Tuesday, April 04, 2017

"इंटक" के नाम पर लगाई गई "आप" और वाम दलों में सेंध?

इंटक के वरिष्ठ नेतायों  ने नई नियुक्तियों से पल्ला झाड़ा 
लुधियाना: 4  अप्रैल 2017: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):: 
सत्ता सम्भालने के तुरन्त बाद कांग्रेस ने अपने मज़दूर विंग इंडियन ट्रेड यूनियन कांग्रेस (इंटक) के ज़रिये भी अपना जनाधार मज़बूत करना शुरू कर दिया है। सुविज्ञ सूत्रों की माने तो इस मकसद के लिए उन सभी लोगों की एक लिस्ट बनाई गयी है जो समाज में सक्रिय हो कर कार्य कर रहे हैं और किसी न किसी क्षेत्र में अच्छा नाम कमा चुके हैं। इस लिस्ट को बनाने और इसमें से ख़ास ख़ास लोगों को छांट कर इंटक के ज़रिये कांग्रेस के साथ जोड़ने का अभियान बड़े पैमाने पर शुरू हो चुका है। लुधियाना की हौजरी इंडस्ट्री के मास्टर फ़िरोज़ और नशे के खिलाफ सफल अभियान चलाने वाले संगठन बेलन ब्रिगेड की अनीता शर्मा को सफलता के साथ इंटक के साथ जोड़ा जा चुका है। इस सबन्ध में कई और नियुक्तियां भी हुईं हैं पर क्या इन नियुक्तियों को करने वाले लोग खुद इस मकसद के लिए अधिकृत हैं? यदि राष्ट्रिय अध्यक्ष दिनेश शर्मा हैं तो फिर संसद सदस्य जी संजीवा रेडी कौन हैं जिन्हें इंटक की वेबसाईट पर राष्ट्रिय प्रधान दिखाया गया है? इंटक के पुराने नेता सरबजीत सिंह सरहाली ने कहा है कि हमारे वास्तविक प्रधान संजीवा रेडी ही हैं और नयी नियुक्तियों में सक्रिय लोगो से हमारा कोई सम्बन्ध नहीं। उन्होंने कहा कि  यह लोग पहले भी इस तरह की कोशिशें कर  चुके है। 
गौरतलब है कि बेलन ब्रिगेड प्रमुख अनीता शर्मा को इंटक के महिला विंग का प्रांतीय अध्यक्ष बनाया गया है जबकि मास्टर फ़िरोज़ को इंटक की पंजाब इकाई का महासचिव बनाया गया है। मास्टर फ़िरोज़ और अनीता शर्मा-इन दोनों नेतायों ने आम जनता के साथ बहुत गहरायी से एकजुट हो कर काम किया है। इनको अपने एक एक सदस्य के साथ साथ अन्य लोगों की दयनीय हालत का भी अहसास होता है। इस लिए इनके साथ काम कर चुके लोग इनका सम्मान भी करते हैं। दिलचस्प बात है कि आम आदमी पार्टी मैडम अनीता शर्मा के इस अनुभव का फायदा नहीं उठा सकी और सी पी आई मास्टर फ़िरोज़ के जनाधार की समस्याएं हल करने करवाने में नाकाम रही। परिणाम यह हुआ कि अब ये दोनों नेता भी इंटक के साथ हैं। दोनों को इंटक से काफी उम्मीदें भी हैं पर क्या यह सब इतना आसान होगा? क्या इनको अपने साथ जोड़ने वाली इंटक के नेता सचमुच इस मकसद का अधिकार रखते हैं? 
इंटक चूंकि एक मज़दूर संगठन है इस लिए इसका मुख्य जनाधार भी आम मज़दूर ही हैं। इन मज़दूरों में बहुत से ऐसे हैं जिनके घरों की हालत दयनीय है। ठेकेदारी सिस्टम के चलते इनको पूरा वेतन नहीं मिल पाता। जो मिलता है वो भी शराब के सेवन में उड़ जाता  है। सीवरेज की सफाई के दौरान बहुत से मज़दूर मौत के मुँह में जा चुके हैं और बहुत से गंभीर बिमारियों का शिकार हो चुके हैं। क्या इंटक के नाम पर सक्रिय नया या पुराना गुट इस मकसद के लिए संघर्ष कर पायेगा? अभी भी बहुत से सरकारी और गैर सरकारी मुलाज़िमों/मज़दूरों को बहुत सी समस्यायों का सामना करना पड़ रहा है क्या उन्हें इन्साफ मिलेगा? अमृतसर और मुंबई में वामपंथी मज़दूर संगठन एटक ने घरों में काम करने वाली महिलायों को एकजुट करके उन्हें संगठित किया है और उनके अधिकारों की जंग लड़ी जा रही है क्या इंटक के इन नए नेतायों के पास ऐसा कोई रेकार्ड या कार्ययोजना है?
इसके साथ ही उल्लेखनीय है कि जब दो सितम्बर की देशव्यापी हड़ताल हुई थी तो दोनों बार भारतीय मज़दूर संघ ऐन मौके पर उस हड़ताल से अलग हो गया था लेकिन इंटक ने अन्य मज़दूर संग्रहणों का साथ दिया। इससे मज़दूर भाईचारे में एकता की एक भावना मज़बूत हुई। क्या अब आम आदमी पार्टी और वाम दलों में सेंध लगा कर की जा रही नियुक्तियां इस भाईचारे को नुकसान  नहीं पहुँचायेगी? इन मज़दूर संगठनों में से कौन ज़्यादा शक्तिशाली बन कर सामने आएगा इसका फैसला जहाँ संघर्ष की दृढ़ता करेगी वहीँ कुछ सप्ताह बाद आने वाले मई दिवस पर होने वाली जनतक रैलियों भी बताएंगी कि किसके साथ है मज़दूरों की शक्ति?  
इस सम्बन्ध में पूछे जाने पर इंटक के महिला विंग की नव नियुक्त राज्य प्रधान अनीता शर्मा ने कहा कि श्री रेडी पर कोई मुकद्दमा चल रहा है इस लिए पार्टी हाई कमान ने यह ज़िम्मेदारी श्री दिनेश को सौंपी है। उन्होंने दावा किया कि  राष्ट्रीय प्रधान दिनेश शर्मा सुंदरियाल ही हैं। दूसरी तरफ श्री सरहाली ने कहा कि इंटक के राष्ट्रीय प्रधान हैं-जी संजीव रेडी, पंजाब के अध्यक्ष हैं सुभाष शर्मा, इंटक पंजाब के उपाध्यक्ष हैं-सरबजीत सरहाली, इंटक लुधियाना के प्रधान हैं-धर्मचन्द, इंटक लुधियाना के वर्किंग प्रेजिडेंट हैं-गुरजीत सिंह जगपाल और लुधियाना इंटक के महसचिव हैं-सुरेश सूद।
अब देखना है कि  कांग्रेस पार्टी की हाई कमान इस मामले पर क्या रुख अपनाती है?



श्री राम कथा में दीदी गायत्री ने सभी को किया मन्त्र मुग्ध

बेलन ब्रिगेड प्रमुख अनीता शर्मा ने भी लिया भगवान का आशीर्वाद 
लुधियाना: 3 अप्रैल 2017: (पंजाब स्क्रीन टीम):: 
नवरात्र के पावन अवसर पर लुधियाना में भी राम नाम की गंगा निरन्तर बह रही है। जगह जगह कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं। कारोबारियों का शहर लुधियाना आध्यत्मिक रंग में रंगा हुआ है। इसी सिलसिले में श्री राम कथा का आयोजन हैबोवाल कलां टैंकी वाला पार्क में श्री राम महोत्सव कमेटी की ओर से भी हुआ। इसमें बेलन ब्रिगेड प्रमुख अनीता शर्मा भी विशेष तौर पर शामिल हुईं। कांग्रेस समर्थक मज़दूर संगठन इंटक के महिला विंग का प्रांतीय अध्यक्ष बनने के बाद किसी पब्लिक कार्यक्रम में अनीता शर्मा की यह पहली शमूलियत है। उन्होंने भगवान के चरणों में वन्दन करते हुए मज़दूरों के भले के लिए कुछ ठोस कर दिखाने की शक्ति भी मांगी। बहुत से अन्य धार्मिक, समाजिक और सियासी लोग भी इस दरबार में हाज़री लगवाने पहुंचे। 
इस कार्यक्रम के आयोजन में भी बार बार याद दिलाया गया कि भगवान राम का चरित्र विश्व में सबसे महान है। मर्यदा पुरषोत्तम भगवान राम के पूरे जीवन चरित्र से मानव को बेहद प्रेरणाएं मिलती हैं जिनसे चरित्र को ऊंचा उठाया जा सकता है। वक्तायों ने ज़ोर दिया कि हमें भगवान राम के जीवन चरित्र का अनुसरण करना चाहिए। यह भाव भक्ति योग फाउंडेशन की संस्थापिका गायत्री दीदी ने हैबोवाल कलां टैंकी वाला पार्क में श्री राम महोत्सव कमेटी की ओर से प्रधान सुरिंदर पाल शर्मा की अध्यक्षता में जारी श्री राम कथा के चौथे दिन उपस्थित भक्तों के विशाल समूह को संबोधित करते हुए प्रकट किए। गायत्री दीदी ने कहा कि हमें धार्मिक स्थल पर जाकर वहां की भव्यता नहीं बल्कि दिव्यता की बात करनी चाहिए। मीडिया से एक भेंट के दौरान दीदी गायत्री ने कहा धर्म की दिव्यता का अहसास उसे जीवन में उतारने से होगा। भगवान की चर्चा और धर्म स्थल तो हमें केवल रास्ता दिखाते हैं इन पर चलना तो हमें खुद ही होगा। उन्होंने कहा कि परिवारों में होती कलह और झगड़ों में अपनी ऊर्जा मत गंवायो। खुद ही खुद को नहीं सम्भल पयोगे तो देश को क्या संभालोगे? देश का क्या सँवारोगे? उन्होंने याद दिलाया कि अक्सर मानव अज्ञानता वश मंदिर में जाकर भी भगवान की प्रतिमाओं की सुंदरता का बखान करना शुरू कर देता है जबकि उसे भगवान की दिव्यता का ध्यान करना चाहिए। इस दौरान चेयरमैन सुनील सिंगला, प्रधान सुरिंदर पाल शर्मा, उत्तम चंद जुमवाल, जगदीश भाटिया, पवन सहदेव, अंजलि ठुकराल, अशोक शर्मा, केवल कृष्ण मोदी, सुनील मेहता, शिव कुमार गुप्ता, अशोक गुप्ता, अविनाश चावला ने मेहमानों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।कुल मिला कर आयोजन कामयाब रहा।