Wednesday, October 05, 2011

कई दंत कथाएँ भी जुडी हैं नयना देवी मन्दिर के साथ

माँ नयना देवी के दरबार में इस बार भी श्र्द्धालूयों ने बहुत बड़ी संख्या में जा कर माथा टेका. इसका स्न्खिपट विवरण आप इससे पहले भी पढ़ चुके हैं. इस पोस्ट का लिंक नीचे भी दिया हया है...इस पोस्ट के अंत में. इस पावन स्थान पर एक सदियों पुराना पीपल भी है जिस के हर पत्ते पर कुछ ख़ास अवसरों पर ज्योति दिखाई देती है. ऐसे बहुत से करिश्मे और बहुत से चमत्कारों की कई दंत कथाएँ इस स्थान से जुडी हुयी हैं. अगर आपको बी कोई ऐसी ही दंत कथा मालूम है या फिर आपने भी वहां कोई चमत्कार देखा या आपके जीवन में भी कोई करिश्मा हुआ है तो उसे आज ही लिख भेजिए. हमें इंतज़ार त्रहेगी आपकी रचनायों की तस्वीरों के साथ.

इस बार भी यहाँ पर कई तरह के प्रबंध किये गए थे जिनकी चर्चा किसी अगली पोस्ट में की जाएगी.. आपको ये प्रबंध कैसे लगे अवश्य बताएं.आपके सुझाव भी हम मन्दिर प्रबंधकों तक पहुँचायेंगे.--रेक्टर कथूरिया और विशाल गर्ग 

1 comment:

Rajey Sha राजे_शा said...

नैना देवी कृपा करे और हमारे अन्‍दर वाले नैन खुल जायें....आमीन।