Friday, September 30, 2016

भारत का कोई भी इमाम आतंकियों के जनाजे की नमाज न पढ़ाए: उमैर इलियासी

Fri, Sep 30, 2016 at 4:27 PM

कश्मीर का ख्वाब देखना भूल जाए पाकिस्तान : शाही इमाम पंजाब
जामा मस्जिद में पत्रकारों को संबोधत करते हुए चीफ इमाम मौलाना उमैर इलियासी, शाही इमाम पंजाब मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी, नायब शाही इमाम मौलाना उसमान रहमानी लुधियानवीं 
लुधियाना: 30 सितंबर 2016: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):
आज यहां पंजाब के दीनी मरकज जामा मस्जिद लुधियाना में एक ऐतिहासिक बैठक हुई जिसमें आतंकियों के खिलाफ स्पष्ट और आरपार वाला बयान जारी किया गया। चीफ इमाम मौलाना उमैर इलियासी राष्ट्रीय अध्यक्ष आल इंडिया इमाम कौंसिल दिल्ली का जामा मस्जिद लुधियाना पहुंचने पर पंजाब के शाही इमाम ने ज़ोरदार स्वागत किया। जामा मस्जिद पहुंचने पर इमाम उमैर इलियासी व पंजाब के शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी ने जुमे की नमाज के पश्चात पत्रकार सम्मेलन को संयुक्त रूप से संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय फौजियों की ओर से पीओके में किए गए सर्जीकल स्ट्राइक को सही ठहराते हुए इस राष्ट्रीय सुरक्षा की ओर एक बड़ा कदम बताया। पत्रकारों को संबोधित करते हुए मौलाना उमैर इलियासी ने कहा कि ऐसे समय में सभी भारतीय एकजुट है और पाकिस्तान की ओछी हरकतों का मुंह तोड़़ जवाब देने के लिए तैयार है। 
चीफ इमाम मौलाना उमैर इलियासी को सम्मानित करते हुए शाही इमाम पंजाब मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी, नायब शाही इमाम मौलाना उसमान रहमानी लुधियानवीं व अन्य।
मौलाना इलियासी ने कहा कि हम भारत के सभी इमामों से अपील करते है कि वह किसी भी आंतकवादी के जनाजे की नमाज न पढ़ाए और न ही उनको दफनाने के लिए कब्रिस्तान में जगह दी जाए। उन्होनें कहा कि भारत का मुसलमान अपने देश के प्रति सदैव वफादार रहा है और हमेशा वफादार रहेगा। चीफ इमाम उमैर इलियासी ने कहा कि मुझे गर्व महसूस हो रहा है कि मैं आज उस मस्जिद में बैठा हूँ जहां से शाही इमाम पंजाब के पूर्वजों ने स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के खिलाफ फतवा जारी किया था। उन्होनें कहा कि शाही इमाम का परिवार आज भी देश के लिए बलिदान का प्रतीक है। इस मौके पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए पंजाब के शाही इमाम मौलाना हबीब उर रहमान सानी लुधियानवी ने कहा कि हमें गर्व है कि हमारे सैनिकों ने पाकिस्तान के घर में घुस कर उनको मुंह तोड़ जवाब दिया है। उन्होनें कहा कि पाकिस्तान एक बात अच्छी तरह से समझ लें कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और पाकिस्तान कश्मीर का ख्वाब देखना छोड़ दें। शाही इमाम ने कहा कि केन्द्र सरकार को चाहिए कि जिस किसी भी आंतकवादी को जिंदा पकड़ा जाता है उस पर मुकदमा चलाने की बजाय उसको चोराहे पर फांसी लगा दी जाए। शाही इमाम ने राष्ट्रपति से मांग की कि जिन सैनिकों ने पीओके में जाकर सर्जीकल स्ट्राइक को अंजाम दिया है उनको राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित किया जाए।  इस अवसर पर शाही इमाम पंजाब की ओर से चीफ इमाम मौलाना उमैर इलियासी को तलवार भेंट कर सम्मानित किया। इस मौके पर नायब शाही इमाम मौलाना उसमान रहमानी लुधियानवी, गुलाम हसन कैसर, शाहनवाज अहमद, अकरम ढंडारी, बाबुल खान, मास्टर ईदकरीम, कारी मोहतरम, बबलू खान और शाही इमाम पंजाब के मुख्य सचिव मुहम्मद मुस्तकीम अहरारी आदि भी मौजूद थे।

Tuesday, September 27, 2016

लुधियाना फूड पार्क पंजाब को प्रधानमंत्री का उपहार--हरसिमरत कौर बादल

26-सितम्बर-2016 18:15 IST
कहा:पंजाब के कई जिले के किसान एवं प्रोसेसर लाभान्वित होंगे
लुधियाना: 26 सितम्बर 2016: (पीआईबी//पीआरडी//पंजाब स्क्रीन):
केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री श्रीमती हरसिमरत कौर बादल ने सोमवार अर्थात 26 सितंबर, 2016 को लुधियाना मेगा फूड पार्क की आधारशिला रखी, जिसे पंजाब एग्रो द्वारा प्रमोट किया जा रहा है। श्रीमती बादल ने संवाददाताओं को बताया, ‘लुधियाना फूड पार्क पंजाब को प्रधानमंत्री का उपहार है और इससे पंजाब के लुधियाना, फतेहगढ़ साहिब, रूपनगर, एस.बी.एस. नगर, जालंधर, मोगा, संगरूर और बरनाला जिले के किसान एवं प्रोसेसर लाभान्वित होंगे।’ 
पंजाब में खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के विकास को प्रोत्साहन देने के लिए मंत्रालय ने पंजाब राज्य में तीन मेगा फूड पार्क को मंजूरी दी है। इन तीन मेगा फूड पार्कों में शामिल प्रथम मेगा फूड पार्क पहले ही चालू हो गया है, जो फाजिल्का में अवस्थित है। राज्य में एक अन्‍य मेगा फूड पार्क का शिलान्यास केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री श्रीमती हरसिमरत कौर बादल द्वारा आज लुधियाना में किया गया, जिसे मेसर्स पंजाब एग्रो इंडस्‍ट्रीज कॉरपोरेशन लिमिटेड (पीएआईसी) द्वारा प्रमोट किया गया है। एक तीसरे मेगा फूड पार्क (मेसर्स सुखजीत मेगा फूड पार्क) को पंजाब के कपूरथला जिले में मंत्रालय द्वारा अनुमोदित किया गया है। 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के दूरदर्शी मार्गदर्शन में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग को बढ़ावा देने पर अपना ध्यान केंद्रित कर रहा है, ताकि कृषि क्षेत्र का तेजी से विकास हो सके और यह प्रधानमंत्री की ‘मेक इन इंडिया’ पहल को तेज गति प्रदान करने में विकास का इंजन बन सके। खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने एक फोकस क्षेत्र के रूप में खाद्य प्रसंस्करण के लिए आधुनिक बुनियादी सुविधाओं के सृजन की पहचान की है और वह निजी निवेश को प्रोत्साहित कर रहा है। खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए देश में मेगा फूड पार्क स्कीम को लागू करता रहा है। इस मेगा फूड पार्क के तहत लुधियाना में एक सेंट्रल प्रोसेसिंग सेंटर (सीपीसी) है और चार प्राथमिक प्रसंस्करण केन्द्र (पीपीसी) होशियारपुर, अमृतसर, फाजिल्का एवं बठिंडा में स्थापित किए जा रहे हैं, ताकि सुदृढ़ विपणन सुविधाएं प्रदान की जा सकें। मेगा फूड पार्क से 6000 लोगों को प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार उपलब्ध होने और जलग्रहण क्षेत्र में लगभग 25,000-30,000 किसानों के लाभान्वित होने की उम्मीद है। 

इस अवसर पर श्रीमती बादल ने बताया कि यह मेगा फूड पार्क 117.61 करोड़ रुपये की परियोजना लागत के साथ 100.20 एकड़ क्षेत्र में स्थापित किया जाएगा। 

पंजाब के उप मुख्यमंत्री श्री सुखबीर सिंह बादल के अलावा केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति भी इस अवसर पर उपस्थित थीं। 

***

आरआरएस – 4474

Monday, September 26, 2016

जनता ने किया न्याय व्यवस्था का श्राद्ध

Sun, Sep 25, 2016 at 5:54 PM
सुभाष कैटी की पहल से आगे आये लोग 
लुधियाना: 25 सितम्बर 2016: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):  

बहुत बरस पहले एक फिल्म आई थी अँधा क़ानून। शायद 1983 में। वास्तव में यह वर्ष 1981 में बनी एक तमिल फिल्म Sattam Oru Iruttarai का हिंदी रूपांतरण था। हिंदी रूप में मुख्य कलाकार थे रजनीकांत, अमिताभ बच्चन, हेमामालिनी डैनी डेंजोगप्पा, अमरीश पूरी, मदन पूरी, प्रेम चोपड़ा, पॉर्न, धर्मेंद्र, माधवी,  गौतमी, असरानी और ओम शिवपुरी। फिल्म की कहानी कानून व्यवस्था और न्याय प्रणाली को तर्कपूर्ण ढंग से प्रस्तुत करते हुए एकआईना दिखाती है पर जल्द ही लोकप्रिय होने के बावजूद भूल जाती है। दाल रोटी के साज़िशी चक्कर में उलझाया गया आम आदमी अपनी उलझनों में उलझ जाता है। सिस्टम कुछ सबक नहीं सीखता। न्याय दिन-ब-दिन असर रसूख और पैसे वालों का गुलाम होता चला गया। उस आईने को दोबारा उठाया है लुधियाना के एक संघर्षशील व्यक्ति सुभाष कैटी ने। उन्होंने न्याय का श्राद्ध आयोजित किया। 

एक प्रेस विज्ञप्ति में उन्हीने बताया कि आज लुधियाना में लुधियाना सोसाइटी फॉर फ़ास्ट जस्टिस के अध्यक्ष सुभाष कैटी ने अपने घर में न्याय का श्राद्ध किया। जिसमे उनके घर में कई व्यक्ति न्याय के श्राद्ध में आये। जिसमे अमनदीप सिंह बाज़, बरनाला से नरिंदर कुमार बिटटा, रविंदर कुमार, शेर के अध्यक्ष, मुकेश ठाकुर, अरुण क्रांतिवीर, राजेश कुमार क्रांतिवीर, डार्क साइड ऑफ़ इंडियन जुडिशरी के हरमीत सिंह टिंकू व् अन्य जिले से कई लोगो ने श्राद्ध कर्म में हिस्सा लिया। वहाँ भोजन ग्रहण किया। उसके बाद सभी सदस्यों ने वर्धमान मिल के पास फुटपाथ पर बिना ट्रैफिक को रोकते हुए शांतमय ढंग से न्याय का श्राद्ध का मनाया। जिसमें पब्लिक को न्याय व्यवस्था में सुधार के बारे में जागरूक किया गया। बिस्कुट बांटे गए। लोगो में आज इस नए किस्म के श्राद्ध को देखकर लोगो में बड़ा उत्साह देखा गया। उनमे कई लोगो ने सहमति भी जाहिर की। इस अवसर पर याद आती है जाने माने पंजाबी शायर सुरजीत पात्र की पंक्तियाँ:

इस अदालत 'च बन्दे बिरख हो गए,
फैसले सुणदियां सुणदियां सुक्क गए।
आखो इहनां नूं उजड़े घरीं जाण हुण;
एह कदों ठीक एथे खड़े रहिणगे। 
इस श्राद्ध का आयोजन उस समय किया गया है जब काफी समय गुज़र जाने के बावजूद अभी तक नामधारी गुरु माता चन्द कौर,  आर एस एस नेता जगदीश गगनेजा जैसे प्रमुख शख्सियतों के हत्यारों का कुछ पता नहीं चल स्का। श्री गुरु ग्रन्थ साहिब की बेअदबी के ज़िम्मेदारों का भी पता नहीं लगाया जा सका। आम लोगों का इस सिस्टम में क्या हाल होगा-यह श्राद्ध इस बात की खबर देता है। आप इस आंदोलन से जुड़ना चाहें तो इस सब की मुख्य प्रेरणा स्रोत सोनिका क्रांतिवीर से मुम्बई में सीधे भी सम्पर्क कर सकते हैं+91 99209 13965 और पंजाब में सुभाष कैटी का नम्बर है-+91 98729  09200