Monday, November 03, 2014

बिजली निगम की ज़मीन बेचने के विरोध में रोष रैली

Mon, Nov 3, 2014 at 5:39 PM
इंजीनियर्स व इम्पलाइज को-आर्डिनेशन कमेटी ने किया प्रदर्शन 
लुधियाना: 3 नवंबर 2014: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):
पीएसपीसीएल के इंजीनियर्स व इम्पलाइज को-आर्डिनेशन कमेटी ने स्थानीय फिरोज़पुर रोड स्थित मुख्य चीफ इंजीनियर के कार्यालय में पंजाब सरकार व बिजली निगम मैनजमेंट द्वारा किए जा रहे डाउन टाउनशिप प्लान के अंतर्गत ग्लाडा को बेची जा रही बिजली बोर्ड की ज़मीन के विरोध में रैली -प्रदर्शन करते हुए प्रवक्ताओं ने कहा कि बिजली निगम की करोड़ों रुपयों की ज़मीन को बेचने के लिए एड़ी चोटी  का ज़ोर लगाया जा रहा है। उक्त ज़मीन के बिक जाने से जहाँ विभाग के कर्मचारियों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा वहीं आम उपभोक्ता भी परेशानियों का सामना करने के लिए विवश होंगे। उन्होंने कहा कि कथित लुधियाना डाउनटाउन फिरोज़पुर मुख्य मार्ग पर 100 एकड़ ज़मीन जो बहुत उपयोगी और कीमती है,को बेचा जा रहा है। उन्होंने उपमुख्यमंत्री स.सुखबीर सिंह बादल पर आरोप लगाते  हुए कहा कि वह इस ज़मीन को कब्ज़े में लेकर यहाँ मॉल,शॉपिंग काम्पलैक्स,मनोरंजन वाले पार्क आदि बना कर नहर की सुंदरता में इज़ाफ़ा करना चाहते हैं। प्रवक्ताओं के अनुसार इस योजना के पीछे और  भी कई बड़े स्वार्थ हैं,जिनकी पूर्ती के लिए लुधियाना डाउन टाउन बनाने का ढिंढोरा पीटा जा रहा है। उहोने कहा कि लुधियाना में कोई डाउन टाउन नहीं बनेगा यह हमारा दृढ विश्वास है,यह सिर्फ करोड़ों की बिजली निगम की ज़मीन हड़पने की तैयारी है। उन्होंने कहा कि पूरे सौ एकड़ की योजना में से पहले 32 एकड़ जमीन पर कब्ज़ा करने की जल्दी और इस वक्त चल रही है। इस योजना का मुक़्क़मल मास्टर प्लान, नक्शा,खर्च क्या है? इस पर खर्च होने वाले खर्चे की पूर्ती किस तरफ होगी इसके विषय में ग्लाडा की तरफ से अभी तक कोई हिसाब का विवरण तैयार नहीं किया गया है। इस ज़मीन के बिक जाने से बिजली निगम का आर्धिक नुकसान तो होगा ही,उसके साथ साथ उपभोक्ताओं व मुलाजिमों के हित भी प्रभावित्त होंगे। प्रवक्ताओं ने आशंका जताते हुए कहा कि यदि पंजाब सरकार,बिजली निगम की मैनेजमेंट और ग्लाडा के इस पहले हमले को नहीं रोका गया तो 32 एकड़ के बाद 100 एकड़ ज़मीन भाव और 68 एकड़ जो इसी इलाके में आम लोगों की है, को भी धक्केशाही से हथियाने की कोशिश की जाएगी। इस अवसर पर अनेकों बिजली विभाग के कर्मचारी शामिल थे।  

Sunday, November 02, 2014

नहीं दिखा बंद का कोई ज़्यादा असर,बाज़ारों में दिखाई दी चहल-पहल

कुछ जगहों पर करवाया गया जबरदस्ती बंद 
लुधियाना: 1 नवंबर 2014: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो): 
जब 31 अक्टूबर 1984 को कुछ सिख दिल्ली और पंजाब में स्वर्गीय प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी को श्रद्धा सुमन अर्पित कर रहे थे उस समय नवंबर-84 में हुए हत्याकांड को लेकर पंजाब बंद की तैयारी पूरी की जा रही थी। इस मकसद के लिए लुधियाना में नयी कचहरी जैसी सरकारी इमारतों पर भी पोस्टर लगाये गए जहाँ पोस्टर लगाना सख्त मना है। सुनह चार बजे से रेलों का चक्का जाम किया गया जिस से आम जनता को काफी तकलीफ हुई।  चौड़ा बाज़ार,  मार्किट, कंबल मार्किट, परताप बाज़ार, माता रानी चोंक और घंटा घर जैसे क्षेत्र  खुले रहे। दुकानें खोलने वालों में बहुत से सिख कारोबारी भी शामिल थे। लुधियाना के शहरी बाज़ारों में तो यह बंद बुरी तरह नाकाम रहा। कुछ सिख नेताओं और कार्यकर्ताओं को सुबह सुबह बस स्टैंड से ग्रिफ्तार भी किया गया। इनमें मुख्य गवाह बेबे जगदीश कौर, प्रमुख सिख नेता करनैल सिंह पीर मोहम्मद, कर्ज सिंह धर्म सिंह वाला और गुरमुख सिंह सहित करीब 150 अन्य वरके भी शामिल थे। 
गौरतलब कि कुछ सिक्ख संगठनों द्धारा पंजाब बंद की दी गई काल पर आज प्रातः करीब 5 बजे सिक्ख समुदाय के लोग स्थानीय गुरुद्वारा दुःख निवारण साहिब में एकत्र हो गए और अरदास के बाद गुरुद्वारा साहिब के नजदीक दिल्ली-अमृतसर रेल मार्ग पर रोष प्रदर्शन शुरू कर दिया। जिसके चलते गाड़ी संख्या 2460 (दिल्ली सुपर फास्ट ) तथा 15708 (अम्रपाली) के यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। पूरे पंजाब में बंद के फलस्वरूप रेल गाड़ियाँ अपने निर्धारित समय से कई- कई घंटे अपने गणतव्य पर देरी से पहुँची। 


सन 1984 के सिक्ख कत्लेआम पीड़ित वैलफेयर सोसायटी,सिक्ख स्टूडैंट फैडरेशन (मेहता) ऑल इण्डिया सिक्ख स्टूडैंट फैडरेशन(पीर मोहम्मद) के अनेकों कार्यकताओं ने शहर को बंद करवाने के लिए रोष मार्च निकाला और कई जगह पर दुकानो को बंद करवाया। कुछ समय के बाद बाजार में दुकाने फिर खुल गयी। कुछ ही देर बाद फिर सिक्ख नौजवानो ने दुकानदारों को  साथ देने का आग्रह कर दुकाने बंद करवा दी। उनके जाते ही कुछ ही देर बाद बाजार फिर सज गए। शहर के मुख्य बाज़ार चौड़ा बाजार,अकालगढ़ मार्किट,किताब बाज़ार,फीलडगंज,घुमारमंडी,मालरोड,मॉडल टाउन सहित अन्य बाज़ारों में चहल पहल रोज़ की तरह ही दिखाई पडी। किसी अप्रिय घटना से निपटने के लिए जिला पुलिस प्रशासन द्वारा पूर्ण मुस्तैदी दिखाई गयी तथा जगह -जगह पुलिस की टुकड़ियाँ तैनात रही। आल इण्डिया सिक्ख स्टूडैंट फैडरेशन (पीर मोहम्मद) के प्रधान करनैल सिंह,सिक्ख स्टूडैंट फैडरेशन (मेहता) के प्रधान परमजीत सिंह खालसा व सचिव मेजर सिंह खालसा, 1984 सिक्ख कत्लेआम पीड़ित वैलफेयर सोसायटी के प्रधान सुरजीत सिंह  तथा 1984 सिक्ख कत्लेआम पीड़ित वैलफेयर सोसायटी स्त्री विंग की प्रधान बीबी  गुरदीप कौर ने कहा कि 1984 के हुए सिक्ख कत्लेआम के  पीड़ित परिवार अनेकों समस्याओं से गुजर रहे हैं और इस कत्लेआम को करवाने वाले काँग्रेस के नेता सज्जन कुमार को सजा नहीं मिली। समय समय की सरकारें सिक्खों के ज़ख्मों पर मरहम लगाने का काम तो करती रही हैं परन्तु इस मरहम से पीड़ित परिवारों के ज़ख्म भरने वाले नहीं,जब तक इस कत्लेआम के दोषियों को सजा नहीं मिलती सिक्ख पीड़ितों को चैन नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि बेशक देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1984 के सिक्ख दंगा पीड़ित परिवारों को 5- 5 लाख रूपये देने की घोषणा कर उनके ज़ख्मों पर मरहम लगाने का काम किया है जो सराहनीय है परन्तु इसके साथ साथ पंजाब में रह रहे 1984 के दंगा पीड़ितों को भी इसी प्रकार मुआवजा दिया जाए व इस कत्लेआम को हवा देने वालों को अविलंब दण्डित किया जाये।