है, दूर हटो ऐ दुनिया वालो हिंदुस्तान हमारा है... (किस्मत)
- देख तेरे संसार की हालत क्या हो गयी भगवान, कितना बदल गया इंसान... (नास्तिक)
- हम लाये हैं तूफ़ान से किश्ती निकाल के, इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के...(जाग्रति)
-पिंजरे के पंछी रे...( नागमणि)
- इंसान का इंसान से हो भाईचारा, यही पैग़ाम हमारा... (पैग़ाम)
- भारत के लिए भगवान् का इक वरदान है गंगा... (हर हर गंगे)
- अँधेरे में जो बैठे हैं, नज़र उन पर भी कुछ डालो... (संबंध)
- मैं तो आरती उतारूं रे, संतोषी माता की... (जय संरोशी माँ)
1997 में भारत सरकार ने उन्हें सबसे बड़े फ़िल्मी अवार्ड 'दादा साहेब फाल्के अवार्ड' से सम्मानित किया था।   
11 दिसम्बर 1998 को 83 वर्ष की आयु में मुम्बई में कवी प्रदीप जी का निधन हुआ।

Sunday, February 05, 2017

पंजाब में लिप और आप गठबंधन की सरकार बननी तय-सीवीया

 Sun, Feb 5, 2017 at 3:59 PM
सीवीया ने हलके के समूह वोटरों और समर्थकों को दी बधाई
लुधियाना: 5 फरवरी 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):   For more pics please click here
विधान सभा हलका उत्तरी से लोक इंसाफ पार्टी और आम आदमी पार्टी के सांझे उम्मीदवार रणधीर सिंह सीवीया ने शान्ति से हुए मतदान की हलके के समूह वोटरों और समर्थकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि वह हमेशा ही हलका उत्तरी के लोगों का रिणी रहागां, जो मेरी चयन मुहिम दौरान दिन रात एक करके लोगों के घर -घर पहुँच के लिप और आप गठबंधन की नीतियाँ बता के वोट डालने की अपील की। मेरे और मेरे साथियों की अपील पर दुनिया के सब से बड़े लोकतंत्र में विश्वास रखते हुए सुबह से ही लाईनों में लग के आपसी भाईचारो का सबूत देते हुए पोलिंग स्टेशनों पर जा कर 68.94 प्रतिशत वोट पोल की, जो हलके के 2012 की विधान सभा मतदान के मुकाबले अधिक है। For more pics please click here
उन्होंने कहा कि हलका उत्तरी से अधिक वोटों की पोलिंग इस बात का प्रतीक है, कि हलके के लोग अकाली भाजपा गठबंधन सरकार और हलके के मौजूदा विधायक की नीतियाँ से निराश थे और वह तीसरे बदल को लाने के लिए इस दिन का इंतजार कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 11 मार्च को लिप और आप गठबंधन की सरकार बनने पर वह हलका उत्तरी के विकास के लिए पहले दिन से ही काम शुरू कर देंगे। उन्होंने दावा किया कि पंजाब में इस बार लिप और आप गठबंधन की सरकार बननी तय है। For more pics please click here