Thursday, June 27, 2019

लुधियाना में घर घर तक पहुंच रहा है स्वच्छता अभियान

मैडम कुलजीत कौर की टीम ने सुबह सुबह किया सिविल लाईन्स का दौरा 
लुधियाना: 27 जून 2019: (कार्तिका सिंह//पंजाब स्क्रीन)::
दूध वाला भी जा चुका था और अख़बार वाला भी। अब सुबह सुबह दरवाज़ा किस ने खटखटाया? हैरानी हो रही थी। शायद कोई अचानक आया मेहमान हो। बंद दरवाज़े के अंदर से देखा तो कूड़ा उठाने वाला था। रोज़ की तरह कूड़ादान बाहर ला कर उसे दे दिया। इतने में ही देखा इस बार वह अकेला नहीं है। उसके साथ कुछ और लोग हैं।  घर का कूड़ा किसी बोरी पर उल्टा कर देख रहा  अलग अलग भी कर रहा था। इतने में ही टीम की इंचार्ज एक मैडम आगे आई और उसने समझाया कि गीला कूड़ा अलग रखना है और सूखा कूड़ा अलग रखना है। इस मकसद की सीख देने वाला एक छोटा सा पोस्टर इस अभियान के साथ ही बांटा जा रहा था जिसे हर घर में लगाया जायेगा। 
"स्वच्छ भारत अभियान" के अंतर्गत घर घर पहुंची इस टीम को लीड कर रहीं थी सीएफएस मैडम कुलजीत कौर। हर आम घर से ले कर बड़े बड़े महत्वपूर्ण लोगों के घरों तक पहुंची यह टीम आज एक नई जागृति ला रही थी। यह एक ऐसा अभियान था जिसमें केवल स्वछता ही नहीं बिमारिओं से बचने के गुर भी था। स्वास्थ्य का राज़ घर घर पहुंचाया जा रहा था। 
पार्षद जय प्रकाश और राजू थापर परिवार ने भी इस टीम को सक्रिय सहयोग दिया। इस अभियान के साथ ही यह टीम लोगों को यह भी कह रही है कि टूने टोटकों के चक्कर में जल को दूषित न करें क्यूंकि जल ही जीवन है। इस आशय की एक छोटी सी फिल्म भी बनाई गयी है जो यह संदेश देती है कि जो पंडित या ज्योतिषी लोगों को इस तरह के उपायों के चक्कर में उलझा कर गुमराह कर रहे हैं उनके खिलाफ भी कानून की कार्रवाई हो सकती है। 

Monday, June 24, 2019

नाभा जेल कत्लकांड मामले की जांच रिपोर्ट दो दिनों में

Jun 24, 2019, 3:19 PM
राज्य की तीनों जेलों की सुरक्षा की जिम्मेदारी जल्द ही CRPF के हवाले
लुधियाना: 24 जून 2019 (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::

पंजाब सरकार के सहकारिता और जेल विभागों के कैबिनेट मंत्री स. सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने मास्टर तारा सिंह को पंथ की अजीम षख्सियत का दर्जा देते हुए बताया कि सिख इतिहास में मास्टर जी अकेले ऐसे सिख नेता थे जिन्होंने पंथ की चढ़दी कला के लिए, मैं मरुं पंथ जैसा नारा दिया। 
आज यहां पंजाबी भवन में पंजाब सरकार की तरफ से पंजाबी साहित्य अकादमी लुधियाना के सहयोग से मास्टर तारा सिंह के जन्म दिवस पर करवाए राज्य स्तरीय समारोह को संबोधित करते हुए स. रंधावा ने कहा कि मास्टर तारा सिंह ने अपना सारा जीवन पंथ की चढ़दी कला के लिए लगा दिया। मास्टर तारा सिंह एक ईमानदार और दरवेश राजनीतिज्ञ थे। उन्होंने अपने सभी निजी स्वार्थों को तरफ रख कर सिख कौम खास कर आर्थिक पक्ष से पिछड़े वर्गों को उपर लाने के लिए बहुत प्रयत्न किये। 
स. रंधावा ने पंजाब सरकार का इस बात का धन्यवाद किया कि मास्टर तारा सिंह का जन्म दिवस मनाने के लिए शहर लुधियाना को चुना गया है क्योंकि मास्टर तारा सिंह के जीवन की कई अहम घटनाएँ इस शहर के साथ जुड़ी हुई हैं। उन्होंने सिख कौम से अपील की है कि वह मास्टर तारा सिंह के हर जन्म दिवस को घर -घर में मनाया जाये जिससे उनकी सोच को और आगे लेजाया जा सके। उन्होंने कहा कि पंजाब के अलग आस्तित्व के लिए संघर्ष करने वालों के सपनों का राज्य बनाने के लिए आज हमें दूध और पुत्र को बचाने की जरूरत है। 
इस अवसर पर उन्होंने मास्टर तारा सिंह की रचनाओं को किताबी रूप देने के लिए पंजाब सरकार की तरफ से 5 लाख रुपए जारी करने और मास्टर तारा सिंह की शानदार प्रतिमा गुरू नानक देव यूनिवर्सिटी श्री अमृतसर साहब में स्थापित करने का ऐलान किया। उन्होंने नगर निगम लुधियाना के मेयर स. बलकार सिंह संधू को कहा कि वह जालंधर बाईपास (लुधियाना शहर) स्थित फ्लाईओवर का नाम मास्टर तारा सिंह के नाम पर रखने संबंधी कार्यवाही आरंभ करें। 
आयोजन के बाद पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए स. रंधावा ने बीते दिनों नाभा की नई जेल में डेरा सिरसा के पैरोकार के हुए कत्ल को साजिश होने या ना होने बारे कहा कि इस मामले की जांच की जा रही है, जिसकी रिपोर्ट दो दिनों में मिलने की संभावना है। उन्होंने कहा कि वह इस संबंध में मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह को मिलकर इस घटना की बारीकी से जांच करवाने के लिए कहेंगे। 
उन्होंने कहा कि इस घटना में मारा गया महेन्दरपाल सिंह बिट्टू बेअदबी से सम्बन्धित घटनाओं का कथित तौर पर मुख्य दोषी था, उसके मारे जाने से विशेष जांच टीम (एस. आई. टी.) की तरफ से जा रही जांच भी प्रभावित हो सकती है। विभिन्न गैंगस्टर ग्रुपों की तरफ से बिट्टू की हत्या की जिम्मेदारी लेने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने स्पष्ट किया कि कुछ लोग नाहक ही क्रेडिट वाॅर में लगे हुए हैं। ऐसे लोगों को यह नहीं पता कि हो सकता है कि इस कत्ल के साथ बेअदबी मामलों की तह तक पहुँचने के लिए जरूरी सबूत भी खत्म हो गए हों। 
स. रंधावा ने कहा कि राज्य की तीन जेलों की सुरक्षा की जिम्मेदारी जल्द ही केंद्रीय सुरक्षा एजेंसी सी. आर. पी. एफ. को दी जा रही है, इस संबंधी केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से हरी झंडी मिल गई है। जेलों में बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए पंजाब सरकार की तरफ से लगातार प्रयत्न किये जा रहे हैं। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने उनके विभाग को दो दिन पहले ही 24 करोड़ रुपए जारी किये हैं, जिससे जेलों की सुरक्षा मजबूत करने के लिए नयी भर्ती की जायेगी। इसके अलावा जेल अधिकारियों और सुरक्षा कर्मियों के लिए नये हथियार भी खरीदे गए हैं। 
इससे पहले समागम दौरान विधायक स. कुलदीप सिंह वैद्य, गुरू नानक देव यूनिवर्सिटी के पूर्व उप कुलपति डा. एस. पी. सिंह, जानेमाने इतिहासकार डा. पिृथीपाल सिंह कपूर, पंजाबी साहित्य अकादमी के पूर्व प्रधान और शिरोमणी कवि प्रोफैसर गुरभजन सिंह गिल और मास्टर तारा सिंह के परिवारिक मैंबर बीबी जसप्रीत कौर ने मास्टर तारा सिंह के जीवन, साहित्यक देन और उनके साथ जुड़ी कई घटनाओं का विवरण उपस्थित लोगों के साथ सांझा किया। प्रो. गिल ने मास्टर तारा सिंह के जीवन बारे आने वाली पीढ़ीयों को अवगत करवाने के लिए जरूरी कई माँगें स. रंधावा के माध्यम से पंजाब सरकार के आगे रखी, जिन्हें स. रंधावा ने मौके पर पूरा करने का ऐलान किया। पंजाबी साहित्य अकादमी के प्रधान स. रवीन्द्र सिंह भट्ठल ने उपस्थित लोगों का धन्यवाद किया। 
समागम दौरान विधायक श्री सुरिन्दर डाबर, स. लखबीर सिंह लक्खा (दोनों विधायक), नगर निगम के मेयर स. बलवान सिंह संधू, पूर्व मंत्री स. मलकीत सिंह दाखा, मिल्कफैड के एम. डी. स. कमलजीत सिंह संघा, डिप्टी कमिश्नर श्री प्रदीप कुमार अग्रवाल, अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर श्रीमती नीरू कत्याल गुप्ता, एस. डी. एम. स. अमरिन्दर सिंह मल्ली, जिला कांग्रेस समिति प्रधान श्री अश्वनी शर्मा, श्री के. के. बावा, स. अमरजीत सिंह टीका, मुहम्मद गुलाब, स. हरकरन सिंह वैद्य (सीनियर कांग्रेसी नेता) और अन्य पतिष्ठित व्यक्ति उपस्थित रहे। समारोह दौरान भाई रवीन्द्र सिंह दीवाना ने कवितायों की प्रस्तुति दी।