Wednesday, June 16, 2010

साईं की नज़रे-कर्म रलीज़

आखिर वह घडी भी आ ही गयी जब साईं के गीतों और साईं के संगीत से सजी सुरीली सीडी लांच होने वाली थी. १२ जून २०१० को शिर्डी के समाधी मन्दिर में शाम के ६ बजे थे. सभी के मन में एक प्यास थी. सभी की आंखों में एक इंतज़ार थी. सभी दिल थाम कर इंतज़ार कर रहे थे भक्ति रस की इस गंगा का. इस सीडी का नाम भी कुछ ऐसा ही है--भक्ति भावना से भरा हुआ......साईं की नज़रे-कर्म.
 कुछ ही पलों के बाद संस्थान के चेयरमैन Jayant Sasane आये और उन्हों ने इस सीडी को लांच किया. इसके साथ ही एक और ख़ुशी की बात यह हुई कि एक पुस्तक भी तैयार थी. इस दस्तावेजी पुस्तक में दर्ज थे वे सभी अनुभव जिन्हें महसूस किया था बहुत से साईं भक्तों ने. इन भक्तों ने देखा था कि किस तरह दुःख और संकट की घडी में जब सभी साथ छोड़ गए थे उस वक्त साईं बाबा दौड़े चले आये उन्हें गले से लगाने के लिए. इन करिश्मों और इन चमत्कारों की संख्या तो अनगिनत है पर पुस्तक में वही शामिल किये गए जो थोड़े से समय में एकत्र हो सके. इन सच्ची कहानियों पर आधारित इस पुस्तक को रलीज़ किया महाराष्ट्र  के लोक निर्माण विभाग के कैबनेट मन्त्री Jaydatta Kshirsagar ने.
औपचारिक लांचिंग से पूर्व सीडी की पहली परत बाबा के चरणों पर रखी गयी उसके बाद हुई लांचिंग. दुनिया के कोने कोने से आये साईं भक्तों को इस सीडी की प्रति दी गयी. सीडी के निर्माता और “99musique”  के सी ई ओ नरेश कुमार भी इस मौके पर मौजूद थे. गौरतलब है कि जालंधर में लोगों को स्वास्थ्य सेवा के ज़रिये लाभ पंहुचा रहे दिवाईन हीलिंग मंडल के डाक्टर जगमोहन सिंह उप्पल इस सीडी के निर्माता हैं और पूरी तरह बाबा की भक्ति के रंग में रंगें हुए हैं.
इस यादगारी सुअवसर को और भी यादगारी बनाया जाने माने गायक वसीम खान की गायकी ने. जब उन्होंने गाना शुरू किया तो एक ऐसा रंग बंधा कि बाकी सब कुछ भूल गया.
इस संगीत एल्बम के साथ आयी पुस्तक की भी एक अलग कहानी है. जब नरेश कुमार जी कुछ भक्तों से मिले तो उन भक्तों ने बहुत सी सच्ची कहानियां सुनायीं. इन चमत्कारों की सारी सच्ची कथायों को नरेश जी ने एकत्र किया और फिर उनको एक संकलन के रूप में सभी के सामने ला कर रख दिया. जब कभी कभी दुखों के कारण मन डोल जाता है तो इस पुस्तक की कहानियां  भक्तों को एक नयी ऊर्जा और नया विशवास देती है. यह पढने योग्य पुस्तक और सुरीली सीडी देश भर में तो उपलब्ध है ही...जल्द ही इसे दुनिया के कोने कोने में पहुंचाने के प्रयास भी जारी हैं. कुछ ही दिनों में यह पूरी दुनिया में होगी.इसके साथ ही आप इंतज़ार कीजिये किसी नए ऐलान का क्यूंकि अब इस सीडी  से इस तरह की एल्बमों का एक सिलसला शुरू हुआ है. गज़ल, रॉक म्यूजिक,  पॉप संगीत और अंतर राष्ट्रीय संगीत की धुनों से सजी नयी नयी ऐलबमें भी आप तक पहुंचने वाली हैं..बहुत ही जल्द.
                                                                                                     --रेक्टर कथूरिया

1 comment:

अल्पना वर्मा said...

बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएँ