Wednesday, December 17, 2014

अनीता शर्मा और संजना ने फिर दिखाया महिला शक्ति का जोश

नशे में गाडी चलाने वालो  के साथ सख्ती से निपटा जाय-बेलन ब्रिगेड 
लुधियाना: 17 दिसंबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
जब लोग शीत लहर के कारण हीटर से गर्म किये बंद कमरों में दुबके हुए थे उस समय बेलन ब्रिगेड की प्रमुख  और और भाजपा महिला मंडल की संजना अपनी सहयोगी महिलाओं के साथ सड़कों पर  नशे भरी ड्राईविंग  लोगों को जागरूककर रहे थे। इनको चिंता थी कि नशा व वाहनो की तेज  रफ़्तार से सड़क दुर्घटनाओ में मरने वालो की गिणती  दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।  इन मौतों के कारण उजड़ने वाले परिवारों के दर्द का अहसास करते हुए आज बेलन ब्रिगेड की टीम ने जगराओं पुल ट्रैफिक लाइट चौक पर लगे शशीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव के स्मारक पर संकेतक ट्रैफिक भी जाम किया और बहुत ही शांति पूर्ण ढंग से रोष भी व्यक्त किया। न कोई नारा न कोई हुड़दंग केवल जागरूकता को मकसद बना कर इन लोगों ने राह चलते लोगों 
और ट्रैफिक डयूटी निभा रहे पुलिस कर्मियों का भी दिल जीत लिया। कुछ समय के लिए पुलिस थाना डिवीयन नंबर पांच दुर्गा  माता मंदिर पहुँच  कर कुछ समय के  लोगो को शराब पीकर  व तेज वाहन चलाने वालो की वजह से होने वाली दुर्घटनाओ के बारे जागृत किया।  इस अवसर पर बेलन ब्रिगेड की राष्ट्रीय अध्यक्ष आर्कीटेकेट अनीता शर्मा ने बताया कि सड़को पर वाहनो की संख्या बड़ी तेजी से बढ़ रही है सड़को की चौड़ाई कम होने व  लोगो  दोबारा ट्रैफिक नियमो का पालन  न करना आज की सबसे बड़ी समस्या बन चुकी है दूसरी  तरफ शराब पीकर तेज गाड़ी चलाना दुर्घटनाओ का सबसे बड़ा कारण बन चूका है, सरकार ने हर गली मोहल्ले व गाँव में शराब के ठेके  खोल कर शराबी ड्राइवर लोगो को  पट्रोल पम्प  से पहले शराब पीने के लिए दारू के ठेके मिल जाते है।  ड्राइवर शराब पीकर अन्धा धुधं गाड़िया चलाकर एक दुसरे  के वाहनो को ओवर टेक करते वक्त भयानक दुर्घट्नाय होती है और हजारो लोग इसमें अपनी जान गवा चुके है। 
उन्होंने कहा कि सड़को पर शराब पीकर व स्पीड लीमट से ज्यादा तेज रफ़्तार वाहन चलाने वालो को सख्ती से निपटा जाय और शराब पीकर गाडी चलाने वालो का ड्राइवर लाइसेंस रद्द किया  जाय।  
इस अवसर पर सजना, मंजीत, शालू, दिलजोत कौर, कार्तिका सिंह और बहुत सी अन्य महिलाएं और नवयुवायें भी शामिल थीं। इस आयोजन ने बहुत सी नवयुवतियों को भी अपनी ओर आकर्षित किया। 

Tuesday, December 16, 2014

अचानक सड़क में धंसा चलता हुआ ट्रक

हैबोवाल लुधियाना के दुर्गापुरी क्षेत्र में हुआ हादसा 
लुधियाना: 15 दिसंबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
बाईट: जग्गी (ट्रक ड्राईवर)
कहने को आधुनिक और विकसित युग लेकिन हकीकत में घोटालों से भरा खस्ताहाल समाज। इसका अहसास एक बार फिर हुआ उस समय जब अचानक रास्ते पर जाते ट्रक के पिछले पहिये सड़क में इस तरह धंस गए जैसे नीचे कोई कूयां हो। इलाके के लोगों में इस घटना के बाद शं सा छाया हुआ है क्यूंकि सभी लोग इन्हीं सड़कों से आते जाते हैं। यह इलाका हैबोवाल के दुर्गापुरी क्षेत्र में आता है। 
आप देख रहे हैं ईंटों से भरा एक भारी भरकम ट्रक जिसके पिछले पहिये अचानक सड़क में धंस गए हैं। धंसे भी इतना कि जैसे नीचे कोई कूए जैसा कोई खडडा हो। प्लेन सड़क पर अचानक हुए इस हादसे ने  सड़क लगे मैटीरियल की पोल ज़रूर खोल दी है। अगर इस तरह सड़क अचानक बैठ जाती है तो ज़ाहिर है कि सामग्री घटिया थी या कम थी। हकीकत का पता किसी निष्पक्ष जाँच से ही लग सकता है। 
हादसा हुआ तो ज़ोरदार आवाज़ भी आई देखते ही देखते इलाके के सभी लोग बाहर आ गए। ट्रक में भी कई जगह टूटन दिखाई दी। ट्रक के ड्राईवर जग्गी ने बताया कि वह पहले भी यहाँ आता जाता रहा है लेकिन ऐसा पहली बार हुआ है। आज वह मुल्लांपुर से लुधियाना आया था। 
अब देखना है कि सड़क में पड़े मैटिरयल की निष्पक्ष जांच होती है या नहीं और अगर होती है तो उसमें क्या सामने आता है?


Saturday, December 13, 2014

लुधियाना में दो दिवसीय वैडिंग प्रदर्शनी शुरू

गोल्ड प्लेटिड और डायमंड जड़े iphone 6 ने लुधियानावासियों को लुभाया   
लुधियाना: 13 दिसंबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
चंडीगढ़ में कई दिलों को लुभाने के बाद, ज़ायरा डायमंड्स अब अपने गोल्ड प्लेटिड और डायमंड जड़े Iphone 6 के साथ लुधियानावासियों के दिलों में समाने को तैयारहै। इस सिलसिले में ज़ायरा डायमन्डज़ ने लुधियाना में अपनी प्रदर्शनी की शुरूआत की है। आभूषणों के लिए विश्वसनीय माने जाने वाले ब्रांड ज़ायरा डायमन्डज़ की इसएक्स्क्लूसिव कलेक्शन की प्रदर्शनी का शुभांरभ किया जाने माने उद्योगपति बी सी नागपाल और पंजाबी फिल्मों के मशहूर अभिनेता हेक्टर संधू ने होटल पार्क प्लाज़ामें 13 दिसंबर से दो दिन की प्रीमियम वेडिंग और लाइफस्टाइल प्रदर्शनी में भी इन खास गोल्ड प्लेटिड और डायमंड जड़े आईफोन्स को प्रदर्शित किया जाएगा।
ज़ायरा डायमंड के मनोज जैन के मुताबिक,लुधियाना अपने व्यवसायिक उत्साह के लिए जाना जाता है। साथ ही इस शहर के लोग महंगे गैजेट्स के लिए अपने शौकके लिए भी मशहूर हैं। लुधियानावासियों के इसी शौक के लिए हम यहां खास गोल्ड प्लेटिड और डायमंड जड़े आईफोन्स लेकर आए हैं। इन आईफोन्स की कीमत 90हज़ार से लेकर 6 लाख रुपए तक है। आईफोन्स की कीमतें उनमें जड़े डायमंड की गुणवत्ता और संख्या पर भी निर्भर करती है।"
ये आईफोन्स खरीददारों के लिए अपने महंगे शौक को पूरा करने लायक तो हैं ही साथ ही ये किसी निवेश से भी कम नहीं है. लुधियाना में ज़ायरा डायमंड्स की प्रदर्शनीमें एक ही छत के नीचे लाइफस्टाइल और लक्ज़री आईटम्स पेश किए जाएंगे. इस दौरान ज़ायरा गोल्ड प्लेटिड और डायमंड जड़े पेन, जिनकी कीमत 50,000 से 2 लाख रुपए तक होगी, डायमंड जड़ी स्विस घड़ियां, जिनकी कीमत 2 लाख रुपए से लेकर 10 लाख रुपए तक होगी, ऐसे कई आईटम्स ज़ायरा डायमंड्स की दो दिनों कीप्रदर्शनी में दिखाए जाएंगे।
ज़ायरा के आभूषण IGI मार्क और हॉलमार्क प्रमाणित होते हैं इसीलिए इसकी विश्वसनीयता सौ प्रतिशत खरी होती है. चंडीगढ़ में 2010 में अपने पहले आउटलेट केखुलने के बाद से अब तक ज़ायरा ने आभूषण जगत में काफी नाम कमाया है. वर्तमान में ज़ायरा के पूरे देश में 13 स्टोर हैं और अब कंपनी ने 2015 तक देश के बाकीशहरों में 40 स्टोर शुरु करने का लक्ष्य रखा है।
लुधियाना में आयोजित ज़ायरा डायमन्डज़ की इस प्रदर्शनी में शादी ब्याह के लिए महंगे और शानदार आईटम्स पेश किए गए। इस प्रदर्शनी में महिलाओं और पुरुषों के लिए इटैलियन डिजा़यन की अंगूठियां, और बैंड्स, रिंग कम पेन्डेन्ट्स, पेन्डेन्ट्स कम नेकलेस और कॉकटेल रिंग्स जैसे वो सभी महंगे आईटम्स हैं जिसे अपनी शादीयादगार बनाने के लिए हर महिला या पुरुष खरीदने की चाह रखता हैप्रदर्शनी में आकर यकीकन आप खुद को खरीददारी से रोक नहीं पाएंगे क्योंकि यहां जो आईटम्स हैं उन्हें आप अपने पास ज़रूर देखना चाहेंगे।

जादुई सुधार का चमत्कार दिखाएगी साइक्लिंग

लोगों  के स्वास्थ्य और आर्थिकता में होगा एक बार फिर नया करिश्मा 
लुधियाना: 13 दिसंबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
कोई ज़माना था जब लोग साईकल चलाते थे और उम्र भर रिष्टपुष्ट रहते थे। न जवानी में सांस चढ़ता था और ही बुढ़ापे में घुटने दर्द करते थे। ऐसी बहुत सी खूबियों वाली साईक्लिंग में फिर से नया जोश जगाने का एक विशेष प्रयास हुआ पीएयू में। आइए आपको दिखाते हैं एक विशेष रिपोर्ट। 
आज लोगों ने जो देखा वे साईक्लिंग के चमत्कार हैं जो धीरे धीरे लुप्त हो चुके हैं। पहले इन चमत्कारों को पंजाब की सड़कों पर आम देखा जा सकता था। बच्चों से लेकर बज़ुर्गों तक हर कोई साइक्लि को अपनाये हुए था।  पंजाब में नशे ने अपना जोर बढ़ाया तो हैरोइन और स्मैक जैसे  नशे युवाओं के  गए।  स्मैक, मोबाईल  और मोटरसाईकल पंजाब के  युवाओं की पहली पसंद बन गए। इस तेज़ रफ्तारी और दिखावे के युग ने हमसे साईक्लि लिया और इसके साथ ही छिन  गया लोगों के उम्र भर स्वस्थ रहने का एक शानदार नुस्खा। रही सही कसर साईकल की कीमतों में हुए इज़ाफ़े पूरी कर दी। मोबाईल फोन और इस पर चलती गेमों ने साईकल को एक तरह से अवलुप्त ही कर दिया। अब साईकल बहुत कम दिखते हैं। इसके साथ ही युवाओं का वो जोश और स्वास्थ्य भी गायब हो गया जिसका लोहा साडी दुनिया मानती थी। वो गीत एक बार फिर सही साबित होने लगा---तंग पेंट पतली टांगें--लगती हैं सिगरेट जैसी। युवाओं की हालत बदतर से बदतर होती चली गयी। जिस उम्र में  चुनौतियों को ललकारना ज़माने को और बदलना होता है उस उम्र में युवा  अपना मुँह छुपाये नशे के दरिया में डूब गया।  उस इ नशे के इस नरक से  निकालने के प्रयासों में साईक्लिंग फिर एक उम्मीद बन कर सामने आई है। हमने इस संबंध में एक खिलाडी से भी बात की। 
इस संबंध में एक खिलाडी से बात की तो उसने साईक्लिंग की बहुत सी खूबियों के बारे में बताया। इन बातों का सार यही था कि साइक्लिंग अपनायो--नया स्वास्थ्य अपनायो। इसके साथ ही बचेगा रोज़ रोज़ छोटी छोटी दूरी के लिए होने वाला पैट्रोल//डीज़ल का खर्चा। जाने माने टीवी एंकर//फिल्म अदाकार और शिक्षा विशेषज्ञ कर्मदीप बिरदी हर रोज़ कई कई किलोमीटर साईक्लिंग करते हैं। स्कूटर/बाईक और कार होने के बावजूद वे साइक्लिंग करके हर रोज़ खुद की पसीने में डुबो देते हैं और यही है उनकी सदा बहार जवानी का राज़। दुनिया की परवाह किये बगैर वे अक्सर हर रोज़ खुलेआम साईक्लिंग करते हैं। 
साईक्लिंग के जादू को जगाने वाली इस पहल का उद्द्घाटन किया अकालीदल के वरिष्ठ नेता शरणजीत सिंह ढिल्लों ने।   उनकी इस पहल ने बहुत सी नई आशाएं भी जगाई हैं।उन्हीने कहा कि इस संबंध में कई और कदम भी उठाये जाएंगे। 
इसी तरह जिला परिषद के चेयरमैन भाग सिंह मल्ला भी इस ऐतिहासिक अवसर पर मौजूद थे। उन्होंने भी आश्वासन दिया कि इस मामले में नई कोशिशें होंगीं और साईकल फिर अपना चमत्कार दिखाएगी। 
अब देखना है कि साईकिल इंडस्ट्री सस्ते भाव पर साईकिल उपलब्ध कराकर इस नए अवसर का फायदा उठा पाती है या नहीं?

बांगड़ ने एक बार फिर खोली नगरनिगम लुधियाना की पोल

मीडिया के सामने किया नगरनिगम के कथित घोटाले का नया खुलासा
लुधियाना: 13 दिसंबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
मीडिया से बात करते हुए रमेश बांगड़ 
भ्रष्टाचार के मामलों को अक्सर ही बेनकाब करने वाले रमेश बांगड़ ने एक बार फिर पोल खोली है एक नए मामले की। इस बार उन्होंने निशाना साधा है नगरनिगम पर। उन्होंने मीडिया की  टीम को अपने साथ ले जा कर चीमा चोक की तरफ बंद किये गए पुल का मौका भी दिखाया। मामला बेहद नाज़ुक निकला। अब सवाल उठता है कि घोटालों का पता लगाने की बजाये उन पर लीपापोती का सिलसिला कब तक जारी रहेगा?
जो मौका श्री बांगड़ ने दिखाया वह चीमा चोंक की तरफ बंद किये गए पुल का था। पुल के नीचे नज़र आ रहीं थी  ट्रैफिक जाम की लम्बी लम्बी कतारें। इनमें कोई स्कूल वैन भी हो सकती थी और कोई एम्बूलेंस भी। अगर इलाज में देरी के कारण किसी मरीज़ की मौत होती है तो हो जाये लगता है नगरनिगम को इससे कोई लेना देना नहीं है। नगरनिगम ने अपना तुगलकशाही फरमान सुनाते हुए इस पुल को आनन फानन में बंद कर दिया। जो काम एक या दो दिन में पूरा किया जा सकता 
दुसरे शहरों से आये मुसाफिर सड़कों पर  भटकते हुए 
था उसके लिए दस दिनों का समय भी घोषित कर दिया गया। इस सारे चक्र की कागज़ी करवाई पूरा करने में जो समय लगा वह है अलग। गौरतलब है कि इस पुल के 9 बीम हैं और इस काम के लिए कुछ मज़दूर एक साथ लगाये जाते तो यह काम दो दिन से अधिक का नहीं था। पर यहाँ लगाये गए केवल दो-चार मज़दूर। 
श्री बांगड़ ने इस पुल पर चल रहे काम का जायज़ा लेते हुए इसकी झलक मीडिया को भी दिखाई। उन्होंने पुल की दीवारों पर लगे सीमेंट का हाल दिखाते हुए यहाँ हुए भ्रष्टाचार की हकीकत भी दिखाई। उन्होंने सवाल भी किया कि अगर 50 वर्षों से चल रहे जगराओं पुल को कभी मुरम्मत की ज़रूरत नहीं ई तो केवल दस वर्ष पूर्व बने इस पुल के गिरने का अंदेशा कहाँ से पैदा हुआ?  ज़ाहिर है कि यदि ऐसा गंभीर खतरा पैदा हुआ है तो फिर यहाँ कोई बहुत बड़ा घपला दस वर्ष पूर्व इसके निर्माण के समय ही हुआ होगा। श्री बांगड़ ने बहुत ही आसानी से पुल पर लगे सीमेंट को उखाड़ कर भी दिखाया कि कैसे यह पलस्तर मिटटी की तरह उखड़ा जा रहा है। 
अब देखना है कि सरकार इसका तुरंत नोटिस लेकर इस घपले की जांच करवाती है या इसको भी ठंडे बस्ते में डाल दिया जाता है?

Monday, December 01, 2014

चार साहिबजादे की प्रमोशन के साथ जुड़े कई और संगठन

पत्रकार सम्मेलन में आलोचना का निशाना बना कटटरवाद
लुधियाना:1 दिसंबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन): 
धार्मिक कटटरवाद एक बार फिर समाज के निशाने पर है। बहुत से सिख बुद्धिजीवियों ने कटटरता की सख्त शब्दों में निदा  की और सिख सिद्धांत को समझने पर ज़ोर दिया। इसके साथ ही चार साहिबजादे फिल्म को घर घर तक पहुँचाने का अभियान भी तेज़ किया गया।
शायद पंजाबी फिल्मों के इतिहास में पहली बार हुआ की प्रशसंकों और बुद्धिजीवियों ने मिलकर खुद ही एक मीडिया सम्मेलन किया जिसमें फिल्म की प्रमोशन के साथ साथ कटटरवाद को भी आड़े हाथों लिया गया। इसमें मौजूद बुद्धिजीवी गुरभजन सिंह गिल, डाक्टर अनुराग सिंह, शिक्षण संस्थानों की ओर से जगतार सिंह, इंडस्ट्री की करते तरफ से डीएस चावला, मंच संचालक डाक्टर  रणजोध सिंह और डाक्टर सीबिया कटटरवाद के खिलाफ खुल कर सामने आये। जानेमाने लेखक गुरभजन गिल से जब इस चर्चा की शुरुआत हुई तो उन्होंने पंजाबी फिल्मों के अतीत की भी चर्चा की साथ ही धन्यवाद भी दिया की अब जबकि चार साहिबजादे नामक फिल्म ने एक नया इतिहास रचा है तो शुक्र है कि कोई पागल व्यक्ति कुल्हाड़ा लेकर इसके खिलाफ खड़ा नहीं हुआ।  हम इस बात के लिए आभारी हैं।

इसके साथ ही जानेमाने उद्योगपति डी एस चावला ने गुरु इतिहास की चर्चा करते हुए बहुत सी अर्थपूर्ण बातें की और कटटरता को नकारा।

रामगढ़िया एजूकेशन कोंसिल की तरफ से जगतार सिंह ने भी यही कि वास्तव में सिख धर्म में कटटरता के लिए कोई स्थान नहीं।
जानेमाने इतिहासकार डाक्टर अनुराग सिंह ने भी कटटरता को नकारते हुए कहा कि यूट्यूब पर तरह तरह की बेहूदा बातें  करने वालों को अगर सामने आकर बात करने के लिए कहें तो वे मैदान छोड़कर भाग जाते हैं।  
मंच संचालन कर रहे डाक्टर रणजोध सिंह ने सिख धर्म के सिद्धांत को घर घर तक पहुँचाने वाली इस शानदार फिल्म चार साहिबजादे का उल्लेख करते हुए कटटरता की निंदा की और सलाह भी दी कि भविष्य में इस फिल्म  को पैमाना बनाया जाना चाहिए अब जो भी धार्मिक फिल्म बने वह इससे कम दर्जे की नहीं होनी चाहिए। इस फिल्म को एक स्टैंडर  पर रखा जाना चाहिए।
इस ऐतिहासिक अवसर पर गुरुघर के क्लीन शेव्ड श्रद्धालु राजीव साहनी भी मौजूद थे जिन्होंने इस  प्रमोशन के लिए कैलेंडर, छल्ले, मैग्नेट, पज़ल, तीर कमान, खड्ग और ढाल के साथ साथ पेन ड्राईव जैसे  भी  तैयार किये।
बाईट: राजीव साहनी (गुरु घर के अनिनय भक्त उअर प्रमोशन प्रोडक्ट के कंट्रीब्यूटर)
उम्मीद करनी चाहिए कि इस फिल्म के बहाने मुद्द्त के बाद एकजुट हुआ सिख समुदाय कटटरवाद के खिलाफ नई हवा पैदा करने में कामयाब होगा। 

कहीं174 की कार्रवाई असरदायिक लोगों का हथियार तो नहीं बन रही?

मिशी किरण कालिया की मौत का मामला फिर गर्माया 
मौत के खिलाफ परिवार ने फिर लगाई इन्साफ की गुहार  
लुधियाना: 1 दिसंबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
हादसा या हत्या 
पुलिस की तरफ से अक्सर की जाती 174 की करवाई कहीं असरदायिक लोगों का हथियार तो नहीं बन रही? यह सवाल आज दिवंगत युवक मिशी कालिया के परिवार की ओर से बुलाई गई प्रेस कांफ्रेंस में एक बार फिर उभर कर सामने आया। गौरतलब है कि मिशी कालिया की रहस्यमयी मौत एक सड़क हादसे में हुई बताई गयी थी। मृतक युवक के परिवार ने इसे एक साज़िशन हत्या बताते हुए अपना आरोप दोहराया कि पुलिस ने किसी के प्रभाव में आ कर 174 की कार्रवाई की आड़ में सारा मामला रफादफा कर दिया है। 
आज के पत्रकार सम्मेलन में माहौल बेहद सोगवार था। रहस्यमयी मौत का शिकार हुए मिशी कालिया की मौत पर फिर से चर्चा हो रही थी। मिशी की उम्र 27 अभी केवल 27 वर्ष थी। उसे अभी पूरी ज़िंदगी जीनी थी। उसने बहुत से सपने देखे थे। ज़िंदगी में बहुत कुछ कर दिखाने के इरादे और वायदे भी थे। परिवार को उससे बहुत सी उमीदें थीं। 
अचानक एक दिन आधी रात को उसके हादसे की खबर आई। उसका परिवार अस्पताल पहुंचा।  परिवार को बताया गया कि उसका इलाज चल रहा है। दोपहर होते होते उसकी मौत की पुष्टि कर दी गई। मिशी कालिया की मां मीनू कालिया ने आरोप लगाया कि उनके साथ अस्पताल में भी छल हुआ और पुलिस विभाग में भी। मीनू ने बताया कि उनके बेटे की मौत के बाद भी अस्पतालमेंइलाज का बहन जारी रखा गया। शव मुर्दाघर में था लेकिन हमें इलाज की बात कह कर महंगी दवाएं मंगवाई जाती रहीं। 
मीनू कालिया ने स्पष्ट कहा कि वह इन्साफ लिए बिना चुप नहीं बैठेगी। जिन लोगों ने  हमारा बुढ़ापे का सहारा छीना है हम उन्हें चैन से नहीं बैठने देंगे। हमारा संघर्ष आखिरी सांस तक जारी रहेगा।
अब देखना है कि 174 की करवाई को लेकर लगातार बढ़ रहा जन असंतोष सरकार  को इस मामले में किसी नए कदम के लिए तैयार कर पाता है या नहीं?

Thursday, November 20, 2014

अभद्र टिप्पणी का मामला गर्माया -बाजवा के खिलाफ प्रदर्शन शुरू

लुधियाना में भाजपा महिला मोर्चा ने फूंका बाजवा का पुतला
लुधियाना: 19 नवंबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
कांग्रेस के राज्य अध्यक्ष प्रताप सिंह बाजवा ने जब भाजपा में शामिल हुई एक कांग्रेसी वर्कर पर अभद्र टिप्पणी की तो इसका विरोध काम से काम कांग्रेस में तो  था क्यूंकि यह मामला सियासी न हो कर महिला सम्मान और विचारों की स्वतंत्रता का था। किसी भी दल की विचारधारा अच्छी लगने पर उसमें शामिल होना महिला का अधिकार है।

इस अभद्र टिप्पणी पर कांग्रेस पार्टी और इसके नेता तो कुछ नहीं बोले लेकिन भाजपा से सबंधित महिला  कड़ा नोटिस लिया। केवल नोटिस ही नहीं लिया बल्कि कांग्रेस के पंजाब प्रमुख प्रताप सिंह बाजवा के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन भी किया। इस प्रदर्शन  उनका पुतला भी फूंका गया। प्रदर्शन में शामिल महिलाओं की संख्या बेशक कम थी पर जितनी महिलाएं थीं वे वहां दिल से मौजूद थीं। यह कम संख्या इस बात का सबूत कि भाजपा ने सत्ता में होने के बावजूद भाड़े पर भीड़ एकत्र नहीं की।
इस अवसर पर इस प्रदर्शन की अगवानी कर रही साक्षी जुल्का ने अपने तीखे तेवरों में चेतावनी दी कि महिला सम्मान पर किसी भी तरफ से आंच नहीं आने दी जाएगी।
BJP  महिला मोर्चा: साक्षी जुल्का ने दी अपने तीखे तेवरों में चेतावनी 

Wednesday, November 19, 2014

नेशनल अर्बन हेल्थ मिशन की पंजाब में शुरुआत 21 से

Wed, Nov 19, 2014 at 8:24 PM
केंद्रीय योजना का लाभ लेंगें राज्य भर में 41 शहरों के 76 % लोग-ज्याणी 
लुधियाना, 19 नवंबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
पंजाब सरकार द्वारा केंद्रीय योजना नेशनल अर्बन हैल्थ मिशन की शुरूआत 21 नवंबर से की जा रही है , इस संबंधी एक समागम का आयोजन ढोलेवाल चौंक नज़दीक भगवान नगर, लुधियाना में की जा रही है। इस योजना संबंधी जानकारी देते हुये स्वास्थय एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री सुरजीत कुमार ज्याणी ने बताया कि इस योजना तहत राज्य भर के 50 हज़ार या इससे अधिक जनसंख्या वाले शहरों को कवर किया जायेगा। इस केंद्रीय योजना तहत शहरी क्षेत्रों में बसते गरीब एवं अन्य जरूरतमंद परिवारों को सस्ती और गुणात्मक सुविधांए मुहैया करवाई जायेंगी। श्री ज्याणी ने बताया कि राज्य भर में 78.83 लाख लोगों (76 प्रतिश्त) को कवर किया जायेगा जिसमें 35.96 लाख गरीब बस्तियों के वासी, कूड़ा एकत्र करने वाले, रिक्शा चालक, बेघर और गलियों के आवारा घूमते बच्चे शामिल हैं। उन्होंने कहा कि 1500 से 2000 तक की प्रत्येक गरीब बस्ती की आबादी को कवर करने के लिए एक आशा वर्कर और 10000 तक की आबादी को कवर करने के लिए ए एन एम लगाये जायेंगे।
इसके अतिरिक्त 50000 की आबादी के पीछे एक प्राथमिक स्वास्थय केंद्र तथा 2.50 लाख या इससे अधिक आबादी को कवर करने के लिए समुदायिक स्वास्थय केंद्र स्थापित किया जायेगा। श्री ज्याणी ने बताया कि इस योजना तहत आगामी वर्ष और पी एच सीज़ और सी एच सीज़ स्थापित किये जायेंगे। इसी वित्तीय वर्ष में यह योजना पी एच सीज़ और सी एच सीज़ में आरंभ की जायेगी और इन केंद्रों को जरूरत अनुसार अपग्रेड किया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस योजना को लागू करने के लिए 80 करोड़ रुपये खर्चे जायेंगे। शहर लुधियाना में आगामी वर्ष 6 सी एच सीज़ और बनाये जायेंगे। शुरूआती चरण में लुधियाना, जालंधर और अमृतसर सहित 41 शहरों में यह योजना आरंभ की जा रही है। इसके अतिरिक्त प्रत्येक गरीब बस्ती में मासिक आउटरीच शिविर लगाये जायेंगे। जहां उच्च स्तर की स्वास्थय सुविधांए मुहैया करवाई जायेंगी।
------

Tuesday, November 18, 2014

ख़ुशी राम एंड सन्ज़ को लूटने वालों के स्केच जारी

जल्द काबू में होंगें फ़िल्मी ढंग से लूटने  वाले लुटेरे 
लुधियाना: 18 नवंबर 2014: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):
बेहद फ़िल्मी अंदाज़ में दिन दहाड़े शहर के जाने मने व्यापारी और स्वीटस किंग ख़ुशी राम एंड सन्ज़ को उनके ही घर में लुटेरे आराम से लूट ले गए। लूट का यह सारा प्रकरण ख़ुशी राम एंड सन्ज़ की सराभा नगर स्थित रिहायश पर हुआ। हालांकि पुलिस के हाथ अडर इन कानून का भी तक कोई सुराग नहीं लगा लेकिन पुलिस का दावा है कि लुटेरे जल्द ही कानून के शिकंजे में होंगें। गौरतलब है कि इस वारदात को चार दिन गुज़र चुके हैं और जाँच पड़ताल का काम ज़ोर शोर से जारी है। पुलिस ने आज एक पत्रकार सम्मेलन उनके स्केच भी जारी किये।  सिंगल विंडो में बुलाये गए एक पत्रकार सम्मेलन में ए सी पी क्राईम जसविंदर सिंह ने बताया कि पुलिस इस मामले के सभी पहलुओं की पूरी घंटा से जाँच कर रही है। उन्होंने बताया कि 15 से 20 लाख रूपये की रकम लूटी गयी है। उन्होंने कहा की जाँच के दौरान मिली जानकारी के आधार पर ही लुटेरों के स्केच जारी किये गए। ये स्केच हर पुलिस स्टेशन में पहुंचा दिए गए हैं। इससे पुलिस को काफी सहायता मिलेगी। उन्होंने बताया कि स्केच में जो एक जवान सरदार नज़र आ रहा है उसी ने पुलिस की वर्दी पहन रखी थी जबकि दूसरा लुटेरों की अगवाई कर रहा था।इसमें कोई शक नहीं कि पुलिस जल्द ही लुटेरों को पकड़ लेगी और लूटी गयी रकम भी बरामद कर लेगी पर यह सवाल लगातार गंभीर होता जा रहा है कि लगातार बढ़ रही पुलिस फ़ोर्स की सख्ती के बावजूद जुर्म की दुनिया में पुलिस और कानून का डर क्यों नहीं पैदा हो रहा? कहीं इसका कारण मुजरिमों को अपने सियासी आकाओं की कथित पुश्त पनाही पर अगाध विश्वास तो नहीं?ਨੂੰ ਲੁੱਟਣ ਵਾਲਿਆਂ ਦੇ ਸਕੈਚ ਜਾਰੀ

Monday, November 17, 2014

जब वह देता है तो छप्पर फाड़ के देता है........

उसकी रज़ा के रंग हमारी बुद्धि की समझ में समाने वाले नहीं होते 
एक मित्र Ashish S ने पोस्ट किया।
एक बच्चा अपनी माँ के साथ एक दुकान पर
शॉपिंग करने गया तो दुकानदार ने
उसकी मासूमियत देखकर
उसको सारी टॉफियों के डिब्बे खोलकर
कहा-: "लो बेटा टॉफियाँ ले लो...!!!"
पर उस बच्चे ने भी बड़े प्यार से उन्हें मना कर दिया. उसके बावजूद उस दुकानदार
ने और उसकी माँ ने भी उसे बहुत कहा पर
वो मना करता रहा. हारकर उस दुकानदार ने
खुद अपने हाथ से टॉफियाँ निकाल कर
उसको दीं तो उसने ले लीं और अपनी जेब में
डाल ली....!!!!
वापस आते हुऐ उसकी माँ ने पूछा कि"जब
अंकल तुम्हारे सामने डिब्बा खोल कर
टाँफी दे रहे थे , तब तुमने नही ली और जब
उन्होंने अपने हाथों से दीं तो ले ली..!!
ऐसा क्यों..??"
तब उस बच्चे ने बहुत खूबसूरत प्यारा जवाब दिया -: "माँ मेरे हाथ छोटे-छोटे हैं... अगर मैं
टॉफियाँ लेता तो दो तीन
टाँफियाँ ही आती जबकि अंकल के हाथ बड़े
हैं इसलिये ज्यादा टॉफियाँ मिल गईं....!!!!!"
बिल्कुल इसी तरह जब भगवान हमें देता है
तो वो अपनी मर्जी से देता है और वो हमारी सोच से परे होता है,
हमें हमेशा उसकी मर्जी में खुश
रहना चाहिये....!!!
क्या पता..??
वो किसी दिन हमें पूरा समंदर
देना चाहता हो और हम हाथ में चम्मच लेकर खड़े हों....

Monday, November 03, 2014

बिजली निगम की ज़मीन बेचने के विरोध में रोष रैली

Mon, Nov 3, 2014 at 5:39 PM
इंजीनियर्स व इम्पलाइज को-आर्डिनेशन कमेटी ने किया प्रदर्शन 
लुधियाना: 3 नवंबर 2014: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):
पीएसपीसीएल के इंजीनियर्स व इम्पलाइज को-आर्डिनेशन कमेटी ने स्थानीय फिरोज़पुर रोड स्थित मुख्य चीफ इंजीनियर के कार्यालय में पंजाब सरकार व बिजली निगम मैनजमेंट द्वारा किए जा रहे डाउन टाउनशिप प्लान के अंतर्गत ग्लाडा को बेची जा रही बिजली बोर्ड की ज़मीन के विरोध में रैली -प्रदर्शन करते हुए प्रवक्ताओं ने कहा कि बिजली निगम की करोड़ों रुपयों की ज़मीन को बेचने के लिए एड़ी चोटी  का ज़ोर लगाया जा रहा है। उक्त ज़मीन के बिक जाने से जहाँ विभाग के कर्मचारियों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा वहीं आम उपभोक्ता भी परेशानियों का सामना करने के लिए विवश होंगे। उन्होंने कहा कि कथित लुधियाना डाउनटाउन फिरोज़पुर मुख्य मार्ग पर 100 एकड़ ज़मीन जो बहुत उपयोगी और कीमती है,को बेचा जा रहा है। उन्होंने उपमुख्यमंत्री स.सुखबीर सिंह बादल पर आरोप लगाते  हुए कहा कि वह इस ज़मीन को कब्ज़े में लेकर यहाँ मॉल,शॉपिंग काम्पलैक्स,मनोरंजन वाले पार्क आदि बना कर नहर की सुंदरता में इज़ाफ़ा करना चाहते हैं। प्रवक्ताओं के अनुसार इस योजना के पीछे और  भी कई बड़े स्वार्थ हैं,जिनकी पूर्ती के लिए लुधियाना डाउन टाउन बनाने का ढिंढोरा पीटा जा रहा है। उहोने कहा कि लुधियाना में कोई डाउन टाउन नहीं बनेगा यह हमारा दृढ विश्वास है,यह सिर्फ करोड़ों की बिजली निगम की ज़मीन हड़पने की तैयारी है। उन्होंने कहा कि पूरे सौ एकड़ की योजना में से पहले 32 एकड़ जमीन पर कब्ज़ा करने की जल्दी और इस वक्त चल रही है। इस योजना का मुक़्क़मल मास्टर प्लान, नक्शा,खर्च क्या है? इस पर खर्च होने वाले खर्चे की पूर्ती किस तरफ होगी इसके विषय में ग्लाडा की तरफ से अभी तक कोई हिसाब का विवरण तैयार नहीं किया गया है। इस ज़मीन के बिक जाने से बिजली निगम का आर्धिक नुकसान तो होगा ही,उसके साथ साथ उपभोक्ताओं व मुलाजिमों के हित भी प्रभावित्त होंगे। प्रवक्ताओं ने आशंका जताते हुए कहा कि यदि पंजाब सरकार,बिजली निगम की मैनेजमेंट और ग्लाडा के इस पहले हमले को नहीं रोका गया तो 32 एकड़ के बाद 100 एकड़ ज़मीन भाव और 68 एकड़ जो इसी इलाके में आम लोगों की है, को भी धक्केशाही से हथियाने की कोशिश की जाएगी। इस अवसर पर अनेकों बिजली विभाग के कर्मचारी शामिल थे।  

Sunday, November 02, 2014

नहीं दिखा बंद का कोई ज़्यादा असर,बाज़ारों में दिखाई दी चहल-पहल

कुछ जगहों पर करवाया गया जबरदस्ती बंद 
लुधियाना: 1 नवंबर 2014: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो): 
जब 31 अक्टूबर 1984 को कुछ सिख दिल्ली और पंजाब में स्वर्गीय प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गांधी को श्रद्धा सुमन अर्पित कर रहे थे उस समय नवंबर-84 में हुए हत्याकांड को लेकर पंजाब बंद की तैयारी पूरी की जा रही थी। इस मकसद के लिए लुधियाना में नयी कचहरी जैसी सरकारी इमारतों पर भी पोस्टर लगाये गए जहाँ पोस्टर लगाना सख्त मना है। सुनह चार बजे से रेलों का चक्का जाम किया गया जिस से आम जनता को काफी तकलीफ हुई।  चौड़ा बाज़ार,  मार्किट, कंबल मार्किट, परताप बाज़ार, माता रानी चोंक और घंटा घर जैसे क्षेत्र  खुले रहे। दुकानें खोलने वालों में बहुत से सिख कारोबारी भी शामिल थे। लुधियाना के शहरी बाज़ारों में तो यह बंद बुरी तरह नाकाम रहा। कुछ सिख नेताओं और कार्यकर्ताओं को सुबह सुबह बस स्टैंड से ग्रिफ्तार भी किया गया। इनमें मुख्य गवाह बेबे जगदीश कौर, प्रमुख सिख नेता करनैल सिंह पीर मोहम्मद, कर्ज सिंह धर्म सिंह वाला और गुरमुख सिंह सहित करीब 150 अन्य वरके भी शामिल थे। 
गौरतलब कि कुछ सिक्ख संगठनों द्धारा पंजाब बंद की दी गई काल पर आज प्रातः करीब 5 बजे सिक्ख समुदाय के लोग स्थानीय गुरुद्वारा दुःख निवारण साहिब में एकत्र हो गए और अरदास के बाद गुरुद्वारा साहिब के नजदीक दिल्ली-अमृतसर रेल मार्ग पर रोष प्रदर्शन शुरू कर दिया। जिसके चलते गाड़ी संख्या 2460 (दिल्ली सुपर फास्ट ) तथा 15708 (अम्रपाली) के यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। पूरे पंजाब में बंद के फलस्वरूप रेल गाड़ियाँ अपने निर्धारित समय से कई- कई घंटे अपने गणतव्य पर देरी से पहुँची। 


सन 1984 के सिक्ख कत्लेआम पीड़ित वैलफेयर सोसायटी,सिक्ख स्टूडैंट फैडरेशन (मेहता) ऑल इण्डिया सिक्ख स्टूडैंट फैडरेशन(पीर मोहम्मद) के अनेकों कार्यकताओं ने शहर को बंद करवाने के लिए रोष मार्च निकाला और कई जगह पर दुकानो को बंद करवाया। कुछ समय के बाद बाजार में दुकाने फिर खुल गयी। कुछ ही देर बाद फिर सिक्ख नौजवानो ने दुकानदारों को  साथ देने का आग्रह कर दुकाने बंद करवा दी। उनके जाते ही कुछ ही देर बाद बाजार फिर सज गए। शहर के मुख्य बाज़ार चौड़ा बाजार,अकालगढ़ मार्किट,किताब बाज़ार,फीलडगंज,घुमारमंडी,मालरोड,मॉडल टाउन सहित अन्य बाज़ारों में चहल पहल रोज़ की तरह ही दिखाई पडी। किसी अप्रिय घटना से निपटने के लिए जिला पुलिस प्रशासन द्वारा पूर्ण मुस्तैदी दिखाई गयी तथा जगह -जगह पुलिस की टुकड़ियाँ तैनात रही। आल इण्डिया सिक्ख स्टूडैंट फैडरेशन (पीर मोहम्मद) के प्रधान करनैल सिंह,सिक्ख स्टूडैंट फैडरेशन (मेहता) के प्रधान परमजीत सिंह खालसा व सचिव मेजर सिंह खालसा, 1984 सिक्ख कत्लेआम पीड़ित वैलफेयर सोसायटी के प्रधान सुरजीत सिंह  तथा 1984 सिक्ख कत्लेआम पीड़ित वैलफेयर सोसायटी स्त्री विंग की प्रधान बीबी  गुरदीप कौर ने कहा कि 1984 के हुए सिक्ख कत्लेआम के  पीड़ित परिवार अनेकों समस्याओं से गुजर रहे हैं और इस कत्लेआम को करवाने वाले काँग्रेस के नेता सज्जन कुमार को सजा नहीं मिली। समय समय की सरकारें सिक्खों के ज़ख्मों पर मरहम लगाने का काम तो करती रही हैं परन्तु इस मरहम से पीड़ित परिवारों के ज़ख्म भरने वाले नहीं,जब तक इस कत्लेआम के दोषियों को सजा नहीं मिलती सिक्ख पीड़ितों को चैन नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि बेशक देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 1984 के सिक्ख दंगा पीड़ित परिवारों को 5- 5 लाख रूपये देने की घोषणा कर उनके ज़ख्मों पर मरहम लगाने का काम किया है जो सराहनीय है परन्तु इसके साथ साथ पंजाब में रह रहे 1984 के दंगा पीड़ितों को भी इसी प्रकार मुआवजा दिया जाए व इस कत्लेआम को हवा देने वालों को अविलंब दण्डित किया जाये। 

Friday, October 31, 2014

स्वर्गीय श्रीमती इंदिरा गांधी की पुण्य तिथि पर आयोजित प्रार्थना सभा

याद किया गया स्वर्गीय प्रधानमंत्री सुश्री इंदिरा गांधी को 
राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी, उप राष्ट्रपति श्री मो. हामिद अंसारी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति 31 अक्टूबर, 2014 को नई दिल्ली में पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्रीमती इंदिरा गांधी की पुण्य तिथि पर आयोजित प्रार्थना सभा में । (पसूका-हिंदी इकाई)
The President, Shri Pranab Mukherjee, the Vice President, Shri Mohd. Hamid Ansari, the former Prime Minister, Dr. Manmohan Singh and other dignitaries attending a prayer meeting, at the memorial of former Prime Minister, Late Smt. Indira Gandhi, on her death anniversary, in New Delhi on October 31, 2014.

Thursday, October 30, 2014

बेसब्री से हो रहा है भगवान जगन्नाथ जी का इंतज़ार

Thu, Oct 30, 2014 at 5:11 PM
निमंत्रण पत्र देने का अभियान हुआ और तेज़ 
लुधियाना, 30 अक्टूबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):  
 जगन्नाथ रथयात्रा के उपलक्ष्य में शुरू हुए २१ दिवसीय प्रभात फेरी एवं संध्या फेरी की श्रृंखला में संध्या फेरी का आयोजन चन्द्र नगर स्थित पार्षद नरिन्द्र ङ्क्षसह मल्ली के निवास पर हुआ। इस अवसर पर अपार ङ्क्षसह मल्ली, पार्षद पति राजेश शर्मा ङ्क्षमटू, पार्षद रेणु शर्मा, नरोत्तम दास ने जगन्नाथ जी की प्रथम आरती कर संध्या फेरी का शुभारंभ किया। इस अवसर पर हरिनाम संकीर्तन करके तरसेम प्रजापत ने कहा कि भगवान का नाम गली गली उच्चारण करने से जीव को चैतन्य महाप्रभु की साक्षात कृपा प्राप्त होती है। 
उन्होंने कहा कि कलियुग में मोक्ष प्राप्ति के लिए यह हरिनाम संकीर्तन ही केवल सहारा होना चाहिए। तभी जीव की नैय्या भव से पार हो सकती है। चन्द्र नगर से शुरू हुई संध्या फेरी श्रद्धालुओं के मन मंदिर तक पहुंच गई। श्रद्धालु विशेषकर महिलाएं जगन्नाथ जी की एक झलक पाने के लिए आतुर दिखी। लोग बड़े बजुर्गों को जगन्नाथ जी के लघु रथ के समक्ष लाकर उन्हें त्रिलोकीनाथ का आशीर्वाद दिला रहे थे। ऐसा दिव्य नजारा देखकर नास्तिकों के मन में भी श्रद्धा की घंटियां बज रही थीं। 
संध्या फेरी के विश्राम पर बनवारी लाल कश्यप, सुखदेव भनोट, कमलजीत बाजवा, राजिन्द्र राणा, आशू कपूर, राजेश साहनी, राज शर्मा एडवोकेट, डा. सुशील शर्मा, वरिन्द्र शर्मा बॉबी, प्रवीण अग्रवाल मुकिम, अंबुजेश शर्मा, प्रमोद गर्ग, नरेश शर्मा, विनय शर्मा, गतिक शर्मा आदि ने जगन्नाथ जी की आरती की। इस दौरान बेक फार यू के कृष्ण लाल चरेया, रॉ1सी चरेया, सन्नी चरेया ने बताया कि रथयात्रा मार्ग पर बेक फार यू विशाल मंच लगाकर जगन्नाथ जी का भव्य स्वागत करेगा। वहीं एस.बी. अग्रवाल ने कहा कि दी न्यू इंडिया इंश्योरैंस क6पनी विशाल मंच लगाकर जगन्नाथ जी का स्वागत करेगी। इस मंच से अनेकों प्रकार की मिठाईयां बांट कर क6पनी के तमाम सदस्य अपनी खुशी एवं भ1ित का इजहार करेंगे। इस दौरान विपन सूद काका, संजीव ङ्क्षसगला, राकेश गंभीर, राज अरोड़ा, मनोहर वर्मा के संयोजकत्व में महानगर के विभिन्न गणमान्यों को निमंत्रण दिये गये, जिनमें गौरव मल्होत्रा एंड क6पनी ओसिज के गौरव मल्होत्रा, हलका इंचार्ज आत्म नगर कांग्रेस कुलवंत ङ्क्षसह सिद्धू, विधायक मनप्रीत ङ्क्षसह एयाली, पूर्व डिप्टी स्पीकर सतपाल गोसाई, विधायक भारत भूषण आशू, आदि शामिल थे। वहीं स्कूलों में होलीपथ स्कूल, एक मुस्कान स्कूल, बी.सी.एम. शास्त्री नगर की परमजीत कौर, आर.एस. माडल स्कूल के श्री कालड़ा, गुरु नानक पब्लिक स्कूल की प्रिंसीपल मोना ङ्क्षसह सहित दर्जनों स्कूलों व कालेजों को निमंत्रण दिये गये।
  

बैंक कर्मचारियों ने अपनी माँगों के संबध में किया रोष प्रदर्शन

अखिल भारतीय बैंक हड़ताल 12 नवम्बर 2014 को
संघर्ष और तेज़ करने की चेतावनी भी दी 
से दिसंबर 2014 तक क्रमिक आंचलिक हड़तालें
लुधियाना: 30 अक्टूबर 2014: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो ):नीचे वीडियो भी देखें:--
यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्ज़ की तरफ से उत्तम वेतन समझौते के लिए आंदोलनात्मक कार्यक्रम जारी करते हुए फव्वारा चौंक स्थित भारतीय स्टेट बैंक के समक्ष रोष प्रदर्शन किया। कामरेड नरेश गौड़ संयोजक,का.गुलशन चौहान, का.जेपी कालड़ा,डीसी लांड्रा (एनसीबीई) पवन ठाकुर प्रधान पंजाब बैंक इम्प्लाईज़ फैडरेशन (लुधियाना इकाई)राकेश खन्ना एसोसिएट बैंक आफिसर्स एसोसिएशन आदि ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि बैंकिंग क्षेत्र में वेतन और सेवाशर्तें उद्योगस्तरीय द्विपक्षीय समझौतों से संचालित हैं जो कि इंडियन बैंक्स एसोसिएशन और कामगार यूनियनों तथा अधिकारी यूनियनों जो बैंकिंग उद्योग  में कार्यरत हैं के माध्य हस्ताक्षरित होते हैं.। उन्होंने कहा की सभी बैंक जिन्होंने आईबी को उनकी ओर से सौदेबाज़ी करने के लिए आईबी को अधिकार पत्र दिए हैं।  इस समझौते के पक्षधर होते हैं.। यू एफ बी यू  5 कामगार यूनियनों और 4 अधिकारी यूनियनों का प्रतिनिधित्व करती है.। आबीए के साथ कामगार, अधिकारियों  के वेतन पुनरीक्षण के लिए चर्चा कर रही है।  उन्होंने कहा कि उनकी मांगों को यदि शीध्र न माना गया तो संघर्ष और तेज कर दिया जायेगा। इस प्रोटेस्ट में महिलाओं ने भी बढ़ चढ़ कर भाग लिया।
यूनाईटेड फोरम आफ बैंक यूनियन्स (यूएफबीयू)  ने शीघ्र एवं बेहतर वेतन समझौते के लिए आन्दोलनात्मक कार्यक्रम जारी किया है जिसमें कई अलग अलग चरण हैं।  
निर्णय के मुताबिक, यूएफबीयू लुधियाना इकाई ने आज भारतीय स्टेट बैंक, सिविल लाईंन्स, नजदीक फुहारा चौंक, लुधियाना के सामने जबरद्स्त प्रदर्शन किया । कामरेड नरेश गौड़, संयोजक, युनाईटेड फोरम आफ बैंक युनियन्सकामरेड गुल्शन चौहान,  कामरेड जे.पी.कालड़ा (.आई.बी..सी), कामरेड डी.सी.लांडरा (एन.सी.बी.), कामरेड पवन ठाकुर, प्रधान, पंजाब बैंक इम्पलाईज़ फैडेरेशन (लुधियाना इकाई), कामरेड राकेश खन्ना, एसोसिएट बैंक्स आफिसर्स एसोसिएशन (यूनिट : स्टेट बैंक आँफ पटियाला) ने बैंक कर्मचारियों को संबोधित किया।
बैंक कर्मचारियों को संबोधित करते हुए फोरम के नेताओं ने कहा कि बैंकिंग क्षेत्र में वेतन और सेवाशर्तें उद्योगस्तरीय द्विपक्षीय समझौतों से संचालित होते हैं जो कि इंण्डियन बैक्स एसोसिएशन (आबीए) और कामगार यूनियनों तथा अधिकारी यूनियनों जो बैंकिंग उद्योग में कार्यरत हैं के मध्य हस्ताक्षरित होते हैं । सभी बैंक जिन्होंने आईबी को उनकी ओर से सौदेबाजी करने के लिए आईबी को अधिकार पत्र दिये हैं इस समझौते के पक्षकार होते हैं । यूनाईटेद फोरम आफ बैंक यूनियन्स (यूएफबीयू) 5 कामगार यूनियनों और 4 अधिकारी यूनियनों का प्रतिनिधित्व करती है जो हाल में आबीए के साथ कामगारों/अधिकारियों के वेतन पुनरीक्षण के लिए वार्तालाप कर रही है ।
बैंक कर्मचारियों का वेतन पुनरीक्षण 1/11/2012 से देय है क्योंकि विगत द्विपक्षीय समझौता 31/10/2012 को समाप्त हो गया । एकरूप माँगपत्र कामगारों के लिए और अधिकारियों के लिए अलग-अलग यूएफबीयू द्वारा आईबी को 30/12/2012 अर्थात विगत द्विपक्षीय समझौते की अवधि पूर्ण होने से पूर्व के दिया गया ।
यूएफबीयू बातचीत आरम्भ करने के लिए अनुरोध करती रही है जिससे कि एक समयबद्ध पहल से इसकी माँगों और वेतन समझौता सम्पन्न करने के लिए एक तार्किक समय में बातचीत हो सके । किन्तु आईबी के लापरवाय और टालमटोल रूख के कारण वार्तालाप प्रक्रिया असाधारण रूप से विलम्बित हो गई है और वेतन वार्तालाप में कोई उल्लेखनीय प्रगति 2 वर्ष का समय बीतने के उपरांत भी नहीं हुई है । औपचारिक बातचीत फरवरी     में आरम्भ हुई और अभी तक इसके 13 दौर आईबी तथा यूएफबीयू के मध्य हो चुके हैं अर्थात 2 माह में एक बार बातचीत ।
आईबीए बार-बार बैंकों की न दे पाने की क्षमता का तर्क दे रही है और वेतन पर्ची मदों में 11% की वृद्वि के अपने प्रस्ताव पर अड़ी है, जबकि यूएफबीयू एक सम्मानजनक समझौते की माँग कर रही है जिसमें कर्मचारियों द्वारा उच्च मुद्रास्फीति दर के कारण अनुभव की जा रही कठिनाईयों को ध्यान में लिया जाय, जिसने की कर्मचारियों के वेतन को एक बड़े पैमाने पर विलुप्त कर दिया है। 
बैंक कर्मचारी, कामगार और अधिकारी, गम्भीर तनाव के बावजूद उल्लेखनीय रूप से कार्य कर रहे हैं जबकि बैंकों में कार्यभार अत्याधिक बढ़ गया है जिसका कारण अपर्याप्त स्टाफ का होना और वित्तीय समावेशन आदि के कारण अनेक नई शाखाओं का खुलना है । बैंक कर्मचारी सरकार द्वारा प्रायोजित कार्यक्रमों/योजनाओं जिसमें हाल में ही लागू की गई प्रधानमंत्री जन-धन योजना भी शामिल है, को सफलतापूर्वक लागू करने में पीछे नहीं रहे हैं । सरकार की योजनाओं को उनके द्वारा दिलो-जान से समर्थन दिये जाने के उपरांत यद्यपि बड़े पैमाने पर उन्हें असुविधा का सामना करना पड़ता है, बैंक कर्मचारियों को तुलनात्मक रूप से तथा पर्याप्त रूप से भुगतान नहीं हो रहा है ।
यद्यपि यूएफबीयू ने एक लचीला रूख समझौते को शीघ्र अन्तिम रूप देने की दृष्टि से अपनाने की इच्छा जाहिर की है, इसका आईबीए द्वारा उचित प्रत्युत्तर नहीं दिया जा रहा है । अत: एक बार पुन: बैंक कर्मचारियों को आन्दोलन एवं संघर्ष के मार्ग पर धकेला जा रहा है । इन परिस्थितियों में, बैंककर्मियों के लिए तुरन्त वेतन समझौते की माँग करते हुए यूएफबीयू ने निर्णय लिया है कि एकदिवसीय अखिल भारतीय विरोध हड़ताल 12 नवम्बर 2014 को की जाय और क्रमिक आंचलिक हड़तालें इस प्रकार की जायें :-
02/12/2014        दक्षिणी अंचल - आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक, केरला, तमिलनाडु,                         तेलंगाना प्रदेश तथा लक्षद्वीप तथा पांडिचेरी के केन्द्र शासित प्रदेश
03/12/2014        उत्तरी अंचल - छ्त्तीसगढ़, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और             कश्मीर, मध्य प्रदेश, नई दिल्ली, पंजाब, उत्तर प्रदेशउत्तरांचल,                   राजस्थान प्रदेश तथा केन्द्र शासित चंडीगढ़
04/12/2014        पूर्वी अंचल - बिहार, झारखंड, उड़ीसा, सिक्किम, पश्चिम बंगाल,              उत्तर पूर्वी प्रदेश और केन्द्र शासित अण्डवान एवं निकोबार द्वीप                समूह
05/12/2014        पश्चिमी अंचल - गोवा, गुजरात, महाराष्ट्र प्रदेश तथा दमन एवं द्वीव               के केन्द्र शासित क्षेत्र

हम वास्तविक रूप से बैंक कर्मचारियों की हड़ताल के कारण महत्वपूर्ण ग्राहकों/जनसामान्य को होने वाली असुविधा के लिए खेद व्यक्त करते हैं और अपने न्यायपूर्ण मुद्दों के लिए उनसे नैतिक समर्थन की आशा करते हैं  क्योंकि बैंक कर्मचारियों की पर्याप्त वेतन वृद्दि की माँग न केवल उचित है बल्कि पूर्ण पात्रता रखती है ।

गौरतलब है कि इन बैंक मुलाज़िमों ने यह प्रदर्शन अपने भोजनावकाश (लंच) में से समय निकल कर किया तांकि बैंक का कामकाज प्रभावित न हो और आम जनता का बैंकिंग काम भी न रुके। 




पंजाबी फिल्म 'दी ब्लड स्ट्रीट' का संगीत रिलीज़

ज़ुलम, अन्याय और संघर्ष की कहानी है ब्लड स्ट्रीट 
लुधियाना: 30 अक्टूबर 2014(पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):
हरजी मूवीज़ की पहली पंजाबी फिल्म  'दी ब्लड स्ट्रीट' का संगीत महानगर में फिरोज़पुर रोड स्थित एक होटल में रिलीज़ किया गया। फिल्म के गीतों को गुरबख्श शौंकी,दविन्द्र पाल सिंह,सोनाली डोगरा,पैनी सिंह तथा मनपाल सिंह आदि ने अपनी आवाज़ में ढाला है.। फिल्म की कहानी बताते हुए निर्माता जसबीर सिंह बोपाराय ने बताया कि यह फिल्म देश की कम गिनती के साथ हुए धक्केशाही की दास्ताँ को दर्शाती है और संघर्षवादी नौजवानो की जि़ंदगी में समय समय की सरकारों द्वारा खड़ी की जा रही दीवारों ,जुल्मो से दवाने की कोशिश को बखूबी बयान किया गया है। फिल्म के निर्देशक दर्शन दर्वेश ने कहा कि भारतीय सैंसर बोर्ड ने इस फिल्म पर अघोषित प्रतिबंध लगा दिया है जिससे फिल्म को प्रदर्शित करने के सभी रास्ते बंद हो गए हैं। उन्होंने कहा कि दो वार फिल्म की स्क्रीनिंग होने के बाद भी उनकी ओर से लिखित रूप में ऐसा कारण नहीं बताया जा रहा कि 'आखिर इस फिल्म में ऐसा क्या है?जिसकी वजह से प्रतिबंध लगाया गया है। दर्वेश के अनुसार दो वार मुंबई में महंगे थियटर बुक करके और सैंसर बोर्ड की फीसें अदा करके भी सैंसर बोर्ड की तरफ से कोई लिखित जबाव नहीं मिला है। इस मौके अभिनेत्री सोनप्रीत जवंधा,अभिनेता बिन्नी सिंह,सह अभिनेता करमजीत बराड़,गीतकार मनप्रीत गोसल,संगीतकार मनपाल सिंह,हरिन्द्र सोहल आदि उपस्थित थे। 

जुगल बन्दियाँ बैंड' की सदस्याएँ ,अब महानगर में

दिखाएँगी कला के जौहर और बनाएंगी लोगों के दिलों में जगह 
लुधियाना: 30 अक्टूबर 2014: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):
गायन क्षेत्र में एक नया आयाम बनाने के लिए तीन बालाओं द्वारा 'जुगल बन्दियाँ बैंड'बनाया गया है, जो  विभिन्न तर्जों पर अपने गीतों को प्रस्तुत कर देश की जनता का मनोरंजन करेंगी। पत्रकारों से विशेष बात चीत के दौरान बैंड की सदस्याओं ने बताया कि प्रीती साऊथ ओडिशा और राजस्थान से संबध रखती हैं, जिन्होंने इस बैंड को तैयार करने की एक वर्ष पहले अपने मन में ठानी थी। गोल्डन मैलोडीज़ के परमजीत ने उनके इस सपने को साकार करने में पूर्ण सहायता प्रदान की.। करीब 6 महीने पहले बने उक्त बैंड की सदस्याएँ  देश की राजधानी (दिल्ली) में 6 कार्यक्रम आयोजित कर चुकी हैं। प्रीती ने जानकारी देते हुए बताया कि वे लुधियाना में भी स्टेज शो करके शहर वासियों का मनोरंजन करेंगी। बैंड में सभी लड़कियाँ का होना भी एक अलग बात है,और देश में कम ही ऐसा देखने को मिलता है कि बैंड में सभी लड़कियाँ ही हों। बैंड की तीनों लड़कियों ने म्यूजिक में प्रोफैशनल डिग्री हासिल की है.। एक अन्य सदस्या शालू ने बताया कि उनके माता-पिता भी संगीत से संबध रखते हैं.। प्रीति नागराजन भजन गायक सीके नागराजन की सपुत्री हैं.। रेशमा नामक सदस्या के अनुसार 4 वर्ष की आयु में ही उसने संगीत की शिक्षा लेनी आरम्भ कर दी थी.। तीनो गायिकाओं के अनुसार उन्हें पंजाबी गीतों से बहुत अधिक मोह है, परन्तु पंजाबी नहीं जानती,फिर भी मंच पर पंजाबी गीतों को ब-खूबी निभाती हैं।


जिला भाजपा स्वच्छ भारत अभियान पर लगातार कायम

पहली नवंबर को फिर मंदिरों,पार्कों से  पूजा सामग्री उठा शुरू करेगी सफाई अभियान
लुधियाना: 30 अक्टूबर 2014:(पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):
आम जनता भले ही इसे अभी भी गंभीरता से न ले रही हो लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने अपने नेता और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नारे को गंभीरता से लिया है। पार्टी स्वच्छ भारत अभियान को सफल बनाने के लिए कगतर प्रयासरत है।
भारतीय जनता पार्टी की तरफ से स्थानीय फिरोज़पुर रोड स्थित सर्कट हाउस में आयोजित किए गए पत्रकार सम्मलेन के दौरान जिला प्रधान प्रवीण बांसल ने मीडिया को जानकारी देते हुए कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किया गया कार्यक्रम 'सफाई अभियान'संपूर्ण देश जहाँ जन जन का मुद्दा बन गया है, वहीं जिला भाजपा की तरफ से उक्त अभियान को विभिन्न ढंग से लागू किया जा रहा है जिससे आम जनता सफाई के प्रति जागरूक हो सके। उन्होंने कहा कि जिला भाजपा द्धारा भाईदूज के दिन इस अभियान को चलाते हुए मंदिरों,पार्कों,सडक़ किनारे व पेड़ों के नीचे पूजा करने के बाद रखी गयी सामग्री को उठा कर सतलुज में जल प्रवाह किया,जो सामग्री पानी में घुलनशील नहीं थी को आग में जलाकर उसकी राख को जल प्रवाह कर दिया गया। श्री बांसल ने कहा कि पूजा करने के बाद इधर उधर रखी गयी पूजा सामग्री से पूजा का निरादर होता है,पूजा सामग्री को सम्मान पूर्वक जलप्रवाह कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि जब वह शहर के धार्मिक स्थलों,पार्कों आदि से पूजा सामग्री को उठकर सतलुज में जलप्रवाह करने के लिए ले गए तो वहाँ का दृश्य देख कर भी अचंभित रह गए.। बांसल के अनुसार सतलुज के किनारे भी पूजा सामग्री का अंबार लगा है जिसकी सफाई करना अनिवार्य है,अब जिला भाजपा नहर के किनारे सफाई अभियान 1 नवंबर से शुरू करेगी। इस अवसर पर नगर निगम की सीनियर डिप्टी मेयर सुनीता अग्रवाल,डिप्टी मेयर आरडी शर्मा,पूर्व मंत्री सतपाल गोसाँई,प्रोफैसर राजिन्द्र भंडारी,सुनील मौदगिल,पुष्पिंद्र सिंघल,जतिंद्र मित्तल,संजीव मल्होत्रा,देवी सहाय टंडन आदि कार्यकत्र्ता उपस्थित थे।
यदि भाजपा इसी तरह इस नारे पर डटी रही तो बहुत जल्द आम लोग भी इसे गंभीरता से लेंगें। उम्मीद की जानी चाहिए की सफाई के मामले में हमेशां से एक निराशजनक तस्वीर दिखता आ रहा यह देश अब जल्द ही सफाई से कायाकल्प करके दिखा देगा। आम लोगों को भी  पार्टीबाजी से ऊपर उठ कर इस अभियान में शामिल होना चाहिए।

ICAI आयोजित करेगी नेशनल कांफ्रैंस ऑन डायरैक्ट टैक्सेज़

दो दिन तक चलेगा यह आयोजन 
लुधियाना: 29 अक्टूबर 2014 (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो):
इंस्टीट्यूट आफ चार्टर्ड एकाउंटैंटस एसोसिएशन आफ इण्डिया (आई सीए आई)की लुधियाना ब्रांच आगामी एक व दो नवंबर को नेशनल कांफ्रैंस और डायरैक्ट टैक्सेज़ कार्यक्रम करवाएगी। ब्रांच के चेयरमैन सी ए राजेश कुमार जैन ने बताया कि डायरैक्ट टैक्सेज़ कमेटी की तरफ से करवाई जा रही वेव्स ऑफ चेंजेज,ओशन आफ आपच्र्युनिटीज़ नाम के इस कार्यक्रम का आरम्भ एक नवंबर को स्थानीय गुरुनानक भवन में होगा। सुबह 9 बजे से शाम साढ़े 5 बजे तक चलने वाले इस कार्यक्रम के बाद शाम 7 बजे आईसीएआई के सदस्य व उनके परिवार के लिए एक सभ्याचारक कार्यक्रम करवाया जाएगा। दुसरे चरण में (2 नवंबर) को यह कांफ्रैंस पक्खोवाल रोड स्थित आईसीएआई भवन में करवाई जाएगी।कांफ्रैंस में मुख्यतौर पर टैक्स ऑडिट रिपोर्ट से संबधित मुद्दे,असेस्टमेंट ऑफ एचयूएफ,इफेक्ट आफ इनडायरेक्ट टैक्सेज आन टैक्स आडिट रिपोर्ट,डोमेस्टिक ट्रांस्फर प्राइसिंग पर भी चर्चा की जाएगी। समरोह में इंकमटैक्स कमिश्नर रमन कुमार गोयल मुख्यतिथी के रूप में शामिल होंगे। इस अवसर पर सीए राकेश गुप्ता,संजीव कुमार चौधरी,अमरजीत चोपड़ा,एलसी गुप्ता,विनोद जैन,बिमल जैन अतिथी प्रवक्ता पूरे देश से आए श्रोताओं को संबोधित करेंगे।

Tuesday, October 28, 2014

गुरूद्धारा विवाद: अवैध संबंधों को लेकर भड़का प्रधानगी का विवाद

अकाली नेता गुरदीप सिंह गोशा ने की समझाने की कोशिश
लुधियाना: 27 अक्टूबर 2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):

बढ़ा करने लिए तस्वीर पर क्लिक करें 
सिख धर्म के संस्थापक साहिब श्री गुरु नानक देव जी का प्रकाश पर्व आने वाला है।  सभी गुरूद्धारा साहिबान में इस प्रकाश पर्व को मनाने के लिए ज़ोरशोर से तैयारियां चल रही हैं लेकिन लुधियाना के सलेम तबरी इलाके के एक गुरूद्धारा में एक नया विवाद पैदा हो गया है। इस विवाद को लेकर एक गुट के समर्थकों ने गुरूद्धारा साहिब के सामने धरना भी दिया। इस मौके पर पहुंचे युवा अकाली नेता गुरदीप सिंह गोशा ने संगत को समझाने का प्रयास भी किया। श्री गोशा ज़ोर दे रहे थे कि धरना सड़क से उठा कर गुरुद्धारा साहिब के अंदर बरामदे में ले जाया जाये तांकि वहां से आने जाने वाली आम जनता को कोई तकलीफ न हो पर धरना प्रदर्शन कर रहे लोग इस बात के लिए नहीं माने। अब देखना है कि मामला क्या रुख लेता है? गौरतलब है कि यह मामला इस धर्म स्थल के एक पदाधिकारी के किसी महिला के साथ अवैध संबंधों को लेकर भड़का और कमेटी के इस्तीफे की मांग तक जा पहुंचा। पुरानी कमेटी के पदाधिकारियों ने मौजूदा कमेटी के पदाधिकारियों पर कई गंभीर आरोप लगाये। इनमें गुंडागर्दी से लेकर फ्राड  हैं। दूसरी तरफ आरोपी पदाधिकारी ने इस आरोप का खंडन करते हुए कहा है कि उस पर दबाव बना कर क्षमापत्र लिखवाया गया।  उसने दलील दी की वह पिछले चार वर्षों से यहाँ कार्य कर रहा है किसी को भी उनसे शिकायत नहीं हुई। अब कमेटी का एक गुट दुसरे गुट को  दिखाने के लिए उन्हें बलि का बकरा बना रहा है।  उधर दुसरे गुट के नेता ने कई बार प्रयास करने के बाद फोन उठाना मुनासिब नहीं समझा।

Saturday, October 25, 2014

स्वच्छ भारत अभियान में आई नई तेज़ी

जिला भाजपा टीम ने मंदिरों  से चलाया विशेष अभियान
लुधियाना: 25 अक्टूबर  2014: (रेक्टर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
देश में जनहित को लेकर शुरू होने वाले अभियान अक्सर तस्वीरें खिंचवाने तक ही सीमित रह जाते हैं लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्रमोदी की प्रेरणा से शुरू किया गया स्वच्छ भारत अभियान लगातार जन जन तक पहुँच कर तेज़ी पकड़ रहा है और इसे आम जनता तक लेजा रहे हैं हर इलाके के स्थानीय नेता अपना सबसे आवश्यक काम समझ कर। आज इसकी ताज़ा मिसाल दिखाई दी लुधियाना में जहाँ भारतीय जनता पार्टी के स्थानीय नेता जिला अध्यक्ष प्रवीण बांसल के नेतृत्व में जगराओं पल के निकट स्थित दुर्गा माता मंदिर में एकत्र हुए।  
आज सुबह पूरे 11 बजे इन लोगों ने भगवान का आशीर्वाद लेने के बाद बिना किसी देरी के इस अभियान को शुरू कर दिया। इस अभियान में एक बहुत ही आवश्यक और नयी बात यह जोड़ी गयी कि भगवान स्वरूप मूर्तियों के जगह जगह हो रहे अपमान को गंभीरता से लिया गया। भाजपा के जिलाध्यक्ष श्री बांसल ने कहा जो भी व्यक्ति खुद को सच्चा धार्मिक कहता या समझता है उसे इस अपमान को रोकने के लिए तुरंत आगे आना होगा। इसके बाद उन्होंने मंदिर के प्रांगण, जोड़ा घर, अस्पताल, लंगर हाल और अन्य स्ताहनों का दौरा किया। वहां दीपावली के शुभ अवसर पर लाई गई मूर्तियों की दयनीय हालत देखी उन्हें सम्मान के साथ उठाया और सहेज कर  विशेष तौर पर लए गए एक वाहन में रखा।  इसके बाद यह काफिला दण्डी स्वामी मंदिर के लिए रवाना हो गया।  सुबह से शाम तक आज इस दल ने यही कार्य सम्पन्न  करना था। 
गौरतलब है कि 'स्वच्छ भारत अभियान' के तहत स्थानीय जगरांव पुल के समीप स्थित दुर्गा माता मंदिर में माथा टेकने के बाद शहर के विभिन्न धार्मिक स्थानो, पार्को आदि से खंडित मूर्तियाँ,कलैंडर,माता की चुनरी व अन्य पूजा सामग्री को उठा कर स्वच्छता रखने का शहर वासियों को ज़ोरदार सन्देश दिया गया। उन्होंने पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताया कि दीपावली के दिन मंदिरों व पार्कों आदि में दीपक व मिट्टी की मूर्तियाँ तथा कलैंडर आदि लोग रख जाते हैं जिन्हें सनातन धर्म के अनुसार चलते पानी में जल प्रवाह करना चाहिए। जिला भाजपा की टीम द्वारा शहर के विभिन्न धार्मिक स्थानो से पूजा सामग्री व खंडित मूर्तियों आदि को उठा कर नहर में घुलनशील प्रतिमाओं को जल प्रवाह किया जायेगा, जबकि अन्य सामग्री को अग्नि भेंट कर उसकी राख को पानी में छोड़ दिया जाएगा। श्री बांसल ने बताया कि ऐसा करने से जहाँ सफाई व्यवस्था ठीक रहेगी वहीं धर्म की पालना भी होगी। उन्होंने शहर वासियों से अपील करते हुए दोहराया कि वह शहर की सफाई व्यवस्था को बनाए रखने के लिए अपने घर व आस पास के साथ साथ इधर-उधर कूड़ा फेंकने वालों को भी इसके नुक्सानो के विषय में समझाएँ ताकि सफाई के प्रति लोग जागरूक हो सकें। नगर निगम के डिप्टी मेयर आर डी शर्मा ने कहा कि सफाई रखने से कई बीमारियों से बचा जा सकता है। यदि हम अपने इर्द-गिर्द सफाई नहीं रखते तो संक्रामक बीमारियाँ हमें घेर लेती है। निरोग काया के लिए सफाई रखना बहुत जरूरी है। इस अवसर पर सुनील मौदगिल,दुर्गा माता मंदिर के प्रधान बलबीर गुप्ता,देवी सहाय टंडन,राजिन्द्र हंस,संगीता भंडारी,जीवन गुप्ता सहित और भी कई पार्टी कार्यकर्त्ता शामिल थे। उन्होंने इस संबंध में  नहर के किनारे जवद्दी पुली के  निकट स्थित  धर्मस्थल  प्रयासों की प्रशंसा भीकी   कहा कि ऐसे शुभ कामों को अपनाने में देरी नहीं की जानी चाहिए।  
 'स्वच्छ भारत अभियान' के तहत भाजपा द्वारा चलाई जा रही मुहिम के तहत धार्मिक स्थानो से मूर्तियाँ ,पूजा सामग्री आदि को तो जल प्रवाह  करने के लिए उठाया गया परन्तु दुसरे पड़े कूड़े की ओर किसी ने कोई ध्यान नहीं दिया। इसमें अधिकतर सब्ज़ियों  इत्यादि थे। 
अब देखना यह भी है कि अकाली दल के नेता और वर्कर गुरूद्धारा साहिबान के परिसर में जाकर ऐसा सफाई अभियान कब चलाते हैं।