Thursday, December 12, 2013

अमृतसर में निकाला कैंडल मार्च

 Wed, Dec 11, 2013 at 10:02 PM
अन्ना हजारे के समर्थन में उतरे गुरु की नगरी निवासी
अमृतसर 11 दिसंबर 2013: (गजिंदर सिंह किंग//पंजाब स्क्रीन):
अमृतसर में अन्ना हजारे के समर्थको ने जन लोकपाल बिल की मांग को लेकर फिर से अनशन पर बैठे अन्ना हजारे के समर्थन में कैंडल मार्च निकाला। सभी ने एकसुर में अन्ना हजारे की मुहिम के साथ जुड़ने और इस मुहिम को आगे ले जाने का प्रण लिया। जन लोकपाल बिल की मांग को लेकर फिर से अनशन पर बैठे अन्ना हजारे के समर्थन में अमृतसर में अन्ना हजारे के समर्थको ने कैंडल मार्च निकाला। इस दौरान सभी ने एकसुर में अन्ना हजारे की मुहिम के साथ जुड़ने और इस मुहिम को आगे ले जाने का प्रण लिया। इस मौके पर पहुंचे अन्ना हजारे के समर्थको ने कहा, कि पिछले जनांदोलन के दौरान केंद्र सरकार ने अन्ना हजारे को कई तरह के सपने दिखा कर समाप्त करा दिया था। लेकिन इस बार देश की जनता और अन्ना हजारे केंद्र सरकार के बहकावे में नहीं आएगी।

न्यू अग्रवाल पीरखाना की सातवीं वर्षगांठ पर विशेष आयोजन

14 दिसंबर को होगा शिव मंदिर का शिलान्यास
लुधियाना: 11 दिसंबर 2013: (रेकटर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
सर्वधर्म प्रचार अभियान में बंटी बाबा का नाम तेज़ी से लोकप्रिय हो रहा है। धर्मकर्म से जुड़े कामों में और तेज़ी लाते हुए अब बंटी बाबा ने एक और घोषणा की है। उन्होंने बताया कि इस बार होने वाले आयोजन का मुख्य आकर्षण होगा शिव मंदिर कि स्थापना। गौरतलब है कि काकोवाल रोड पर स्थित न्यू अग्रवाल पीरखाना की सातवीं वर्षगांठ इस बार भी श्रद्धा, सम्मान और हर्षोल्लास से मनाई जा रही है।  इस शुभ अवसर को और भी यादगारी बनाने के लिए पीरखाना परिसर के मुख्य द्धार को अब और भी भव्य बनाया जा रहा है।  लोगों में तेज़ी से स्थापित हो रहे इस पूजा स्थल के  ऐन सामने बनाये जा रहे भगवान शिव के मंदिर से इस पावन स्थान को और भी दिव्यता मिलेगी। मंदिर का शिलन्यास पीरखाना के प्रमुख बनती बाबा द्धारा रखा जायेगा।
न्यू अग्रवाल पीरखाना के सेवक शैली बंसल ने बताया कि इस भव्य शिव मंदिर का शिलान्यास रखने से पूर्व हवन यज्ञ भी जायेगा।  इस शिव मंदिर में जहाँ शिव परिवार होगा वहीँ राम दरबार, राधे कृष्ण, दुर्गा माता, शिरडी सांई बाबा जी की मूर्तियां भी स्थापित की जाएंगी।  इस घोषणा को लेकर जहाँ आसपास रहने वाले लोगों में उत्साह है वहीँ दूर दराज से आने वाले भक्तों में एक नया जोश छाया हुआ है। 

सरदार पटेल की मूर्ति के लिए पवित्र जल

Wed, Dec 11, 2013 at 10:11 PM
सच्चखंड श्री हरमंदिर साहिब के सरोवर  से भरी गागर 
पवित्र जल लेने पहुंचा गुजरात मंत्रियों, सांसदों और विधायकों का दल
अमृतसर: 11 दिसंबर 2013: (गजिंदर सिंह किंग//पंजाब स्क्रीन):
सरदार वल्लभ बाई पटेल की दुनिया की सबसे बड़ी 182 मीटर ऊंची मूर्ति बनाने के लिए गुजरात के सभी मंत्री, विधायक और सांसद इस समय भारत भ्रमण पर है। आज यह शिष्टमंडल गुरु नगरी अमृतसर पहुंचा और सच्चखंड श्री हरमंदिर साहिब का पवित्र जल एकत्रित कर अपने साथ गुजरात लेकर गया। इस मौके पर पंजाब के मुख्यमंत्री के सलाहकार विनीत जोशी के अलावा भाजपा के अन्य नेता और कार्यकर्ता भी उनके साथ मौजूद थे। इस मौके पर गुजरात के शिक्षा मंत्री भुपिंदर सिंह ने कहा, कि गुजरात के मुख्यमंत्री और भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरिंदर मोदी ने देशवासियों को एक भारत, श्रेष्ठ भारत का नारा दिया है। इसके अलावा उन्होंने देश के किसानों से मांग की है, कि वे किसानी में प्रयोग किए गए अपने औजारों को भी दान दें, ताकि सरदार पटेल की मूर्ति के निर्माण में उनका प्रयोग किया जा सके। 

Wednesday, December 11, 2013

महाशिवरात्रि: रथयात्रा की तैयारियां जोशो खरोश से शुरू

पूजन के साथ महाशिवरात्रि महोत्सव कमेटी की तैयारियों का शुभारम्भ 
लुधियाना: 10 दिसंबर 2013: (रेकटर कथूरिया//पंजाब स्क्रीन):
महाशिवरात्रि महोत्सव कमेटी ने भगवान के शिव के समक्ष पूजा अर्चना कर 25 फरवरी को शिवरात्रि के उपलक्ष्य में आयोजित होने वाली विशाल रथयात्रा की तैयारियां आरंभ की। सोमवार को प्राचीन संगला वाला शिवालय में विद्वान पंडित अनिल शास्त्री की तरफ से मंत्रोच्चारण के बीच महंत दिनेश पुरी और बंटी बाबा जी ने विधिवत पूजन करवा कर शिवरात्रि महोत्सव की तैयारियां शुरू करने की भगवान भोले नाथ से इजाजत ली। समारोह में अनिल अग्रवाल और वरिन्द्र राजू बतौर मुख्य यजमान शामिल हुए। महाशिवरात्रि महोत्सव कमेटी के प्रमुख सेवादार नीरज वर्मा ने रथयात्रा की रूपरेखा बताते हुए कहा कि 25 फरवरी को दोपहर 3 बजे सिविल अस्पताल के समीप हर-हर महादेव मंदिर से रथयात्रा आरंभ होगी। रथयात्रा का नेतृत्व संत समाज करेगा। रथयात्रा की रूट की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि रथयात्रा सिविल अस्पताल से आरंभ होकर फील्ड गंज, जेल रोड, शाहपुर रोड, सुभानी बिल्ंिडग, ब्राऊन रोड, लक्कड़ बाजार, केसरगंज चौंक, रेखी रोड, घंटाघर, चौड़ा बाजार, घासमंडी चौंक, डिवीजन नंबर 3 के रास्ते देर रात प्राचीन संगला वाला शिवालय में महाआरती के साथ संपन्न होगी। इस अवसर पर हीरा लाल गोयल, शाम चोपड़ा, राम खुराना, महंत गौरव बावा, चमन लाल पप्पी, राजकुमार सूरीगुरप्रीत सिंहमहंत शिवराम कृष्ण, अजय नय्यर टैंकी, मनमोहन सिंह मोनी, शाम सुंदर गोयल, गिरधारी लाल, अवनीश मितल, तरन गोयल, पवन टंडन, राकेश चौधरी, अजय गुप्ता, अनिल बांसल, फकीर चंद, प्रवीण मल्हौत्रा, मनी बेदी, लवली थापर, साहिल खुराना, राजेश शाही, जौनी वर्मा, नरेश कौड़ा, ओंकार रौशन, पंकज सूरी, वरुण अग्रवाल, निखिल बांसल, गुरविन्द्र कुमार गोगी, रजिन्द्र सैनी, सौरभ वर्मा, संजीव शर्मा, अमृतपाल सिंह, शाम लाल सूरी, पिंकी शर्मा, रेखा शेखावत, उषा सैनी, बौबी कुमार, शाम लाल, रिकी कुमार, नगेश कुमार, बबलू सूरी, युवराज, साहिल चोपड़ा, विशाल गर्ग, विकास अग्रवाल, अभिनव, रमन अरोड़ा, रघुवीर सिंह सहित अन्य भी मौजूद थे।
महाशिवरात्रि: रथयात्रा की तैयारियां जोशो खरोश से शुरू

विश्व मानवाधिकार दिवस पर याद किए गए स्व. नेल्सन मंडेला

Tue, Dec 10, 2013 at 10:32 PM
अटारी सरहद पर निकाला गया कैंडल मार्च
अमृतसर: 10 दिसंबर 2013: (गजिंदर सिंह किंग//पंजाब स्क्रीन):

अमृतसर के अटारी सरहद पर विश्व मानवाधिकार दिवस के उपलक्ष्य में अभरो की  ऒर  से स्व. नेल्सन मंडेला को समर्पित एक कैंडल मार्च निकला गया, इस मौके पर अभरो के सचिव् ने कहा,  कि आज के दिन उन्होंने पूरे विश्व में और खान तौर पर इंडो-पाक में शांति के लिए प्रार्थना की है।

   विश्व मानवाधिकार दिवस के उपलक्ष्य में आज अभरो की  ऒर  से अटारी सरहद पर स्व. नेल्सन मंडेला को समर्पित एक कैंडल मार्च निकला गया और नेलसन मंडेला को याद किया गया। इस मौके पर अभरो के सचिव् हवा सिंह तंवर ने कहा, कि आज पूरी दुनिया में शांति के लिए काम करने वाले नेल्सन मंडेला की कमी खल रही है। उन्होंने कहा, कि आज के दिन उन्होंने पूरे विश्व में और खान तौर पर इंडो-पाक में शांति के लिए प्रार्थना की है।

Tuesday, December 10, 2013

पीएचडी चैंबर पाईटैक्स पंजाब इंटनैशनल ट्रेड एक्सपों

Mon, Dec 9, 2013 at 11:39 PM
पांच दिनों में पाईटैक्स में पहुंचे 2.3 लाख लोग
अमृतसर: 9 दिसंबर 2013  (गजिंदर सिंह किंग//पंजाब स्क्रीन):
पांच दिवसीय व्यापार प्रदर्शनी के आखिरी दिन बोलते हए दलीप शर्मा ने कहा कि परपंरा को कायम रखते हुए पीएचडी चैंबर पाईटैक्स पंजाब इंटरनैशनल ट्रेड एक्सपों  में इस संस्करण ने 260 करोड़  रूपए की  व्यापारिक  पूछताछ का निर्माण किया। श्री शर्मा ने कहा कि पीएचडी पाईटैक्स में अब तक  2.3 लाख लोग पहुंच चुके है। इस बार की  भीड़ को देखते हुए  हम दिन में अंत त· 30 से 40 हजार लोगो के पहुंचने की उम्मीद करते हैं।  उन्होंने कहा कि लोगों की गर्मजोशी से भरी प्रतिक्रिया को देखते हुए हमने फैसला किया है कि पीएचडी पाईटैक्स का 9 वां संस्करण अगले साल 4 दिसंबर से 8 दिसंबर तक आयोजित किया  जाएगा।
        इस समागम में पाकिस्तान से 8 चैंबरों ने हिस्सा लिया जिसमें लाहौर चैंबर आफ कामर्स और उद्योग, इस्लामाबाद चैंबर आफ कामर्स और उद्योग,शेखपुरा चैंबर आफ कामर्स और उद्योग, सरगोधा चैंबर आफ कामर्स और उद्योग,  झंग चैंबर आफ कामर्स  और उद्योग,  कराची चैंबर आफ कामर्स  और उद्योग, गुजरावांला चैंबर आफ कामर्स और उद्योग, गुजरात चैंबर आफ कामर्स और उद्योग शामिल है। इस समारोह में पौलैंड, ताईवान, ब्रिटिश कोलम्बिया,  यूएसए और बंगला देश के  प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। इन सबकी मौजूदगी ने पूरे समागम में बी2बी का माहौल बनाया। पिछले चार दिनों के दौरान समागम में पहुंचने वाले अंतरराष्ट्रीय शिष्टमंडल ने उद्योग व ट्रेड साथिओं से बी2बी भी थी।
शर्मा ने कहा कि पिछले साल भी पाक्सितान की इंटरवुड मोबेल प्राईवेट लिमिटेड जिसने पाईटैक्स में पहली बार हिस्सा लिया था ने एक प्रमुख संस्थान की स्थापना थी।  इसी तरह पाईटैक्स के नियमित  प्रदर्शन मास्टर ग्रुप आफ उद्योग ने अमृतसर में अपने शोरूम की स्थापना की। खुर्शीद बरलास सीईओ पा· वल्र्ड ट्रेड सैंटर  ने कहा कि  अन्य ब्रांड फैजलाबाद पाकिस्तान माल फैब्रिक्स  ने पाईटैक्स  एगजीबिटर अट्रैक्शन जल्दी ही नई दिल्ली में और फिर अमृतसर में अपना आउटलैड बनाने की योजना बना रहा है। रिलीज को पेश करने के दौरान भी 8 हैंगरा के स्टालों पर लोगों भारी भीड़ लगी हुई थी। ज्यूलरी पाकिस्तान फैब्रिक्स फुलवारी उत्पाद, गुजराती हैंडीक्राफ्ट जूट उत्पाद जैसे उत्पादों ने औरतों का मन मोह लिया। पाकिस्तानी जुतियां, पाकिस्तानी सामन को पुरूषों ने बहुत पसंद किया। इस समागम को एक या दो दिन और  चलाया जाना चाहिए था। ज्यादा भीड़ होने के  सारे हैंगरों तक ठीक तरह से पहुंच ही नहीं पाए है। पिछले दो दिनों के  दौरान बहुत भीड़ थी पर आज तो यहां दर्शकों का समुंदर ही बना हुआ है। हम अच्छा व्यापार कर रहे है। पा·िस्तान से आएएक दर्शक ने कहा। 

Monday, December 09, 2013

छत्तीसगढ़: प्राचार्यो की बैठक आगामी 13 और 16 दिसंबर को

जीत का जोश पर साथ ही काम का पूरा होश 
बैकुण्ठपुर, 09 दिसम्बर 2013: (छत्तीसगढ़ मेल//पंजाब स्क्रीन): जीत के परिणाम आने पर भी छतीसगढ़ में डा रमन सिंह सरकार पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों को नहीं भूली। शिक्षा और अन्य महत्वपूर्व क्षेत्रों की सरगर्मियां और तेज़ कर दी गयी हैं। जिले के बैकुण्ठपुर, सोनहत व खड़गवां विकासखण्ड के सभी शासकीय हाई स्कूल व हायर सेकेण्डरी स्कूलों के प्राचार्यो की बैठक आगामी 13 दिसंबर को आयोजित की गयी है। यह बैठक बैकुण्ठपुर के शासकीय रामानुज उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में पूर्वान्ह 11 बजे से आयोजित की जाएगी। इसी तरह आगामी 16 दिसंबर को मनेन्द्रगढ़ व भरतपुर विकासखण्ड के प्राचार्यो की बैठक शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्दालय विद्दालय मनेन्द्रगढ़ में आयोजित की जाएगी। जिला शिक्षा अधिकारी कोरिया श्री आर.एस.चौहान ने सभी प्राचार्यो से गत वर्ष की उपलब्धियों व आगामी वर्ष की कार्ययोजना के साथ बैठक में अनिवार्य रूप से उपस्थित होने के निर्देष दिए है। इन बैठकों में शिक्षा को और बेहतर बनाने की विचार होगी और साथ ही पिछली कारगुज़ारी की समीक्षा भी।

डा. रमन सिंह ने फिर चुना शपथ के लिए 12 दिसंबर का दिन

रायपुर के पुलिस परेड मैदान में आयोजित होगा शपथ ग्रहण समारोह 
रायपुर, 09 दिसंबर 2013: (पंजाब स्क्रीन ब्यूरो): छतीसगढ़ विधान सभा चुनावों में लगातार तीसरी बार जीत का सेहरा लेने वाले मुख्यमंत्री डाकटर रमन सिंह ने दल बल सहित शपथ ग्रहण समारोह की तैयारियां शुरू कर दी हैं। उनके साथियों में जोश और उत्साह है। तूफानी घटनायों के बीच हुई इस घमासान की जंग के बाद मिली इस शानदार जीत से वे सभी फूले नहीं समा रहे। इसे लोकसभा चुनावों में सम्भावित जीत की दस्तक माना जा रहा है। राजकीय सूत्रों के मुताबिक इस बार भाजपा विधायक दल के नव-निर्वाचित नेता डॉ. रमन सिंह का शपथ ग्रहण समारोह गुरूवार 12 दिसम्बर को सवेरे लगभग ग्यारह बजे राजधानी रायपुर के पुलिस परेड मैदान में आयोजित किया जाएगा। 
गौरतलब है कि डॉ. सिंह को आज प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के विधायक दल का सर्वसम्मति से नेता चुन लिया गया। डॉ. रमन सिंह तीसरी बार आम जनता के बीच प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे। उल्लेखनीय है उनका पहला शपथ ग्रहण समारोह 07 दिसम्बर 2003 को और दूसरा शपथ ग्रहण समारोह 12 दिसम्बर 2008 को आयोजित किया गया था। यह भी एक अच्छा संयोग है कि इस बार भी डॉ. रमन सिंह बारह दिसम्बर को ही प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं। लगता है उन्हें १२ का अंक काफी रास आया है। अंक ज्योतिष के मुताबिक बारह के इस अंक में कठिनाईयां बहुत सी होती हैं लेकिन साथ ही सूर्य और चाँद का प्रभाव भी होता है। अंक एक सूर्य की और अंक दो चाँद की  प्रतिनिधता करता है।  

INDIA: मानवाधिकार विमर्श में कहाँ खो जाती है तीसरे लिंग की आवाज़

December 09, 2013                               Mon, Dec 9, 2013 at 4:01 PM                  --प्रशान्त कुमार दूबे
An Article by the Asian Human Rights Commission                                                                       
Courtesy Photo: किन्नर भी हमारे समाज का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं : डॉ. रमन सिंह
माननीय उच्चतम न्यायालय के न्यायमूर्ति के.एस. राधाकृष्णन और ए.के. सिकरी की युगल पीठ ने अक्टूबर 2013 में यह टिपण्णी देकर कि 'किन्नर समाज में आज भी अछूत बने हुए हैं। आमतौर पर उन्हें स्कूलों और शिक्षण संस्थानों में दाखिला नहीं मिलता। उनके लिए बहुत कुछ किया जाना बाकी है', तीसरे लिंग के अस्तित्व और बहिष्कार की बहस को फिर से चर्चा में ला दिया है | सुप्रीम कोर्ट की यह टिप्पणी सांविधिक निकाय राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण(नालसा) की ओर से दायर जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान सामने आई| याचिका में किन्नरों के लिए पुरुष और महिला के इतर एक अन्य श्रेणी बनाने की मांग की गई है। साथ ही उन्हें पुरुषों व महिलाओं की तरह ही समान सुरक्षा व अधिकार देने की भी मांग की गई है।
नालसा की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता राजू रामचंद्रन ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष यह दलील दी कि किन्नरों और तीसरे लिंग के सभी व्यक्तियों को न्यायिक और संवैधानिक पहचान दी जानी चाहिए। इसके बाद राज्य सरकारें इनकी बेहतरी के लिए जरूरी कदम उठा सकेंगी। सरकार ने इनके लिए एक टास्क फोर्स का गठन भी किया है, जो आगे इनके लिए बेहद मददगार साबित होगी। उन्होंने किन्नरों को नौकरियों में आरक्षण देने की भी मांग की।इससे पहले सुप्रीम कोर्ट किन्नरों को तीसरी श्रेणी का नागरिक घोषित करने की मांग करने वाली जनहित याचिका पर केंद्र व राज्य सरकारों को अपना पक्ष साफ करने का भी निर्देश सुना चुकी है।
इस समुदाय के विषय में सोचें तो हम पायेंगे कि अपने घरों में बच्चा पैदा हो, शादी ब्याह हो या फिर कोई और शुभ काम| यदि उस काम में किन्नर या हिजड़ा समुदाय के लोग आ जाएँ तो गा- बजाकर दुआ दे जाएँ तो इसे बड़ा शुभ माना जाता है| इनके गाने बजाने के बदले में इन्हें पैसे और उपहार आदि दिया जाता है| लेकिन मौक़ा ख़तम होने के बाद यही समाज इन्हें अपने पास तक बैठाना पसंद नहीं करता है| न राशन कार्ड, न जाब कार्ड और न आधार कार्ड, न पासपोर्ट, न लाइसेंस यानी समस्त बुनियादी सुविधाओं से मरहूम है यह समाज| इनका तो ले-देकर एक समुदाय ही है और वही इनका सामाजिक ताना-बाना है| अपने परिवार में, समाज में तो यह हाशिये पर हैं ही या यूँ कहें कि शर्म का विषय हैं पर इनके साथ हो रही सरकारी बेरुखी भी कम नहीं|
पिछले 4000 सालों से अपने अस्तित्व के प्रमाण के साथ-साथ रामायण, महाभारत, बाइबिल आदि धर्मग्रंथों और कामसूत्र जैसे शास्त्र में भी अपने होने का प्रमाण देते देते इस वर्ग के पास आज भी जन्म प्रमाण पत्र जैसे दस्तावेज नहीं है| पर सरकारी बेरुखी का आलम यह भी है कि अभी तक इस समुदाय की भारत में आधिकारिक गिनती नहीं है| कुछ सामाजिक सर्वेक्षणों की मानें तो हम पाते हैं कि इनकी संख्या कुछ 19 लाख के आसपास है| सरकारी आंकड़े न होने के कारण भारत में इनके अल्पसंख्यकों के अधिकार भी प्राप्त नहीं हैं| हालांकि जनगणना 2011 में अन्य की श्रेणी में इन्हें स्थान मिला है लेकिन अभी तक इसके नतीजे नहीं आये हैं जिसके चलते अभी तक इनकी कोई संख्या नहीं है| इन्हें जनगणना 2011 में इन्हें कोड 3 कहा गया है|
एक बड़ा सच तो यही है कि हम इनके विषय में कुछ जानते ही नहीं हैं| हमें यह नहीं पता कि किन्नर कौन है और हिजड़ा कौन? और ऐसे में हम जाने अनजाने ही किन्नर, हिजड़ा आदि को ही तीसरे लिंग का संसार मान लेते हैं जबकि ऐसा नहीं है | ये परलैंगिंक समलैंगिक, उभयलैंगिक या लैंगिक हो सकते हैं| कई बार हम ट्रांसजेंडर और ट्रांससेक्सुअल जैसे दोनों शब्दों का प्रयोग एक ही अर्थ में करते हैं, जबकि ये दोनों बिलकुल भिन्न हैं| ट्रांसजेंडर प्राकृतिक लिंग से अलग पहचान रखते हैं जबकि ट्रांससेक्सुअल वे हैं जिन्होंने लिंग चिकित्सकीय सहायता से बदल किया है| हम यह भी नहीं जानते हैं कि इनकी शारीरिक संरचना क्या है| इस समुदाय के अपने नियम/कायदे/कानून क्या हैं? इनकी आजीविका के साधन क्या हैं? इनकी अपनी बिरादरी का ताना-बाना क्या है? गुरु-शिष्य परम्परा में गुरु कौन होता है और शिष्य कौन? इनके जीवन का दर्द इनकी मृत्यु के बाद होने वाली रस्मों से भी साफ झलकता है। इनका अंतिम संस्कार आधी रात को होता है। उससे पहले शव को जूते-चप्पलों से पीट-पीट कर दुआ मांगी जाती है कि ऐसा जन्म फिर ना मिले।
आखिर ऐसी क्या मजबूरी है कि ये लोग अपने ही साथी के मरने के बाद उसे जूते- चप्पलों से मारें??
जरा सोचिये कि यदि ये नाचे गायें नहीं तो इनका क्या होगा? क्या हम आज तक इनके लिए सम्मानजनक आमदनी का जरिया उपलब्ध करा पाए हैं| नहीं? तीसरे लिंग का कोई व्यक्ति मजदूरी करने के लिए जाए तो वह क्या काम करेगा या करेगी, यह शायद बाद का विषय होगा लेकिन इसके पहले वह तो कौतूहल का विषय ज्यादा होगा| इसी कारण ये लोग मजदूरी तक नहीं कर सकते हैं? जब काम नहीं करते तो फिर खायेंगे क्या, यह सवाल चिंताजनक है| राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण और अन्य कई सर्वेक्षण अलग-अलग समुदाय के लोगों और पेशों में काम करने वाले लोगों के आंकड़े तो जुटाते हैं लेकिन यह एक सवाल है कि इन सर्वेक्षणों मी जद में यह पेशा क्यों नहीं है? यदि गरीबी रेखा इस देश का यथार्थ है तो फिर ये लोग इन लोगों के लिए कोई रेखा क्यों नहीं? क्या इनके लिए न्यूनतम मजूरी के मापदंड नहीं बनाये जाने चाहिए? यदि इन सब का जवाब हाँ में है तो भी इनके लिए अभी तक कोई पहल नहीं की गई है| यदि ये कहीं स्वरोजगार के लिए पहल करना चाहें तो भी बैंक इनकी स्थाई आमदनी न होने के कारण इनको कहीं ऋण नहीं देते हैं| और बैंक के दस्तावेजों में भी अभी तक महिला/पुरुष के अलावा तीसरे लिंग के लिए कोई स्थान नहीं है| सरकारी नौकरियों में इनके लिए कोई आरक्षण नहीं है, इनके कौशल विकास के लिए कोई कार्यक्रम नहीं है और कोई आर्थिक सहयोग भी नहीं|
बम्बई में 2001 में बैंकर श्री शेट्टी ने बैंक द्वारा दिए गए कर्ज को वसूलने के लिए इस समुदाय को काम देने की पहल की थी| तत्कालीन समय में यह बहुत ही सराहनीय प्रयास रहा| बिहार सरकार ने भी 2006 में टेक्स कलेक्टर के रूप में इनसे काम लिया था| इन दोनों व इस तरह के कामों ने इनको काम तो दिलाया| यह काम हटकर भी था लेकिन यह अधिकार के रूप में नहीं आया, बल्कि इस काम को ऐसे भी देखा गया कि ये तो पैसा निकाल ही लायेंगे| यानी इनकी विकलांगता को ढाल बनाया गया| जबकि इनकी मांग भी ऐसे नहीं है और ना ही अधिकार आधारित व्यवस्था इसकी इजाजत देती है| हालाँकि इनके तरह के कामों को लेकर बैगलोर में देश का पहला ट्रेड यूनियन "संगमा" बनाया गया है|
अधिकांश स्वास्थ्य सर्वेक्षण हमें यह तो बताते हैं कि स्त्री-पुरुषों में कुपोषण का प्रतिशत क्या है? एनीमिया की स्थिति क्या है? लेकिन इतनी बड़ी संख्या होने के बावजूद भी आज तक किसी स्वास्थ्य सर्वेक्षण में तीसरे लिंग के लोगों की कुपोषण का प्रतिशत और खून की कमी का प्रतिशत लेकर नहीं आया है| यह मेरा दावा है कि जिस तरह की उपेक्षा भरी जिंदगी ये बसर कर रहे हैं उससे तो यही लगता है कि यह समुदाय भी कुपोषण और भुखमरी की जिन्दगी जरूर बसर कर रहा होगा| न हमें इनकी मृत्यु दर पता है और न ही इनकी जन्म दर| यह एक विडम्बना ही है कि अस्पतालों में अंतर्लिंगी बच्चों का कोई रिकार्ड नहीं रहता है| सेक्स रिसाईन्मेंट सर्जरी भी भारत में सुलभ नहीं है| ना ही कोई संबंधित प्रोटोकाल है जो भी इस समस्या को बढ़ावा देता है|
राज्यसभा चैनल के लिए बनाये गए वृत्तचित्र "किन्नर लोक का सच" में इस समुदाय की अनु स्वीकारती हैं कि कभी किसी को स्वास्थ्यगत समस्या होने पर डाक्टर के पास जाते हैं तो या तो वे हमें छूते नहीं हैं या छूते हैं तो फिर गलत तरीके से छूते हैं| दोनों ही स्थितियों में सही बीमारी का पता नहीं लग पाता है, पर यही सच्चाई है| गौर करिए कि हमने देश में जनाना अस्पताल खोला है, सामान्य अस्पताल खोले हैं, शिशु रोगों से संबंधित विशिष्ट स्पताल खोले हैं|लेकिन हम आज तक इस समुदाय के लिए एक अदद विशेष स्वास्थ्य सुविधा मुहैया नहीं करा पाए हैं| हमारे देश में बाल रोग विशेषज्ञ हैं, स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं, नाक-कान-गला रोग विशेषज्ञ हैं तो फिर आज तक इस देश में हिजड़ों के मामलों को देखने के लिए एक विशेषज्ञ तक तैयार नहीं कर पाए हैं| वह विशेषज्ञ तैयार हो भी नहीं सकता है क्योंकि यह पाठ्यक्रम का हिस्सा नहीं है| और दरअसल यह तबका समाज, सरकार और नीति नियंताओं की सोच की परिधि में नहीं आता है|
तीसरे लिंग के उत्थान के लिए काम कर रही बुनियाद फाउन्डेशन की अध्यक्ष डा. लक्ष्मी कहती हैं कि शारीरिक रूप से अक्षम व्यक्तियों तक के लिए एक अलग से श्रेणी है पर अफ़सोस कि इनके लिए कोई श्रेणी नहीं है? किन्नर भारती की अध्यक्ष सीता कहती हैं लेट्रिन उठाने वालों तक के लिए नौकरी मिल जाती है लेकिन हमारे लिए नौकरियों में कोई भी आरक्षण नहीं है| 10-15 लाख की जनसंख्या के बाद भी इस देश में हमारा समुदाय अल्पसंख्यक नहीं है जबकि पारसी समुदाय की केवल 70,000 जनसंख्या है और वो इस देश में अल्पसंख्यक हैं| हमारी शिक्षा के आंकड़े अभी तक उपलब्ध नहीं हैं| खैर आंकड़े भी तो तब आयेंगे जब हमें स्कूलों में पढने को मिले| अपने बच्चों के जनम पर हमारी दुआएं लेने वाला समुदाय अपने बच्चों को हमारे साथ नहीं पढ़ाना चाहता है|
भोपाल, मध्यप्रदेश की राजधानी है और यहाँ आप यदि पहली बार आये हैं और आप किसी से पूछें कि भोपाल किन चीजों के लिए प्रसिद्ध है|तो बड़े ही आसानी से जवाब मिलता है जर्दा, पर्दा और नामर्दा| यहाँ पर तीसरे लिंग में से भी हिजड़ों के कई घराने हैं| जिसके कारण भोपाल के साथ इनका नाम जुडा है| इतनी तादाद होने के बावजूद भी आज तक भोपाल में आज तक हम इन्हें एक अलग से जनसुविधा शौचालय उपलब्ध नहीं करवा पाए हैं| यदि कोई हिजड़ा समुदाय का व्यक्ति भीड़ भरे इलाके में है तो वह शौचालय का उपयोग करने कहाँ जाये? बसों में महिलाओं/ विकलांगों के लिए तो सीट आरक्षित रहती है लेकिन इनके लिए नहीं?
राजनीति के धरातल पर भी इनका प्रतिशत प्रतिशत नगण्य ही है| राजनीतिक दलों में तो लगभग शून्य ही है| अभी तक मध्यप्रदेश या उत्तरप्रदेश में जिन इक्का-दुक्का हिजड़ों ने सफलता हासिल की है लेकिन उन्होंने भी निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में ही अपनी किस्मत आजमाई है| आपको यह जानकर होगा कि अभी तक संसद में एक भी तीसरे लिंग के व्यक्ति ने चुनकर अपनी उपस्तिथि दर्ज नहीं कराई है| किसी भी राजनीतिक दलों के घोषणा पत्रों में इनके लिए कोई स्थान नहीं है| और तो और आजादी के लगभग 50 सालों बाद तक इन्हें मताधिकार भी प्राप्त नहीं था| निर्वाचन आयोग के पूर्व आयुक्त एम. वाय. कुरैशी ने कहा कि हमने देखा कि इन्हें मतदान का अधिकार नहीं है जबकि यह तो संविधान देता है और कोई इसे छीन नहीं सकता है, तब हमने तत्काल प्रभाव से इसके लिए आवश्यक प्रक्रियाएं कर दीं| लेकिन अफ़सोस कि 1994 में मिले इस अधिकार के बाद भी इन्हें मतदाता पहचान पत्र केवल इसलिये नहीं दिया जा सका क्योंकि वे न तो महिला की श्रेणी में ही थे और न ही पुरुष की| इस बार 2013 में इन्हें अन्य की श्रेणी में मतदान करने का अवसर मिला| इसके बावजूद भी हालत यह है कि इनके लिए निर्वाचन आयोग ने कोई ख़ास पहल नहीं की और जिसके चलते केवल मध्यप्रदेश में ही हजारों की संख्या में होने के बावजूद भी कुल 900 लोगों का ही मतदाता परिचय पत्र बन सका है|
यह भी एक विडम्बना है कि तीसरे लिंग के व्यक्तियों को आदतन अपराधी माना ही जाता है| आपराधिक अपराधी अधिनियम 1971 के तहत किन्नरों को अपराधी माना गया है| इन्हें केवल संदेह के आधार पर ही गिरफ्तार किया जा सकता है| इसी प्रकार भारतीय दंड संहिता की धारा 377 में ट्रांसजेंडर समुदाय के एक भाग को नजरअंदाज किया जाता है| जिसमें अप्राकृतिक सेक्स को अपराध माना गया है| इन्ही कारणों से ये जाने-अनजाने पुलिस के हत्थे चढ़ते हैं और उसके बाद इन्हें प्रताड़ना देने का चलन चलता रहता है| यह तब है जबकि मानवाधिकार इनके साथ ही सांस लेते हैं और उसके बावजूद यह समुदाय उसमें घुटता रहता है|
न काम, न आरक्षण, न कोई स्वतंत्र पहचान और न ही कोई विशेष योजना | जब हमारे सारे अधिकारों के सामने 'न' लगा हो तो फिर हमारे लिए इन मानवाधिकारों के क्या मायने हैं?? बहिष्कार की एक अंतहीन सी प्रक्रिया को झेल रहे इस समुदाय की समस्याओं को हम मानवाधिकार के प्रकाश में देखें तो हमें पता चलता है कि उस पर किसी का ध्यान नहीं है| मानवाधिकारों की अंतर्राष्ट्रीय घोषणा पत्र की धारा 3 कहती है कि प्रत्येक व्यक्ति को अपना जीवन स्वतंत्रता और सम्मान के साथ जीने का अधिकार है| इसी प्रकार आईसीसीपीआर, जिसका भी भारत देश एक हस्ताक्षरी है, की धारा 6(1) कहती है कि बेहतर व सम्मानपूर्ण जीवन बुनियादी अधिकार है| 1979 में हुए इसी समझौते की धारा 4 कहती है कि इन अधिकारों में कोई समझौता नहीं किया जा सकता है| और एक अंतर्राष्ट्रीय समझौते होने और इस पर भारत देश द्वारा इसे अंगीकृत करने के कारण यह जरुरी है कि वह इन प्रावधानों के परिपालन हेतु काम करे लेकिन यह नहीं होता दिख रहा है| बल्कि तीसरे लिंग के मानवाधिकार सूली पर टंगे दिखाई देते हैं|
मानवाधिकारों के लिए संघर्षरत माननीय उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता संजय पारिख कहते हैं कि संविधान में जीने का अधिकार सभी को है, बल्कि यूँ कहें कि सम्मान के साथ जीने का अधिकार है| संविधान की नजर में सब बराबर हैं लेकिन इन्हें यह नहीं मिलते हैं| इनके साथ कदम कदम पर और कमोबेश हर जगह अन्याय हो रहा है और इनके मानवाधिकारों का हनन हो रहा है| पीयूसीएल की राष्ट्रीय सचिव कविता श्रीवास्तव कहती हैं कि नया भारत बना और उसमें जिस तरह से इनके मानवाधिकार ताक पर रखे गए, वह चिंताजनक है| हमारे संविधान में भी लैंगिक अल्पसंख्यकों का जिक्र ही नहीं है| जिस तरह से इनके साथ अत्याचार हो रहा है, इनके इज्जत से जीने का अधिकार खतरे में है, वह चिंतनीय है| कविता कहती हैं कि भारत में सबसे पहली रिपोर्ट पीयूसीएल की कर्नाटक इकाई ने 2001 में तैयार की| उसके बाद अलग-अलग इकाइयों ने भी इस पर काम किया है|
हालाँकि यह भी उतना ही बड़ा सच है कि यह समूह मानवाधिकार संगठनों की भी पहली प्राथमिकता कभी नहीं रहा है| यह समूह और उनके मुद्दे भी आश्चर्यजनक रूप से इन संगठनों की नजर में नहीं आये हैं| हालांकि अभी कई संगठन आगे आये हैं| इस पूरी श्रंखला में मानवाधिकार आयोगों की भी भूमिका बहुत ही निराशाजनक माहौल पैदा करती है| कई आयोगों में तीसरे लिंग के विषय में जानकारी भी उपलब्ध नहीं है| मानवाधिकार आयोगों ने इस समुदाय के सम्बन्ध में अपने वक्तव्य भी जारी नहीं किये हैं|
केवल और केवल स्त्री-पुरुष में बंटे हमारे समाज के पास थर्डजेंडर के बारे में सोचने का वक्त ही नहीं है। ये आगे आयें, समाज के साथ चलें, यह किसी को मंजूर नहीं| इसमें सरकार भी दोषी है, समाज भी दोषी है, परिवार भी दोषी है और मैं और आप व्यक्तिगत रूप से भी| इन्हें किसी भी तरह के कोई भी अधिकार नहीं मिले हैं लेकिन उसके बाद भी यह लोग हमेशा दुआएं ही बाँटते नजर आते हैं| ऐसे में क्या हमारी जिम्मेदारी नहीं कि हम इनके बेहतर जीवन हेतु अपने-अपने दायरों से बाहर निकलें और इनके अधिकारों के संरक्षण के लिए प्रयास करें| पर वह प्रयास दुआ के रूप में न हो बल्कि अधिकार के रूप में हो|
# # #
About the Author: Mr. Prashant Kumar Dubey is a Rights Activist working with Vikas Samvad, AHRC's partner organisation in Bhopal, Madhya Pradesh. He can be contacted at prashantd1977@gmail.com
About AHRC: The Asian Human Rights Commission is a regional non-governmental organisation that monitors human rights in Asia, documents violations and advocates for justice and institutional reform to ensure the protection and promotion of these rights. The Hong Kong-based group was founded in 1984.