Saturday, January 20, 2018

रक्षा मंत्रालय//आकस्मिकता निकासी: तिब्बा गुफा//

20th Jan 2018 at 4:12 PM by PIB Delhi
लद्वाख सेक्टर में एक साहसिक केसवाक मिशन का संचालन
लेह स्थित हेलिकॉप्टर यूनिट, ‘ द सियाचिन पायनियर्स‘ 19 जनवरी, 2018 को लेह के लद्वाख सेक्टर में केसवाक मिशन को अंजाम देती हुई।
कल लेह स्थित सियाचिन पायनियर्स: 114 ने लद्वाख सेक्टर में जंस्कार घाटी के दूर दराज के पहुंच वाले क्षेत्रों में एक साहसिक केसवाक मिशन का संचालन किया।
यह हताहत जम चुकी जंस्कार नदी के ऊपर आयोजित ‘चादर ट्रेक‘ का एक हिस्सा था। बेहद कम समय में प्राप्त सूचना के बावजूद,  क्रू संदेश मिलने के शीघ्र बाद हेलिकॉप्टर के जरिये वहां पहुंच गया। बेहद दुर्गम क्षेत्र में होने के कारण इस मिशन के लिए दो हेलिकॉप्टर को बुलाया गया। इसका अर्थ यह है कि अगर एक हेलिकॉप्टर नीचे आया तो दूसरा सहायता के लिए वहां उपस्थित हो। चूंकि निम्न संचार व्यवस्था के कारण उस स्थान के लिए समन्वय उपलब्ध नहीं था, एयरक्रू को बर्फीले पहाड़ों एवं जंस्कार घाटी की दरारों में हताहत की खोज करने के बेहद दुष्कर कार्य से जूझना पड़ा। जैसे ही हताहत को खोज लिया गया-कैप्टन विंग सीडीआर खान ने महसूस किया कि एक बिना तैयार सतह पर तंग घाटी के भूभाग में लैंडिंग एक मुश्किल और खतरनाक कार्य हो सकता है।
इस कठिन परिस्थिति में बिना डिगे एवं यूनिट के इस ध्येय के अनुरूप कि ‘ हम कठिन कार्य तो रूटीन के तहत करते हैं और असंभव कार्य में बस थोड़ा अधिक समय लग सकता है‘ क्रू ने बेहद कम स्थान में वायुयान को उतरने के असाधारण  कौशल का प्रदर्शन किया और हेलिकॉप्टर को खड़े पहाड़ों के बीच में नदी के बगल में चट्टानी रास्ते पर उतार दिया। दूसरे हेलिकॉप्टर ने पहले हेलिकॉप्टर को वायु समर्थन दिया और इस कठिन कार्य कां अंजाम दे दिया गया। हताहत की सफलतापूर्वक निकासी कर दी गई और उसे लेह ले आया गया-इस प्रकार भारतीय वायु सेना के हेलिकॉप्टर द्वारा एक और बहुमूल्य जीवन बचा लिया गया।
(PIB)
वीके/एएम/एसकेजे/एमबी-6402
(रिलीज़ आईडी: 1517312)

Friday, January 19, 2018

टोल प्लाजा अब बोझ नहीं लगेगा आपको

On 19 Jan 2018 at 7:11PM by PIB Delhi
NHAI पर सभी टोल प्लाजा में जल्द ही बनेंगें हाइवे नेस्ट
नयी दिल्ली: 19 जनवरी 2018: (पीआईबी//पंजाब स्क्रीन)::

टोल प्लाजा का नाम दिमाग में आते ही एक फ़िज़ूल सा खर्चा किसी बोझ की तरह आ गिरता है। अब शायद जल्द ही निकट भविष्य में आपकी सोच बदल जाये और आप टोल प्लाजा आने का इंतज़ार करने लगें। थकान भरे लम्बे सफर के बाद राहत और आराम के कुछ पल देगा टोल प्लाजा। 
राजमार्गों का इस्तेमाल करने वाले लोगों की सुविधा के लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) द्वारा संचालित टोल प्लाजा में जल्द ही ऐसे खोखे होंगे जिनमें पीने का पानी, चाय/कॉफी और पैकेट बंद खाना बेचा जाएगा। हाइवे नेस्ट (मिनी) नाम वाले इन खोखों का निर्माण राष्ट्रीय राजमार्ग द्धारा संचालित सभी 372 टोल प्लाजाओं के दोनों तरफ किया जा रहा है। इन खोखों को 10 मीटर x 20 मीटर पक्के चबूतरे पर टोल प्लाजा से करीब 200-250 मीटर की दूरी पर बनाया जा रहा है। इनमें महिलाओं/पुरूषों और शारीरिक रूप से दिव्यांग व्यक्तियों के लिए शौचालय की सुविधा भी होगी।
उदयपुर-चित्तौड़गढ-कोटा मार्ग पर एनएच-76 पर नारायणपुरा टोल प्लाजा और एनएच-65 के हैदराबाद-विजयवाड़ा सेक्शन पर कोरलापहाड़ टोल प्लाजा पर दो हाइवे नेस्ट (मिनी) का उद्घाटन किया जा चुका है। मार्च, 2018 के अंत तक शेष सभी टोल प्लाजाओं पर हाइवे नेस्ट (मिनी) बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

Thursday, January 18, 2018

धरना-प्रदर्शनों पर अनिश्चितकालीन रोक के खिलाफ लामबंदी और तेज़

Thu, Jan 18, 2018 at 4:16 PM 
जनवादी जनसंगठनों की डी.सी. से मीटिंग बेनतीजा रही
लुधियाना प्रशासन के तानाशाह आदेश के खिलाफ़ 30 जनवरी को होगा विशाल रोष प्रदर्शन
लुधियाना: 18 जनवरी 2018: (पंजाब स्क्रीन टीम)::
आज जिला लुधियाना के मज़दूरों, किसानों, मुलाजिमों, नौजवानों, छात्रों, स्त्रियों, बुद्धिजीवियों आदि तबकों के करीब 50 जनवादी जनसंगठनों के एक प्रतिनिधि मण्डल ने डिप्टी कमिश्नर से माँग की है कि लुधियाना में अनिश्चितकाल के लिए धारा 144 लगाने के गैरजनवादी-तानाशाह आदेश को तुरन्त वापिस लिया जाए। दिलचस्प बात यह है कि कि डीसी को यह भी सही ढंग से नहीं पता था कि उनके द्वारा जारी हुए पत्र के मुताबिक पुलिस कमिश्नर, लुधियाना ने क्या आदेश जारी किया है। डीसी ने माना कि यह देखना पड़ेगा कि पुलिस कमिशनर के अनिश्चतकाल के लिए धारा 144 लगाने का अधिकार है भी या नहीं। जनसंगठनों का कहना है कि धारा3 144 कानूनी तौर पर विशेष आपातकालीन परिस्थितियों में ही थोड़े समय के लिए लगाई जा सकती है। लुधियाना पुलिस कमिशनरी में ऐसे हालात नहीं है जिन्हें बहाना बनाकर इस धारा का इस्तेमाल किया जाए। वास्तव में हुक्मरान तरह-तरह के बहानों तले जन-आवाज़ कुचलने की साजिशें रच रहे हैं। लुधियाना पुलिस कमिशनरी में यह धारा लगाकर धरना-प्रदर्शनों पर पाबन्दी लगाना भी इन साजिशों का ही हिस्सा है।
लुधियाना जिला के चार दर्जन से भी अधिक जनवादी-जनसंगठनों द्वारा डिप्टी पुलिस कमिश्नर के कार्यालय पर विशाल रोष प्रदर्शन किया जाएगा। 19 से 29 जनवरी तक सघन प्रचार अभियान चला कर लोगों को लुधियाना प्रशासन के तानाशाह हुक्मों के खिलाफ़ लामबन्द किया जाएगा। 
डीसी लुधियाना के साथ आज हुई मीटिंग में कारखाना मज़दूर यूनियन, जमहूरी किसान सभा, मनरेगा मज़दूर यूनियन, तर्कशील सोसाईटी, रेहड़ी फड़ी युनियन, इंकलाबी केन्द्र पंजाब, एटक, मज़दूर अधिकार संघर्ष अभियान, नौजवान भारत सभा, मोल्डर एण्ड स्टील वर्कर्ज यूनियन, लाल झण्डा बजाज सन्स मज़दूर यूनियन, लाल झण्डा हीरो साईकिल मज़दूर यूनियन, जमहूरी अधिकार सभा, बी.के.एम.यू., पंजाब खेत मज़दूर सभा, लोक मंच पंजाब, कामागाटा मारू यादगारी कमेटी, हौज़री मज़दूर यूनियन, पंजाब रोडवेज इम्पलाईज़ यूनियन (आज़ाद), पंजाब लोक सभ्याचारक मंच, सफाई लेबर यूनियन, जमहूरी किसान सभा, टेक्सटाईल हौज़री कामगार यूनियन, पेंडू मज़दूर यूनियन (मशाल), पंजाब स्टूडेंटस यूनियन, किरती किसान यूनियन, पेंडू मज़दूर यूनियन, म्यूंसीपल वर्कर्ज यूनियन, देहाती मज़दूर सभा, सीटूयू, शहीद भगत सिंह नौजवान सभा, गोरमिंट टीचर्ज यूनियन, रेलवे पेंशनर्ज ऐसोसिएशन, जिस्पोजल वर्कर्ज यूनियन, लाल झण्डा पेंडू चोंकीदार यूनियन, पीप्लज मीडिया लिंक, महासभा लुधियाना, बी.एम.एस., आदि संगठनों के प्रतिनिधि शामिल थे। 
बाद में हुई एक मीटिंग में संगठनों ने कल पत्रकारों पर कार्पोरेशन अधिकारियों द्वारा हुए हमले और दोषी अफसरों के खिलाफ़ पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई न करने की सख्त निन्दा की गई है और माँग की है कि दोषी अफसरों के खिलाफ़ सख्त से सख्त पुलिस कार्रवाई की जाए। 
इस अभियान से जुड़ने के लिए सम्पर्क करें कामरेड लखविन्दर के साथ (मो. नंबर 9646150249)

Sunday, January 14, 2018

जनविरोधी बैंकिंग सुधारों को वापस लेने की मांग


सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के कर्मचारी यूनियन संघ के हस्ताक्षर अभियान कैंप
लुधियाना: 14 जनवरी 2018: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो)::
सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया एम्प्लॉइज यूनियन (नॉर्थ जोन) और सेंट्रल बैंक आफिसर्स यूनियन (चंडीगढ़ जोन) ने संयुक्त रूप से ऑल इंडिया बैंक एम्प्लॉइज एसोसिएशन (एआईबीईए) द्वारा सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के बाहर अभियान के निजाम रोड, लुधियाना में विशेष हस्ताक्षर शिविर का आयोजन किया। उल्लेखनीय है कि यह अभियान बैंकों के तथाकथित सुधारों के खिलाफ शुरू किया गया है, जिससे आम लोगों को बहुत परेशान किया जा सकता है। इस अभियान के तहत, जनता को बैंकों के निजीकरण के बारे में व्याख्या की। यह अभियान 20 जनवरी तक जारी रहेगा। इस अभियान के तहत पंजाब से पांच लाख हस्ताक्षर और पूरे देश में से एक करोड़ हस्ताक्षर  प्राप्त किए जाएंगे और लोकसभा के अध्यक्ष के लिए जन याचिका पेश की जाएगी। बैंकों के साथ जुड़े ग्राहकों, आम लोग इस अभियान का समर्थन कर रहे हैं। शिविर के दौरान एक हजार लोगों ने याचिका पर हस्ताक्षर किए।

लुधियाना में अभियान का नेतृत्व करने वाले नेताओं में कॉमरेड राजेश वर्मा, महासचिव, कॉमरेड एमएस भाटिया - क्षेत्रीय सचिव सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया कर्मचारी संघ (उत्तर क्षेत्र), कॉमरेड गुरुमीत सिंह - उप-महासचिव और कॉमरेड सुनील ग्रोवर क्षेत्रीय सचिव - सेंट्रल बैंक संघ (चंडीगढ़ जोन) शामिल हैं।  लुधियाना की सभी शाखाओं के सदस्यों ने शिविर में भाग लिया। इस शिविर के दौरान, जनता ने बैंकिंग सुधारों के बारे में कई सवाल पूछे, जिनके जवाब आयोजकों द्वारा दिए गए थे।

इस याचिका में एफआरडीआई विधेयक को वापस लेने की मांग शामिल है, जो आम जनता को डराता है। साथ ही, बकाएदारों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की गई, जो बड़े ऋण ले रहे थे और सार्वजनिक पैसा लूट रहे थे। यह मांग की गई थी कि इस तरह के ऋण बकाएदारों का बोझ आम लोगों पर अलग-अलग सर्विस चार्जों को बढ़ाकर नहीं लगाया जाना चाहिए। यह भी मांग की गई थी कि नियमित बैंकिंग सेवाओं को निजी ठेकेदारों को नहीं दिया
जाना चाहिए। इसी प्रकार, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों को निजी क्षेत्रों को सौंपने का विरोध किया गया। बैंक में जमा पैसे पर ब्याज की दर बढ़ाई जानी चाहिए और इस ब्याज पर  आयकर से छूट दी जानी चाहिए। रोजगार निर्माण परियोजनाओं और कृषि क्षेत्र के लिए अधिक ऋण दिया जाना चाहिए।