Sunday, July 31, 2011

अमृतसर में करीब पचास लाख रूपये के गहनों की लूट

 लुटेरो ने सुनार को बनाया अपना नया निशाना 
अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग:  
अमृतसर में आज फिर एक बार पुलिस के नाक के नीचे लूटेरो ने लारेस रोड, पुलिस चौकी से महज कुछ सौ गज दूर एक बार फिर एक सुनार को अपना निशाना  बनाते हुए, उनसे करीब पचास लाख रूपये के गहनों की लूट को अंजाम देकर फरार हो गए, पुलिस ने अज्ञात लूटेरो के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है
       अमृतसर का पोश इलाका लारेंस रोड का इलाका जहाँ पर स्थित है कई ज्वेलर्स की दुकाने और अमृतसर के पोश इलाके दयानद नगर की कोठी नम्बर 105 में घर में रोते हुए लोग इधर-उधर चहल-कदमी कर रहे लोग बहुत परेशान हैं, दरअसल आज रात करीब नौ बजे के करीब एक नरेश मेहता उर्फ़ बोबी जो कि इस शोपिंग काप्लेक्स में नारायण दास ओम प्रकाश नाम की ज्वेलरी शॉप चलाता है और वह ज्वेलरी से भरा हुआ बैग लेकर आपने घर पैदल जा रहा था, घर से कुछ दूर पीछे ही उन्हें  पीछे से आते एक लाल रंग  के मोटर-साइकिल पर युवक ने इनसे पीछे से बैग छीन कर फरार हो गये, पीड़ित लोगों ने आनन्-फानन में पुलिस को सूचित किया और पुलिस हरकत में आ कर तुरंत मौके पर पहुँच कर पीड़ित लोगों के बयानों के आधार पर अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की जाँच शुरू कर दी है, इस बारे में जानकारी देते हुए अमृतसर के  ऐ,डी,सी,पी क्राइम सतपाल जोशी ने बताया, कि आज रात करीब नौ बजे जब पीड़ित आपने घर ज्वेलरी से भरा हुआ बैग लेकर आ रहे थे, तो पीछे से आते हुए एक लाल रंग के मोटर-साइकिल सवार ने उनसे गहनों से भरा बैग छीन कर फरार हो गए, उन्होंने बताया कि पीड़ित ज्वेलरी से भरा हुआ बैग लेकर  अपनी दुकान से पैदल घर को आ रह था, तब यह हादसा हुआ, पुलिस के मुताबिक पीड़ित रोजाना ही पैदल ज्वेलरी से भरा हुआ बैग लेकर घर आता था 

Saturday, July 30, 2011

एमएस बिट्टा ने साथियों सहित याद किया शहीद ऊधम सिंह को

उधम सिंह के शहीदी दिवस पर आतंकवाद विरोधी फ्रंट ने दी श्रद्धांजली 
     अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग:  
भारत की स्वतन्त्रता में एहम भूमिका निभाने वाले और जलिया वाला बाग़ के मुख्य आरोपी जनरल उड़वायर को मारने वाले शहीद उधम सिंह को आज अमृतसर के जलिया वाला बाग़ में आल इंडिया आतकवाद विरोधी फ्रंट पंजाब के कार्यकर्ताओं ने उनके शहीदी दिवस पर श्रद्धांजली अर्पित की, इस मौके पर आल इंडिया आतकवाद विरोधी फ्रंट पंजाब के कार्यकर्ताओं ने अमर ज्योति पर देश की एकता और अखंडता के लिए शपथ ली, उन्होंने  शहीदों द्वारा दर्शाए गए मार्ग पर चलने की बात कही.
अमृतसर का जलियावाला बाग में स्थित शहीदी स्मारक पर आल इंडिया आतकवाद विरोधी फ्रंट पंजाब के कार्यकर्ता ने  सिर पर पीले रंग की पगड़ियाँ पहने और हाथो में देश की आन और शान के तिरंगे लिए शहीदों की अमर रहे के नारे लगाते हुए शहीद उधम सिंह को जलिया वाला बाग के शहीदी स्मारक पर श्रद्धांजली देने यहाँ पहुंचे हैं, शहीद उधम सिंह ने भारत की स्वतंत्रता में बहुत एहम भूमिका और जिम्मेदारी निभायी थी और उन्होंने जलिया वाला बाग़ में 13 अप्रैल 1919 को किये गए नरसंहार के मुख्य आरोपी जनरल अडवायर को उसके ही देश में गोलियों से भून कर जालिया वाला बाग़ के शहीदों की शहादत का बदला लिया था और पकडे जाने पर उन्हें ब्रिटिश हकूमत ने उन्हें फांसी की सजा सुनाई थी और 31 जुलाई 1940 को उन्हें फांसी दे दी गयी, उनके शहीदी दिवस पर आज आल इंडिया आतकवाद विरोधी फ्रंट पंजाब के कार्यकर्ताओं द्वारा महिंदर सिंह सिद्धू, सीनियर उप- प्रधान, पंजाब, आल इंडिया आतकवाद विरोधी फ्रंट पंजाब के आगुवाई में शहीद उधम सिंह को नारों की गूंज में श्रद्धांजली अर्पित की और देश की  देश की एकता और अखंडता के लिए अमर ज्योति पर शपथ ली गयी, इस दौरान आल इंडिया आतकवाद विरोधी फ्रंट पंजाब के कार्यकर्तायो ने गगन चुम्बी नारे लगा कर देश के शहीदो को याद किया, आल इंडिया आतकवाद विरोधी फ्रंट पंजाब के सीनियर उप-प्रधान महिंदर सिंह सिद्धू ने शहीद उधम सिंह के बारे में जानकारी देते हुए बताया, कि आज के युवा पीडी को चाहिए की वह जालिया वाले बाग़ में आकर देश की एकता और अखंडता को कायम रखने के लिए कसम खानी चाहिए.  

अमृतसर में भी फूंका गया केन्द्र सरकार का पुतला

        अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग:  
 केन्द्र की यू,पी,ऐ कांग्रेस सरकार द्वारा इस मानसून सत्र में 'नेशनल एडवाइजरी कमेटी' की ओर से लाये जा रहे बिल 'सांप्रदायिक और लांक्षित हिंसा न्याय तक पहुंच व हानिपूर्ति अधिनियम 2011, के खिलाफ सभी हिन्दू संगठनो ने मोर्चा खोल दिया है और इस बिल को ख़ारिज करने के लिए आज अमृतसर में विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल तथा अन्य हिन्दू संगठनो ने मिलकर केंद्र सरकार के खिलाफ एक रैल्ली निकल केंद्र सरकार का पुतला फूंक कर अपना रोष प्रदर्शन किया, उन्होंने कहा, कि कोई भी हिन्दू संगठन इस बिल को सहन नहीं करेगा, क्यों कि इस बिल के आने के बाद सारे देश में साम्प्रदायिक हिंसा भड़क उठेगी. 
केन्द्र की कांग्रेस सरकार आने वाले विधान सभा चुनाव के मद्दे-नजर आये दिन कोई-न-कोई बखेड़ा खड़ा कर रही है, जिसके चलते आम आदमी का गुस्सा सातवे आसमान पर चढ़ता जा रहा है और इस बार नया बखेड़ा खड़ा किया है केंद्र सरकार द्वारा इस मानसून सत्र में नेशनल एडवाइजरी कमेटी' की ओर से लाये जा रहे बिल 'सांप्रदायिक और लांक्षित हिंसा न्याय तक पहुंच व हानिपूर्ति अधिनियम 2011, ने, जिसके चलते एक बार फिर हिन्दू संगठनों का गुस्सा सातवें आसमान पर चढ़ गया है और इस मामले को लेकर आज विश्व हिन्दू परिषद, बजरंग दल और कई अन्य हिन्दू संगठनो के कार्यकर्ताओ ने मिलकर आज अमृतसर के नगर निगम ऑफिस से एक रैल्ली निकल कर अलग-अलग बाजारों से होती हुई और जमकर नारेबाजी करते हुए यह रैल्ली अमृतसर के हाल गेट पर पहुंची, जहाँ इन हिन्दू संगठनों द्वारा केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और केन्द्र सरकार का पुतला फूंका,  इस बारे में जानकारी देते हुए विश्व हिन्दू परिषद के उप-प्रधान, पंजाब, विश्व हिन्दू परिषद अरुण खन्ना ने अपने रोष प्रदर्शन के बारे में जानकारी देते हुए बताया, 
कि इस बिल के आने से हिन्दुओ को अपंग बना दिया जायेगा और वह अपने उपर हुए किसी भी जुल्म के बारे में किसी से भी कोई शिकायत नहीं कर सकेंगे, उन्होंने कहा, कि केन्द्र सरकार ने इस बिल के जरिये सभी लोगों धार्मिक तौर पर बाँट दिया है और ईसाई और मुस्लिम समुदाय पर केस दर्ज नहीं हो सकता और हिन्दू की सुनवाई नहीं हो सकती, उन्होंने सभी हिन्दुओ और सिख भाईओं के साथ-साथ कांग्रेस के हिन्दू लोगों से भी अपील की, कि वह इस काले कानून का विरोध करें, क्यों कि इस बिल के बाद हिन्दू-सिख में बंटवारा हो जायेगा.
       उधर इस मामले को लेकर उप-प्रधान, पंजाब, विश्व हिन्दू परिषद, अरुण खन्ना ने कहा, कि आगे विधान सभा के चुनाव आ रहे हैं और इस मामले को लेकर वह मंदिरों में जाकर और आम लोगों के साथ मिलकर इस काले कानून को ख़ारिज करवाने के लिए प्रयास करेंगे और लोगों को इसके खिलाफ जागरूक करेंगे, उन्होंने कहा, कि अगर यह बिल पास हुआ तो वह सिविल वार का ऐलान कर देंगे 

अब पाकिस्तान ने भी रिहा किये 24 भारतीय कैदी

अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग :  
भारत के साथ रिश्तों को और मजबूत करते हुए पाकिस्तान सरकार ने शुक्रवार को अपनी विभिन्न जेलों में बंद 24 भारतीय कैदियों को रिहा किया, जिसमे 14 मछुआरे और 10 अन्य भारतीय कैदी थे, जिन्हें अलग-अलग मामलो में पकड़ा गया था, को आज भारत-पाकिस्तान की अंतर-राष्ट्रीय अटारी सड़क सीमा के रास्ते भारत में भेज दिया गया, इससे पूर्व भारत सरकार ने 26 जुलाई को भारत की विभिन्न जेलों में बाद 91 पाकिस्तानी कैदियों को रिहा कर पाकिस्तान वापस भेजा गया था.  
भारत द्वारा 91 कैदियों को रिहा किये जाने के बाद आज पाकिस्तान सरकार की ओर से अपनी विभिन्न जेलों में बंद 24 कैदियों को आज दो महिलाओं समेत 10 कैदी और 14 मछुआरे सहित कुल 24 कैदियों को पाक रेंजरों की ओर से भारतीय बी.एस.एफ के अधिकारीयों के सुपुर्द किया गया, इन कैदियों को रिहा करने के आदेश 26 जुलाई को पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने दिए थे, जिसके चलते इन कैदियों को आज भारत-पाकिस्तान की अंतर-राष्ट्रीय अट्टारी सड़क सीमा के रास्ते भारत में भेज दिया गया, इन में कराची की मलार जेल से 14 मछुआरे और लाहौर की कोट लखपत जेल में अलग-अलग मामलो में बंद दस कैदी शामिल थे, जिनमे दो महिलाये भी शामिल हैं, इन दस कैदियों में जम्मू-कश्मीर, बुलंदशहर, फरीदाबाद और गुजरात के कैदी शामिल हैं, सन् 2009 में भारत वापसी पर वाघा बार्डर पर दो किलोग्राम हेरोइन समेत गिरफ्तार मोहम्मद यूसुफ ने बताया, कि वह अपने रिश्तेदार से मिलने के लिए पाकिस्तान गए थे, जब वह वापस लौट रहे थे, तो पाकिस्तान स्थित वाघा रेलवे स्टेशन पर कस्टम विभाग ने उनके रिश्तेदारों की ओर से दिए गए बैग में से उक्त हेरोइन बरामद कर ली. उन्होंने पाकिस्तान अपने रिश्तेदारों से मिलने जाने वाले लोगों से अपील की है, कि वह अपने रिश्तेदारों से कोई भी सामान लेकर भारत न आएं. उन्होंने कहाकि पाकिस्तान में पकड़ा जान ही गुनाह है और पकिस्तान सरकार बहुत जुल्म ढाती है. उधर मोहमद तन्वी ने बताया, कि वह भारत की आर्मी के लिए जासूसी करने के लिए पाकिस्तान गया था और पकड़ा गया, लेकिन जिनके लिए वह जासूसी करने गया था, उन्होंने उसकी सुध तक नहीं ली और आज वह रिहा होकर भारत लौटा है. लेकिन उसके परिवार वालों का क्या हाल हुआ होगा उनकी भारत की आर्मी ने सुध तक नही ली है, उन्होंने कहा, कि पाकिस्तान में पकड़े जाने पर वहां पर उस पर जो जुल्म ढाए गये हैं उसे वह ब्यान नहीं कर सकता, उन्होंने बताया, कि पाकिस्तान की जेल में सरबजीत से भी उनकी मुलाक़ात हुई थी, लेकिन उसे अलग कमरे में रखा जाता है, इसलिए वह ज्यादा उसके बारे में नहीं जानते, उन्होंने कहा, कि उनके साथ वहां पर करीब 25 कैदी और बंद हैं, जिनमे करीब 15 लोग अपना जेहनी तव्जुम खो चुके हैं              
पाकिस्तान की जेलों से रिहा होकर लौटे 14 मछुआरे में से एक ने बात करते हुए बत्ताया, कि वह आज रिहा हो कर भारत लौटे हैं और उन्हें छह महीने से लेकर एक साल की सजा हुई थी और उनके पीछे पाकिस्तान में अभी करीब 262 मछुँरे और बंद हैं, उन्होंने अपील की, कि उन लोगों को भी जल्द रिहा कर भारत भेजा जाए.

अमृतसर में भारी बारिश: दो मकान ढहे: 5 लोग घायल:एक लडकी की मौत


अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग   
अमृतसर में आज सुबह हुई भारी बारिश के कारण अमृतसर के सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब के पास स्थित कटरा आहलुवालिया इलाके में दो पुराने मकान ढह जाने से 5 लोग घायल हो गए, जब कि एक लड़की इन ढह गए मकानों के मलबे में दब गई, प्रशासन द्वारा मौके पर पहुँच कर राहत और बचाव कार्य शुरू कर मलबे में दबी लडकी को करीब सात-आठ घंटे बाद कड़ी मेहनत के बाद मलबे में फंसी मृतक लड़की को निकालने में राहत और बचाव कार्य कर्मीयो को कामयाबी मिली.      
इस मकान के मालबे को देख कर आप खुद ही अंदाजा लगा सकते है कि यहाँ पर क्या हुआ होगा, अमृतसर में आज सुबह भारी बारिश होने के कारण इस कुदरत की मार ने इस जगह पर ऐसा कहर ढाया  है, कि सुबह हुई भारी बारिश के चलते यह मकान गिर गया और इस मकान के गिरने के से इसका मालवा  साथ वाले मकान पर गिरा और दूसरा मकान भी ध्वस्त हो गया, इन दोनों मकानों में 6 लोग रहते थे जिसमें से 5 लोग घायल हो गये और एक लड़की जो कि उस वक्त नहाने के लिए नीचे गयी थी, मलबे में दब गयी जिसकी उम्र 20  साल के करीब थी, वहीँ इस घटना की सूचना मिलते ही प्रशासन द्वारा मौके पर पहुँच कर राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया गया,  लेकिन शहर की तंग गलियाँ होने के कारण यहाँ पर बचाव कार्यों में प्रशासन को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था, वहीँ इस मौके पर घायल हुए परिवार वालों का कहना है, कि आज जब वह अपने घर में थे, तो भारी बारिश के चलते उन्हें पता ही नहीं चला, कि मकान कैसे गिर गया, जब एक मकान गिरा, तब उसका मलबा दूसरे मकान पर गिर गया, जिससे की दोनो मकान बुरी तरह ध्वस्त हो गए, आनन-फानन में जब वह घर से भागे तब लडकी अन्दर मलबे में ही फस गयी.      
वहीँ इस मौके पर अमृतसर नगर निगम के कमिश्नर धर्म पाल गुप्ता ने मौके पर आकर नरीक्षण  किया, इस मौके पर उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि आज सुबह उनको यहाँ पर सूचना मिली थी, कि यहाँ पर मकान गिरे है, जिसमें एक लडकी मलबे में फंसी हुई है और यहाँ पर विभाग द्वारा राहत और बचाव कार्य चलाया जा रहा है और लडकी को निकालने के प्रयास किये जा रहे है, बाकी इस मकान के गिरने का मुख्य कारण भारी बारिश है, वहीँ घायलों को अमृतसर के गुरु नानक देव हस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है, जहाँ उन का इलाज़ चल रहा है .       
फिलहाल प्रशासन द्वारा मौके पर राहत और बचाव कार्य कर्मीयो द्वारा मलबे में दबी लडकी को कड़ी मेहनत के बाद करीब सात-आठ घंटे बाद मृतक लड़की को निकालने में कामयाबी मिली
अमृतसर में आज सुबह हुई भारी बारिश के कारण अमृतसर के सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब के पास स्थित कटरा आहलुवालिया इलाके में दो पुराने मकान ढह जाने से 5 लोग घायल हो गए, जब कि एक लड़की इन ढह गए मकानों के मलबे में दब गई, प्रशासन द्वारा मौके पर पहुँच कर राहत और बचाव कार्य शुरू कर मलबे में दबी लडकी को करीब सात-आठ घंटे बाद कड़ी मेहनत के बाद मलबे में फंसी मृतक लड़की को निकालने में राहत और बचाव कार्य कर्मीयो को कामयाबी मिली .        
इस मकान के मालबे को देख कर आप खुद ही अंदाजा लगा सकते है कि यहाँ पर क्या हुआ होगा, अमृतसर में आज सुबह भारी बारिश होने के कारण इस कुदरत की मार ने इस जगह पर ऐसा कहर ढाया  है, कि सुबह हुई भारी बारिश के चलते यह मकान गिर गया और इस मकान के गिरने के से इसका मालवा  साथ वाले मकान पर गिरा और दूसरा मकान भी ध्वस्त हो गया, इन दोनों मकानों में 6 लोग रहते थे जिसमें से 5 लोग घायल हो गये और एक लड़की जो कि उस वक्त नहाने के लिए नीचे गयी थी, मलबे में दब गयी जिसकी उम्र 20  साल के करीब थी, वहीँ इस घटना की सूचना मिलते ही प्रशासन द्वारा मौके पर पहुँच कर राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया गया,  लेकिन शहर की तंग गलियाँ होने के कारण यहाँ पर बचाव कार्यों में प्रशासन को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था, वहीँ इस मौके पर घायल हुए परिवार वालों का कहना है, कि आज जब वह अपने घर में थे, तो भारी बारिश के चलते उन्हें पता ही नहीं चला, कि मकान कैसे गिर गया, जब एक मकान गिरा, तब उसका मलबा दूसरे मकान पर गिर गया, जिससे की दोनो मकान बुरी तरह ध्वस्त हो गए, आनन-फानन में जब वह घर से भागे तब लडकी अन्दर मलबे में ही फस गयी.
वहीँ इस मौके पर अमृतसर नगर निगम के कमिश्नर धर्म पाल गुप्ता ने मौके पर आकर नरीक्षण  किया, इस मौके पर उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि आज सुबह उनको यहाँ पर सूचना मिली थी, कि यहाँ पर मकान गिरे है, जिसमें एक लडकी मलबे में फंसी हुई है और यहाँ पर विभाग द्वारा राहत और बचाव कार्य चलाया जा रहा है और लडकी को निकालने के प्रयास किये जा रहे है, बाकी इस मकान के गिरने का मुख्य कारण भारी बारिश है, वहीँ घायलों को अमृतसर के गुरु नानक देव हस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है, जहाँ उन का इलाज़ चल रहा है .       
फिलहाल प्रशासन द्वारा मौके पर राहत और बचाव कार्य कर्मीयो द्वारा मलबे में दबी लडकी को कड़ी मेहनत के बाद करीब सात-आठ घंटे बाद मृतक लड़की को निकालने में कामयाबी मिली.          ###.

गुरुद्वारा चुनावों के लिए जारी किये गए 40 चुनावी चिन्ह

चंडीगढ़ :गुरुद्वारा चुनावों का ऐलान होते ही सिख धार्मिक संगठनों की सरगर्मियां तेज़ होने लड़ी हैं. पंजाब प्रदेश कांग्रेस और पंजाब पीपल्ज़ पार्टी ने स्पष्ट कर दिया है कि उनकी इन चुनावों में कोई दिलचस्पी नहीं है. सहिजधारी सिख फेडरेशन ने सिख परिभाषा में मामले को फिर से उठाते हुए कहा है कि सिख परिवार में पैदा होने वाले को सिख माना जाये. इसी बीच गुरुद्वारा चुनाव आयोग ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की चुनावी जंग लड़ने के लिए विभिन्न दलों व निर्दलीय प्रत्याशियों                   के लिए अलग अलग तरह के 40 चुनाव चिन्हों की सूची जारी कर दी है. गौरतलब है कि एस जी पी सी चुनाव के लिए विभिन्न चरणों की घोषणा चार अगस्त को की जाएगी. केंद्र सरकार द्वारा चुनाव करवाए जाने के लिए पहले ही 18 सितंबर 2011 की तारीख घोषित की गई है. गुरुद्वारा चुनाव आयोग के सचिव अवतार सिंह नरूला ने यहां बताया कि आयोग द्वारा आरक्षित रखे गए 40 चुनाव चिन्हों की सूची में ट्रैक्टर, घोड़ा, मोर, रेलगाड़ी,धोबी, लोटा, रेहड़ा, घडि़याल, ट्रक, टोका मशीन, ढाल, सूरजमुखी का फूल, स्याही दवात, बॉक्स, बैंड बाजा, भैंस, बेलचा, ऊंट, हिरण, फ्रिज, पैडेस्टल फैन, हथौड़ा, झोपड़ी, ताला, लाउड स्पीकर, थाली एवं कटोरी, बैल, पैडेस्टल लैंप, डाकिया, रिक्शा, स्कूटर, टब, टैंपो, थ्रैशिंग मशीन, आम का पेड़, टैंकर, ट्राली, ट्यूबवेल, टार्च और दीवार घड़ी,  शामिल हैं. आयोग ने विभिन्न दलों की मांग पर चुनाव चिन्हों की इस सूची में से 
शिरोमणि अकाली दल (पंच प्रधानी) के लिए रेलगाड़ी, 
शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) के लिए घोड़ा, 
शिरोमणि अकाली दल के लिए ट्रैक्टर, 
शिरोमणि अकाली दल (संत लोंगोवाल) के लिए डाकिया, 
शिरोमणि रंगरेटा दल पंजाब के लिए टार्च, 
शिरोमणि अकाली दल (1920) के लिए ट्रक, 
हरियाणा सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के लिए सूरजमुखी का फूल, 
शिरोमणि अकाली दल (दिल्ली) के लिए थाली एवं कटोरी, 
शिरोमणि गुरमत प्रचार संस्था के लिए टैंकर, 
खालसा एक्शन कमेटी के लिए ढाल, 
ऑल इंडिया सिख स्टूडेंट फेडरेशन के लिए हिरण........और   
ऑल इंडिया शिरोमणि अकाली दल के लिए झोपड़ी चुनाव चिन्ह जारी किए गए हैं. इसके अलावा यदि कोई अन्य पार्टी या आजाद उम्मीदवार शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का चुनाव लड़ना चाहता है तो वह शेष चुनाव चिन्हों में से एक का चयन कर सकता है. इस संबंधी अधिसूचना पहले ही जारी हो चुकी है. अब देखना है कि किस दल को किस निशान से कितने मत मिलते हैं ?  

अमृतसर पुलिस के सी,आई,ऐ स्टाफ ने सुलझाई हत्या की गुत्थी


अमृतसर-(गजिंदर सिंह):अमृतसर की सी,आई,ऐ स्टाफ की पुलिस ने शुक्रवार को एक हत्या की गुत्थी को सुलझाते हुए तीन आरोपियों को क़त्ल के दौरान इस्तेमाल किये गए हथियारों और दो मोटर-साइकिलो सहित गिरफ्तार कर लिया है,जब कि तीन आरोपी पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए, पुलिस ने आरोपियों को अपनी गिरफ्त में लेकर भागे हुए आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है.
अमृतसर की सी,आई,ऐ स्टाफ की पुलिस ने पुनीत कुमार उर्फ़ भापू की हत्या की गुत्थी को सुलझा ली है, पुनीत कुमार उर्फ़ भापू के कातिल दरअसल पुनीत कुमार और यह आरोपी एक ही गिरोह के लोग थे और किसी बात को लेकर इनमे झगडा हो गया और इसी के चलते पुनीत कुमार को 10-07-2011 को इन आरोपियों ने मिलकर अगवा कर गुरुद्वारा बाबा बुड्डा साहिब के पास एक नहर के किनारे ले जाकर तेजधार हथियारों से काट कर उसकी हत्या कर उसका शव उसी नहर में फैंक दिया था, इस हत्या में इस्तेमाल किये गए तेजधार हथियारों को इन आरोपियों ने मृतक के कपड़ो में ही लपेट कर इसी नहर में फैंक दिए थे, अमृतसर पुलिस सी.आई.ऐ. स्टाफ के  ऐ, डी, सी, पी  बहादर सिंह के मुताबिक उन्हें एक गुप्त सूचना मिली थी, कि आरोपी तीन मोटर-साइकिलो पर राधा-कृष्ण कलोनी के नजदीक घूम रहे हैं और पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर नाका लगा कर इन तीन आरोपियों को दो मोटर-साइकिल समेत काबू कर किया, लेकिन तीन आरोपी पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए, इन आरोपियों की पहचान विक्रमं सिंह वासी इन्द्रा कलोनी, संदीप सिंह उर्फ़ भड़कीला वासी भराड़ीवाल और सिकंदर उर्फ़ लल्ला वासी रेलवे कालोनी, अमृतसर के रूप में हुई है, जब कि वीरू सिंह उर्फ़ वीरू वासी फकीर सिंह कालोनी, आशु वासी इन्द्रा कालोनी और रोहित कुमार उर्फ़ लोई वासी इन्द्रा कालोनी पुलिस को चकमा देकर फरार होने में कामयाब हो गए हैं, पुलिस ने इनकी निशान देही पर हत्या में प्रयोग किये गए तेजधार हथियार भी बरामद कर लिए हैं और इस मामले के भगोड़े आरोपियों की तलाश में छापेमारी की जा रही है.

Thursday, July 28, 2011

एक रात की दुल्हन ने शिकार बनाया एक फौजी परिवार

अमृतसर से गजिन्द्र सिंह किंग की ख़ास रिपोर्ट : 
अमृतसर के भारत-पाकिस्तान की सरहद के साथ लगते गाँवों में पिछले कई सालों से लुटेरी दुल्हनो के कई गिरोह सक्रीय हैं, जो कि इन गाँवों के भोले-भाले लोगों को शादी करके दुल्हन बनकर अपने ससुराल वालों को कुछ ही दिनों में लूट कर फरार हो जाती थी, ऐसा ही एक मामले सामने आया है रमदास सेक्टर के गाँव दोहरिया में, जहाँ पर एक लुटेरी दुल्हन द्वारा एक फौजी से शादी कर उसके परिवार को अपनी लूट का निशाना बनाया गया और लाखो रूपये व् अन्य कीमती समान लेकर चम्पत हो गयी, उधर पुलिस  ने पीड़ित फौजी और उसके परिवार वालों के खिलाफ मामला दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है  
दुल्हन के लिबास में सजी चेहरे से मासूम सी दिखने वाली 'एक रात की दुल्हन' हरदीप कौर, दरअसल अमृतसर के भारत-पाकिस्तान की सरहद के साथ लगते गाँवों में पिछले कई सालों से लुटेरी दुल्हनो के कई गिरोह सक्रिय  हैं, जो कि इन गाँवों के भोले-भाले लोगों को शादी करके दुल्हन बनकर अपने ससुराल वालों को कुछ ही दिनों में लूट कर फरार हो जाती है, रमदास सेक्टर के दोहरिया गाँव के रहने वाले साहिब सिंह जो कि फौज में नौकरी करता था, उसकी शादी के लिए उसके घर वालों ने अखबार में एक इश्तहार दिया. बस फिर क्या था, 
इस गिरोह की नजर में आये इस इश्तिहार की मदद से इस लुटेरी दुल्हन हरदीप कौर, ने साहिब सिंह के घर तक किसी तरह अपनी पहुँच बनायीं और रिश्ते की बात चला कर यहाँ पर शादी कर ली, जैसे हर किसी लड़की की चाहत होती है, कि जिन्दगी में एक बार दुल्हन जरुर बने, लेकिन ऐसी लुटेरी दुल्हनो के लिए शादी महज एक खेल है और यह आम लोगों की भावनाओ और उनके दिलो के साथ न जाने कई बार खेल चुकी हैं, यह है सविंदर सिंह और उनका परिवार, सविंदर सिंह के मुताबिक उन्होंने अपने बेटे साहिब सिंह के लिए अखबार में विज्ञापन के जरिये हरदीप कौर से शादी की थी, हरदीप कौर ने कहा, कि उसकी उम्र 28 साल है और वह एक बार शादी शुदा है और उसके पति की मौत हो चुकी है, लेकिन जब साहिब सिंह के घर वालों ने इस बारे में जांच की तो सच कुछ और ही निकला, दरअसल हरदीप कौर की 4 शादियाँ हो चुकी थी और वह अक्सर शादी करके घरों में लूट-पाट कर फरार हो जाती थी, दरअसल हरदीप कौर की पहली शादी 1999 में हरदीप सिंह के साथ हुई, उसके बाद 2007 में उसकी शादी जगतार सिंह से हुई, 2009 में उसकी शादी जतिंदर सिंह और 2009 में उसने साहिब सिंह से भी शादी की, हरदीप कौर के लिए 
शादी एक आम बात है, साहिब सिंह के परिवार वालों का कहना है, कि जब से वह उनके घर में आई है, तब से उनके घर में वह पैसे लेती रही है यही नही एक बार तो उसने पुलिस में उनके खिलाफ दहेज लेने की शिकायत भी दर्ज कारवाई, जो कि पुलिस की जांच के बाद झूठी पाई गई. यही नही जब उसकी सगाई हुई तो जो गहना उन्होंने हरदीप कौर को डाला था वह इन सब को लेकर फरार हो गई है और जाते वक़्त वह घर से सारी नकदी और एक कार भी अपने साथ लेकर फरार हो गई, उनका कहना है,कि वह करीब 5 लाख रूपये का नुक्सान करके गई है.  अब उन्होंने इन्साफ के लिए पुलिस में भी इस मामले की शिकायत की है.
वहीं इस मामाले में पुलिस ने साहिब सिंह के पिता सविंदर सिंह की शिकायत पर दुल्हन हरदीप कौर के पर मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है, पुलिस का कहना है, कि उनके पास एक शिकायत आई थी, कि हरदीप कौर की शादी साहिब सिंह के साथ हुई थी और शादी के बाद वह घर से सारा सामान और नकदी और कार को लेकर फरार हो गई है, जिस पर उन्होंने जांच कर मामला दर्ज कर लिया है, पुलिस का कहना है, कि अब वह यह पता लगाने में जुटी  है कि अब तक इस ने कितनी शादीयाँ की है और कितने लोगों के साथ इसने ठगी की

4 एस एस पी, 13 एस पी और 16 डी एस पीज़ का तबादला

चंडीगढ़: 28 जुलाई; पंजाब सरकार की तरफ से जारी आदेशों के मुताबिक कुछ और तबादले किये गए हैं जो तुरंत प्रभाव से लागू होंगें.  पंजाब सरकार के एक प्रवक्ता के मुताबिक बलकार सिंह सिद्धू पी पी एस और राजिन्द्र कुमार शारदा पी पी एस को नए बने जिले पठानकोट और फाजिल्का का एस एस पी नियुक्त किया गया है.
इसी तरह मनमिंदर सिंह पी पी एस और सुरिंदर कुमार कालिया को तरनतारन और गुरुदास पुर का एस एस पी नियुक्त किया गया है.
गुरमीत सिंह पी पी एस को फीरोजपुर का एस पी (हैड क्वाटर)  नियुक्त किया गया है. गुरप्रीत सिंह पी पी एस को फतिहगढ़  साहिब का एस पी (डी) लगाया गया है.गगन अजीत सिंह पी पी एस को जालंधर का डी सी पी=२ नियुक्त किया गया है.  मनमोहन सिंह पी पी एस को तरनतारन का एस पी (हैड क्वाटर) लगाया गया है. रणबीर सिंह पी पी एस को तरन न्तारण में ही एस पी (ट्रैफिक) लगाया  गया है. नरेश कुमार पी पी एस को अमृतसर का अतिरिक्त डी सी पी-२ नियुक्त किया गया है. गुरशरण सिंह बेदी पी पी एस को भटिंडा में जोनल एस पी/ क्राइम,  जाया पाल सिंह पी पी एस को पटियाला में जोनल एस पी/ क्राइम, हर मोहा निस्घ पी पी एस को शहीद भगत सिंह नगर में जोनल एस पी क्राईम,  सतिन्द्र सिंह पी पी एस को एस पी/ इंटेलिजेंस, मंजीत सिंह पी पी एस को लुधियाना में अतिरिक्त डी सी पी-१. रविन्द्र कुमार बख्शी को लद्धा कोठी संगरूर में सेकंड  आइ आर बी का असिस्टैंट कमांडेंट और भूपिंदर जीत सिंह पी पी एस को  पटियाला में फस्ट आइ आर बी का असिस्टैंट कमांडर नियुक्त किया गया है.
इसी तरह गुरमीत कौर पी पी एस को डी एस पी जैतों, बिक्रमजीत सिंह पी पी एस को डी एस पी सीई बठिंडा, केसर सिंह पी पी एस को डी एस पी/ सिटी-1 पटियाला, सुरिन्दर पाल सिंह पी पी एस को डी एस पी.एस डी/ सरदूलगढ़ जिनके पास डी एस पी बुध्लाधा का अतिरिक्त चार्ज भी होगा, हरजीत सिंह पी पी एस को डी एस पी/ एसडी/ फतिह्गढ़ चूड़ियाँ, बलविंदर सिंह पी पी एस को डी एस पी /विजिलेंस ब्यूरो पंजाब, नरिंदर सिंह पीपीएस को लुधियाना में ऐ सी पी/फोकल पवाइंट, जसवंत सिंह को ऐ सी पी. ट्रैफिक अमृतसर, चेता सिंह पी पी एस को  डी एस पी हैड क्वाटर पटियाला और गुरप्रीत सिंह पी पी एस को डी एस पी (डी) तरनतारन, नियुक्त किया गया है.
इनके इलावा परमजीत सिंह पीपीएस, तिलक राज पीपीएस, नाहर सिंह पीपीएस, रणजीत सिंह पीपीएस, महिंदर सिंह पीपीएस और  गुरदर्शन सिंह पीपीएस को मुख्य मन्त्री की सुरक्षा में डी एस पी नियुक्त किया गया
है

लुधियाना के किशोर बच्चों को भी मिला प्रतिभा दिखाने का मौका


लुधियाना: 28 जुलाई: बहुत से बच्चों में कला जन्म जात होती है. इनमें से बहुत से पेंटिंग करते हैं तो बहुत से कविता या गीत लिखते हैं. ज़िन्दगी की भागदौड़ में सही अवसर न मिल पाने के कारण उनकी यह कला देर सबेर दम तोड़ जाती है और समाज किसी न किसी प्रतिभा शाली कलाकार से वंचित रह जाता है. इन सभी बातों को समझते हुए भाषा विभाग पंजाब ने हर वर्ष की तरह इस बार भी साहित्य रचना की प्रतियोगिता ज्राने की घोषणा की है. जिला स्तर की इस प्रतियोगिता में हिंदी और पंजाबी दोनों भाषायों के बाल लेखक शामिल हो सकेंगे. इसका विवरण देते हुए जिला भाषा अधिकारी सतनाम सिंह ने बताया कि लुधिअना जिले की प्रतियोगिता १७ अगस्त को पंजाबी भवन के सेमीनार हाल में करायी जायेगी. इसमें दसवीं कक्षा के वे सभी छात्र भाग ले सकते हैं जिनकी आयु १७ बरस से काम है. छात्र का एंट्री फ़ार्म स्कूल के मुख्य अध्यापक या प्रिंसिपल की तरफ से य्स्दीक हुआ होना अवश्यक है. तस्दीक कराए हुए इन एंट्री फार्मों को १२ अगस्त तक जिला भाषा अधिकारी के कार्यलय में भेजना होगा. प्रतियोगिता के परिणामों का ऐलान जज साहिबान की तरफ से मौके पर ही किया जातेगा. प्रथम तीन स्थानों पर आने वाले बच्चों को पुरूस्कार तो दिए ही जायेंगे साथ ही उन्हें मिलेगा नवम्बर महीने में होने वाली राज्य स्तरीय  प्रतियोगिता में भाग लेने का.इसका आयोजन पंजाबी सप्ताह के दौरान किया जायेगा.--ब्यूरो रिपोर्ट  फोटो साभार: ehow   

Wednesday, July 27, 2011

भारत-पाकिस्तान के दरम्यान चलेगी पंजाब रोडवेज की सरकारी बस


            अमृतसर से (गजिंदर सिंह किंग:  
भारत-पाकिस्तान के बीच घाटे में चलने वाली बस को चलाने का बीड़ा अब सरकार ने उठाया है, दरअसल अब तक बस लीज पर चल रही थी, जिसमें घाटा हो रहा था, ऐसे में पंजाब सरकार ने पंज-आब से तौबा कर दी है, अब  पंजाब रोडवेज की सरकारी बस पाकिस्तान के लाहौर और श्री ननकाना साहिब तक दौड़ लगाएगी, इसके लिए पंजाब सरकार ने 1.60 करोड़ की लागत से दो नई वाल्वो बसें खरीदी हैं, जो कि अमृतसर अंतरराष्ट्रीय बस टर्मिनल पर आ गई हैं, बता दें, कि भारत-पाकिस्तान के बीच रिश्तों की डोर को मजबूत करने के लिए दोनों मुल्कों की सरकार ने 24 जनवरी 2006 में अमृतसर से लाहौर और 24 मार्च 2006 में अमृतसर से श्री ननकाना साहिब के बीच बस सेवा की शुरुआत की थी, केंद्र की पहल पर आनन-फानन में लीज पर बस लेकर इसे पाकिस्तान के लिए रवाना किया गया था, पांच साल में पंज-आब बस के घाटे ने पंजाब सरकार को हैरान कर दिया, वहीं पाकिस्तान सरकार लीज की बजाय सरकारी बस दौड़ा रही है, जिसके कारण उन्हें भारत से कम घाटा उठाना पड़ा, पाकिस्तान टूरिज्म बोर्ड ने पंजाब रोडवेज को सरकारी बस उतारने की सलाह दी थी, इस पर अमल करते हुए सरकार ने वाल्वो बस खरीदी है, पिछले पांच साल में पंजाब रोडवेज को पंज-आब के कारण करीब 1.5 करोड़ का घाटा हुआ है, पंज-आब बस पर पांच साल में करीब 2.25 करोड़ खर्च हुआ है, जब कि टिकटों से महज 75 लाख की आमदनी हुई है, लीज पर बस चलाने के कारण पंजाब सरकार को लुधियाना की कंपनी को हर माह 1.70 लाख देना पड़ता था, किराये पर ही पंजाब सरकार ने पांच साल में एक करोड़ लुटा दिया, ऐसे में अब सरकारी बस पाकिस्तान का फर्राटा भरेगी, अंतरराष्ट्रीय अमृतसर बस टर्मिनल के इंचार्ज श्रीकांत ने बताया, कि वाल्वो बस पहुंच चुकी है, कागजी प्रक्रिया निपटाने के बाद अगले सप्ताह से सरकारी बस पाकिस्तान जाएगी

कांग्रेस के प्रदेश सचिव की अवैध बिल्डिंग सील


कांग्रेसी नेता की शिकायत पर की गयी कारवाई 
लुधियाना : गुटनंदक राजनीती के इस दौर में बहुत कुछ देखने को मिल रहा है. अगर अकाली दलमें भतीजे मनप्रीत बादल ने अपने ही भाई सुखबीर सिंह बादल और ताए के खिलाफ बगावत कर डी है तो कांग्रेस के नेता भी पीछे नहीं रहे हैं. लुधियाना के एक कांग्रेसी नेता ने अपनी ही पार्टी के एक अन्य नेता के खिलाफ शिकायत करके उसकी बिल्डिंग सील करवा दी. शिकायत की थी कांग्रेसी नेता कोमल खन्ना ने और बिल्डिंग सील हो गयी अलमूदीन सैफी की.  नगर निगम ए जोन की बिल्डिंग शाखा ने बुधवार को जीटी रोड पर ताजपुर चौक के पास कांग्रेस के प्रदेश सचिव अलमुद्दीन सैफी की बिल्डिंग को सील कर दिया. बताया गया क़ी बिल्डिंग नाजायज ढंग से बिना नक्शा मंजूरी के बनाई गई थी. निगम की ओर से यह कार्रवाई कांग्रेस के प्रदेश महासचिव कोमल खन्ना की शिकायत पर की गई. निगम की कार्रवाई के दौरान माहौल खराब न हो इस खतरे को भांपते हुए  इसके लिए भारी पुलिस बल को भी तैनात किया गया था. यह कार्रवाई एटीपी हरप्रीत घई की अगुवाई में की गई. कांग्रेस के प्रदेश महासचिव व पूर्व जिला युवा अध्यक्ष कोमल खन्ना ने उक्त बिल्डिंग संबंधी निगम से आरटीआई के जरिए पूरे रिकार्ड हासिल कर पिछले करीब चार माह से उक्त अवैध बिल्डिंग पर कार्रवाई की गुहार लगाई हुयी थी. इसको लेकर उन्होंने स्थानीय निकाय विभाग के मंत्री तीक्ष्ण सूद, स्थानीय निकाय विभाग के सचिव डायरेक्टर व निगम कमिश्नर को शिकायत दी थी. इसके बाद स्थानीय निकाय विभाग ने बिल्डिंग मालिक अलमुद्दीन सैफी को तलब कर इस पर जवाब भी मांगा था लेकिन वे इस संबंधी अपना कोई पक्ष पेश नहीं कर पाए थे. ऐसे में निगम ने उक्त बिल्डिंग को सील करने के लिए बीते दिनों नोटिस जारी कर तीन दिन के भीतर जवाब मांगा था. एक हफ्ता बीतने के बावजूद भी जब कोई जवाब न आया तो बुधवार को निगम टीम ने एटीपी हरप्रीत घई की अगुवाई में सैफी फर्नीचर नाम की बिल्डिंग को सील कर दिया. इस मौके पर इंस्पेक्टर जोरा सिंह सहित निगम पुलिस व अन्य पुलिस अधिकारी भी मौजूद थे. इस बारे में कांग्रेस के प्रदेश महासचिव कोमल खन्ना ने बताया कि उक्त बिल्डिंग जीटी रोड के सौ फुट के दायरे में आती है और वर्ष 2000 में उक्त बिल्डिंग का निर्माण नियमों को ताक में रखकर किया गया था. खन्ना ने बताया कि अवैध बिल्डिंग निर्माण संबंधी निगम ने पुष्टि की थी. जिसके आधार पर आज कार्रवाई की गई है. अब सिफ़ी इसका बदला लेने के लिए क्या करते हैं इसका पता तो वक्त आने पर ही चल सकेगा. --ब्यूरो रिपोर्ट 

डिप्टी कमिश्नर राहुल तिवारी ने किया सतलुज नदी का दौरा


*सतलुज दरिया के 15 तटबंध संवदेनशील 
*जिलाधीश ने स्वयं किया दौरा 
*मौके का जायजा ले कर दिए आवश्यक निर्देश 
 लुधियाना; सोमवार की मीटिंग में घोषित  कार्यक्रम के  मुताबिक  डिप्टी कमिश्नर राहुल तिवारी ने बुधवार को सतलुज नदी का दौरा कर धुस्सी बांधों का जायजा लिया. इसके बाद उन्होंने अधिकारियों को बाढ़ आने की स्थिति में अलर्ट रहने और साथ ही बचाव राहत कार्य के लिए अनाज दवाइयां व पशुओं के लिए चारा का इंतजाम करके रखने के हिदायत दी. उपायुक्त तिवारी ने सुबह 11 बजे समराला तहसील अधीन पड़ते गांव शेरगढ़ से लेकर जगराओं तक नदी के 15 तटबंधों का जायजा लिया. इस दौरान पंजाब एग्रो इंडस्ट्रीज के चेयरमैन शरणजीत सिंह ढिल्लों भी उनके साथ थे. डीसी ने इन जगहों पर बाढ़ आने की स्थिती में लोगों के जान.माल की रक्षा संबंधी अधिकारियों से विचार. विमर्श किया. धुस्सी बांध का जायजा लेने के बाद पत्रकारों से बातचीत में जिलाधीश राहुल तिवारी ने बताया कि जिले में सतलुज के धुस्सी बांध के 15 जगह संवेदनशील हैं. उन्होंने बताया कि संवदेनशील जगहों की मरम्मत के लिए 31 करोड़ रुपये सरकार से मांगे गए हैं. फिलहाल चार करोड़ रुपये आए हैं. उक्त रुपये की मदद से मत्तेवाड़ा,  कासाबाद व एक अन्य धुस्सी बांध को बनाने का काम शुरू कर दिया गया है. तिवारी के मुताबिक बाढ़ आने की स्थिति के मद्देनजर जिले को तीन जोन में बांट दिया गया है. इनमें लुधियाना जोन के प्रभारी वे स्वंय हैं जबकि जगराओ जोन के एडीसी एसआर कलेर तथा समराला जोन को एडीसी प्रदीप अग्रवाल की देख रेख में सौंपा गया है. डिप्टी कमिश्नर ने माछीवाड़ा के निकट तीन संवदेनशील जगह सैंसोवाल खुर्द शेरगढ़ और धुल्लेवाल का जायजा लिया और ड्रेनेज विभाग के अधिकारियों को स्थिति पर नजर रखने के लिए कहा. उन्होंने कहा कि प्रशासन द्वारा बाढ़ आने की स्थिति में जेसीबी मशीनें. किश्तियां पशुओं के लिए चारे और अन्य मेडिकल सुविधाएं तैयार रखी जाएं. इस अवसर पर एडीसी आरएस कलेरए एडीसी डी प्रदीप अग्रवालए एसडीएम समराला जसवीर सिंह  एडीएसपी अनिल कुमार,  नायब तहसीलदार हरगोबिन्द थाना प्रभारी इंस्पेक्टर पवनजीत सहित कई अन्य अधिकारी भी मौजूद थे.                                                     -------

शिव सेना बाल ठाकरे उतरी अमृतसर की सड़कों पर


अमृतसर  से  गजिंदर सिंह 
*शिव सेना बाल ठाकरे के युवा विंग का आमिर के खिलाफ आक्रोश  
*पोस्टर जला कर अमृतसर में किया रोष प्रदर्शन किया
 आमिर खान की नयी रिलीज हुई फिल्म 'दिल्ली-बेल्ली' शुरू से ही विवादों के घेरे में रही है, क्यों कि इस फिल्म में अभिनेता आमिर खान द्वारा अभद्र-भाषा का प्रयोग किया गया है, जिसके चलते आज अमृतसर में शिव सेना बाल ठाकरे के युवा विंग के कार्यकर्ताओं द्वारा हाल गेट के बाहर आमिर खान के पोस्टर जला कर रोष प्रदर्शन किया गया. उन्होंने कहा, कि वह इस मामले को लेकर अदालत का दरवाजा भी खट-खटाएंगे.           
अमृतसर के हाल गेट के बाहर अभिनेता आमिर खान के नयी फिल्म दिल्ली-बेल्ली और सेंसर बोर्ड के खिलाफ शिव सेना बाल ठाकरे के युवा विंग के कार्यकर्तायो ने जमकर नारेबाजी कर अभिनेता आमिर खान के पोस्टर जलाए और सेंसर बोर्ड के विरुद्ध नारेबाजी की, इनका आरोप है, कि इस फिल्म में अभिनेता आमिर खान ने अभद्र-भाषा यानि कि गालियाँ निकाली हैं, जिसे सेंसर बोर्ड ने पता नहीं कैसे पास कर दिया है, इस मामले में बात करते हुए शिव सेना बाल ठाकरे जिला प्रमुख अमृतसर राजिंदर सहदेव ने कहा, कि अभिनेता आमिर खान के कारवाई करते हुए जुर्माना किया जाना चाहिए और इस फिल्म को बंद किया जाना चाहिए, क्यों कि आज के युवा ऐसी फिल्मे देख कर वही डाइलोग घर में आकर या अपने दोस्तों के साथ बोलते हैं, जिन्हें सुनना कोई भी पसंद नहीं करता, इसलिए ऐसी फिल्मे बंद होनी चाहिए, उन्होंने कहा कि सेंसर बोर्ड पैसे लेकर ऐसी फिल्मे पास कर देता है, इसी मामले को लेकर शिव सेना बाल ठाकरे के कार्यकर्ताओं ने आज अभिनेता आमिर खान और सेंसर बोर्ड के खिलाफ प्रदर्शन किया है और अभिनेता आमिर खान के पोस्टर जलाए हैं, उन्होंने विडियो कोच बसों में अभद्र गाने चलाए जाने के बारे कहा, कि जो परिवार विडियो कोच बसों में सफर करते हैं, उन पर बहुत बुरा असर पड़ता है और उन्होंने कहा, कि अगर इस फिल्म को बंद न किया गया, तो इसके खिलाफ वह कोर्ट में जायेंगे और अभिनेता आमिर खान को कोर्ट में घसीटेंगे.


Tuesday, July 26, 2011

भारत सरकार ने 91 पाकिस्तानी कैदियों को किया रिहा


 अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग की खास रिपोर्ट:    
अमृतसर के अंतर राष्ट्रीय अट्टारी सड़क सीमा के रास्ते अपनी पाकिस्तानी धरती पर कदम रख रहे पाकिस्तानी कैदी जिसमे से ज्यादातर पाकिस्तानी मछुआरे हैं, यह लोग पाकिस्तान से मछली पकड़ने के लिए समुन्दर में जाते हैं और गुजरात और इसके आस-पास के इलाकों में लगती पाकिस्तानी समुन्दरी सीमा के रास्ते,समुन्दर के बीचो-बीच होने के कारण समुन्दर के पानी के बहाव के प्रवाह के साथ भारतीय सीमा में चले आते हैं और उसे कास्ट-गार्ड द्वारा पकड लिए जाता हैं और सजा हो जाती है,  आज भारत द्वारा रिहा किये गए मछुआरो मे जिन्हें रिहा किया गया, यह लोग छह महीने से लेकर एक साल की सजा काट कर अपने वतन वापिस लौटे रहे हैं, आज रिहा किये गए कैदीयो में से 87 मछुआरे है, जब कि चार लोग अलग-अलग जगह से बोर्डर क्रासिंग के मामले में पकड़े गए थे और आज भारत-पाक की अंतर-राष्ट्रीय सड़क सीमा के रास्ते पाक लौटे रहे है, जिनमे से दो अमृतसर की जेल से, एक सिरसा की जेल से और इसी तरह जिंदगी का एक लम्बा हिस्सा कैदी को आज १७ साल छह महीने के बाद रिहाई  मिली. आज वह खुश था.
गौरतलब है कि इस कैदी को संगरूर की जेल से यहाँ लाया गया था, संगरूर की जेल से छोड़े गए कैदी राहील अहमद ने मीडिया से बात करते हुए बताया, कि मै पाकिस्तान में आजाद कश्मीर का रहने वाला हूँ और भारत के कश्मीर में रहने वाले आपने रिश्तेदार से मिलने करीब 13 साल की उम्र में सीमा पार कर भारत आया था और आर्मी द्वारा पकड़ लिया गया और 14 साल की सजा हो गई, उसके बाद भी करीब 17 साल 6 महीने के बाद आज पाकिस्तान वापिस लौट रहा है और आज मेरा नया जन्म हुआ है, उसने कहा, कि भारत में पाकिस्तानी होना ही एक गुनाह है, पाकिस्तान लौटने के वक्त जहाँ उसे अपनों से मिलने की ख़ुशी थी, वहीँ भारत की जेलों में बिताए पलों का दुःख भी था, उससे पूछने पर की आपने भी ज्यादा सजा काटी है और ऐसे ही पाकिस्तान की जेलों में भारतीय भी बंद हैं, उसने जबाब देते हुए बताया, कि हम क्या कह सकते है, सरकार की अनदेखी का शिकार दोनों तरफ के लोग होते हैं और इसके लिए किसे दोष दे, हमे खुद पता नहीं चल रहा 
भारत-पाकिस्तान की अंतर-राष्ट्रीय अट्टारी सीमा के रास्ते आज भारत द्वारा चार बोर्डर क्रासिंग करने वाले कैदियों और 87 मछुआरो सहित कुल 91 पाकिस्तानी कैदियों की रिहा कर उनके वतन वापिस भेज दिया गया, यह मछुआरे समुन्दर में मछली पकड़ने के लिए जाते हैं और पानी 
के बहाव में फंस कर भ जाते हैं. उन्हें का पता न चल पाने के कारण पाकिस्तान से भारतीय सीमा में चले आते हैं और भारतीय कोस्ट-गार्ड द्वारा इन्हें गिरफ्तार कर लिया जाता है और फिर अदालत द्वारा इन्हें सजा हो जाती है, आज भारत की अलग-अलग जेलों में सजा काट कर पाकिस्तान लौटे इन कैदियों के चेहरों पर अपनों से मिलने की ख़ुशी साफ़ झलक रही थी.       उधर आज पाकिस्तान जा रहे मछुआरो ने मीडिया से बात करते हुए आप-बीती सुनते हुए बताया, कि जब यह समुन्दर में मछली पकड़ने के लिए जाते है, पानी के बहाव का पता न चल पाने के कारण यह मछुआरे भारत-पाक सीमा न मालूम होने के कारण एक-दूसरे की समुंदरी सीमा में घुस जाते है, वहीं से इन लोगों को गिरफ्तार कर लिया जाता है और सजा हो जाती है, यह  मछुआरे छह महीने से लेकर करीब एक साल की सजा काट कर आज अपने वतन पाकिस्तान लौट रहे है,  इन मछुआरो का कहना है, आज वह बहुत खुश है, जो इन्हें रिहा कर दिया गया है और आज इनका नया जन्म हुआ है उन्होंने बताया, कि उनके पीछे घर में कमाने वाला कोई नहीं है और उनके पीछे उनके घर वाले कैसे होंगे यह उन्हें नहीं पता, क्या पता वह सड़क पर भीख मांग कर गुजारा कर रहे है, उन्होंने कहा, कि आपके देश भारत तो रिहा होकर आए मछुआरों को सरकार पैसे और राशन भी देती है, लेकिन पाकिस्तान में सरकार उन्हें कुछ नहीं देती, उन्होंने कहा, कि दोनों सरकारों को उन्हें जल्द रिहा कर देना चाहिए.

अटारी वाघा सीमा पर प्रशासन ने हटाये अवैध कब्जे

अटारी से अमृतसर लौट कर गजिंदर सिंह किंग 
अमृतसर के अटारी वाघा सरहद पर लोगो द्वारा किये गए अवैध कब्जो की मार का डंडा देश की सरहद पर भी चला, जिस के चलते देश की अटारी वाघा सीमा पर प्रशासन ने स्थानीय लोगों के द्वारा किए गए अवैध कब्जों को अमृतसर प्रशासन ने बुल्डोजर की मदद से हटाया गया, क्यों कि सरहद पर रोज 15000 यात्री यहाँ पर आते है और यहाँ पर आम जनता को ट्रेफिक कि समस्या का सामना करना पड़ता था,जिस के चलते इस अन्तर -राष्ट्रीय स्थल पर आम जनता को सहुलते देने के लिए यह कदम उठाया गया.
देश में लोगो द्वारा अवैध कब्जो को ले कर प्रशासन आपनी दखल देता रहता है, वहीं देश की अटारी वाघा सरहद पर स्थानीय लोगो द्वारा किये गए अवैध कब्जों को प्रशासन द्वारा हटाया गया, दरअसल देश की सरहद के गेट के बाहर दुकानदारो ने आपनी दुकानों के बाहर देश के राष्ट्रीय राज मार्ग पर आपनी दुकानो को अवैध ढंग से कब्जा कर लगाया गया था, जिस के तहत वहीं प्रशासन ने पहले इन को यहाँ से हटने की चेतावनी दी, लेकिन कब्जा न हटने के कारण प्रशासन ने राष्ट्रीय राज मार्ग के अधिकारियों के साथ यहाँ पर इन अवैध कब्जों को भारी सुरक्षा बल तैनात कर यहाँ पर बुल्डोजर की मदद से इन कब्जों को यहाँ से हटाया गया, वहीं इस मौके पर अमृतसर के अटारी के एस, डी, एम मनमोहन सिंह कंग ने इस अवैध कब्जे बारे जानकारी देते हुए बताया, कि सरहद पर रोज 15000 यात्री यहाँ पर आते है और यहाँ पर आम जनता को ट्रेफिक कि समस्या का सामना करना पड़ता था, जिस के चलते इस अन्तर -राष्ट्रीय स्थल पर आम जनता को मुश्किले आती थी और यहाँ पर यह दुकान दार गंदगी भी फैलाते थे, जिस कारण यह अभियान यहाँ पर चलाया जा रहा है साथ ही यहाँ टुरिस्म विभाग की तरफ से 10.36 एकड जगह यहाँ पर ली गई है, जिस से यहाँ आने वाले सैलानियों के लिए टुरिस्म विभाग की तरफ से एक विशेष दफ्तर बनेगा, जो यहाँ पर आने वाले यात्रीयो को सहुलते देगा और साथ ही यहाँ कि सुन्दरता को बढ़ाया जाएगा.

बी एस एफ के उच्च-अधिकारी पाकिस्तान रवाना


भारत-पाक तिमाही विशेष मीटिंग में होंगें शामिल
अमृतसर से गजिंदर सिंह  
भारत के बी, एस, एफ अधिकारियों  और पाकिस्तान रेंजर्स के अधिकारियों की एक विशेष मीटिंग करने के लिए भारत के बी, एस, एफ अधिकारी आज अटारी वाघा  सीमा के रास्ते पाकिस्तान गए, इस मौके पर पंजाब, राजस्थान, जम्मू और दिल्ली के  बी,एस,एफ के उच्च-अधिकारी इस मीटिंग में हिस्सा लेने के लिए गए, इस मीटिंग में अन्तरराष्ट्रीय बाघा-सरहद पर दोनों देशो में आ रही मुश्किलों बारे विचार-विमर्श करेगे.भारत और पाकिस्तान के बीच देश की सरहद पर कई  बार कई विवाद होते रहते  है, कई  बार पाकिस्तान की तरफ से भारत में शेल्लिंग की जाती है, तो कई  बार घुसपैठ, नशे और हथियारों की तस्करी के मामले भी सामने आते रहे है, वहीं इस के चलते भारत के बी,एस,एफ अधिकारी और पाकिस्तान  रेंजर्स के इन
अधिकारियों के बीच में तिमाही विशेष मीटिंग पाकिस्तान के लाहौर  में की  गई, जिस के कारण इस मौके  पर भारत की तरफ  से बी,एस,एफ के डिप्टी इन्स्पेक्टर जरनल सी, वासुदेवन की अध्यक्षा में एक विशेष टीम पाकिस्तान गई, जहाँ पर वह पाकिस्तान के ब्रिगेडियर वली मोहमद के साथ एक विशेष मीटिंग करेंगे और अन्तर -राष्ट्रीय बाघा-सरहद पर दोनों देशो में आ रही मुश्किलों बारे विचार-विमर्श करे गे, इस मौके पर बी,एस,एफ के डिप्टी इन्स्पेक्टर जरनल सी, वासुदेवन ने पाकिस्तान जाने से पहले पत्रकारों से मीटिंग बारे जानकारी देते हुए बताया कि इस मीटिंग का मुख्य मकसद दोनो देशों के बीच सीमा पर आ रही मुश्किलों को हल करना है और साथ ही सरहद पर बनाए गए कानूनों की पालना करना है साथ ही  जो भी समस्या है, इस को एक दोस्ती के साथ खत्म किया जाए, उन्होंने बताया कि जो भी
यहाँ पर तस्करी हो रही है, उस को रोकने के लिए कोई हल निकाला जाएगा और पाकिस्तान की तरफ से नशे की तस्करी जो  हो रही है, इस के लिए नार्कोटिक कन्ट्रोल ब्यूरो की एक विशेष  टीम उन के साथ जा रही है,  जो इस समस्या को हल करने पर विचार करेगी, उन्होंने कहा, कि उमीद है, कि इस मीटिंग में जो समस्या आ रही है उन को हल करवाया जाए गा और पिछले कुछ समय से सरहद पर  शेल्लिंग की  घट्नाओं  में कमी आई है और इस मीटिंग में भी इस को आगे बढ़ाया जाएगा, ताकि दोनो देश सीमा पर फायर की उलंघना न कर सके. वहीं भारत की तरफ  से बी,एस,एफ के डिप्टी इन्स्पेक्टर जरनल सी, वासुदेवन ने पाकिस्तान  रेंजर्स  के अधिकारियों  को गुल्दस्ता दे भेट किया और अब देख्नना  यह होगा, कि पाकिस्तान से बढ रही नशे की तस्करी को रोकने में यह मीटिंग कितनी सहायक होगी.

Monday, July 25, 2011

27 जुलाई की मीटिग से होगा रिश्तों में सुधार--सलमान बशीर

 दिल्ली में होगी भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की अहम मीटिग 
अमृतसर से गजिंदर सिंह:  भारत ने मुंबई हमलों के सात आरोपियों की आवाज के नमूने मुहैया करने के लिए पाकिस्तान से गुजारिश की है और इसके बारे में बात करते हुए पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर का कहना है, कि पाकिस्तान आंतकी कार्यवाहीयो में भारत की हर संभव मदद करेगा, भारत की राजधानी दिल्ली में 27 जुलाई को होने वाली भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की एहम बैठक में हिस्सा लेने के लिए पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर आज अपने 5 सदस्य दल के साथ भारत-पाकिस्तान की अट्टारी सड़क सीमा के रास्ते भारत पहुँचे, इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने दोनों देशो के विदेश मंत्रालय के बीच होने वाली इस बैठक को बहुत एहम बताया और कहा, कि इससे भारत-पाकिस्तान के रिश्तों में सुधार होगा.
भारत और पाकिस्तान के बीच रिश्तों को सुधारने और दोनो देशों के बीच पनपे विवादो को हल करने के लिए दोनो देशों के विदेश मंत्रियों की एक एहम मीटिंग दिल्ली में होने जा रही है, जिसमें की दोनों देशों के बीच पनपे सभी मुद्दों पर चर्चा होगी, वहीं इस मीटिंग कि तैयारी करने के लिए पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर आज भारत-पाकिस्तान की अंतर-राष्ट्रीय अट्टारी सड़क सीमा के रास्ते भारत पहुँचे, इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए सलमान बशीर ने कहा, कि इस मीटिंग में सभी मामलों पर चर्चा होगी और साथ ही दोनो विदेश मंत्रियों के बीच में यह मीटिंग एक एहम रोल अदा करेगी,  भारत ने मुंबई हमलों के सात आरोपियों की आवाज के नमूने मुहैया करने के लिए पाकिस्तान से गुजारिश की है, दरअसल भारत उन आरोपियों के आवाज के नमूने मांग रहा है, जो 26 नवंबर, 2008 को मुंबई पर हमलों के दौरान 10 आतंकवादियों को निर्देश दे रहे थे और इसके बारे में बात करते हुए पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर का कहना है, कि पाकिस्तान आंतकी कार्यवाहीयो में भारत की हर संभव मदद करेगा,  उल्लेखनीय है पाकिस्तान की आतंकवाद निरोधी अदालत 26/11 हमलों के लिए जिम्मेदार आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के शीर्ष कमांडर जकी-उर-रहमान लखवी सहित सात आरोपियों के खिलाफ सुनवाई कर रही है, मुम्बई ब्लास्ट पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि जब मुम्बई में ब्लास्ट हुए,
तब  पाकिस्तान ने सब से पहले इस की आलोचना की थी और साथ ही आपनी सहानुभूती भी जताई थी, वहीं उनका कहना है, कि आतंकवाद आज पूरे विश्व की समस्या है और इसको मिल-जुल कर हल किया जा सकता है और पाकिस्तान इसके लिए पूरी तरह से तैयार है साथ ही उन का कहना है, कि कश्मीर समस्या इस मीटिंग में सब से महत्वपूर्ण होगी और इस कश्मीर मुद्दे को इस मीटिंग में लिया जाएगा.     पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर आतंकवाद कि लडाई लड़ने के लिए भारत का हर तरह से साथ देते हुए नज़र आए, लेकिन पाकिस्तान में चल रहे आंतकी कैम्प और आई,एस,आई. के मनसूबो को लेकर सीमा पर भारत में घुसने को तैयार बैठे आंतकी भारत में आंतक का सैलाब लाने के लिए तैयार हैं, अब सवाल यह पैदा होता है, कि पाकिस्तान जब तक अपने देश में आंतकवाद की बनी इन फैक्ट्रियों को नेस्तनाबूद नहीं करेगा, तब तक इस समस्या को हल निकल पाना मुश्किल है

Saturday, July 23, 2011

श्री हरमंदिर साहिब में लगे कैमरों ने फिर पकडे चोर

  *श्री हरिमंदिर साहिब में लगाये गए सी.सी.टी.वी. कैमरे चोरो को पकडवाने में हुए सहायक
अमृतसर 23 जुलाई (गजिंदर सिंह) कहते हैं कि तीर्थों पर जा कर पाप धुल जाते हैं बात में काफी वजन भी है लेकिन क्या होगा उन लोगों का जो तीर्थों पर जा कर पाप करते हैं. श्रद्धा व भक्ति भावना से किसी भी तीर्थ स्थली पर गए इंसान को उस समय अचानक झटका लगता है जब अचानक ही वह पाता है कि उसकी जेब कट गयी, या बैग उठा लिया गया या फिर स्नान करते समय किसी ने कपड़ों पर ही हाथ साफ़ कर लिया. ऐसे लोगों को ऐसे स्थानों से दूर रखने के लिए आज कल बहुत कुछ आ गया है जिसकी तकनीक से हर किसी की हर हरकत पर नजर रखी जा सकती है.   सच्चखंड श्री हरिमंदिर साहिब में लगाये गए सी.सी.टी.वी. कैमरों की मदद से एक बार फिर दर्शनों के लिए आने वाले श्रद्धालुओ का सामान चुराने वाले दो लोगों को काबू किया गया है, पकडे गए इन दोनो चोरों में से एक औरत है और एक आदमी इससे पहले सच्चखंड श्री हरिमंदिर साहिब से इन कैमरों की मदद से एक साथ 40 चोरों को काबू किया गया था और उसके बाद एक नकली सी.आई.डी. इंस्पेक्टर को भी इनकी मदद से काबू किया गया था, पुलिस ने दोनों 
आरोपीयों  के खिलाफ मामला दर्ज कर इन्हें गिरफ्तार कर लिया है.
         इनकी पहचान धरम पाल उर्फ़ सोनू, गुरवंत कौर वासी गाँव आलोवाल, क़स्बा कलानौर, जिला गुरदासपुर के रूप में हुई है, दरअसल इनका कारनामा सच्चखंड श्री हरिमंदिर साहिब में लगाये कैमरों की मदद से रिकॉर्ड किया गया और फिर इन्हें रंगे हाथ चुराए गए सामान सहित काबू किया गया, अब  आपको दिखाते हैं, इस औरत का कारनामा जो सच्चखंड में लगाये गए सी.सी.टी.वी. कैमरे के जर्रिये रिकॉर्ड किया गया और जिसकी सहायता से पुलिस को इनके खिलाफ ठोस सबूत मिला और सच्चखंड श्री हरिमंदिर साहिब के गलियारा पुलिस चौकी के प्रभारी मुख्तियार सिंह के मुताबिक़ उन्हें सूचना मिली थी, कि यह दोनों सच्चखंड के आस-पास संधिग्द हालत में पिछले कई दिनों से घूम रहे हैं और जब इन्हें पकड़ कर इनसे पूछ-ताछ की गयी तो इनसे दो बिना सिम के मोबाइल और दो चुराए गए परसों से 4200 रूपये बरामद हुए, पुलिस ने इनके खिलाफ मामला दर्ज कर इन्हें गिरफ्तार कर लिया है और इनके द्वारा अंजाम  दी गयी चोरी की घटना की सी.सी.टी.वी. कैमरे की विडियो रेकॉर्डिंग भी अपने कब्जे में ली ली है.

Friday, July 22, 2011

डीजीपीसी टीम ने एसजीपीसी को लिया आड़े हाथों

श्री गुरु ग्रन्थ साहिब के सुनहरी प्रकाशन में शरोमणी गुरुद्वारा कमेटी दोषी - तरसेम सिंह खालसा 
अमृतसर - (गजिंदर सिंह)  श्री अकाल तख्त साहिब पर हुई पांच सिंह साहिबानो की मीटिंग हुई जिसमे आज कई मामलो पर विचार किया गया, इस में आज मुख्य तौर पर श्री गुरु ग्रन्थ साहिब के सुनहरी प्रकाशन का मामला छाया रहा और इस मामले में दिल्ली से खास तौर पर तरसेम सिंह खालसा के netutv में श्री अकाल तख्त साहिब पर पेश होने के लिए दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की टीम पहुंची, उन्होंने इस मामले को लेकर अपना स्पष्टीकरण श्री अकाल तख्त साहिब पर हुई पांच सिंह साहिबानो की मीटिंग में दिया, उधर जत्थेदार श्री अकाल तख्त साहिब ने इस मामले में करवाई को आगे टाल दिया, क्यों कि इस मामले में प्रकाशन करने वाले सुरिंदर सिंह ढेसी जो कि इस समय इंग्लैंड में रह रहा है, उसके नहीं आने के कारण इस मामले को अगली सुनवाई तक टाल दिया गया
       श्री अकाल तख्त साहिब पर हुई पांच सिंह साहिबानो की मीटिंग में श्री गुरु ग्रन्थ साहिब के सुनहरी प्रकाशन का मामला छाया रहा और इस मामले में दिल्ली से खास तौर पर तरसेम सिंह खालसा के नेत्रित्व में श्री अकाल तख्त साहिब पर पेश होने के लिए दिल्ली गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की टीम पहुंची, उन्होंने इस मामले को लेकर अपना स्पष्टीकरण श्री अकाल तख्त साहिब पर हुई पांच सिंह साहिबानो की मीटिंग में दिया, इस मामले में बात करते हुए तरसेम सिंह खालसा ने कहा, कि उन्हें शक है, कि इस मामले में शरोमणी गुरुद्वारा कमेटी के प्रधान अवतार सिंह मक्कड़ भी शामिल हैं और उन्हें भी श्री अकाल तख्त साहिब पर तलब किया जाये और जिन्होंने सुनहरी श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी के स्वरूप छापे है और इस मामले से संबंधी लोगों को इस मामले में शामिल किया जाये और उन्हें भी इस मामले में तलब किया जाये, उन्होंने कहा, कि इस मामले जो सुनहरीश्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी के स्वरूप छापे हैं, उन्हें एस,जी,पी,सी ने अपने अधिकार में ले लिया है और उन्हें डर है, कि वह उनके अधिकार में भी सुरक्षित नहीं हैं, उन्होंने कहा, कि हर मामले में दिल्ली कमेटी को ही दोषी माना जाना गलत है, उन्होंने कहा, कि जत्थेदार मक्कड़ भी इस मामले में दोषी हैं और श्री गुरु ग्रन्थ साहिब के  स्वरूप शिरोमणी कमेटी की गाड़ियों में छोड़े गए हैं
      उधर जत्थेदार श्री अकाल तख्त साहिब ने इस मामले की कारवाई को आगे टाल दिया, क्यों कि  इस मामले में प्रकाशन करने वाले सुरिंदर सिंह ढेसी जो कि इस समय इंग्लैंड में रह रहा है, नहीं आने के कारण इस मामले को अगली सुनवाई के लिए टाल दिया गया है, उन्होंने कहा, कि सुरिंदर सिंह ढेसी ने उन्हें सूचना दी है, कि वह इस समय इंग्लैंड में है और उनकी बेटी की शादी होने के कारण वह इस बार इस मीटिंग में नहीं आ सकते और वह अगली मीटिंग में पहुँच जायेंगे, उन्हें आगे की तारीख दे दी जाए गी, उन्होंने कहा, कि उनके आने पर ही इस मामले पर उनका स्पष्टीकरण जानने के बाद अगली कारवाई की जाएगी, उधर इस मामले में उन्होंने एक बात साफ़ कर दी है, कि सुरिंदर सिंह इस मामले में दोषी पाया जा चुका है और इस मामले में अन्य लोगों के खिलाफ भी सख्त से सख्त कारवाई की जाएगी, उन्होंने कहा, कि सुनहरी श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी के प्रकाशन वाले पांच स्वरूप हमारे पास पहुँच चुके हैं और सुरक्षित हैं 

हरिमंदिर साहिब की पावन परिक्रमा में खिंचीं तलवारें


काना ढेसीयाँ के समर्थको और सत्कार कमेटी के लोगों में टला टकराव
 अमृतसर: (गजिंदर सिंह)  पंजाब के जिला जालंधर में पड़ने वाले कस्बे गोराया के काना ढेसीयाँ डेरे में श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी की हजूरी में करवाए गए एक समागम के दौरान, सिख कौम के प्रसिद्ध रागी सरदार जसबीर सिंह पौंटा साहिब वालों के सामने, वहां पर मौजूद संगतों द्वारा गिद्धा और भांगड़ा डाले जाने के मामले में आज श्री अकाल तखत साहिब पर हुई पांच सिंह साहिबानो की मीटिंग में काना ढेसीयाँ डेरे के सेवादार गुरमेज सिंह द्वारा अपनी गलती मान लिए जाने पर, इस गलती के चलते उन्हें धार्मिक सजा सुनाई गयी और उधर इस मामले में भाई जसबीर सिंह पोंटा साहिब के खिलाफ भी कारवाई करते हुए धार्मिक तनखाह लगायी गयी है, इस मामले को लेकर काना ढेसीयाँ के समर्थको और सत्कार कमेटी के लोगों में तू-तू मैं-मैं हो गयी और रोष स्वरूप सत्कार कमेटी के लोगों द्वारा सच्चखंड परिसर में तलवारे खींच ली गयी       
पंजाब के जिला जालंधर में पड़ने वाले कस्बे गोराया के काना ढेसीयाँ डेरे में श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी की हजूरी में करवाए गए एक समागम के दौरान, सिख कौम के प्रसिद्ध रागी सरदार जसबीर सिंह पौंटा साहिब वालों के सामने, वहां पर मौजूद संगतों द्वारा गिद्धा और भांगड़ा डाला गया जैसे किसी जगराते में होता है, इससे श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी में श्रद्धा-भावना रखने वाले और गुरु का आदर-सत्कार करने वाले लोगों के दिल और आस्था को बहुत भारी ठेस पहुंची है, सिखों के सर्वोच्च तख़्त श्री अकाल तख़्त साहिब और शरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी के अदब-सत्कार के लिए एक मर्यादा तय की गयी है और इसी के चलते श्री अकाल तखत साहिब से इस मामले में कारवाई करते हुए आज पांच सिंह साहिबानो की मीटिंग कर इस मामले काना ढेसीयाँ डेरे के सेवादार गुरमेज सिंह द्वारा अपनी गलती मान लिए जाने पर उन्हें धार्मिक सजा सुनाई गयी है, जिसके तहत 51 जपुजी साहिब के पाठ की सेवा लगायी गयी है और उधर इस मामले में भाई जसबीर सिंह पोंटा साहिब के खिलाफ भी कारवाई करते हुए उन्हें धार्मिक तनखाह लगायी गयी है.     
उधर इस मामले को लेकर धार्मिक सजा सुनाये जाने के बाद जब काना ढेसीयाँ के सेवादार अपने समर्थको के साथ बाहर आये तो उनके समर्थको द्वारा जोश में आकर श्री अकाल तख्त साहिब के परिसर में जय-कारो के नारे लगा दिए गए इस मामले को लेकर काना ढेसीयाँ के समर्थको और सत्कार कमेटी के लोगों में तू-तू मैं-मैं हो गयी और रोष स्वरूप सत्कार कमेटी के लोगों द्वारा सच्चखंड परिसर में तलवारे खींच ली गयी और आमने-सामने हो गए, इस मामले में बात करते हुए सत्कार कमेटी के लोगों ने  कहा, कि तनखाहीया घोषित करने के बाद जय-कारो के नारे लगाने गलत हैं और इस मामले में सिंह साहिब को सख्त एक्शन लेना चाहिए और वह इस मामले सिंह साहिब से भी मिलेंगे,  उधर इस मामले में काना-ढेसीयाँ के समर्थको ने कहा, कि अगर गुरु के नाम का जय-कारा लगाना गलत है, तो इसे सिंह साहिबानो द्वारा मना कर दिया जाना चाहिए
     इस मामले में जब सिंह साहिब से बात की गयी तो उन्होंने कहा, कि वह इस मामले की जाँच-पड़ताल करेंगे और इस मामले में सत्कार कमेटी के लोगों को बुला कर समझायेंगे, उन्होंने माना, कि सच्चखंड श्री हरि मंदिर साहिब के परिसर में तलवारे निकले जाना गलत है.
                                                        ### 
जत्थेदार नंदगढ़ ने किया कोर्ट के आदेशो को मानने से इनकार
अमृतसर- (गजिंदर सिंह)  हरियाणा की अदालत द्वारा जत्थेदार बलवंत सिंह नंदगढ़ के खिलाफ नॉन-बेलेबल वारंट जारी किये जाने का मामला तूल पकड़ने लगा है और इस मामले में आज जहाँ जत्थेदार बलवंत सिंह नंदगढ़ ने इस हुक्म को मानने से इनकार कर दिया, वहीँ जत्थेदार श्री अकाल तख्त साहिब ने भी सीधे लफ्जो में इनकार करते हुए कहा, कि जत्थेदार अदालत में नहीं जायेंगे चाहे कुछ भी हो जाये
जत्थेदार बलवंत सिंह नंदगढ़ को हरियाणा में कोर्ट द्वारा जारी किये गए नॉन-बेलेबल वारंट के बारे में आज जब उनसे बात की गयी, तो उन्होंने इस मामले में मीडिया को जवाब देते हुए कहा, कि आज तक सिरसे डेरे वाले साध के खिलाफ कोई कारवाई नहीं की जाती और उन्हें सच बोलने की सजा दी जा रही है, उन्होंने कहा, कि अगर सच कहने वाले पर केस दर्ज किये जाते हैं, तो यही सही है, उन्होंने कहा, कि डेरे वाला साध हथियारों की सिखलाई दे रहा है और उसके खिलाफ सरकार कोई भी करवाई नहीं कर रही, उन्होने कहा, कि सिख कौम के साथ ऐसा किया जा रहा है, उन्होंने कहा, कि वह इस मामले में कोर्ट में नहीं जायेंगे
     उधर इस मामले में बात करते हुए जत्थेदार श्री अकाल तखत साहिब ने कहा, कि जत्थेदार श्री दमदमा साहिब पर जो मामला 2007 में हुआ था और आज तक उन्हें इस बारे में कुछ पता ही नहीं है और न ही उन्हें कोई सम्मन आया है, उन्होंने कहा, कि जत्थेदार कोर्ट नहीं जायेंगे चाहे कुछ भी हो जाये.

Thursday, July 21, 2011

हांसी बुटाना पर सभी पार्टियों की मीटिंग बुलानी चाहिए--मनप्रीत बादल

हांसी-बुटाना नहर के विवाद पर पीपल पार्टी पंजाब सरकार के साथ खड़ी है
अमृतसर (गजिंदर सिंह)  पंजाब और हरियाणा के बीच पनपे हांसी-बुटाना नहर के विवाद पर पीपल पार्टी ऑफ़ पंजाब के मनप्रीत सिंह बादल ने कहा, कि वह पंजाब सरकार के साथ कंधे-से-कन्धा मिलकर खड़े हैं और इस मामले में पंजाब सरकार को सभी पार्टियों की मीटिंग बुलानी चाहिए, आने वाले पंजाब विधान सभा चुनाव में पंजाब और देश के बेहतर भविष्य के लिए पीपल पार्टी ऑफ़ पंजाब  BSP, CPI और CPM से हाथ मिला सकती है, इसका इशारा आज मनप्रीत सिंह बादल द्वारा आज अमृतसर में पत्रकारों के साथ हुई बातचीत में दिया गया, उन्होंने कहा, कि अगर उनकी पार्टी किसी भी पार्टी से समझौता करेगी तो वह सशर्त और एजेंडों पर आधारित होगा, वह आज अमृतसर में एक जनसभा में भाग लेने और उस जनसभा को सम्बोधित करने पहुंचे थे
आने वाले विधान सभा के चुनावो के मद्देनजर सभी पार्टियाँ जनता में अपनी पैठ बनाने के चलते जनता के दरबार में पहुँच रही हैं और इसी के चलते पीपल पार्टी ऑफ़ पंजाब द्वारा भी जनसभाओ का सिलसिला जारी है, आज अमृतसर के चौक लच्छमनसर में पीपल पाटी ऑफ़ पंजाब की जनसभा हुई, जिसमे पीपल पार्टी ऑफ़ पंजाब के मनप्रीत सिंह बादल विशेष तौर पर हिस्सा लेने पहुंचे, उन्होंने इस जनसभा को सम्बोधित करते हुए जहाँ पंजाब के हालातो के बारे में आम जनता को बताया, वहीँ आने वाले विधान सभा चुनाव में उनकी पार्टी की सरकार बनाने के लिए उनका सहयोग करने की अपील भी की, इस जनसभा के बाद मनप्रीत बादल ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा, कि पंजाब और देश के बेहतर भविष्य के लिए पीपल पार्टी ऑफ़ पंजाब भारत की दिग्गज पार्टियों बसपा, भाकपाऔर माकपा से हाथ मिला सकती है, उन्होंने कहा, कि अभी तक उन्हें भाकपा  aur माकपा द्वारा गठबंधन का कोई फोर्मल न्यौता नहीं मिला है, पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवाल पर की, क्या बहुजन समाज पार्टी से गठबंधन हो सकता है, उन्होंने कहा, कि अभी तक गठबंधन के मामले में बहुजन समाज पार्टी द्वारा उनकी पार्टी को कोई भी ऐसा सन्देश या न्यौता नहीं मिला है और अगर बहुजन समाज पार्टी द्वारा उनकी पार्टी को ऐसा सन्देश या न्यौता मिलता है, तो इस बात पर विचार हो सकता है,  पंजाब के बेहतर भविष्य के लिए उनकी पार्टी समझौते के लिए तैयार है, लेकिन सशर्त समझौते के लिए. उन्होंने कहा, कि अगर उनकी पार्टी किसी भी पार्टी से समझौता करेगी तो सशर्त और एजेंडों पर आधारित होगा, उधर अमृतसर के विधायक कंग के दोबारा शिरोमणी अकाली दल में शामिल होने के पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा, कि कंग के बारे में वह कुछ नहीं कह सकते क्यों कि वह उनसे तीन महीने से मिले नहीं हैं और उन्हें जो रिपोर्ट है, कि तीन महीने से विधायाक कंग अपने घर के दहलीज से भी बाहर नहीं निकले हैं, क्यों कि उनकी आँखों में कुछ दिक्कत है और इसके लिए उन्होंने दिल्ली के आल इंडिया इन्सिच्युट में इलाज करवाने जाने की भी बात कही है, उन्होंने कहा, कि उन्होंने एक नयी पार्टी बनायीं है और पीपल पार्टी में उनकी सदस्यता बरकरार है और उनकी पार्टी में 18 लाख आदमी उनकी पार्टी में भर्ती हो चुके है और उनकी भर्ती मुहीम करीब-करीब पूरी हो चुकी है और इसका डेटा अपलोड हो रहा है और इसका काम 31 अगस्त तक पूरा हो जाने की सम्भावना है, उन्होंने कहा, कि कंग के फैसले पर कि वह किस पार्टी को चुनते हैं, पार्टी से निष्कासित कर दिया जायेगा, पंजाब केबिनेट के नए फैसले पर कि प्राइवेट युनिवर्सिटी को 50000 गज जगह से कम करके 15000 गज जगह में बनाये जाने का नया कानून पास किया जा रहा है, उन्होंने इस बारे में किसी भी जानकारी होने से अनभिज्ञता जताई और कहा कि यह यहाँ का लोकल मामला है और वह इस बारे में कुछ नहीं कह सकते
मनप्रीत बादल ने आने वाले विधान सभा चुनाव के बाद पंजाब में अगली सरकार उन्ही की बनने की उम्मीद जताई, उन्होंने कहा, कि पंजाब के मुख्यमंत्री की बार-बार मनप्रीत बादल के बारे करने का कोई तुक नहीं है, जब उन्होंने मनप्रीत को अपनी पार्टी से निकल ही दिया है और मनप्रीत ने अपना रास्ता चुन लिया है तो फिर मनप्रीत चाहे तख्त पर बैठे या न बैठे उन्हें इससे क्या लेना-देना है, यह उनकी समझ से बाहर है, उधर पंजाब और हरियाणा के बीच पनपे हांसी-बुटाना नहर के विवाद पर उन्होंने कहा, कि वह पंजाब सरकार के साथ कंधे-से-कन्धा मिलकर खड़े हैं और उनकी स्पोर्ट करते हैं, उन्होंने कहा, कि इस मामले में पंजाब सरकार को सभी पार्टियों की एक मीटिंग करनी चाहिए और इस मामले में सभी पार्टियों को एक-जुट होकर सामने आना चाहिए, उन्होंने कहा, कि हांसी-बुटाना नहर से पहले 40-45 साल पहले भाखड़ा नहर पर एक प्रपोजल दी थी, कि वह कुछ पानी राजपुरा को देना चाहते हैं और हरियाणा ने तब ऐसा नहीं होने दिया था और अब वही हरियाणा इस मुद्दे को लेकर लड़ रहा है, उन्होंने कहा, कि जातिवाद का मुद्दा वोटों की राजनीति के कारण ही बना है, उन्होंने कहा, कि आजादी की लडाई में जातिवाद नहीं था, तो फिर आज ऐसा क्यों?

बहुत ही श्रद्धा और सत्कार के साथ मनाया गया मीरी-पीरी दिवस


श्री अकाल तख्त साहिब से फिर याद कराया गया मीरी पीरी का संदेश 
अमृतसर: (गजिंदर सिंह)  सिखों धर्म में छठी  पातशाही और मीरी-पीरी के मालिक साहिब श्री गुरु हरगोबिन्द साहिब की तरफ से बिक्रमी संवत 1663 में मीरी तथा पीरी की दो तलवारे धारण करके गुरुता गद्दी पर विराजमान हुए. उन ऐतिहासिक पलों को याद रखते हुए  इस दिन को मीरी-पीरी दिवस के तौर पर सिख कौम बहुत ही  श्रद्धा और उलास के साथ  मनाती  है,  इस के चलते आज श्री अकाल तख्त साहिब पर यह दिवस बड़े श्रद्धा और सत्कार के साथ मनाया गया, इस मौके पर श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ने समूचे सिख कौम को इस पवित्र दिवस पर बधाई देते हुए बाणी और बाणे को धारण करने और गुरु द्वारा बताये गए मार्ग पर चलने की अपील की, इस मौके पर श्री अकाल तख्त साहिब पर करवाए गए समागम में संगत भारी संख्या में भाग लिया.
सिखों के रक्त रंजित और भक्ति भावना से परिपूर्ण इतिहास में पांचवीं पातशाही श्री गुरु अर्जुन देव जी की शहादत के बाद उनके बेटे छठी पातशाही साहिब श्री गुरु हरगोबिन्द साहिब को गुरुता गद्दी पर बिठाया गया, गुरता गद्दी के समागम के दौरान बाबा बुड्डा जी ने साहिब श्री गुरु हरगोबिन्द साहिब को गलती से एक तलवार उनके उलटे हाथ में धारण करवा दी, जब बाबा बुड्डा साहिब को अपनी इस गलती का एहसास हुआ, तो उन्होंने इस तलवार को उतारना चाहा तो गुरु जी ने कहा कि बाबा जी आपने जो किया है वह ठीक है, आप एक तलवार और धारण करवा दो, यह दोनों तलवारे मीरी-पीरी के निशान होंगे और अब सिख कौम को संत सिपाही बनना पड़ेगा, छठी पातशाही ने उस दिन से ही कौम को बाणी और बाणे को धारण करने का हुक्म जारी किया और जुल्म के साथ लड़ने और उसका मुकाबला करने का आदेश भी दिया, 
इसी के चलते वह खुद भी चार बार मुगलों के साथ टकराए और जीत हासिल की, गुरु जी के गुरुता गद्दी दिवस को समूचा सिख जगत मीरी-पीरी दिवस के रूप में मनाता है, इस दिन को समर्पित एक समागम श्री अकाल तख्त साहिब पर करवाया गया, जिसमे भारी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया और गुरु की अमृतमयी बाणी सुन कर अपने जीवन को निहाल किया और गुरु के सामने नतमस्तक होकर गुरु का आशीर्वाद लिया, श्री दरबार साहिब के प्रबंधकों और श्री हरगोबिन्द साहिब शिरोमणी ढाडी सभा की तरफ से इस मौके पर गुरमत समागम सजाये गए, जिसमे श्री अखंड पाठ साहिब के भोग डाले गए और इसके बाद कीर्तन दरबार सजाये गए, जिसमे कौम के महान कीर्तनी जत्थों ने शब्द-कीर्तन कर संगतों को निहाल किया, इस मौके पर श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने सिख कौम को बधाई देते हुए सिख कौम को बणी और बाणे के साथ जुड़ने की अपील की.  
.सिखों के छठे पातशाही श्री गुरु हरगोबिन्द साहिब की गुरुता गद्दी के दिवस पर निकला नगर कीर्तन 
अमृतसर - (गजिंदर सिंह)  छठी पातशाही और मीरी-पीरी के मालिक साहिब श्री गुरु हरगोबिन्द साहिब की तरफ से बिक्रमी संवत 1663 में मीरी तथा पीरी की दो तलवारे धारण करके गुरुता गद्दी पर विराजमान हुए और इस इतिहासिक दिन को समर्पित मीरी-पीरी दिवस को सिख कौम बड़े श्रद्धा और उलास के साथ मानती है, इस के चलते जहाँ आज श्री अकाल तख्त साहिब पर यह दिवस बड़े श्रद्धा और सत्कार के साथ मनाया गया वहीँ श्री गुरु जी के जन्म  स्थान गुरु की वडाली से एक नगर कीर्तन पूरे श्रद्धा के साथ चल कर  सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब पहुंचा, इस नगर कीर्तन में भारी गिनती में संगतों ने भाग लिया, इस नगर कीर्तन में गतका पार्टियों ने अपनी कला के जौहर दिखाए, गौर तलब है की गतका पार्टियों में भाग लेने वाले छोटे छोटे बचे भी इसमें इतनी मुहारत हासिल कर लेते हैं की देखने वाला दंग रह जाता है.इस मौके पर नगर कीर्तन के सम्बन्ध में बात करते हुए नगर कीर्तन की अध्यक्षता कर रहे  जगतार सिंह मान ने इस दिवस के इतिहास के बारे में जानकारी देते हुए कहा, कि आज का यह नगर कीर्तन साहिब गुरु श्री हरगोबिन्द सिंह जी के जन्म स्थान गुरु की वडाली से शुरू होकर अमृतसर के विभिन्न बाजारों से होता हुआ सच्च्खंड श्री हरिमंदिर साहिब में श्री अकाल तख्त साहिब पहुंचा और नमस्तक होकर वापिस गुरु की वडाली में जाकर संपन्न होगा, उन्होंने कहा, कि आज उनके द्वारा 20 वा नगर कीर्तन निकला गया है