Wednesday, October 13, 2010

वेब पत्रकारिता : चुनौतियाँ व सम्भावनाएँ

वेब पत्रकारिता बहुत ही तेज़ी से अपना स्थान बना रही है. कहीं समाचार प्रकाशित हो रहे हैं, कहीं ख़ास रिपोर्ट, कहीं गज़लें और कहीं तस्वीरें. यहां तक कि किताबों का विमोचन भी बहुत ही सफलता से हो रहा है. विभिन्न विषयों पर विचार विमर्श भी हो रहे हैं. लन्दन  से डाक्टर कविता ने तो कविता कार्यशाला भी करके दिखा दी थी और फिर कुछ मित्रों ने तरह मिसरा के आधार पर मुशायरों का आयोजन भी बहुत ही सफलता से किया. अब इस सिलसिले में कुछ नया जोड़ते हुए एक प्रतियोगिता का आयोजन भी किया जा रहा है. वेब पत्रकारिता : चुनौतियाँ व सम्भावनाएँ विषय पर इस प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है विचार पोर्टल प्रवक्‍ता डॉट कॉम के दो साल पूरे होने पर. इस प्रतियोगिता के लिए रचनायें भेजने की अंतिम तारीख है 15 नवम्बर 2010. पूरी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें. 
हिंदी में नए नए ब्लॉग भी तेज़ी से आ रहे हैं. एक नया ब्लॉग नज़र में आया इंदूर हिंदी समिति निज़ामाबाद,आ.प्र. जिसमें हिंदी की तरफ बहुत ही गम्भीरता से ध्यान दिया गया है.  दक्षिण भारत से संचालित होने वाले इस ब्लॉग की सामग्री पर काफी मेहनत की गयी है. ज़रा देखें एक झलक:स्वाधीनता आंदोलन के तिलक तथा गांधी युगों के दौर में मद्रास को केंद्र बनाकर हिंदी प्रचार की गतिविधियाँ आरंभ होने के साथ ही दक्षिण भारत की हिंदी पत्रकारिता का उदय हुआ ।
सर्वप्रथम तमिल के सुप्रसिद्ध कवि सुब्रह्मण्य भारती ने अपनी तमिल पत्रिका ‘इंडिया’ के माध्यम से तमिलभाषियों से अपील की थी कि वे राष्ट्रीयता के हित में हिंदी सीखें । इस लक्ष्य की प्राप्ति हेतु उन्होंने अपनी पत्रिका में हिंदी की सामग्री के प्रकाशन के लिए भी कुछ पृष्ठ सुरक्षित रखना सुनिश्चित किया था । महाकवि भारती ने अपने तमिल पत्र के माध्यम से हिंदी भाषाई प्रेम एवं हिंदी पत्रकारिता की नींव डाली थी । मद्रास (चेन्नई) से ही दक्षिण भारत के प्रथम हिंदी पत्र का प्रकाशन हुआ सन् 1921 में । इस पत्र के उदय के समय तक हिंदी प्रचार का व्यवस्थित आंदोलन भी शुरू हो चुका था और आंदोलन के कार्यकर्त्ता के रूप में उत्तर भारत से आगत श्री क्षेमानंद राहत के प्रयासों से साप्ताहिक ‘भारत तिलक’ के प्रकाशन के साथ ही दक्षिण भारत में हिंदी पत्रकारिता का उदय हुआ । इस में और भी बहुत कुछ है जिसे पढ़ने के लिए आप बस यहां क्लिक करें. यदि आपकी नज़र में भी कोई नया ब्लॉग या अच्छी खबर हो तो हमें अवश्य भेजें.  --रेक्टर कथूरिया 

2 comments:

डॉ.कविता वाचक्नवी Dr.Kavita Vachaknavee said...

सूचना के लिए धन्यवाद

Navin C. Chaturvedi said...

sahi kah rahe hain kathuriya ji.