Saturday, August 06, 2011

देश में लुप्त हो रहे भरत-नाट्यम डांस कला को जीवित रखने का प्रयास

अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग 
 देश में लुप्त हो रहे भरत-नाट्यम डांस कला को जीवित रखने का प्रयास भारत में बचे हुए कुछ भरत-नाट्यम कलाकार कर रहे हैं, इसी के चलते आज देश की मशहुर भरत-नाट्यम डांसर दकशना वैद्यनाथन और रमा वैद्यनाथन आज अमृतसर पहुँची और यहाँ पर उन्होंने अमृतसर के एक स्कूल में भारत नाट्यम का प्रदर्शन किया, इस मौके पर उन्होंने बच्चों को भी भारत के इस सांस्कृतिक विरासत से जुड़ने और इस डांस के प्रति आगे आने के लिए प्रेरित किया ताकि इस विरासती नृत्य को बचाया जा सके. 

इस मंच पर संगीत की धुन पर भारत नाट्यम डांस की  कला का प्रदर्शन कर रही यह है, भारत की प्रसिद्ध भरत-नाट्यम डांसर दकशना वैद्यनाथन, बच्चों में इस डांस के प्रति जागरूक करने और इस डांस की महत्वता बताने के लिए वह आज यहाँ पहुँची, जहाँ उन्होंने अपने डांस की कला के जौहर दिखाए, वहीँ उन्होंने कत्थक डांस करके सब का मन मोह लिया, उन्होंने शम्भू-नतनम नृत्य किया और इतिहास में पहले नृत्य यही किया गया था और यह नृत्य का आरम्भ भी कहा जाता है, उन्होंने कई डांस कर बच्चों को अपनी कला से प्रभावित किया और सबका मन मोह लिया. इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, कि आज देश में शास्त्रीय संगीत कम हो रहा है और इसके लिए वेस्टर्न संगीत और बॉलीवुड जिम्मेदार है, उनका कहना है कि आज भारतीय संस्कृति को लोग भूल रहे है और पंजाब में इस नृत्य की पहचान बहुत कम है, लेकिन हमे इसको जिंदा रखना है, लेकिन इसकी महत्वता बहुत जयादा है, इस लिए लोगों को इसकी महत्वता को बताना और बनाना चाहिये, वह यहाँ पंजाब में बच्चों को यह सन्देश देने के लिए आयी है, कि हमे अपनी संस्कृति को बचाना है और वह इस सन्देश को देने के लिए यहाँ पर आयी है और अपने मकसद में कामयाब भी होंगी.




     
वहीँ इस मौके पर रमा वैद्यनाथन का कहना है, कि आज हर भारतीय को इस देश का नागरिक होने के नाते देश की संस्कृति को बचाना चाहिए और आज बॉलीवुड की चमक में यह देश का विरासती संगीत अपनी चमक गवा रहा है और हम सबको एक-जुट होकर इसको आगे लाना चाहिए, ताकि हम लोग अपनी संस्कृति को पूरी दुनिया में दिखा सके, उनका कहना है, कि आज युवा पीडी को इसकी महत्वता बताने के लिए यह पर्यास किये जा रहे है और आज इसी के चलते वह यहाँ पर आई हैं, उनका कहना है, कि बॉलीवुड आज हमारी सोसाइटी के साथ जुड़ गया है, लेकिन बॉलीवुड को अपनी जगह पर रख कर इसकी और भी लगाव बढाना चाहिये और अपने अस्तित्व को बचाना चाहिए, उनका कहना है, कि इस तरह के आयोजन से बच्चों को इसकी महत्वता के बारे में पता चलता है और बच्चों का रुझान और झुकाव इस और बढता है.
      देश का सबसे पुराना नृत्य आज बॉलीवुड की चमक में अपनी पहचान भूलता जा रहा है, वहीँ इस संस्कृति को बचाने के लिए दक्ष्ण और रमा वैधनाथन जैसी कलाकार इस विरासती और सांस्कृतिक नृत्य को बचने के प्रयास में लगी हुई हैं. उनके इस प्रयास का हिस्सा बनकर हम सब लोगों को भी कुछ कदम उनके साथ आगे बदने चाहिए ताकि इस विरासती और सांस्कृतिक धरोहर को बचाया जा सके, कहीं ऐसा न हो, कि एक दिन यह नृत्य इतिहास बन कर न रह जा     

मामला साफ़-सुथरी छवि वाले लोगों को ही एसजीपीसी टिकट देने का

सुखपाल सिंह खैरा ने साधा एसजीपीसी की पूर्व प्रधान बीबी जागीर कौर पर निशाना 
अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग   
श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार द्वारा दिए गए बयान जिसमे उन्होंने कहा था, कि शिरोमणि कमेटी में साफ़-सुथरी छवि वाले लोगों को ही टिकट मिलनी चाहिए, इस बयान के आधार पर आज भुलत्थ हलके के विधायक सुखपाल सिंह खैरा ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की पूर्व प्रधान बीबी जागीर कौर पर निशाना साधते हुए उनके क्रिमिनल रिकार्ड के चलते शिरोमणि कमेटी के प्रधान को उन्हें टिकट न देने की बात कही, उन्होंने शिरोमणि कमेटी को बादल परिवार से आजाद करवाने के लिए भी निशाना साधा और इस चुनावों में लोगों को सोच-समझ कर मतदान करने की अपील की, वह आज अमृतसर में पत्रकारों के साथ बातचीत कर रहे थे.
            सिखों की मिनी पर्लीमेंट कही जाने वाली संस्था शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के चुनावो की तारीख की घोषणा किये जाने के बाद अब चुनावी माहौल गरमा चुका है और अब आरोप-प्रत्यारोपो का सिलसिला भी शुरू हो चुका है, उधर श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार द्वारा दिए गए ब्यान, जिसमे उन्होंने कहा था, कि शिरोमणि कमेटी में साफ़-सुथरी छवि वाले लोगों को ही टिकट मिलनी चाहिए, उन्होंने कहा, कि वह और सारा सिख जगत उनके इस बयान की बहुत सराहना करते हैं, इस ब्यान को आधार बनाकर आज भुलत्थ हलके के विधायक सुखपाल सिंह खैरा ने शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की पूर्व प्रधान बीबी जागीर कौर पर निशाना साधा और कहा, कि बीबी पर पहले ही सी,बी,आई द्वारा हरप्रीत सिंह हत्याकांड का 
मामला चलाया जा रहा है और उस मामले में हो सकता है, कि अगले सात-आठ महीने में उन्हें सजा भी हो जाए, उन्होंने कहा, कि अगर ऐसा होता है तो यह सारे सिख जगत के लिए बहुत शर्मनाक बात होगी, उन्होंने कहा, कि बीबी नगर पंचायत बेगोवाल, जिला कपूरथला की करीब 12 एकड़ जमीन जिसकी कीमत करीब 100 करोड़ रूपये हैं, पर नाजायज तौर पर जबरन कब्जा हैं, जो कि भ्रष्टाचार का जीता-जागता सबूत है,. उन्होंने कहा, कि दूसरा मामला यह है, कि शिरोमणि कमेटी की ऑफिशियल वेब-साईट पर बीबी जगीर कौर के दो चित्र लगाये गए हैं, जिसमे की पहले शिरोमणि कमेटी के प्रधान पद पर रहते हुए पूरी सिख मर्यादा वाली तस्वीर है और दूसरी में ब्यूटी पार्लर में जाने के बाद ब्यूटी की तकनीक के बाद जैसा चेहरा सामने आता है वह है, उन्होंने कहा, कि यह पतित-पुणे की साफ़ तस्वीर पेश की गयी है, उन्होंने कहा, कि शिरोमणि कमेटी के कई नेताओ से अफीम पकड़ी गयी है और उन पर मामले भी दर्ज हुए हैं और कई बार बड़े नेताओ को शिरोमणि कमेटी द्वारा बचाया भी जाता रहा है और यहाँ तक कि अकाली नेताओ पर बलात्कार के मामले भी दर्ज हुए हैं
          उधर उन्होंने शिरोमणि कमेटी के प्रधान बादल परिवार पर निशाना साधते हुए कहा, कि शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबधक कमेटी की गोलक को बादल परिवार पाने निजी स्वार्थो के लिए इस्तेमाल कर रहा है, उन्होंने कहा, कि श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार को अब इस मामले में आगे आकर इस पर कठोर कदम उठाने की जरुरत है, उन्होंने कहा, कि वह लोगों से अपील करते हैं, कि इस बार एस,जी,पी,सी चुनाव में लोग सोच-समझ कर साफ़-सुथरी छवि वाले उम्मीदवारों को मतदान करे और शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी को बादल परिवार के चंगुल से आजाद करवाए
       श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार द्वारा दिया गया बयान और उसके बाद भुलत्थ के विधायक सुखपाल सिंह खैरा द्वारा उठाया गया यह कदम अब शिरोमणि कमेटी के चुनावो में क्या भूमिका निभाता है यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा, फिलहाल अभी यह देखना है, कि एस,जी,पी,सी चुनावो में किस-किस को टिकट मिलती है.
मामला साफ़-सुथरी छवि वाले लोगों को ही एसजीपीसी टिकट  का 

मान ने फिर किया शिरोमणि अकाली दल बादल के सफाए का ऐलान

शिरोमणि अकाली दल, अमृतसर का चुनाव मैनिफेस्टो जारी
अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग  
शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबधक कमेटी के चुनावों की घोषणा के बाद अब सभी पार्टियाँ द्वारा तेजा सिंह समुंदरी हाल पर काबिज होने की दौड़ में जुट गयी हैं, इसी के चलते आज इन चुनावों में अपनी हिस्सेदारी का दम भरते हुए शिरोमणि अकाली दल, अमृतसर के प्रधान सिमरनजीत सिंह मान द्वारा आज अमृतसर में अपने कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर अपनी पार्टी का चुनाव मैनिफेस्टो जारी किया और इस बार के चुनावों में शिरोमणि अकाली दल बादल का तेजा सिंह समुंदरी हाल से पूर्ण तौर पर सफाया करने का भी ऐलान किया
         सिखों की मिनी पार्लियामेंट के नाम से जाने जाने वाली शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के चुनावों की घोषणा के बाद सभी पंथक दल तेजा सिंह समुंदरी हाल पर काबिज होने की इस दौड़ में कूद गए हैं, इस दौड़ में शामिल होते हुए आज शिरोमणि अकाली दल, अमृतसर द्वारा इस चुनाव में अपनी हिस्सेदारी को मजबूत करने के चलते आज सिमरन जीत सिंह मान द्वारा आज अपने दल-बल के शीर्ष नेताओ के साथ अमृतसर में आज अपनी पार्टी का चुनाव मैनिफेस्टो जारी किया, अपने इस मैनिफेस्टो के बारे में जानकरी देते हुए कहा, कि सिमरनजीत सिंह मान ने इस बार तेजा सिंह समुंदरी हाल से शिरोमणि अकाली दल बादल का सफाया करने का ऐलान किया और शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी को बादल परिवार के चुंगल से आजाद करने का दम भरा, उन्होंने अपने 
चुनावी मैनिफेस्टो के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के चुनाव में सिखों की बफर स्टेट खालिस्तान, जो कि चीन, पाकिस्तान, अफगानिस्तान और भारत जिनके पास परमाणु शक्ति है, के मध्य होगी और इसमें पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, राज्यस्थान और जम्मू-कश्मीर शामिल होगे और शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी को 1920 वाला रुतबा वापस दिलवाने, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के हाउस की मर्यादा दोबारा कायम करने और साका नीला तारा में मारे गए सिखों के परिवारों को मदद और संभाल जैसे मुद्दे जनता के सामने लाकर, उन्होंने जनता से इस चुनाव में उन्हें वोट देने की अपील की, उनसे पूछे गए सवाल पर कि पिछले चुनाव में भी उन्हें कोई सीट हासिल नहीं हुई थी, उन्होंने कहा, कि चीन और पाकिस्तान भारत से जंग में हार गया था, लेकिन उसने लड़ना नहीं छोड़ा और वह घुडसवार हैं और मैदाने जंग में घुडसवार गिरा करते हैं और दोबारा उठ कर सवारी करते हैं, इसलिए वह पीछे नहीं हटेंगे, क्यों कि वह आज भी 
घुडसवार हैं और शिरोमणि अकाली दल चुनाव जीत कर दिखायेंगे.उन्होंने कहा, कि एक तरफ कांग्रेस ने सरना के साथ मिलकर मोर्चा बनाया है और दूसरी तरफ अकाली दल बादल ने बीजेपी और आर.एस.एस. के साथ मिलकर मोर्चा बनाया है,  उन्होंने कहा, कि बलवंत सिंह कुक्कड़ द्वारा 1946 में पास किया गया मत्ता था वह उनका चुनाव में मुख्य मुद्दा है. उन्होंने कहा, कि जीतने के बाद धर्म प्रचार, बुंगो की मुरम्मत कराना और सिख कौम से जुड़े मुद्दे हल कराना उनकी मुख्य कोशिश होंगी. उधर शिरोमणि अकली दल अमृतसर के चनाव मैनिफेस्टो के बारे में जानकारी देते हुए जनरल सेक्टरी ने भी इस मुद्दे के बारे में जानकारी देते हुए कहा, कि सिखों की समस्याओं को मुख्य रूप से खत्म करना और बादल परिवार द्वारा गुरु की गोलकों का गलत इस्तेमाल किये जाने पर श्वेत पत्र जारी करने की बात कही, उनसे पूछे गए सवाल पर कि क्या शिरोमणि अकाली दल किसी अन्य दल से समझौता करेगा, तो उन्होंने कहा, कि वह उनके चुनाव मैनिफेस्टो में जारी की गयी बातो और उनकी पार्टी के सिद्धांतो के अनुसार जो भी पार्टी उनसे समझौते की बात करेगी, वह उसके साथ सहमत होंगे.   

सोनिया गाँधी के स्वस्थ्य लाभ के लिए सच्चखंड में की गयी अरदास

 अमृतसरसे गजिंदर सिंह किंग  
यूपीए के साथ साथ कांग्रेस पार्टी की भी प्रमुख सोनिया गाँधी का स्वस्थ्य अचानक बिगड़ने के कारण उन्हें अपने इलाज के लिए विदेश जाना पड़ा जहाँ पर उनका इलाज सफलता पूर्वक चल रहा है और अब वहां उनका सफल ओपरेशन हो चुका है. "दुःख और संकट" की इन घड़ियों में उनके बहुत से प्रशंसक और कार्यकर्ता उदास और विचलित से हो गए.उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना इन सभी कार्यकर्तायों के मन से गहरी प्रार्थना बन कर उठी और वे शुक्रवार को  सच्चखंड श्री हरिमंदिर साहिब में अरदास करने के लिए पहुंचे.
अमृतसर का सच्चखंड श्री हरिमंदिर साहिब जहाँ गुरु के सामने की गयी हर अरदास पूरी होती है और इसी के चलते आज भारत की दिग्गज पार्टी कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गाँधी को अपनी सर्जरी के लिए भारत के डाक्टरों की सलाह पर अमेरिका जाना पड़ा जहाँ उनकी सर्जरी हो गयी है और उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिए आज अमृतसर के कार्यकर्ताओ और नेताओ ने मिलकर अमृतसर के कांग्रेस कमेटी के प्रधान जुगल किशोर के नेत्रित्व में सचखंड श्री हरिमंदिर में गुरु के सामने अरदास की और गुरु घर में माथा टेका. इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि वह आज सोनिया गाँधी के जल्द स्वस्थ होने की अरदास करने यहाँ आये हैं और वह कामना करते हैं कि सोनिया गाँधी जल्द ठीक होकर भारत वापिस लौटे और कांग्रेस पार्टी की कमान दोबारा संभाल कर उसे मजबूती प्रदान करे. प्रार्थना के पलों को गजिंदर सिंह किंग ने बिना कोई वक्त गंवाए तुरंत अपने कैमरे में कैद कर लिया. आपको ये तस्वीरें कैसी लगीं अवश्य बताएं. आपके विचारों के इंतज़ार बनी रहेगी.

Friday, August 05, 2011

बारिश होने से हुआ बुरा हाल अमृतसर माँडल रेलवे स्टेशन का


            अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग 
अमृतसर भारत के दस माँडल रेलवे स्टेशनों में से एक है और रेलवे प्रशासन यहाँ पर अंतर-राष्ट्रीय स्तर की सुविधाएँ देने का दम भरता है, लेकिन यहाँ की जमीनी हकीकत कुछ और है, आईये दिखाते हैं आपको यहाँ का नजारा जिसे देख कर आप भी हैरान रह जायेंगे.आप भी सोचने लगेंगे कि क्या यही है आघुनिक भारत का अमृतसर रेलवे स्टेशन .           
 यह है अमृतसर का रेलवे स्टेशन, और यह है इसके नहर का नजारा, आप इसे देख कर ही समझ गए होंगे कि यहाँ पर क्या हुआ होगा, जी हाँ अमृतसर और इसके आस-पास के इलाको में आज सुबह  बारिश हुई और यहाँ पर बारिश रुकने के बाद भी यहाँ ऐसा लगता है, कि यहाँ पर बारिश नहीं हुई, बल्कि सैलाब आया है, घुटनों तक खड़ा पानी इस बात का गवाह है, आइये अब हम स्टेशन के अंदर चलते हैं, यह है अमृतसर के माँडल रेलवे स्टेशन के अंदर बना  यात्रियों के लिए प्रतीक्षा घर, जो आज एक छलनी की तरह पानी टपक रहा है, यहाँ पर कभी यात्रियों के बैठने की पूरी सुविधा होती थी, लेकिन आज यह पूरी तरह खाली है, इक्का-दुक्का ही यात्री नजर आ रहे हैं, क्यों कि बारिश के कारण छत से टपक-टपक कर यहाँ नीचे पानी इकट्ठा होकर खड़ा हुआ है, आइए अब दिखाते हैं, अमृतसर के माँडल रेलवे स्टेशन की वह रेल पटरियां जहाँ 
से रोजाना दर्जनों ट्रेने भारत के विभिन्न राज्यों और शहरों के लिए रवाना होती है, पानी से भरी पटरियां आपके सामने हैं और इसकी हकीकत क्या है, इसका अंदाजा आप बखूबी लगा सकते हैं, इस बारे में जब यहाँ पर खड़े एक यात्री से बात की गयी तो उन्होंने बताया, कि यहाँ पर आप खुद ही देख सकते हैं, कि अमृतसर के माँडल स्टेशन का क्या हाल है और इस बारे में उन्होंने कई बार अधिकारीयों से बात भी की है, लेकिन कोई सुनवाई नहीं करता.       
उधर जब हमने यहाँ आ रही एक ट्रेन का में चड़ने-उतरने वाले यात्रियों की धक्का-मुक्की देखी तो हमें कुछ इस तरह दिखाई दिया, कि अमृतसर स्टेशन के प्लेटफार्म पर आती हुई ट्रेन और इस चलती ट्रेन में सवार होने के लिए लोगों की भाग-दौड़ और धक्का-मुक्की आप खुद ही देख लीजिये, 
लोग इस ट्रेन से आने वाली सवारी को उतरने का मौका दिए बिना ही धक्का-मुक्की कर इसमें सवार हो रहे हैं. चाहे इस धक्का-मुक्की में किसी को चोट लग जाए या किसी की जन चली जाए, इसकी किसी को कोई प्रवाह नहीं, उधर आज फिरोजपुर रेलवे डिवीजन के आला-अधिकारी एम.एम.सिंह मीना आज इस माँडल रेलवे स्टेशन के दौरे पर अमृतसर पहुंचे और जहाँ पर रेलवे स्टेशन का दौरा कर जायजा लिया, जब इस मामले में उनसे बात की गयी, तो उनका कहना था, कि यह रोटीन चेकिंग है और जब उनसे पूछा गया, कि बाहर और अंदर रेलवे की पटरियों पर पानी भरा हुआ है, तो उन्होंने इस मामले से अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा, कि अमृतसर का रेलवे स्टेशन निचली जगह पर बना हुआ है,. इसलिए यहाँ पर यह सीवरेज की समस्या है, रेलवे के टूटे शेडो पर बात करते हुए उनका कहना है, कि इस समस्या को जल्द ही हाल करवा दिया जायेगा.

दिल्ली अकाली दल ने लिया पंजाब सरकार को आड़े हाथों

*पंजाब सरकार लाठी और बंदूक के बल पर किसानों को ज़मीनो से कर रही है बेदख़ल -गोशा,भुल्लर

पंजाब के सतासीन लोगो की नजऱ में एक मानव की कीमत पांच लाख
लुधियाना: vपंजाब सरकार लाठी और बंदूक की नोक पर किसानों कर जबर-ज़ुल्म मां से भी प्यारी कृषि योग्य ज़मीन से उन्हें बेदख़ल करने के साथ साथ ग्रामीण क्षेत्रों के गरीब परिवारों को बेघर कर रही है। उक्त आरोप अकाली दल दिल्ली के सूबा यूथ प्रधान गुरदीप सिंह गोशा और व्यापार विंग प्रधान बलविन्द्र सिंह भुल्लर ने प्रैस को जारी लिखित बयान के द्वारा लगाए। उन्होंने अकाली दल बादल की तरफ से किसान हितैषी होने के दावों की पोल खोलते हुए कहा कि किसानों के नाम पर राजनीति करने वाली पंजाब सरकार वास्तव में किसानों की हितैषी नहीं बल्कि दुश्मन है। यदि हितैषी होती तो डंडों और बंदूकों के सहारे किसानों की हत्या करके ज़मीन एक्वायर करके उन से रोज़ी रोटी के कमाने के अधिकार नहीं छीनती। यहीं बस नहीं पंजाब सरकार ने तो एक्वायर की ज़मीन में बसते घरों के आसपास कंटीली तार लगा कर घरों को जाने वाले मुख्य रास्ते भी बंद कर दिए हैं। और जगह जगह किसानो का हितैषी कहलाने वाले अकाली दल बादल के जत्थेदार चुप्पचाप तमाशा देखते रहे। पंजाब सरकार की तरफ से ज़मीन एक्वायर करनं का विरोध कर रहे किसानों पर गोलियाँ और डंडों की बौछार में एक किसान की मौत और पीडि़त परिवार को पांच लाख रुपए की मदद को भद्दा मज़ाक बताते हुए उन्होने कहा कि पंजाब की सता पर सतासीन लोग सता के नशे में चूर हो कर एक मानव का सरकारी तौर पर कत्ल करने की कीमत पांच लाख रुपए अदा करके किसान हितैषी बन रहे हैं। जबकि पंजाब की सता पर विराजमान यह लोग वास्तव में किसान हितैषी नहीं बल्कि दुश्मन हैं।

============

ससुरालियों से दुखी होकर दामाद ने कर ली आत्महत्या

         अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग:  
अमृतसर के  छेहरटा इलाका ढपई में रहने वाले युवक ने ससुरालियों से दुखी होकर आत्महत्या कर ली, युवक की शादी कुछ महीने सदर मोहल्ला लुधियाना में हुई थी, शादी के बाद दोनों में झगड़ा होने लगा, युवती आपने बेटे को लेकर मायके जाकर युवक के खिलाफ पुलिस में शिकायत कर दी, इसी बात से आहत होकर युवक ने जहरीला पदार्थ निगल लिया, पुलिस ने  सुसाइड नोट के आधार पत्नी समेत पांच लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर करवाई  शुरू कर दी गई है 
अमृतसर का जतिंदर गिल  गली मच्छी वाली गांव ढपई छेहरटा का रहने वाला है और इस की शादी कुछ महीने पहले मीनू उर्फ सोनिया निवासी सदर मोहल्ला लुधियाना के साथ हुई थी, शादी के बाद दोनों में झगड़ा होता रहता था, 31 जुलाई को मीनू उर्फ सोनिया झगड़ा करके  आपने बेटे अनमोल के साथ मायके चली गई, मायके जाकर मीनू उर्फ सोनिया ने आपने पति जतिंदर गिल के खिलाफ पुलिस में शिकायत कर दी, इसी बात से 
आहत होकर जतिंदर गिल ने जहरीला पदार्थ निगल कर लिया, मौत के वक़्त उसके पास से एक सुसाइड नोट मिला है, जिसमे जतिंदर गिल ने आपनी मौत का कारण आपने ससुरालियों को बताया है,यह जानकारी जतिंदर गिल के पिता गुलज़ार सिंह और माता शकुन्तला ने आपने बेटे की मौत का प्रशासन से इन्साफ की गुहार लगाते हुए बताया, कि उनकी बहू झगड़ा करके अपने बेटे अनमोल के साथ मायके चली गई, मायके जाकर उनकी बहू ने उनके बेटे के खिलाफ पुलिस में शिकायत कर दी, इसी बात से आहत होकर उनके बेटे ने जहरीला पदार्थ निगल लिया, हम ने अपने बेटे को रंजीत एवेन्यू स्थित 
ई,एम,सी अस्पताल में दाखिल करवाया था, जहां उनके बेटे की मौत हो गई, उन्होंने प्रशासन से मांग की, कि हमे आपने बेटे की मौत का इन्साफ मिलना चाहिए. अमृतसर के थाना छेहरटा पुलिस के प्रभारी सुखविंदर सिंह ने इस मामले की जानकारी देते हुए बताया, कि जतिंदर गिल का शव आपने कब्जे में लेकर सुसाइड नोट के आधार पर जतिंदर गिल की पत्नी मीनू, सास सरोज रानी, ससुर राजिंदर कुमार भट्टी, दादा ससुर मोहन लाल भट्टी व साला गौरव के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोप में केस दर्ज कर कारवाई शुरू कर दी गई है  

एक पत्नी ऐसी भी: जाली दस्तावेजों से बेचा पति का मकान


फिरोजपुर: कहा तो यही जाता है कि पति पत्नी का सम्बन्ध सात जन्मों का होता है पर हकीकत में क्या यह बात सच है> इस बात पर आशंका उठाती एक नयी घटना सामने आई है जिला फिरोजपुर के एक गांव में जहां एक पत्नी द्वारा अपने पति के नाम के एक मकान के जाली दस्तावेज तैयार कर मकान किसी दूसरे को बेच दिया गया. थाना सदर  पुलिस ने आरोपी पत्नी तथा मकान के खरीददार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है.  
जिला फिरोजपुर के गांव पीरां वाला के रहने वाले बाज सिंह  ने पुलिस को दिये गये बयान में आरोप लगाया कि उनके गांव वाले मकान को  लेकर उनकी पत्नी कैलाश कौर ने उसको विश्वास में लेकर पहले तो उनसे असली रजिस्टरी वगैरह ली तथा बाद उन्हीं दस्तावेजों के आधार पर फर्जी दस्तावेज तैयार कर मकान को गांव के रहने वाले बलविंदर सिंह को बीते नवंबर महीने में बेच दिया.  इस बात का पता लगते ही उन्होंने पुलिस के उच्चाधिकारियों को अपने साथ हुई इस धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज करायी तथा पुलिस ने मामले की तफतीश करने व शिकायत के सही पाये जाने  उपरांत आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्र्ज कर लिया है। इस युग में अगर पत्नी ही अपने पति के साथ ऐसा धोखा करने लगे तो फिर और किस रिश्ते पर विशवास रहेगा ?शायद इसी लिए इस युग को कलियुग कहते हैं. 

आर्गेनिक खेती की तरफ कदम बढ़ाना वक्त की ज़रुरत


 अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग  
पंजाब में बासमती की फसल की पैदावार को देखते हुए अब यहाँ के किसानो को ओरगेनिक खेती की तरफ मोड़ने के चलते आज अमृतसर में एक सेमीनार का आयोजन करवाया गया, जिसमे अलग-अलग राज्यों से कृषि वैज्ञानिको ने इस सेमीनार में आये हुए किसानो को ओरगेनिक बासमती की खेती और उससे होने वाले फायदे के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई
           अमृतसर में आज  पंजाब में बासमती की फसल की पैदावार को देखते हुए अब यहाँ के किसानो को ओरगेनिक खेती की तरफ मोड़ने के लिए एक सेमीनार का आयोजन किया गया, जिसमे अलग-अलग राज्यों से कृषि वैज्ञानिको ने इस सेमीनार में आये हुए किसानो को ओरगेनिक बासमती की खेती और उससे होने वाले फायदे के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई, इस बारे में बात करते हुए रितेश शर्मा, सीनियर साइंटिस्ट, BEDF ने जानकरी देते हुए कहा, कि आज किसान को अपना नजरिया बादल कर इस ओरगेनिक खेती की तरफ कदम बढ़ाने की जरूरत है और इसी के चलते यह सेमीनार करवाया गया है, उन्होंने कहा, कि इस पैदावार की कीमत भी मार्केट में अच्छी मिलती है और अगर किसान इसकी पैदवार करेगा, 
तो उसे काफी मुनाफा हो सकता है, उन्होंने कहा, कि  पहले जगह ज्यादा थी और अब जगह काम होने लगी है और अब इसकी ज्यादा जरूरत है,कि बासमती के निर्यात में पिछले दिनों कुछ कमी आई है और सरकार द्वारा अब दुसरे चावल को भी एक्सपोर्ट करने की परमिशन दे दी है, क्यों कि अब भारत में चावल की फसल सरप्लस है और अगर ओगैनिक खेती की फसल भी लगायी जाए तो इसका मूल्य भी ज्यादा मिल सकता है.
        उधर इस सेमिनार का हिस्सा बने अरविंदर पाल सिंह, एक्सपोटर ने मीडिया से बात करते हुए बताया. कि अगर किसान उन्हें ओरगेनिक खेती कर ओरगेनिक बासमती उन्हें दे तो वह अच्छे दाम किसानो को दे सकते हैं. उन्होंने कहा. कि विदेशो में बासमती पर बहुत से मापदंड और चेक लगाये गए हैं और अभी सरकार द्वारा इया पर को सब्सिडी नहीं दी जा रही है.

Wednesday, August 03, 2011

संक्षिप्त चर्चा लेडीज़ क्लबों और एन एन सी की

लेडीज़ क्लबों ने मनाया १५ अगस्त और जन्माष्टमी का रंग  
रंग  तो  बहुत  होते  है  पर जो आज़ादी का रंग है और श्री कृष्ण जन्माष्टमी का रंग हैं...इन रंगों की तो बात ही कुछ और है. इन रंगों के आगे सब रंग  फीके पद जाते है. शायद यही रहस्य है की इन रंगों में रंग कर लोग हंसते हंसते मौत को गले लगा लेते हैं. हालांकि चाहए अभी 15 अगस्त और श्री जन्माष्टमी के  त्योहार मैं अभी समय बाकी है पर पंजाब की मेट्रो  सिटी लुधियाना अभी से रंगी नजर आने लगी है एक लेडीज़ क्लब  की तरफ से एक कार्यकर्म  आयोजित कर जमकर इन दिनों को उत्सव की तरह मनाया गया. इस कार्यक्रम मैं हिसा लेने वाली क्लब मेम्बर पूरी तरह  से इनरंगों मैं रंगी नजर आई.  
लुधियाना के आस्था लेडीज़ क्लब की तरफ से 15 अगस्त और श्री जन्माष्टमी के  त्योआर के उप्ल्श्य  मैं एक कार्य कर्म आयोजित  किया गया जिस मैं हिसा लेने वाली क्लब मेम्बरों ने इसे  ने जमकर मनाया. इस कलन की मेम्न्रें  पूरी तरह  से 15 अगस्त और जन्माष्टमी त्योआर के  रंगों मैं रंगी नजर आई  क्लब मेम्बर का यह कहना है की इन रंगों के आगे सारे रंग फीके है.
-----------------
देश को समर्पित नौजवानी के जज्बे का नाम है एन सी सी 
देश के लिए कुछ कर गुजरने का जज्बा रखने वाले नोज्वानो के लिए एन सी सी  कैडेट्स  कैम्पस काफी कारगार साभित हो रहा है जिस के माद्यम से नोजवान  पीढ़ी  अपने इस जज्बात को सच मैं सदा के लिए जिन्दा रख सकती है इन जज्बातों मैं लड़कियां भी पीछे नहीं है यह बात देखने को मिली पंजाब की मेट्रो सिटी लुधियाना मैं चल  रहे एक  .एन सी सी  कैडेट्स  कैम्प मैं.
यहां चला शूटिंग का दृश्य किसी बोर्डर पर चल रही किसी लड़ाई का दृश्य नहीं था यह शूटिंग आने आले समय मैं देश के लिए मर मिटने वालो के लिए उन को उन के जज्बातों को मल रूप देने मैं काफी कारगार साबित  होगी ऐसा जज्बात रखने वालो मैं लड़कियां भी पीछे नहीं है हाथो  मैं बदूक थामे  हुए एह नोजवान इसी तरह कभी जब देश पर संकट की घड़ी आये गी मर मिटेगे.  
इस कैम्पस के मुखी ने इस के बारे मैं जानकारी देते हुए बताया की इन कैडेटों  को पूरी तरह से सक्षम किया जाता है. 
----------------

Tuesday, August 02, 2011

अमृतसर सेंट्रल जेल में युवक की मौत


  लोगो ने सड़क जाम कर किया  प्रदर्शन
       अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग)  
अमृतसर सेंट्रल जेल में एक युवक की मौत के बाद गुसाए उसके परिजनों और लोगों ने अमृतसर के चौक रत्तन सिंह की सड़क जाम कर प्रदर्शन किया और सारा बाजार बंद करवाया, इस मामले में जब पुलिस द्वारा उन्हें रोकने का प्रयास किया गया तो उन्होंने पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और पुलिस द्वारा उन्हें इस मामले में जांच कर करवाई करने का भरोसा दिया गया.  अमृतसर के चौक रत्तन सिंह इलाके का रहने वाला बावा नाम का युवक जिसका किसी मामले को लेकर अपने इलाके के कुछ लोगों के साथ झगड़ा हो गया था और यह मामला थाने जा पहुंचा और पुलिस ने बावा नाम के इस युवक को पकड़ कर जेल भेज दिया और देर रात इस युवक की जेल में मौत हो गई, आज जब इस युवक के परिवार वालों को बावा की मौत का पता चला तो उन पर सदमे का पहाड़ आ गिरा, उसके परिवार वालों का गुस्सा सातवे आसमान पर जा चढ़ा और गुस्से में उन्होंने रतन सिंह चौक का सारा बाजार बंद करा दिया और रोड जाम कर प्रदर्शन किया, जब पुलिस ने उन्हें ऐसा करने से रोका तो इन्होने पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की, इस मामले की जानकारी देते हुए मृतक के पडोसी  सोमनाथ ने बताया, कि उनका किसी बात को लेकर मोहल्ले के कुछ लोगों के साथ झगड़ा हुआ था और मामला पुलिस के पास पहुंचा, पुलिस ने बावा को पकड़ कर जेल भेज दिया, उधर जिन लोगों से बावा का झगड़ा हुआ था, उन्होंने बावा को ठोकने की बात कही और कल देर रात बावा की जेल में मौत हो गयी, इस बारे में पूछना चाहते हैं कि क्या बावा जब बावा यहाँ से ठीक-ठाक गया था तो उसे दो दिन में ही ऐसा क्या हुआ कि उसकी मौत हो गयी, उन्होंने मांग की, कि उन्हें इन्साफ दिलाया जाये और जिन्होंने बावा को मारा है, उनके विरुद्ध सख्त से सख्त कारवाई की जाये, उधर बावा की पत्नी सोनिया का रो-रो कर बुरा हाल है, वह इस सदमे से पत्थर सी हो गयी है, बावा के मौत के बाद उसके छोटे-छोटे बच्चे अनाथ हो गये हैं और वह भी इन्साफ की मांग कर रही है 
        उधर इस मामले को सुलझाने पहुंची पुलिस  थाना प्रभारी  हरीश बहल ने इस बारे में बात करते हुए कहा, कि बावा पर मामला दर्ज हुआ था और उसे जेल भेजा गया था जहाँ उसकी मौत हो गयी, मौत की न्यायिक प्रकिया के तहत कारवाई की जा रही है और इस जांच के बाद ही मृतक की मौत कैसे हुई है, इसका पता चल पायेगा,  उधर बाजार बंद करवाने के मामले में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा, कि यह लोग मृतक की मौत का कारण पूछ रहे हैं और कारण पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल पायेगा

नाबालिग लड़की शादी के बाद अपने आशिक के साथ फरार


         अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग  
एक तरफ सरकार और प्रशासन नाबालिग लड़की की शादी के विरोध में लोगों को जागरूक करने के लिए प्रयास कर रहा है और दूसरी तरफ लोग अभी भी लड़की को बोझ समझते हैं, ऐसा ही एक अनोखा मामला सामने आया है, अमृतसर के अजनाला के गाँव खान-वान में जहाँ एक माँ-बाप द्वारा सरकार के सारे दावो को दरकिनार करते हुए, अपनी नाबालिग बेटी की पहले तो एक बालिग लड़के से शादी करवाई और शादी के कुछ दिन बाद वह लड़की अपने ससुराल से अपने आशिक के साथ फरार हो गयी, पुलिस ने लड़की के पिता के बयानों के आधार पर मामला दर्ज कर जाच शुरू कर दी है
       हमारे देश में महिला सशक्तिकरन को लेकर सरकार और प्रशासन द्वारा नाबालिग लड़की की शादी के विरोध में लोगों को जागरूक कराने के लिए कितने ही दावे किये जाते हैं, लेकिन यह दावे कितने सच साहिब होते हैं, इसका जीता-जगता उद्धाहरण आज हम आपको दिखाते हैं, यह है 16 साल की मासूम पूजा, पूजा की शादी किसी और ने नहीं, बल्कि उसके अपने ही घर वालों ने उसे एक बोझ समझते हुए गाँव अवान लक्खा सिंह के बलकार मसीह से करीब आठ दिन पहले की थी, शादी से पहले पूजा का अपने ही गाँव के एक लड़के मँगा मसीह से प्रेम-प्रसंग था और शादी के आठ दिन बाद ही मँगा मसीह पूजा को उसके ससुराल से भगा ले गया है,  इस बारे में बात करते हुए पूजा के पिता  जोर्ज मसीह ने बताया, कि उन्होंने अपनी बेटी की शादी गाँव अवान लक्खा सिंह में की थी और वहां से मँगा मसीह उसे भगा कर ले गया है, पूजा के पिता इस बात को कहने में जरा भी नहीं झिझके कि उनके लड़की की उम्र 16 साल है और उन्होंने अपनी नाबालिग बेटी की शादी करवाई है, जब उनसे पूछा गया, कि अपनी लड़की नाबालिग है, तो उनका जवाब था, कि उन्होंने यह कच्चा निकाह करवाया है 
और दो साल बाद पक्का निकाह किया जना था, लेकिन उनकी लड़की ससुराल से भागी है और उसके ससुराल वालों और उनकी मांग है, कि उनकी लड़की को वापिस दिलाया जाये, उनका कहना है कि उनकी लड़की को मँगा सिंह भगा कर ले गया है और वह हमारा रिश्तेदार है, इधर लड़की के परिवार वाले आरोपी के विरुद्ध सख्त से सख्त करवाई की मांग कर रहे हैं, उधर अगर देश के कानून पर नज़र डाले, तो हिन्दू मैरिज एक्ट 1955 के अधीन कोई भी लडकी जिस कि उम्र 18  साल  से कम है, उसकी शादी नहीं हो सकती, दरअसल 1978  में एक कानून के तहत देश में बाल-विवाह पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया था, यही नहीं अगर कोई माँ-बाप अपनी लडकी की जबरन शादी करता है, तो वह इसके लिए कसूर वार है और उस पर मामला दर्ज होना चाहिये, लेकिन यहाँ पर देश के कानून की धज्जियाँ उडाई गयी, देश के कानून की परवाह किये बिना, यहाँ पर एक मासूम को बोझ समझ कर उसकी शादी कर दी गयी, वहीँ पूजा के पिता का कहना है, कि शादी के बाद उनकी बेटी अब किसी और के साथ फरार हो गयी है और  आरोपी के विरुद्ध सख्त से सख्त करवाई की मांग कर रहे हैं
      वहीँ अब इस जुर्म की कहानी के लिए अगर हम अकेले  पूजा के पिता को जिम्मेदार कहे तो यह ठीक नहीं है, दरअसल पूजा के पिता का कहना है, कि उन्होंने लड़के वालों को पूजा की उम्र के बारे में बताया था, कि उसकी उम्र 16  साल है, लेकिन आज कानून के शिकंजे में फंसता देख पूजा के ससुराल वाले इस बात से अपना पल्ला खींच रहे है, दरअसल अगर कोई भी व्यक्ति या लड़का 16 साल की उम्र की लडकी से शादी करता है, तो वह भी जुर्म का बराबर का हिस्सेदार है, इस बारे में जब पूजा के ससुर  जागीर मसीह से बात की गयी तो उनका कहना था, कि उनको पूजा की उम्र के बारे में कुछ नहीं पता और जब उन्होंने अपने बेटे की शादी की थी, तब उनको यह नहीं पता था, कि लड़की की उम्र 16  साल है और जब पूजा उन के घर से अपने किसी आशिक के साथ फरार हो गयी, तब उनको पता चला कि पूजा की उम्र 16  साल है, लेकिन पूजा का पिता इस पूरे मामले में खुद कह रहा है, कि उसने लड़के वालों को इस बात की जानकारी दी थी, कि लडकी 16 साल की है, उधर लडकी की सास बलबीरो का कहना है, कि जब वह अपने घर में सो रहे थे, तब वह उनको ढूध में नशे की कोई चीज़ खिला कर फरार हो गयी है और घर से 1 लाख का सामान भी लूट कर अपने साथ ले गयी है, वहीँ इस पूरे प्रकरण में अब भी लड़का बलकार मसीह इस लडकी को अपनाने की बात कह रहा है, उसका कहना है, कि चाहे उसकी उम्र 16 साल है, वह फिर भी इस लडकी को अपनाना चाहता है
      वहीँ इस पूरे मामले में शादी के बाद अपने आशिक के साथ फरार होने के मामले में पुलिस की एक एहम भूमिका बनती है, जब यह सारा मामला पुलिस के पास आया, तब पुलिस ने जांच की और पूजा के आशिक को पकड़ कर उस पर अपहरण और और बलात्कार का मामला दर्ज कर दिया और लडकी को पकड़ कर नारी-निकेतन भेज दिया, वहीँ जब इस मामले में पुलिस से यह सवाल किया गया, कि लडकी की उम्र शादी के काबिल नहीं है, तब भिन्डी सैदां के पुलिस थाना प्रभारी  सुखबीर सिंह  का कहना था, कि इस मामले में एक विशेष बोर्ड बनाया जा रहा है, जिसके तहत इस लडकी की उम्र के बारे में पता लगाया जायेगा और जो भी रिपोर्ट आयेगी, उसके आधार पर कार्यवाही की जायेगी
      इस मामले में पुलिस ने चाहे पूजा और उसके आशिक को पकड लिया है, लेकिन पूजा के पिता और उसके पति पर भी नाबालिग लड़की की शादी किया जाने और करने का मामला बनता है, लेकिन इस पूरे मामले में यह बात साफ़ साबित होती है, कि आज भी हमारा देश कितना पिछड़ा है, जहाँ आज भी हमारे समाज में लडकी को एक बोझ समझा जाता है और जहाँ पूजा जैसी कई लडकियां अपनी मासूमियत में शादी के बोझ टले दब जाती हैं और लोग कानून का सरेआम मजाक उड़ाते हुए है और हमारे देश का कानून महेज किताबों तक ही सिमित रह जाता है. 

विजिलेंस पुलिस ने इंस्पेक्टर को रिश्वत लेते रंगे हाथो किया काबू

            अमृतसरसे गजिंदर सिंह किंग
अमृतसर की विजिलेंस पुलिस ने तरनतारन के पंजाब स्टेट वेयर होउसिंग कोर्पोरेशन के एक इंस्पेक्टर को दस हजार रूपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ काबू किया है, विजिलेंस पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर इंस्पेक्टर को गिरफ्तार कर आगे की जाँच शुरू कर दी है
            अमृतसर की विजिलेंस पुलिस ने तरनतारन के भिखीविंड कस्बे में तैनात पंजाब स्टेट वेयर होउसिंग कोर्पोरेशन का इंस्पेक्टर सुरिंदर पाल सिंह को दस हजार रूपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ काबू किया है, इस का यह आरोप है, कि इसने चीमा ट्रेडिंग कम्पनी के मालिक अमरजीत सिंह से उसकी हाड़ी की फसल के बोनस की पेमेंट के सिलसिले में पहले 85000 रूपये के चेक के बदले 16000 रूपये रिश्वत ली और अब अमरजीत द्वारा अपनी बनती आढ़त, मजदूरी और सिलाई सम्बन्धी बनती पेमेंट 54107 रूपये उसके पास चक्कर लगाने के बावजूद भी आरोपी उसे उसका चेक नहीं दे रहा था, इस पर आरोपी इंस्पेक्टर ने अमरजीत से दस हजार रूपये रिश्वत की मांग की, जिसे देने में पीड़ित ने असमर्थता जतायी और इस मामले में विजिलेंस पुलिस की मदद लेते हुए विजिलेंस पुलिस ने सरकारी गवाहों के सामने 10000 रूपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ काबू किया, विजिलेंस पुलिस  के  एस,एस,पी  रवइन्दर सिंह  ने आरोपी बारे जानकारी देते हुए बताया कि इस आरोपी ए,एस,आई  सुरिंदर पाल सिंहके खिलाफ मामला दर्ज कर इसे गिरफ्तार कर लिया है
        उधर इस मामले में पीड़ित अमरजीत ने अपने साथ हुई नाइंसाफी के बारे में जानकारी देते हुए मांग की, कि आरोपी को सख्त-से-सख्त सजा दी जाए क्यों कि आरोपी इंस्पेक्टर इससे पहले भी कई लोगों से रिश्वत लेता रहा है

Monday, August 01, 2011

सिख अजायब घर में लगाई गई महान सिख शख्सियतों की तस्वीरे


 अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग:  
शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा सच्चखंड श्री हरिमंदिर साहिब में स्थापित सिख अजायब घर में सिख कौम और सिख पंथ के लिए महान काम करने वाली शख्सियतों के चित्र स्थापित किये जाते हैं और इसी के चलते आज शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान अवतार सिंह मक्कड़ के आदेश पर श्री अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह की हजूरी में सिख अजायब घर में आठ महान शख्सियतों के चित्र स्थापित किये गए.सच्चखंड श्री हरिमंदिर साहिब में शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी द्वारा स्थापित सिख अजायब घर में शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के आदेश पर सिख कौम और सिख पंथ को बुलन्दीयो तक पहुचाने के लिए काम करने वाली महान शख्सियतो के चित्र और उनकी जीवनी से सम्बंधित दस्तावेजो को प्रदर्शित किया जाता है, ताकि आने वाली पीढ़ी इनसे अपने जीवन को सही दिशा प्रदान कर सके, इसी के चलते यहाँ पर आज शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान जत्थेदार अवतार सिंह मक्कड़ के आदेश पर श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह की रहनुमाई में एक धार्मिक समागम के दौरान शब्द-कीर्तन और अरदास करने के बाद यहाँ पर आठ महान शख्सियतों के चित्र स्थापित किये गए, जिसमे भाई बीर सिंह, पूर्व जत्थेदार श्री केशगढ़ साहिब, जत्थेदार काबल सिंह जी, संत बाबा अमर सिंह जी किर्ती, संत बाबा तारा सिंह जी कार सेवा वाले, जत्थेदार भगवंत सिंह हर्दोथला, पूर्व मेम्बर शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, कश्मीर सिंह, पूर्व मेम्बर शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, शहीद जय सिंह खलकट, भाई अवतार सिंह दिल्ली वाले और उधम सिंह जी भार सिंह पूरी, पूर्व मेम्बर शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के चित्र  लगाये गए. इस मौके पर मीडिया से बात करते हुए श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने इन तस्वीरो के बारे में जानकारी देते हुए बताया, कि इन से आने वाली पीढ़ी को अपने जीवन को सही दिशा देने की प्रेरणा मिलती है .

बिजली विभाग के कारण गई लडके की जान

इलाका निवासीयो ने किया बटाला रोड पर प्रदर्शन   

अमृतसर - (गजिंदर सिंह किंग)  
पंजाब में बिजली विभाग की लापरवाही के कई किस्से आपने देखे और सुने होंगे, लेकिन जो किस्सा आज हम आप को बताने और दिखने जा रहे है, वह यह शायद सब से दर्द-नाक होगा, जी हाँ, अमृतसर में बिजली विभाग की  लापरवाही ने हँसते-खेलते युवक की जान ले ली और उसके घर की खुशियों को पल भार में मातम में बदल दिया, दरअसल मृतक आशु की उम्र 24 साल की थी और वह छत पर मोबाइल सुन रहा था, तभी बिजली की हाई-वोल्टेज तारों ने उसकी जान ले ली. अमृतसर के वेरका इलाके में रहने वाले 24 साल आशु की मौत का कारण कोई और नहीं बल्कि बिजली विभाग की तारें बनी, दरअसल इस कालोनी में बिजली की तारों के जजाल इस बात के गवाह है, कि इन घरों की छतों पर मौत किस तरह हर वक्त पहरा देती है, इस इलाके में हाई वोल्टेज तारों का जाल सा बिछा है, आलम यह है कि  इस इलाके का कोई घर भी ऐसा नहीं है, जहाँ से यह तारें न गुजरती हो, वहीँ यह हाई वोल्टेज तारें इस आशु नाम के युवक की मौत का कारण बनी, जब आशु अपने किसी दोस्त से फ़ोन पर बात कर रहा था, तभी वह फोन करता हुआ अपनी छत पर चला गया और इन हाई वोल्टेज तारों ने उसे आपनी लपेट में ले लिया और तेज करंट लगने से उसकी मौत हो गयी. यह कोई पहला ऐसा मामला नहीं है, जब इस तरह का हादसा हुआ हो, इससे पहले भी कई लोग इन तारों के कारण अपनी ज़िन्दगी से हाथ धो चुके है और कई लोग तो अपनी शरीर के अंग तक गवा चुके है, 
तीन साला की मासूम दिया जो कि खेल-खेल में बिजली विभाग की लापरवाही का शिकार हो गयी, जिसे वह शायद भूल न पाए, दरअसल दीया जब अपनी छत पर खेल रही थी, तभी अचानक वह इन तारों के नजदीक चली गयी और इन तारों ने इस मासूम को हंसी को निगल लिया, इस मासूम का हाथ कट गया और इसके पाँव में करंट लग गया जिस कारण आज यह लडकी हस्पताल में इलाज के लिए भर्ती है, यही नहीं इस मामले में इलाका निवासीयो ने इस बारे में बात करते हुए कहा, कि इस बारे में कई बार प्रशासन को इस बारे में जानकारी दी है, लेकिन प्रशासन के कानो पर कोई जू नहीं रेंगती, वह इस बारे में कई बार लिखित पत्र दे चुके हैं, इस मामले में वह कई बड़े अधिकारीयों से मिल कर इस बारे में बताया है, लेकिन अभी तक किसी ने भी कोई कारवाई नहीं की है, आलम यह है, कि इनका हाल-चाल जानने भी कोई अधिकारी नहीं पहुंचा.  
वहीँ आज इस युवक की मौत के बाद इलाका निवासीयो ने बटाला रोड पर पड़ने वाले बिजली विभाग के सामने प्रदर्शन किया, लोग सड़कों पर उतर आये और उन्होंने प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाज़ी की और रास्ता रोक कर अपना प्रदर्शन किया, वहीँ इस मामले में बिजली दफ्तर का घेराव भी किया और साथ ही इस मामले में विभाग के अधिकारी इस पूरे मामले में जांच का हवाला दे रहे है और उनका कहना है, कि यह शिकायत उनके पास आयी है और इस पर जांच की जायेगी और जो भी इस मामले में दोषी हुआ उस पर कार्यवाही बनती कारवाई की जायेगी
       सरकार के आदेश के बावजूद अभी तक इन हाई-वोल्टेज तारो को हटाने की करवाई नहीं की जा रही है, फिलहाल अब प्रशासन इस अपनी कुम्भ-करनीय नीद से जागा है और अगर प्रशासन ने समय रहते अपनी कारवाई को अंजाम दिया होता तो इन तारो को हटाया होता तो आज इन लोगों के साथ ऐसी घटनाएँ नहीं होती  

नाजायज़ सम्बन्धों के शक में पूरा परिवार ही गया मौत के मूंह में

 अमृतसर  से  गजिंदर सिंह किंग:  
अमृतसर के अजनाला तहसील में पड़ने वाले भारत-पाकिस्तान की सरहद से सटे रमदास कस्बे में उस समय एका-एक सनसनी फ़ैल गयी, जब सुबह कुछ दिन पहले दुबई से लौटे एक आदमी ने अपने परिवार सहित आत्म-हत्या कर ली, सूत्रों के मुताबिक आत्म-हत्या का कारण नाजायज सम्बंध पता चला है, पुलिस ने मृतको के शव अपने कब्जे में लेकर मामला दर्ज कर पोस्ट-मार्टम के लिए भेज दिए हैं. भारत-पाकिस्तान की अंतर-राष्ट्रीय सीमा पर बसा क़स्बा रमदास जहां उस समय मातम छा गया, जब यहाँ पर एक साथ तीन लोगों द्वारा आत्म-हत्या करने का मामला सामने आया है, दरअसल हरभजन सिंह  कुछ दिन पहले ही दुबई से वापिस भारत लौटा था और इस घर में हरभजन सिंह की पत्नी गुरमीत कौर और पांच साल का बेटे गुरजीत सिंह के साथ रहता था, सूत्रों के मुताबिक हरभजन सिंह को शक था, कि उसकी पत्नी के किसी के साथ नाजायज सम्बंध हैं और इसी के चलते कल देर रात हरभजन सिंह द्वारा अपने परिवार वालों को खाने में कोई जहरीला पदार्थ देकर और खुद भी उस जहरीले पदार्थ को निगल कर अपने परिवार की जीवन लीला समाप्त कर ली, उनकी आत्म-हत्या का खुलासा उस वक्त हुआ, जब पडोसीयो ने घर में कोई हलचल नहीं देखी और न ही घर से किसी को बाहर निकला हुआ देख, जब उन्होंने घर के अंदर जाकर देखा, तो वहां पर एक नहीं, दो नही  तीन शव पड़े हुए देखे, उन्होंने इस बारे में पुलिस को और मृतक के रिश्तेदारों को सूचित किया
       उधर इस घटना की जानकारी मिलते ही रमदास थाने की पुलिस टीम मौके पर पहुंची और तीन मृतको के शव अपने कब्जे में लेकर अपनी कारवाई शुरू कर दी, पुलिस ने मृतक के भाई और पड़ोसियों के ब्यान दर्ज कर, मृतको के शव अपने कब्जे में लेकर, घटना स्थल का जायजा लिया और मामला दर्ज कर शवो को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया . 
       अवैध संबंधो के चलते आत्म-हत्या या हत्या का यह पहला मामला नहीं है, जब किसी को किसी की जान लेने या अपनी जान से हाथ धोना पड़ा हो, इस बार इन अवैध संबंधो के चलते जहाँ एक पति ने अपनी पत्नी को मौत के घाट उतार कर अपनी जीवन-लीला समाप्त की है, वहीँ पांच साल के मासूम की भी इन अवैध संबंधो ने बली ली है, सवाल यह उठता है, कि उस मासूम का क्या कसूर था, जिसे अपनी माँ के अवैध संबंधो के चलते अपनी जान से हाथ धोना पड़ा???????? 

कपूरथला में भी मनायी गयी तीज


सावन का महीना हो ओऊ पंजाब में तीज न मनायी जा रही हो यह कैसे हो सकता है ? गाँव गाँव में तीज का जोर है. सदियों पुरानी यह परम्परा आज भी कायम है. मानव तन और मन के गहरे विज्ञान को समेटे हुए यह परम्परा बहुत कुछ  कहती है, बहुत कुछ सिखाती है. इस विज्ञान का तत्व जिसे समझ में आ जाये वह फिर ज़िंदगी भर कभी कभीं भी कमज़ोर नहीं पड़ता. हर साल तीज के मौके पर तन और मन की इस अंतर शकिती को हर बार बढाने में मदद करता है सावन का महीना. इन्हीं कारणों से इस महीने में तीज का आयोजन जगह जगह होता है. मस्ती की इस परम्परा में शामिल होते हुए कपूरथला के श्री गुरु हरिकृष्ण पब्लिक स्कूल में भी तीज का त्योहार धूमधाम से मनाया गया प्रिंसीपल जसबीर वधवा के नेतृत्व में.हर तरफ एक उत्सव सा रंगीन माहौल था. हवा में भी एक अजीब सी मस्ती और  सुरीलापन आ गया था. गिद्धे की धमक ने कुछ देर के लिए सभी चितायों को भुला दिया था.  इस मौके पर स्कूल के बच्चों की ओर से पंजाबी सभ्याचार को दर्शाता रंगारंग कार्यक्रम पेश किया गया, जिसमें गीत, लोक गीत, स्किट आदि शामिल की गईं. समागम का मुख्य आकर्षण रहा मेहंदी लगाने का मुकाबला.इन मासूम हाथों पर लगी मेहंदी का रंग सभी को भा रहा था और एक संदेश भी दे रहा था कि ज़िन्दगी में रंग लाना हो तो इसी तरह पिसना भी पड़ता है जिस तरह मेहंदी पिसती है.. मुकाबले में चेतनजोत, प्रभलीन तथा लवप्रीत कौर ने प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय स्थान जबकि दूसरे ग्रुप में मनप्रीत कौर प्रथम, रवनीत कौर द्वितीय व कर्मजीत कौर तृतीय स्थान पर रही. इसी तरह परमिंदर कौर को सांत्वना पुरस्कार से सम्मानित किया गया. समागम के अंत में छात्राओं ने गिद्दा पेश किया. इस मौके पर प्रिंसीपल जसबीर वधवा के अलावा जसविंदर सिंह, राजतिंदर कौर, नवरीत कौर, अंजू, हरदीप कौर, सुरिंदर कौर तथा बड़ी संख्या में स्कूल की छात्राएं भी उपस्थित थीं. इस जोश, मस्ती, रंगीनी और संगीत मई पलों के इस यादगारी आयोजन की छाप मन पर हमेशां के लिए बन गयी.---ब्यूरो रिपोर्ट 

कन्या भ्रूण हत्या की बुराई के खिलाफ सभी लोग आगे आयें


मुख्यमंत्री बादल का आह्वान
पंजाब के विकास की रफ़्तार को तेज़ करने में जुटे मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल अब पंजाब की विरासत और संस्कृति की चिंता भी कर रहे हैं. वह इस बात को लेकर दुखद हैं कि लड़कियों की संख्या अब भी लगातार कम हो रही है. मुख्यमंत्री बादल रविवार को अबोहर तहसील के गांव खुइयांसरवर में पंजाब समाज कल्याण बोर्ड द्वारा आयोजित धीयां बचाओ, तीज मनाओ कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए आये हुए थे. धीयां बचाओ-- तीज मनाओ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सभी को कन्या भू्रण हत्या जैसी बुराई के खिलाफ अभियान छेड़ना चाहिए,  मुख्यमंत्री बादल  ने कहा कि पंजाब में लड़कियों की कम हो रही संख्या चिंता का विषय है.  ताकि इस बुराई को जड़ से खत्म किया जा सके.  उन्होंने कहा कि पंजाब में भू्रणहत्या पर नियंत्रण पाने के प्रयास लगातार किए जा रहे हैं. समय के साथ नारी शक्ति ने विभिन्न क्षेत्रों में अपनी काबिलियत का परिचय भी दिया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि वे संसद में महिलाओं की अधिक से अधिक भागीदारी की हिमायत करते हैं और इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखा है. उन्हें इस बात की खुशी है कि शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में ३२ महिलाएं सदस्य हैं. उन्होंने महिलाओं की ओर मुखातिब होते हुए कहा कि वे राज्य, देश और परिवार के विकास के लिए पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर सहायक धंधे अपनाकर अपने परिवार की आमदनी में वृद्धि करें. इस मौके पर आयोजित किये गए सभ्याचारक मेले के संबंध में मुख्यमंत्री बादल ने कहा कि ऐसे मेले हमें अपनी सभ्यता के साथ जोड़े रखने का काम करते हैं और इन आयोजनों से आपसी सद्भाव भी बढ़ता है. इस मौके पर चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्री अरुणेश शाकर ने कहा कि धार्मिक, शैक्षणिक व सामाजिक संस्थाओं को भू्रणहत्या रोकने के लिए जागरूकता अभियान चलाने चाहिए. समाज कल्याण बोर्ड की चेयरपर्सन विजय लक्ष्मी भादू ने मुख्यमंत्री और अन्य अतिथियों का स्वागत किया. मुख्यमंत्री ने इस मौके पर लगे स्टालों का भी निरीक्षण किया और उनकी प्रशंसा की.  इस अवसर पर छात्राओं व आसपास के गांवों की महिलाओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी पेश किए गए. मुख्यमंत्री ने इस अवसर को और भी यादगारी बनाते हुए विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वालों को  सम्मानित भी किया. अब देखना यह है कि जिस चिंता का इज़हार मुख्यमंत्री ने किया है; उस चिंता को समाज के अन्य वर्गों से जुड़े लोग भी महसूस करते हैं या नहीं. ब्यूरो रिपोर्ट  ------

Sunday, July 31, 2011

अमृतसर में करीब पचास लाख रूपये के गहनों की लूट

 लुटेरो ने सुनार को बनाया अपना नया निशाना 
अमृतसर से गजिंदर सिंह किंग:  
अमृतसर में आज फिर एक बार पुलिस के नाक के नीचे लूटेरो ने लारेस रोड, पुलिस चौकी से महज कुछ सौ गज दूर एक बार फिर एक सुनार को अपना निशाना  बनाते हुए, उनसे करीब पचास लाख रूपये के गहनों की लूट को अंजाम देकर फरार हो गए, पुलिस ने अज्ञात लूटेरो के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है
       अमृतसर का पोश इलाका लारेंस रोड का इलाका जहाँ पर स्थित है कई ज्वेलर्स की दुकाने और अमृतसर के पोश इलाके दयानद नगर की कोठी नम्बर 105 में घर में रोते हुए लोग इधर-उधर चहल-कदमी कर रहे लोग बहुत परेशान हैं, दरअसल आज रात करीब नौ बजे के करीब एक नरेश मेहता उर्फ़ बोबी जो कि इस शोपिंग काप्लेक्स में नारायण दास ओम प्रकाश नाम की ज्वेलरी शॉप चलाता है और वह ज्वेलरी से भरा हुआ बैग लेकर आपने घर पैदल जा रहा था, घर से कुछ दूर पीछे ही उन्हें  पीछे से आते एक लाल रंग  के मोटर-साइकिल पर युवक ने इनसे पीछे से बैग छीन कर फरार हो गये, पीड़ित लोगों ने आनन्-फानन में पुलिस को सूचित किया और पुलिस हरकत में आ कर तुरंत मौके पर पहुँच कर पीड़ित लोगों के बयानों के आधार पर अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की जाँच शुरू कर दी है, इस बारे में जानकारी देते हुए अमृतसर के  ऐ,डी,सी,पी क्राइम सतपाल जोशी ने बताया, कि आज रात करीब नौ बजे जब पीड़ित आपने घर ज्वेलरी से भरा हुआ बैग लेकर आ रहे थे, तो पीछे से आते हुए एक लाल रंग के मोटर-साइकिल सवार ने उनसे गहनों से भरा बैग छीन कर फरार हो गए, उन्होंने बताया कि पीड़ित ज्वेलरी से भरा हुआ बैग लेकर  अपनी दुकान से पैदल घर को आ रह था, तब यह हादसा हुआ, पुलिस के मुताबिक पीड़ित रोजाना ही पैदल ज्वेलरी से भरा हुआ बैग लेकर घर आता था