Thursday, July 04, 2013

राष्ट्रपति ने प्रदान किए युवा पुरस्कार

पुरस्कार के अंतर्गत एक रजत पदक, एक प्रमाण पत्र और 40 हजार रुपए नकद  
आज राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्रपति भवन के ऐतिहासिक दरबार हॉल में आयोजित एक समारोह में 27 व्यक्तियों और एक संगठन को वर्ष 2011-12 के राष्ट्रीय युवा पुरस्कार प्रदान किए। इस अवसर पर युवा मामलों और खेल-कूद मंत्री श्री जितेन्द्र सिंह और कई जानेमाने लोग मौजूद थे। यह पहला मौका है जब भारत के राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रीय युवा पुरस्कार वितरित किए गए हैं।
राष्ट्रपति भवन में हुए कार्यक्रम के  हरियाणा राष्ट्रिय  एवार्ड प्राप्त करने
का गौरव हरियाणा की कुमारी सुमन को भी प्राप्त हुआ। (फोटो-पीआईबी)
     राष्ट्रीय युवा पुरस्कारों की शुरूआत 1985 में हुई थी। ये पुरस्कार उन युवा लोगों को प्रदान किए जाते हैं, जिन्होंने युवा विकास गतिविधियों के क्षेत्र में शानदार काम किया हो। पुरस्कार के अंतर्गत एक रजत पदक, एक प्रमाण पत्र और 40 हजार रुपए नकद दिया जाता है। स्वयंसेवी संगठनों के मामले में नकद राशि दो लाख रुपए होती है। पुरस्कार के लिए चुने गए लोगों से उम्मीद की जाती है कि उनमें नेतृत्व के गुण होंगे, जिन्हें वे युवा विकास के विभिन्न क्षेत्रों में प्रकट करेंगे। यह पुरस्कार सम्मानित लोगों के लिए विशेष प्रोत्साहक शक्ति के रुप में काम करता है और उन्हें भविष्य में ऐसे काम करने तथा समाज के सामने एक उदाहरण प्रस्तुत करने को प्रोत्साहित करता है। पुरस्कार प्राप्त करने वाले व्यक्ति का चुनाव पहले राज्य स्तर और फिर राष्ट्रीय स्तर पर किया जाता है। राष्ट्रीय स्तर पर संयुक्त सचिव की अध्यक्षता वाली एक स्क्रीनिंग कमेटी प्राप्त प्रस्तावों की जांच करती है। इसके बाद ये जांचे हुए प्रस्ताव केन्द्रीय चयन समिति के समक्ष पेश किए जाते हैं, जिनकी अध्यक्षता युवा मामलों के मंत्री अथवा सचिव करते हैं। अंतिम चुनाव युवा मामलों के मंत्रालय का होता है। केन्द्रीय चयन समिति अपने विवेकाधिकार से गुणदोष के आधार पर उन व्यक्तियों/संगठनों के नामों की भी सिफारिश कर सकती है, जो राज्य सरकार/संघशासित प्रदेश से प्राप्त नहीं हुए हैं।
     वर्ष 2011-12 के लिए राष्ट्रीय युवा पुरस्कार विजेताओं की सूची नीचे दी जा रही है।
क्रम संख्या
व्यक्तियों के नाम
1.
श्री एम. रामुलू, आंध्र प्रदेश
2.
श्री आलूवाला विष्णु, आंध्र प्रदेश
3.
सुश्री टिलिंग याम, अरुणाचल प्रदेश
4.
श्री प्रदीप राज (विक्लांग), दिल्ली
5.
सुश्री चंचल अग्रवाल, नई दिल्ली
6.
श्री गिरीश कुमार, नई दिल्ली
7.
सुश्री मलिसा जमीरा सिमोज, गोवा
8.
सुश्री सुमन, हरियाणा
9.
सुश्री रुचि कौशिक, हरियाणा
10.
श्री अशोक कुमार, हरियाणा
11.
सुश्री गुरमीत कौर, हिमाचल प्रदेश
12.
श्री बेसर दास हरनौत, हिमाचल प्रदेश
13.
श्री किरण कुमार शर्मा, जम्मू एवं कश्मीर
14.
श्री लक्ष्मी नारायण काजेगड्डे, कर्नाटक
15.
श्री बी. हनुमनथप्पा, कर्नाटक
16.
श्री फसल वारिस, केरल
17.
सुश्री तारा उस्मान मुल्ला, महाराष्ट्र
18.
श्री जगदाले शांतनु रामदास, महाराष्ट्र
19.
श्रीमती सोराइशन्म तरुणी देवी, मणिपुर
20.
श्री किटबोकलांग नोंगफ्लांग, मेघालय
21.
श्री एम. तेजेश्वर, ओडिशा
22.
श्री गंगाधर बेहरा, ओडिशा
23.
श्री ध्यानानंद पंडा, ओडिशा
24.
सुश्री खुशमीत कौर बैंस, पंजाब
25.
श्री गुरनाम सिंह सिद्धू, पंजाब
26.
श्री लाडू लाल जाट, राजस्थान
27.
श्री गुलाब चंद सल्वी, राजस्थान

क्रम संख्या
संगठनों के नाम
1.
भविष्य एजुकेशनल एंड चेरिटेबल सोसायटी, पश्चिम बंगाल

उत्‍तराखण्‍ड में ध्‍वस्‍त हुए मकानों के पुननिर्माण

04-जुलाई-2013 20:39 IST
आवास एवं शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय उत्‍तराखण्‍ड सरकार को पुननिर्माण में मदद करेगा 
आवास एवं शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय उत्‍तराखण्‍ड में ध्‍वस्‍त हुए मकानों को फिर से बनाने के लिए के लिए इसकी योजना, डिजाइनिंग और पुनर्निमाण में मदद करेगा इसके लिए वह आवास एवं शहरी विकास निगम लिमिटेड- हुडको, भवन सामग्री और प्रौद्योगिकी संवर्धन परिषद- बीएमटीपीसी और हिंदुस्‍तान प्रिफैब लिमिटेड-एचपीएल की एक त‍कनीकी टीम को वहां तैनात करेगा। आवास एवं शहरी गरीबी उपशमन मंत्री डॅा. गिरिजा व्‍यास ने आज मीडिया के साथ बातचीत में यह बात कही कि भारतीय प्रौद्योगिकी संस्‍थान रूडकी के विशेषज्ञों को भी टीम में शामिल कर इसे और सशक्‍त बनाया जा सकता है। उन्‍होंने कहा कि यह टीम शनिवार और रविवार को प्राकृतिक आपदा ग्रस्‍त उत्‍तराखण्‍ड का दौरा कर नुकसान का जायजा लेगी। 

उत्‍तराखण्‍ड सरकार को अपने मंत्रालय द्वारा पूर्ण सहायता के प्रति आश्‍वस्‍त करते हुए डॅा. गिरिजा व्‍यास ने कहा कि सभी प्रभावित नगर पालिकाओं/ अधिसूचित क्षेत्रीय परिषदों को विशेष मामले के तहत राजीव आवास योजना के अधीन लाकर गरीबों के नष्‍ट हुए मकानों को फिर से बनाने में मदद की जा सकती है और इन आपदा ग्रस्‍त क्षेत्रों को फिर से विकसित किया जा सकता है। उन्‍होंने कहा कि राजीव आवास योजना के अंतर्गत मंत्रालय द्वारा दस हजार मकान पुनर्निमित किए जाएंगे। उत्‍तराखण्‍ड के मुख्‍यमंत्री से आज टेलिफोन पर हुई बातचीत का हवाला देते हुए उन्‍होंने कहा कि हुडको को मकानों के निर्माण और ढांचागत सुविधाओं को फिर से बनाने के वास्‍ते 18 से 20 वर्षों के लिए तीन हजार करोड़ रूपये का दीर्घकालीन सुलभ ऋण मुहैया कराने का निर्देश दिया गया है। इसके अलावा स्‍वर्ण जयंती शहरी रोजगार योजना/ राष्‍ट्रीय शहरी आजीविका मिशन-एनयूएलएम भारत सरकार के श्रम मंत्रालय के माध्‍यम से शहरी क्षेत्रों में आजीविका के लिए प्रशिक्षण और स्‍व रोजगार के लिए मदद देगा। उन्‍होंने कहा उनके मंत्रालय ने भारत सरकार के विभिन्‍न योजनाओं तथा फंडों के माध्‍यम से आवासों के निर्माण के काम के समन्‍वय का भी प्रस्‍ताव रखा है तथा बाढ़ और चट्टान खिसकने से प्रभावितों के लिए पुनर्वास कार्यों के लिए 1.25 करोड़ रूपये प्रदान किए हैं। उन्‍होंने कहा कि उनके मंत्रालय तथा संबंधित कार्यालयों और सार्वजनिक क्षेत्र की इकाईयों के सभी कर्मचारियों ने उत्‍तराखण्‍ड में राहत के लिए अपने एक दिन का वेतन सौंपा है। 

डॅा. व्‍यास ने जवाहरलाल नेहरू शहरी नवीनिकरण मिशन के तहत हुई प्र‍गति का भी उल्‍लेख किया। उन्‍होंने कहा कि उसके तहत शहरी गरीबों को मूलभूत सेवाएं- बीएसयूपी और एकीकृ‍त आवास एवं मलीन बस्‍ती विकास कार्यक्रम-आईएचएसडीपी के अंर्तगत 31.05.2013 तक शहरी गरीबों के लिए आवास एवं मूलभूत सुविधाओं की 1608 परियोजनाओं के तहत 1.56 मिलियन आवासों को मंजूरी दी गई है जिसमें 41, 685 करोड़ रूपये से अधिक की लागत आएगी। इसके अलावा 22, 323 करोड़ रूपये की अतिरिक्‍त केन्‍द्रीय सहायता की प्रतिबद्धता पहले ही व्‍यक्‍त की जा चुकी है और अतिरिक्‍त 15, 733 करोड़ रूपये जारी किए गए हैं। उन्‍होंने कहा कि बीएसयूपी के तहत सभी 65 मिशन शहरों को इसके अंर्तगत लाया गया है और 927 छोटे और मध्‍यम शहरों को आईएसएचडीपी के तहत रखा गया है। लगभग 7, 13, 371 लाख मकान पूर्ण हो चुके हैं और 3, 79, 070 लाख मकान के निर्माण कार्य प्रगति पर है। इनमें 4, 75, 976 घरों को सौंप दिया गया है। 

उन्‍होंने कहा कि जवाहरलाल नेहरू शहरी नवीकरण मिशन आधिकारिक रूप से 31 मार्च, 2012 को समाप्‍त हो गया लेकिन चल रहे कार्यों और राजीव आवास योजना पायलट चरण को पूरा करने के लिए 2014 तक बढ़ाया गया है। राजीव आवास योजना का यह चरण 2 जून, 2013 को समाप्‍त हो गया है। उन्‍होंने 12वीं योजना में जवाहरलाल नेहरू शहरी नवीनिकरण मिशन को राजीव आवास योजना में विलय करके इसके क्रियान्‍वयन प्रक्रिया को शुरू करने की भी जानकारी दी। आवास एवं शहरी गरीबी उपशमन मंत्री ने 12 वीं योजना काल में 28 लाख लोगों को कौशल प्रशिक्षण देने तथा 2.8 लाख लोगों को स्‍व रोजगार के उद्यम के लिए ऋण और सहायता देने के प्रस्‍ताव की भी बात कही उन्‍होंने यह भी बताया कि शहरी बेघर लोगों के लिए 1600 शरण गृह बनाने का भी प्रस्‍ताव है। (PIB)

मीणा-3080  एचडीएचओ/अजीत/निशांत-2000

Wednesday, July 03, 2013

ई०मेल और फ़ोन कॉलों के विश्लेषण:

:                        अमरीकी तरीके से भारत सहमत
                                                                                                                      फोटो: RIA Novosti
मंगलवार को भारत के विदेशमन्त्री सलमान ख़ुर्शीद ने अचानक ही अमरीकी गुप्तचर संगठनों की गतिविधियों का समर्थन किया, जो देशी-विदेशी नागरिकों के इलैक्ट्रोनिक सन्देश और टेलिफ़ोन-बातचीत पर नज़र रखते हैं।
ब्रुनेई में पत्रकारों से बात करते हुए सलमान ख़ुर्शीद ने कहा -- इन सबकी रिकार्डिंग करके उन्हें जो जानकारी मिली, उसके बल पर ही उन्होंने कुछ देशों में बड़ी आतंकवादी घटनाओं को होने से रोक दिया।
सलमान ख़ुर्शीद ने कहा कि उनका मतलब निजी सन्देशों की रिकार्डिंग से नहीं, बल्कि उस कम्प्यूटर-विश्लेषण से है, जो आम सन्देशों और फ़ोन-कॉलों के सिलसिले में किया जाता है।

सलमान ख़ुर्शीद की यह बात भारत के विदेश मन्त्रालय के आरम्भिक नज़रिए से बिल्कुल मेल नहीं खाती क्योंकि बीते जून माह में अमरीकी विदेशमन्त्री से मुलाक़ात करते हुए सलमान ख़ुर्शीद ने कहा था कि निजी जीवन में कोई भी हस्तक्षेप 'स्वीकार नहीं किया जाएगा'।(रेडियो रूस से साभार)